Sunday, 22 April 2018

ऑस्ट्रेलिया के टॉप ५ पर दो तेलुगु फ़िल्में

भारत आने नेनु में महेश बाबू 
ऑस्ट्रेलिया में अभी तक, बढ़िया हिंदी और पंजाबी फिल्मो का ही दबदबा हुआ करता था. लेकिन, अब तेलुगु फिल्मों ने भी धमाल मचाना शुरू कर दिया है। हिंदुस्तान की ऑस्ट्रेलिया में बढ़िया कमाई करने वाली टॉप फाइव फिल्मों में दो तेलुगु फिल्मों ने कब्ज़ा कर लिया है।  २०१८ की टॉप ५ फिल्मों में पहले दो स्थानों पर रणवीर सिंह, शाहिद कपूर और दीपिका पादुकोण की पद्मावत और टाइगर श्रॉफ और दिशा पटानी की फिल्म बागी २ है।  तीसरे स्थान पर दिलजीत दोसांझ की पंजाबी फिल्म सज्जन सिंह रंगरूट है।  बाकी के दो स्थानों पर दो तेलुगु फ़िल्में हैं।  खास बात यह है कि दोनों फिल्मों में राजनीतिक चहरे हैं।  रंगस्थलम में रामचरण, सामंथा अक्किनेनी, जगपति बाबू, आदि की भूमिकाये हैं।   रंगस्थलम के प्रेजिडेंट बनने के लिए हुए टकराव पर केंद्रित है रंगस्थलम।  इस फिल्म का निर्देशन सुकुमार ने किया है।  अब, महेश बाबू की तेलुगु फिल्म भारत आने नेनु भी टॉप ५ में शामिल हो गई है।  इस फिल्म ने सिर्फ दो दिन में ही, टॉप ५ पर पहुँचने में सफलता प्राप्त की।  इस फिल्म में महेश बाबू ने अविभाजित आंध्र प्रदेश के मुख्य  मंत्री की भूमिका की है।    


