Saturday, 24 May 2014

आज के चित्र

Embedded image permalink
                             मनीषा कोइराला बीमारी से उबर कर स्वस्थ एवं प्रसन्न

Embedded image permalink
                        हम हैं फंदेबाज फराह खान की फिल्म हैप्पी नई ईयर की टीम

 






Embedded image permalink

                                                  साड़ी में सेलेना गोमेज़

 Embedded image permalink
                            हीरोपंती की स्पेशल स्क्रीनिंग के दौरान पिता के साथ टाइगर

Friday, 23 May 2014

क्या मोदी के कारण मुस्लमान सलमान खान का विरोधी हो जायेगा !

नरेंद्र मोदी के २६ मई को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए अमिताभ बच्चन, रजनीकांत और लता मंगेशकर के साथ अभिनेता सलमान खान को भी बॉलीवुड से बुलाया गया है. सचिन तेंदुलकर को भी बुलावा है. सचिन और लता मंगेशकर भारत रत्न हैं. रजनीकांत भारत के सुपर स्टार हैं. अमिताभ बच्चन बॉलीवुड के मेगा स्टार. क्या यह लोग इस समारोह में शामिल होंगे?
सचिन और लता के समारोह में जाने पर उन्हें भारत रत्न बनाने वाले कांग्रेसी नाखुशी प्रकट कर सकते हैं.
रजनीकांत के जाने पर जयललिता नाराज़ हो जाएंगी, क्योंकि इस समारोह में श्रीलंका के राष्ट्रपति को भी बुलाया गया है.
अमिताभ बच्चन गुजरात के ब्रांड एम्बेसडर हैं, इसलिए उन्हें कोई क्या कहेगा.
लेकिन, सलमान खान का क्या होगा! क्या वह शामिल होंगे? अगर शामिल हुए तो क्या मुसलमानों की बहुसंख्यक आबादी उनसे नाराज़ हो जाएगी. क्योंकि, कहा जाता है कि सलमान खान के इस साल के शुरू में मकर संक्रांति पर मोदी के गुजरात जाने और उनके साथ पतंग उड़ाने पर मुस्लमान उन से नाराज़ हो गए थे. इसीलिए सलमान की फिल्म जय हो फ्लॉप हो गयी. हालाँकि, यह फिल्म जितनी रद्दी बनी थी, उससे इसे फ्लॉप होना ही था. लेकिन, इसके बावजूद यह प्रश्न महत्वपूर्ण है. क्या मोदी समर्थन के कारण मुस्लमान सलमान खान का कट्टर विरोधी हो जायेगा?
इस प्रश्न का जवाब अभिनेता सलमान खान के लिए महत्वपूर्ण है. उनकी नयी फिल्म किक ईद वीकेंड में रिलीज़ हो रही है. ईद वीकेंड में रिलीज़ सलमान खान की तमाम फ़िल्में ज़बरदस्त बिज़नेस करती हैं. क्या सलमान खान की किक सुपर डुपेर हिट साबित होगी? अगर हाँ, तो क्या यह मुस्लमान आबादी की मोदी समर्थन के बावजूद सलमान खान से नाराज़ न होने का संकेत होगा? अगर किक फ्लॉप हो गयी तो क्या यह मुस्लमान आबादी का सलमान खान से नाराज़ होना माना जायेगा?
 

Thursday, 22 May 2014

इंजीनियर अरफ़ी का फग्ली अंदाज़

कबीर सदानंद की फिल्म फग्ली में अरफी  लाम्बा आदित्य की भूमिका कर रहे हैं. वह पेशे से इंजीनियर हैं. लेकिन, फिल्म निर्माण और अभिनय में दिलचस्पी के कारण, कम से कम, एक बार अपना भाग्य आजमाना चाहते हैं. यही दिलचस्पी उन्हें दिनेश ठाकुर के थिएटर ग्रुप में ले गयी।  इसीलिए उन्होंने बॉलीवुड की ओर रुख किया. हालाँकि, पहली फिल्म डैनी  बॉयल की स्लमडॉग मिलियनेयर हॉलीवुड से थी।  यह फिल्म ऑस्कर पुरस्कारों तक पहुंची।  पर फिल्म में अरफ़ी का रोल काफी छोटा था. फिल्म प्राग में उनकी भूमिका को सराहा गया।  अब वह अन्य तीन अभिनेताओं के साथ फगली की लीड में हैं. जिमी शेरगिल, मोहित मारवाह और बृजेन्द्र सिंह की मौजूदगी में अरफी की भूमिका कितनी महत्वपूर्ण है, इस पर ही उनका भविष्य टिका हुआ है. अरफी कहते हैं, "मैं जानता था कि  मेरा सपना मेरी कड़ी मेहनत पर निर्भर करता है. इसीलिए में मुंबई आ गया. आगे कितना संघर्ष है, यह मुझे कभी विचलित नहीं कर सका." क्या इंजीनियर अरफी  की मेहनत का पुल मुंबई में उनकी राह आसान बना पाएगी! 
 