हिट हैं बूढ़े किरदार - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

हिट हैं बूढ़े किरदार

इस बार, ओह माय गॉड जैसी उत्कृष्ट हास्य फिल्म बनाने वाले उमेश शुक्ल दो बूढ़े किरदारों पर केन्द्रित हास्य फिल्म १०२- नॉट आउट लेकर आ रहे है। इस फिल्म के दो बूढ़े किरदारों को परदे पर अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर कर रहे हैं। फिल्म में यह दोनों पिता-पुत्र की भूमिका में हैं। अमिताभ बच्चन १०२ साल के बूढ़े हैं, जो १६ साल और जीना चाहते हैं, ताकि एक चीनी के सबसे ज्यादा उम्र के बूढ़े का खिताब छीन सके। ऋषि कपूर उनके ७५ साल के बूढ़े बेटे हैं। अमिताभ बच्चन बेटे बने ऋषि कपूर को ओल्ड स्कूल मानते हैं, जो मस्त ज़िन्दगी नहीं जी रहा। क्या बूढ़े किरदारों में सिमटी इस फिल्म को आज की युवा पीढ़ी पसंद करेगी ?
सारांश के रिटायर स्कूल मास्टर अनुपम खेर 
महेश भट्ट की फिल्म सारांश में, उस समय २८ साल के अनुपम खेर ने ६० साल के रिटायर्ड स्कूल मास्टर प्रधान की भूमिका की थी। प्रधान और उसकी बूढी पत्नी (रोहिणी हट्टंगड़ी) बेटे की आकस्मिक मौत के कारण टूट चुके हैं। उन्हें अपने बेटे के बिना जीवन बेकार नज़र आता है। दोनों मरने की असफल कोशिश भी करते हैं। तभी उन दोनों को एक शक्तिशाली नेता के गुंडों से भिड़ना पड़ता है, जो एक लड़की को मार डालना चाहते हैं। इस फिल्म ने अनुपम खेर को न केवल पुरस्कार दिलवाए, बल्कि वह अपने प्रभावशाली अभिनय के कारण हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित हो गए। ऎसी है बूढ़े किरदारों की बॉक्स ऑफिस पर ताकत !
बॉलीवुड ने बूढ़े किरदारों पर केन्द्रित फ़िल्में बहुत कम बनाई हैं। पारिवारिक फिल्मों के दौर में परिवार के हिस्से के रूप में बूढ़े किरदार हुआ करते थे। लेकिन, सिर्फ बूढों पर केन्द्रित फ़िल्में बहुत कम बनी है। बूढों की समस्या, उनके मनोविज्ञान को समझ पाना आसान नहीं होता। उससे ज्यादा कठिन होता है, बूढ़े किरदारों पर फिल्म के मनोविज्ञान को सटीक तरह से परदे पर उतारना। इसके बावजूद बूढ़े किरदारों पर केन्द्रित फ़िल्में बनी- कुछ कॉमेडी, कुछ रोमांटिक कॉमेडी, कुछ सीरियस और कुछ सामाजिक समस्यामूलक। आइये एक नज़र डालते हैं, ऎसी ही कुछ फिल्मों पर-
कपूर एंड संस - शकुन बत्रा निर्देशित इस फिल्म की कहानी बूढ़े दादा जी और उनके दो पोतों की व्यवसायिक दुश्मनी की थी। दादाजी अपने पोतों के इस रवैये से बेहद दुखी रहा करते थे। इस फिल्म में ऋषि कपूरसिद्धार्थ मल्होत्रा और फव्वाद खान ने दादाजी और दो पोतों की भूमिका की थी। कॉमेडी जॉनर की इस फिल्म को बढ़िया संगीत के कारण सफलता मिली थी।  
बागबान- निर्देशक रवि चोपड़ा की फिल्म बागबान बैंक से रिटायर मैनेजर की कहानी थी, जो अपनी सारी कमाई अपने बच्चों पर खर्च कर देता है। लेकिन, अच्छी तरह कमा खा रहे लडके, अपनी औरतों के कहने पर बैंक मेनेजर और उसकी बीवी को अलग कर देते हैं। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और हेमा मालिनी के मुख्य किरदारों के साथ परेश रावल और लिलेट दुबे की अहम् भूमिका थी। किसी भी व्यक्ति को अपने जीवन की पूरी कमाई अपने बच्चों पर खर्च कर देने के बजाय खुद के भविष्य के लिए बचाए रखनी चाहिए, का सन्देश देने वाली इस फिल्म को दर्शकों ने काफी पसंद किया था।  
शौक़ीन/द शौकींस - अक्षय कुमार और लिसा हैडन की रोमांटिक भूमिका वाली तीन लम्पट बूढों अनुपम खेर, अन्नू कपूर और पियूष मिश्र की एक मॉडल को पटाने की कोशिश की कहानी वाली फिल्म द शौक़ीन, बासु चटर्जी की, १९८२ में रिलीज़ कॉमेडी फिल्म शौक़ीन का रीमेक थी। १९८२ में मिथुन चक्रवर्ती और रति अग्निहोत्री की रोमांटिक जोडी थी। फिल्म में अशोक कुमार, उत्पल दत्त और एके हंगल के किरदार रति अग्निहोत्री को पटाने की फिराक में रहते हैं। अक्षय कुमार वाली द शौकींस बॉक्स ऑफिस पर फ्लॉप हुई थी।  
शरारत - अभिषेक बच्चन की एक उद्योगपति के बिगडैल बेटे की भूमिका वाली गुरुदेव भल्ला की बतौर डायरेक्टर डेब्यू फिल्म शरारत में, राहुल खन्ना (अभिषेक बच्चन) को ट्रैफिक लाइट के साथ छेड़छाड़ कर कई दुर्घटनाये करवाने के आरोप में सज़ा के तौर पर कम्युनिटी सर्विस की सज़ा दी जाती है। उसे एक ओल्ड ऐज होम में कुछ बूढों की देखभाल करने की सज़ा दी जाती। इस सज़ा के बाद राहुल खन्ना में भारी परिवर्तन हो जाता है। इस फिल्म में बूढों की भूमिका अमरीश पूरी, हेलेन, एके हंगल, टीनू आनंद, दारा सिंह, डेज़ी ईरानी, शुभा खोटे, विजू खोटे, आदि ने निभाई थी।  
लाइफ इन अ....मेट्रो- अनुराग बासु ने साया, मर्डर और गैंगस्टर जैसी थ्रिलर फिल्मों के निर्माण के बाद मेट्रो शहरों की ज़िन्दगी को उकेरने वाली फिल्म लाइफ इन अ..मेट्रो का निर्माण किया था। इस फिल्म में भिन्न सामजिक वर्ग के लोगों की कहानी थी। इनमे से एक उम्रदराज़ जोड़ा अमोल और शिवानी का भी था। सत्तर साल का अमोल अपने ४० साल पहले के प्यार शिवानी के साथ बाकी समय गुजरने के लिए वापस मुंबई आता है। इस फिल्म में अमोल और शिवानी की भूमिका धर्मेन्द्र और नफीसा अली ने की थी. इस फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर अच्छी सफलता मिली थी।  
चीनी कम - आर बल्कि की फिल्म चीनी कम एक बूढ़े शेफ के एक कम उम्र लड़की से रोमांस और शादी की दिलचस्प कहानी थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन ने शेफ, तबू ने उसकी प्रेमिका और परेश रावल ने तब्बू के पिता की भूमिका की थी। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और परेश रावल के बीच बहुत दिलचस्प नोकझोंक वाले दृश्य और संवाद थे। यह फिल्म भी बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल हुई थी।  
लीला- निर्देशक सोमनाथ सेन की फिल्म लीला (डिंपल कपाडिया) एक कवि की प्रोफेसर पत्नी की कहानी हैजो अपने पति की महिलाओं के बीच भारी लोकप्रियता का खामियाजा पति की उपेक्षा के रूप में पाती है । इसी कुंठा के बीच जी रही लीला को एक व्याख्यान के सिलसिले में कैलिफ़ोर्निया जाना पड़ता है । वहां उसे एक युवा मिलता है । वह लीला को उसकी कुंठा से उबारने की सफल कोशिश करता है । लीला उस युवा कृष (अमोल म्हात्रे) को प्रेम करने लगती है । हालाँकिइस फिल्म की गर्मागर्म चर्चाडिंपल कपाडिया और अमोल म्हात्रे के कामुक रोमांस के कारण हुई । लेकिनयह फिल्म एक उपेक्षित अधेड़ महिला की कुंठा का बढ़िया चित्रण कराती थी । 
दिल चाहता है- फरहान अख्तर की बतौर निर्देशक पहली फिल्म दिल चाहता है तीन दोस्तों की दोस्ती की कहानी थी। फिल्म में तीन दोस्त आमिर खान, सैफ अली खान और अक्षय खन्ना बने थे। यह तीनो किरदार रोमांस में डूबे किरदार थे। लेकिन, इन तीनों में ख़ास रोमांस था अक्षय खन्ना का, जो एक बड़ी उम्र की तलाक़शुदा और शराबिन औरत (डिंपल कपाडिया) के प्रेम में पड़ जाता है। हालाँकि, फिल्म की पूरी कहानी इस रोमांस के इर्दगिर्द नहीं घूमती। लेकिन, यह रोमांस तीन दोस्तों की दोस्ती और जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन लाता है। यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर काफी सफल रही थी।  
शीरीं फरहाद की तो निकल पड़ी - निर्देशक बेला भंसाली सहगल की यह फिल्म एक अधेड़ जोड़े के रोमांस की कहानी थी।  रोमांटिक कॉमेडी जॉनर की इस फिल्म में अधेड़ जोड़े फराह खान और बोमन ईरानी बने थे।  हालाँकि, यह फिल्म दर्शकों पर  अपना प्रभाव छोड़ पाने में असफल हुई थी।  लेकिन, इस फिल्म के ज़रिये, लेखक संजय लीला भंसाली ने अधेड़ उम्र के रोमांस को दिखाने का अनोखा  साहस किया था। फिल्म में डेज़ी ईरानी और शम्मी जैसी वरिष्ठ कलाकार भी महत्वपूर्ण  भूमिका में थे। 
हनीमून ट्रेवल्स प्राइवेट लिमिटेड- रीमा कागती की इस फिल्म मेंहनीमून मनाने को निकले युवा जोड़ों के बीच बोमन ईरानी और शबाना आजमी की अधेड़ जोड़ी भी हनीमून मनाने निकली है। इन दोनों का यह दूसरा हनीमून है। यह दोनों किरदारसाथ के युवा जोड़ो के मज़ाक का केंद्र बन जाते हैं। लेकिनयह दोनों इन फब्तियों से विचलित हुए बिनाखुद की झिझक को दूर करते है और सामान्य जीवन की ओर अपना कदम बढाते हैं ।
प्यार में ट्विस्ट - रोहित  शेट्टी के भाई ह्रदय शेट्टी की रोमकॉम फिल्म प्यार में ट्विस्ट खालिस हिंदी फिल्मों के अंदाज़ में बनाई गई फिल्म थी।  अधेड़ यश खुराना और उसी की हम उम्र शीतल का जब तब टकराव और नोक झोंक होती रहती है, जो अंततः प्यार में बदल जाती है।  इसमें ऐसा कुछ नहीं था, जो दर्शनीय हो, सिवाय ऋषि कपूर और डिंपल कपाडिया की बॉबी और सागर जोड़ी के। 
दर्शकों की पसंद बूढ़े किरदार !
बूढ़े किरदारों पर फ़िल्में, युवा दर्शकों द्वारा भी पसंद की जाती हैं। बशर्ते कि उनमे मनोरंजन भरपूर हो। यही कारण है कि बूढ़े किरदारों पर बनी कॉमेडी फिल्मों  को ज्यादा सफलता मिली। यह सिलसिला अभी जारी है। नसीरुद्दीन शाह की मुख्य भूमिका वाली फिल्म होप और हम श्रीवास्तव परिवार के इर्दगिर्द घूमती है, जो अपने सबसे उम्रदराज़ सदस्य की सनक भरी आदतों से प्रभावित होता रहता है। नागेश (नसीरुद्दीन शाह) को पुरानी कॉपीइंग मशीन मिस्टर सनेक्कन का जूनून सवार है। यह फिल्म पुराने और नए मूल्यों के टकराव, भिन्न जनरेशन के विचारों और आइडियलस को दर्शाने वाली है। इस फिल्म का निर्देशन मशहूर विज्ञापन फिल्म निर्माता सुदीप बंदोपाध्याय ने किया है। फिल्म में नसीरुद्दीन शाह के साथ सोनाली कुलकर्णी, कबीर साजिद, नवीन कस्तूरिया और आमिर बशीर जैसे मंझे कलाकारों ने अभिनय किया है।

बॉलीवुड न्यूज़ २२ अप्रैल - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

बॉलीवुड न्यूज़ २२ अप्रैल

रियल पॉलिटिशियन से प्रेरित ऋचा चड्डा का दास देव लुक
ऋचा चड्डा की, अनुभव सिन्हा के निर्देशन में फिल्म अभी तो पार्टी शुरू हुई है की शूटिंग लखनऊ में हो रही है। वह अपनी ज़ल्द रिलीज़ होने जा रही सुधीर मिश्र निर्देशित फिल्म दास देव के प्रचार में भी जुटी हुई हैं। ऋचा सबसे ज्यादा व्यस्त हैं अपने सोशल अकाउंट में। आठ साल की बच्ची असीफा का बलात्कार और हत्या से वह बेहद दुखी हैं और अपनी साइट पर भारत सरकार पर जम कर भंडास ऐसे निकाल रही हैं, जैसे बलात्कार भारत सरकार ने ही किया हो। बहरहाल, फिलहाल, दास देव में उनके करैक्टर के लुक की बहुत चर्चा है। इस फिल्म में राहुल भट के राजनीतिक दास देव और अदिति राव हैदरी की चांदनी के साथ ऋचा चड्डा नेताइन पारो की भूमिका कर रही हैं। पारो एक नेता है. वह दास देव से प्रेम करती है। लेकिन, खुद  कुर्सी की दावेदार भी है। इस भूमिका के लिए ऋचा ने उत्तर प्रदेश के राजनेताओं का अध्ययन किया। उनकी शारीरिक भाषा और हाव भाव को समझा। खास तौर पर महिला विधायक और सांसदों को को ध्यान से देखा और जांचा। सूत्र बताते हैं, अगर देखा जाए तो उन्होंने खुद को सोनिया गाँधी, पूनम महाजन और डिंपल यादव की मिली जुली इमेज में ढाला है। वैसे चित्र से वह प्रकाश झा की फिल्म राजनीति की कैटरीना कैफ की नक़ल करती लग रही हैं। फिल्म में सौरभ शुक्ल और विनीत कुमार सिंह की सह भूमिका है।
अनुष्का शर्मा की तीन फ़िल्में
अनुष्का शर्मा के साथ तीन के अंक का संयोग बन रहा है। अनुष्का शर्मा की इस साल तीन फ़िल्में रिलीज़ होनी हैं । इन फिल्मों में शाहरुख़ खान और कैटरीना कैफ के साथ निर्देशक आनंद एल राज की फिल्म जीरो, वरुण धवन के साथ निर्देशक शरत कटारिया की फिल्म सुई धागा: मेड इन इंडिया और रणबीर कपूर के साथ राजकुमार हिरानी की दत्त बायोपिक फिल्म संजू के नाम उल्लेखनीय हैं।  इन तीनों फिल्मों में उनके डायरेक्टर और एक्टर अलग अलग हैं। यह फ़िल्में भिन्न जोनर की फ़िल्में हैं। इनमे अनुष्का शर्मा को अपनी अभिनय क्षमता दिखाने का मौका मिलेगा। अनुष्का शर्मा ने, बतौर निर्देशक अब तक तीन फिल्मों का निर्माण किया है। यह तीन फ़िल्में एनएच १०, फिल्लौरी और परी भिन्न जोनर की फ़िल्में हैं। एनएच १० एडवेंचर क्राइम ड्रामा, फिल्लौरी कॉमेडी ड्रामा फंतासी और परी हॉरर मिस्ट्री फिल्म थी। साफ़ है कि उन्होंने अब तक कोई भी कॉमेडी फिल्म नहीं बनाई है। अनुष्का शर्मा के तीन के संयोगों का तीसरा संयोग यह है कि अब अनुष्का शर्मा तीन फिल्मों का निर्माण करने जा रही हैं। हालाँकि, यह तीनों फ़िल्में तीन अलग अलग जोनर की फ़िल्में होंगी। लेकिन, इस क़िस्त में उनकी पहली फिल्म कॉमेडी जोनर की फिल्म होगी। सूत्र बताते हैं कि अनुष्का शर्मा ने स्क्रिप्ट फाइनल कर ली है। अनुष्का शर्मा ने अभी तक कोई कॉमेडी फिल्म नहीं की है। इसलिए यह उम्मीद की जाती है कि अपनी बतौर निर्माता कॉमेडी फिल्म में अनुष्का शर्मा ही मुख्य भूमिका करेंगी। फिल्म के बारे में कोई विवरण नहीं बताया गया है। क्योंकि, अनुष्का शर्मा अपनी तीनों फिल्मों के बारे में तभी ऐलान करेंगी, जब वह अपने हाथ के तीनों एक्टिंग प्रोजेक्ट पूरे कर लेंगी।
श्रिया पिलगांवकर की 'अभी तो पार्टी शुरू हुई है'
डायरेक्टर अनुभव सिन्हा की राजनीतिक व्यंग्य फिल्म अभी तो पार्टी शुरू हुई है की दर्जन भर एक्टरों की भीड़ में एक नाम श्रिया पिलगांवकर का भी है। श्रिया अभी २८ साल की है।  उनका हिंदी फिल्म डेब्यू मनीष शर्मा की फिल्म फैन से हुआ था। फैन से पहले श्रिया ने एक मराठी और एक फ्रेंच फिल्म की थी।  फैन में शाहरुख़ खान के दोहरे किरदार के बावजूद श्रिया अपनी पहचान बना पाने में कामयाब हुई।  दरअसल, श्रिया के खून में अभिनय बहता है।  उनके पिता सचिन पिलगांवकर ने कभी गीत गाता चल, अँखियों के झरोखों से, बालिका बधु और नदिया के पार जैसी सुपर हिट फिल्मों से अपने अभिनय के झंडे गाड़ दिए थे।  सचिन का विवाह एक मराठी फिल्म अभिनेत्री सुप्रिया से हुआ।  श्रिया इन दोनों की इकलौती बेटी हैं।  ज़ाहिर है कि अभिनय श्रिया के खून में बह रहा है। वह दो शार्ट फिल्मों और एक डॉक्यूमेंट्री का निर्देशन भी कर चुकी हैं। हालाँकि, अनुभव सिन्हा की इस राजनीतिक व्यंग्य फिल्म में ११ वरिष्ठ एक्टर हैं। वह इन सभी में सबसे कम अनुभवी एक्ट्रेस हैं। श्रिया कहती हैं, "यह अनुभव सर द्वारा लिखी गई एक उत्कृष्ट स्क्रिप्ट है। मैं इन पावरहाउस कलाकारों के साथ काम करने को लेकर बेहद उत्साहित हूँ । यह निश्चित रूप से एक ड्रीम टीम है।" श्रिया को हिंदी दर्शक एक्सेल एंटरटेनमेंट द्वारा निर्मित एक वेब शो मीरजापुर में भी देख सकेंगे । इस शो में अली फजल, विक्रांत मैसी और श्वेता त्रिपाठी ने भी काम किया है।
विद्या बालन की गैंगस्टर फ़िल्म
तुम्हारी सुलू की सफलता के बाद, अभिनेत्री विद्या बालन ने पत्रकार सागरिका घोष की पुस्तक इंदिरा : इंडियाज मोस्ट पावरफुल प्राइम मिनिस्टर को परदे पर उतारने के अधिकार खरीद लिए थे. इस किताब पर जो फिल्म बनेगी, उसमे इंदिरा गाँधी की भूमिका विद्या बालन ही करेंगी . दरअसल, विद्या बालन काफी समय से इंदिरा गाँधी की भूमिका करना चाहती थी. सागरिका घोष की यह किताब उनकी इंदिरा गाँधी फिल्म के लिए परफेक्ट हो सकती थी. हालाँकि, अभी यह तय नहीं हुआ है कि इंदिरा गाँधी पर कोई फिल्म बनाई जायेगी या वेब सीरीज में इस पुस्तक को ढाला जायेगा ! सशक्त भूमिकाओं को उतने ही सशक्त तरीके से करने की दृष्टि से फिल्मकारों का श्रेष्ठ चुनाव विद्या बालन ही होती हैं. इसीलिए, जब कोई ऐसी कहानी लिखी जाती है तो दिमाग में विद्या बालन का नाम ही आता है. लेखिका ज्योति कपूर दास एक ऐसा ही नाम है. जब उन्होंने एक महिला गैंगस्टर पर स्क्रिप्ट पूरी की तो उनके दिमाग में इस रोल के लिए सबसे पहला चेहरा विद्या बालन का ही आया. अपराध की दुनिया में एक बुरी महिला के किरदार वाली स्क्रिप्ट को लेकर, जब ज्योति विद्या से मिली तो ज्योति को अपनी पहचान बताने के लिए ख़ास कोशिश नहीं करनी पड़ी. क्योंकि, अपनी २०१६ की पुरस्कार विजेता लघु फिल्म चटनी से उन्हें पहचाना जाने लगा था. फिलहाल, सब कुछ विद्या बालन पर निर्भर करेगा कि वह वेब सीरीज की इंदिरा गाँधी को प्राथमिकता देती हैं या ज्योति की फिल्म की गैंगस्टर को !
वापस आ रही मोनिकंगना दत्ता की बॉलीवुड से गुज़ारिश
याद  है आपको मॉनिकांगना दत्ता की ! असम राज्य से गुवाहाटी की मॉडल, डांसर और एक्टर मॉनिकांगना दत्ता को, दर्शकों ने पहली बार, संजय लीला भंसाली की फिल्म गुज़ारिश (२०१०) में हृथिक रोशन और ऐश्वर्या राय बच्चन के साथ एस्टेला फ्रांसिस की भूमिका की थी।  गुज़ारिश की एस्टेला फ्रांसिस फिल्म में हृथिक रोशन के किरदार ईथन का प्यार और मैजिक शो में उसकी सहायक थी।  इस फिल्म ने  बॉक्स ऑफिस पर २४.५ करोड़ का ओपनिंग वीकेंड किया था।  लेकिन, बाद में यह फिल्म दर्शकों की बेरुखी का शिकार हो गई।  पचास करोड़ में बनी गुज़ारिश बॉक्स ऑफिस पर सिर्फ ६९.५० करोड़ का कारोबार ही कर सकी।  फिल्म फ्लॉप घोषित कर दी गई।  इस फिल्म के बाद मॉनिकांगना के पास कोई भी बॉलीवुड फिल्म नहीं थी।  हालाँकि, मॉनिकांगना ने भंसाली के प्रोडक्शन के साथ ३ फिल्मों के डील साइन की थी।  इसके बाद, मॉनिकांगना को पारिवारिक कारणों से फिल्मों से दूर अमरीका जाना पड़ा।  लम्बे समय बाद, मॉनिकांगना की फिर वापसी हुई है ।  वह एक वेब सीरीज आई एम नॉट अ पोर्नस्टार कर रही है।  यह फिल्म एक युवक और बड़ी उम्र की महिला की प्रेम कहानी है।  जिस प्रकार से भारत में वेब सीरीज अपना प्रभाव  जमाने में कामयाब हो रही हैं, मॉनिकांगना को उम्मीद है कि उन्हें इस सीरीज से फायदा होगा।  उनकी तमाम उम्मीद उन दो फिल्मों पर भी लगी हुई  हैं, जिन्हे बनाने का वादा संजय लीला भंसाली ने किया था।  हालाँकि, गुज़ारिश के बाद संजय लीला भंसाली असफलता के झटके से उबर चुके हैं।  वह, गोलियों के रास लीला राम-लिए, बाजीराव-मस्तानी और पद्मावत जैसी बड़ी हिट फ़िल्में निर्देशित कर चुके हैं।  क्या, संजय लीला भंसाली की अगली फिल्म में मॉनिकांगना को मौका मिलेगा ?
तीसरी साहिब बीवी और गैंगस्टर में जुगनी
तिग्मांशु धुलिया की गैंगस्टर ड्रामा थ्रिलर फिल्म साहिब बीवी और गैंगस्टर सीरीज की पहली दो फिल्मों में जुगनी गीत काफी होशियारी से उपयोग किया गया गीत था। यह फिल्म के तमाम किरदारों के संबंधों को उभारने वाला गीत था। पहली साहेब बीवी और गैंगस्टर में इस जुगनी गीत को बब्बू मान ने गया था। साहेब बीवी और गैंगस्टर रिटर्न्स में जैज़ी बी दर्शकों को रिझा रहे थे। अब साहेब बीवी और गैंगस्टर ३ में पंजाबी लोक गीत जुगनी का फिर उपयोग किया जा रहा है, बिलकुल नए तरीके से। केसरिया जुगनी टाइटल के साथ इस गीत को अंजन भट्टाचार्य ने कंपोज़ किया है। कुमार ने बोल लिखे हैं। कुमार ने चितिया कलाईया, हैंगओवर, पार्टी तो बनती है जैसे गीत लिखे हैं।  इस गीत से पंजाब की नूरन बहनों ज्योति नूरन और सुल्ताना नूरन को जोड़ा गया है। इन दोनों ने, अमित गुप्ता और अंजन भट्टाचार्य के साथ इस गीत को गाया है। साफ़ तौर पर, इस लोक गीत को अपने प्रकार से, भिन्न आवाजों के साथ प्रयोग करने की कोशिश की गई है। यह कोशिश कितनी सफल साबित होती है, इसका पता तो फिल्म के रिलीज़ होने के बाद ही चलेगा। साहेब बीवी और गैंगस्टर ३ फिल्म में पहली दो गैंगस्टर फिल्म के जिमी शेरगिल और माही गिल तथा दूसरी गैंगस्टर की सोहा अली खान के साथ संजय दत्त गैंगस्टर की भूमिका में हैं। फिल्म से चित्रांगदा सिंह, दीपक तिजोरी, कबीर बेदी, नफीसा अली और दीपराज राना भी जोड़े गए हैं। यह फिल्म २७ जुलाई को पूरे देश में रिलीज़ होगी।
रिलीज़ होगी सनी देओल की भैयाजी सुपरहिट
सनी देओल के प्रशंसकों के लिए खुश खबर है। सनी देओल की लम्बे समय से रिलीज़ की तारीख़ का इंतज़ार कर रही फिल्म भैयाजी सुपरहिट को रिलीज़ की तारीख़ मिल गई है। नीरज पाण्डेय के निर्देशन में बनी यह फिल्म १४ सितम्बर को रिलीज़ होगी। इस फिल्म में सनी देओल की दोहरी भूमिका है। अपने ३५ साल लम्बे फिल्म करियर में सनी देओल पहली बार दोहरी भूमिका कर रहे हैं। हास्य से भरपूर इस फिल्म में सनी देओल, उत्तर प्रदेश के अंडरवर्ल्ड डॉन बने हैं, जो बॉलीवुड फिल्म एक्टर बनना चाहता है। इस फिल्म में सनी देओल के साथ प्रिटी जिंटा, अमीषा पटेल, अरशद वारसी, श्रेयस तलपडे, संजय मिश्र, ब्रिजेन्द्र काला, जयदीप अहलावत, पंकज त्रिपाठी और मुकुल देव जैसी सशक्त स्टारकास्ट है। सनी देओल और प्रिटी जिंटा ने दिल्लगी, फ़र्ज़, ये रास्ते हैं प्यार के, द हीरो लव स्टोरी ऑफ़ अ स्पाई और हीरोज जैसी फ़िल्में की हैं। भैयाजी सुपरहिट इस जोड़ी की छठी फिल्म है। फिल्म में प्रिटी जिंटा सनी देओल की पत्नी की भूमिका कर रही हैं। जहाँ तक अमीषा पटेल के साथ फ़िल्में करने का सवाल है, सनी देओल के करियर की सबसे बड़ी हिट फिल्म ग़दर एक प्रेम कथा अमीषा पटेल के साथ ही थी। इसके बावजूद, सनी देओल ने अमीषा पटेल के साथ सिर्फ एक अन्य फिल्म तीसरी आँख ही की है। श्रेयस तलपडे और सनी देओल की कॉमेडी फिल्म पोस्टर बॉयज पिछले साल रिलीज़ हुई थी। नीरज पाठक और सनी देओल की निर्देशक-एक्टर जोड़ी राईट या रॉंग के बाद फिर बन रही है। यह फिल्म ३५०० प्रिंट्स में रिलीज़ की जायेगी।
महाभारत के कर्ण पर ३०० करोड़ की फिल्म !

भारतीय फिल्म उद्योग के लिए यह ख़ुशी की बात है कि अब भारतीय फिल्म निर्माता महंगी फ़िल्में इफरात में बनाने लगे हैं। बाहुबली सीरीज की फिल्मों को जैसी सफलता पूरे देश में मिली हैउसे देख कर ख़ास तौर पर दक्षिण के फिल्म निर्माताओं में बड़े बजट की फ़िल्में दक्षिण की भाषों के साथ हिंदी में भी बनाए जाने का उत्साह पैदा हुआ है। महावीर कर्ण एक ऎसी ही फिल्म है. इस फिल्म का कुल बजट ३०० करोड़ रखा गया है। यह फिल्म महाभारत के महादानी और योद्धा चरित्र कर्ण पर फिल्म है। इस फिल्म की तमाम शूटिंगभारत में हैदराबाद और जोधपुर में करने के अलावा कनाडा में भी होगी। फिल्म को सम्पूर्ण भारत को स्वीकार्य बनाने के लिए बॉलीवुड तथा दूसरे फिल्म उद्योग के एक्टर भी अहम् भूमिकाओं में लिए जायेंगे। इस फिल्म को तमिल और हिंदी में बनाया जायेगा। पूरे भारत में रिलीज़ करने के ख्याल से इसे दस दूसरी भाषाओँ में भी डब किया जायेगा। यहाँ बताते चलें कि महावीर कर्ण का निर्देशन बीएस विमल कर रहे हैं। यह फिल्म मूल रूप मेंअभिनेता पृथ्वीराज को लेकर मलयालम में बनाई जानी थी।  लेकिनअज्ञात कारणों से उन्होंने फिल्म छोड़ दी। पृथ्वीराज के निकल जाने के बाद इस फिल्म में विक्रम आ गए। फिल्म को तमिल और हिंदी में बनाने का फैसला कर लिया गया। अभिनेता विक्रमइस समयदो फ़िल्में ध्रुव नटचरित्रम और सामी स्क्वायर कर रहे हैं। ध्रुव नटचरित्रम एक स्पाई- थ्रिलर फिल्म है। फिल्म में ऐश्वर्या राजेश और ऋतू वर्मा उनके साथ काम कर रही हैं। सामी (२००३) की सीक्वल फिल्म है सामी स्क्वायर। फिल्म में कीर्ती सुरेश विक्रम की नायिका हैं। महावीर कर्ण की शूटिंग रामोजी फिल्म सिटी में अक्टूबर से शुरू हो जायेगी। फिल्म को दिसम्बर २०१९ में रिलीज़ किये जाने की योजना है। 

भारत में सलमान खान के दोस्त हैं सुनील ग्रोवर ?- पढ़ने के लिए क्लिक करें 

Saturday, 21 April 2018

भारत में सलमान खान के दोस्त हैं सुनील ग्रोवर ?

द कपिल शर्मा शो में, स्टैंडअप कॉमेडियन कपिल शर्मा के पिछलगू बने नज़र आने वाले, सुनील ग्रोवर की तक़दीर खुलती नज़र आ रही है। 

द कपिल शर्मा शो में मशहूर होने से पहले ही, सुनील ग्रोवर कुछ फिल्मों में काम कर चुके थे। 

उन्होंने, प्यार तो होना ही था, द लीजेंड ऑफ़ भगत सिंह, इंसान, फॅमिली टाइज ऑफ़ ब्लड, गजिनी, हीरोपंथी, जिला गाज़ियाबाद, गब्बर इज बेक और बागी जैसी फ़िल्में की हैं।

लेकिन, उन्हें वह शोहरत नहीं मिली, जो द कपिल शर्मा शो के डॉक्टर मशहूर गुलाटी के नाम से मिली। 
इस गुलाटी के कारण ही, सुनील ग्रोवर को सलमान खान की फिल्म भारत में एक महत्वपूर्ण भूमिका मिल गई है। 


सुनील ग्रोवर ने, सलमान खान की फ़िल्म ट्यूबलाइट के प्रमोशन के लिए सोनी पर सुपर नाईट विथ ट्यूबलाइट कार्यक्रम में डॉक्टर मशहूर गुलाटी के अलावा कुछ दूसरे किरदारों की नक़ल की थी। 

ट्यूबलाइट फ्लॉप हुई थी।  लेकिन सलमान खान, उनके कार्य के प्रति समर्पण से काफी प्रभावित हुए थे। 

इसलिए, जैसे ही अली अब्बास ज़फर की फिल्म भारत बनाए जाने का ऐलान हुआ, सुनील ग्रोवर भारत में शामिल कर लिए गए। 

भारत में, सुनील ग्रोवर सलमान खान के किरदार के दोस्त की भूमिका कर रहे हैं। यह किरदार किसी कॉमेडी एक्ट के लिए नहीं बना है। सुनील ग्रोवर का किरदार काफी महत्वपूर्ण है और सलमान खान के किरदार का सपोर्टिंग है। 

"यहाँ बताते चलें कि भारत एक कोरियाई फिल्म ओड टू माय फादर की ऑफिसियल रीमेक फिल्म है। कोरियाई फिल्म में हीरो के एक दोस्त का किरदार काफी महत्वपूर्ण है।" 

यह किरदार नायक के साथ खान में काम करता है, जब हीरो अपने परिवार को छोड़ कर बहन की खोज में निकलता है, तब अपने दोस्त को ही अपने परिवार की देखरेख का जिम्मा सौंपता है। 

सुनील ग्रोवर इस किरदार के ज़रिये अपनी अभिनय प्रतिभा लोहा मनवा सकते हैं। 

सुनील ग्रोवर को, फिल्म निर्देशक विशाल भरद्वाज ने अपनी दो बहनों की कहानी वाली फिल्म चूड़ियाँ में शामिल कर लिया है। 


ये प्यार नहीं तो क्या है के सेट पर पलक के साथ चाय टाइम - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

ये प्यार नहीं तो क्या है के सेट पर पलक के साथ चाय टाइम

पेय को लेकर हर एक की अपनी पसंद होती है; गरम या ठंडा जो उन्हें तरोताजा बनाए रखता है और दिनभर ऊर्जा भी देता है।

सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के शो ये प्यार नहीं तो क्या है में मुख्य किरदार निभा रही पलक जैन भी दिनभर ऊर्जावान बने रहने और ताजगी के लिए एक पेय पर निर्भर रहती है। शो में उनका किरदार कॉफी के प्रति दीवानगी रखता है, जबकि हकीकत में वह एक चाय प्रेमी हैं। उन्हें चाय इतनी पसंद है कि उन्होंने अपनी खुद की अदरक चाय की रैसिपी इन्वेंट की है और वह इसकी कसमें खाती दिखती हैं।  

जब चाय के प्रति उनकी दीवानगी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "मैं पूरी तरह से चाय प्रेमी हूँ। जब भी मैं घर जाती हूँ, अपने लिए अदरक की चाय बनाती हूँ। खासकर सर्दियों में। यह एक लत बन गई है। मैंने अपना खुद का नुस्खा ईजाद किया है। एक बेहतरीन मसाला चाय बनाने के लिए, मैंने कुछ अदरक, इलायची और एक चुटकी काली मिर्च और तुलसी की पत्तियाँ ली और वाकई में यह बेहतरीन है!!! आप टेस्टी, लेकिन हेल्दी चाय ऑप्शन के साथ तैयार हैं, जो सर्दियों में ज्यादा आनंद देता है।" 

दिलचस्प बात यह है कि आने वाले दिनों में, कहानी सिद्धांत और अनुष्का के कॉलेज के दिनों के फ़्लैशबैक में जाएगी। यहां, सिद्धांत की परफेक्ट चाय बनाने की दीवानगी ही कॉफी लवर अनुष्का को चाय के प्रति दीवाना बनाएगी। यह एक बदलाव की अगुवाई करेगा! इसके अलावा इस सिकवेंस के लिए ही पलक ने इस खास चाय की रैसिपी विकसित की है। 


हालांकि, पलक आजकल गर्मियों में चाय पीने से बचती हैं।

वह कहती हैं, “गर्मियों में मैंने चाय से परहेज किया लेकिन मेरा दिन गरम चाय की प्याली के बिना शुरू ही नहीं होता। सुबह-सुबह मुझे चाय जरूर चाहिए और मेरे दिन की शुरुआत ऐसे ही होती है। चाय मेरे लिए ही तो बनी है।


चीन में ४ मई को रिलीज़ होगी बाहुबली २ : द कन्क्लूजन - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

चीन में ४ मई को रिलीज़ होगी बाहुबली २ : द कन्क्लूजन

चीनी दर्शकों के लिए, भारत की फंतासी फिल्म बाहुबली २ द कन्क्लूजन का ट्रेलर जारी कर दिया गया है।

इस ट्रेलर से चीनी दर्शकों को पता चलता है कि यह फिल्म ४ मई को रिलीज़ होने जा रही है।

चीन में, बाहुबली २ को सामान्य २डी और आईमैक्स में रिलीज़ किया जायेगा।

इस प्रकार से, बाहुबली २ पहली भारतीय फिल्म  बन जाती है, जो चीनी बाज़ार में आईमैक्स में रिलीज़ हो रही है।

चीन की एक वेबसाइट लिखती है"बाहुबली २भारतीय किंवदंती है।  यह एक राजकुमार की कहानी है, जो अपने पिता का बदला लेता है और उसका सिंहासन फिर प्राप्त करता है। इस फिल्म को बनाने के लिए डायरेक्टर एसएस राजामौली को पांच साल का समय लगा।  फिल्म के निर्माण में २५० करोड़ खर्च हुए।  यह फिल्म, भारत की अब तक की सबसे महँगी फिल्म मानी जाती है।" 

यह वेबसाइट थोड़ी तथ्यात्मक गलतियां भी करती नज़र आती है।  यह कहती है कि इस सीरीज की पहली फिल्म बाहुबली २ द बेगिनिंग थी। जबकि, पहली फिल्म का टाइटल बाहुबली द बेगिनिंग था। 

वेबसाइट आगे कहती है, "पहली फिल्म ने भारतीय बॉक्स ऑफिस पर ५०० करोड़ का कारोबार किया था। यह कारोबार भारतीय बॉक्स ऑफिस चार्ट के टॉप पर था।" 

यहाँ बताते चलें कि बाहुबली द बेगिनिंग चीन के बाजार में २०१६ में रिलीज़ हुई थी। इस फिल्म ने चीनी मुद्रा में ७.४५ युआन या डॉलर में १.१८ मिलियन डॉलर का कारोबार किया था।  

अब देखते हैं बाहुबली : द कन्क्लूजन को चीनी दर्शकों का कैसा रिस्पांस मिलता है! 


योग मुद्रा में हैली बेरी - पढ़ने के लिए  क्लिक करें 

योग मुद्रा में हैली बेरी

हॉलीवुड फिल्म अभिनेत्री और फिल्म डाई अनादर डे की बांड गर्लहैली बेरी की यह पसंदीदा योग मुद्रा है।  वह इस मुद्रा का पोज़ अपने इंस्टाग्राम अकाउंट में पोस्ट करते हुए लिखती है, " 
"This #FitnessFriday is dedicated to the importance of stretching!
After I work out, it’s important for me to stretch and lengthen. Fitness is not just about running, lifting and punching. For me, being athletic and super fit is also about being still, stretching and breathing. Including stretching in my fitness program helps my muscles stay long, limber, improves my mobility and range of motion and, most importantly, helps me avoid injuries. This is one of my favorite #yoga poses, the shoulder stand, that stretches my lower spine and legs. I feel 2 inches taller after this stretch! Some people use yoga poses to manage stress, increase circulation, for medication, recovery, better sleep, and mobility just to name a few.
Check out my Fitness IG Story to see a stretch I like for hip mobility that lengthens my sides and for today's #keto meal.
Today I challenge you to share your best yoga pose. If you don't have one, I encourage you to search for one, post about it, tag #FitnessFridayHB and tell me how it makes you feel."
हैली बेरी नियमित योग कराती है।  उनका मानना है कि योग से फिट भी रहा जा सकता है और एथेलीट बॉडी भी पाई जा सकती है।  हल्ले के इस कथन को  झुठलाया नहीं जा सकता।  क्योंकि, वह इसी योग से, ५१ साल की उम्र में भी, बड़ी बड़ी युवा मॉडल्स को भी शर्मिंदगी दे जाती है।  


अब रेस ३ से पहले बॉक्स ऑफिस पर रेस करेगा 'काला' - पढ़ने के लिए क्लिक करें