खुशनसीब घोडा, जिसकी सवार सोना ( सोनाक्षी सिन्हा ) !

सोनाक्षी सिन्हा आजकल अर्जुन कपूर के साथ फिल्म तेवर की शूटिंग में व्यस्त हैं. इस फिल्म के लिए मेले का एक सीन फिल्माया जाना था. इस हेतु काफी जानवर सेट पर लाये गए थे।  तभी सोनाक्षी सिन्हा की नज़र एक घोड़े पर पड़ी. सोनाक्षी सिन्हा जब १० साल की थीं, घुड़सवारी किया करती थीं. बहुत काम लोग, ख़ास कर तेवर की यूनिट के लोग, जानते हैं कि  उन्हें घुड़सवारी आती है।  इसलिए जब उन्होंने सोनाक्षी सिन्हा को घोड़े पर सवार होते देखा तो हक्के बक्के रह गए।  लेकिन, सोनाक्षी  आराम से उस ट्रेंड घोड़े पर सवार हो गयी और कोई दस मिनट तक घोडा लेकर मेले के सेट पर घूमती रही. क्या उनकी आगामी किसी फिल्म के घुड़सवार सोनाक्षी सिन्हा देखने को मिलेगी!

Monday, 19 May 2014

जेनिफर लॉरेंस का योग कनेक्शन !

एक्स-मेन : डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट का इंडिया कनेक्शन क्या है? एक्स-मेन सीरीज की सातवीं फिल्म डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट में अभिनेता ह्यू जैकमैन एक बार फिर म्युटेंट लोगन/वॉल्वरिन के रोल में हैं।  पर फिल्म में ख़ास चर्चा है ऑस्कर पुरस्कार विजेता अभिनेत्री जेनिफर लॉरेंस की, जो इस फिल्म में एक म्युटेंट मिस्टिक की भूमिका में है, जो नीले रंग की है तथा जिसे अपना शरीर बदल लेने की शक्ति है. दर्शक फिल्म में जेनिफर को अपना शरीर बिलकुल विपरीत दिशा में मोड़ते देख कर चकित रह जाएंगे. जेनिफर के शरीर का यह लचीलापन और फुर्ती चकित कर देने वाली है. यही एक्स-मेन डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट का इंडिया कनेक्शन भी है. जेनिफर ने अपनी इस भूमिका को सहजता से अंजाम देने के लिए योग कला का सहारा लिया. जेनिफर कहती हैं, "हमने कई फाइट सींस किये हैं. पर मिस्टिक का मूवमेंट ख़ास था।  उसे गिरगिट की तरह चलना और मुड़ना था।  इसके लिए हमने योग का सहारा लिया।  मैं योग के द्वारा  अपने शरीर को ठीक विपरीत दिशा में मोड़ सकी। " दर्शक मिस्टिक का यह योग प्रदर्शन एक्स-मेन डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट में २३ मई को इंग्लिश, हिंदी, तमिल और तेलुगु भाषा में देख सकेंगे.



Saturday, 17 May 2014

हॉरर फिल्मों रास्ते बॉलीवुड

आदित्य सिंह राजपूत का नाम 'काई  पो चे' के  सुशांत सिंह राजपूत की याद दिलाता है।  लेकिन, क्या यह नाम आदित्य को हिंदी फिल्मों में सफलता भी दिला सकता है ! आदित्य बरास्ता कमर्शियल, हिंदी फिल्मों में आये हैं।  वह लंचबॉक्स की निर्माता कंपनी  एस्सेल विज़न और हैंडप्रिंट पिक्चर्स  की फिल्म '३ एएम' से डेब्यू करने  जा रहे हैं।  इस फिल्म का निर्देशन विशाल महदकर कर रहे हैं , जो इससे पहले ब्लड मनी फिल्म का निर्देशन कर  चुके हैं।  आदित्य को यह फिल्म सोशल साइट ट्विटर के ज़रिये मिली।  आदित्य बताते हैं, "विशाल सर ने ट्विटर पर कुछ पोस्ट किया  था, जिस पर मैंने कमेंट्स किया था. उसके बाद मुझे उनकी फिल्म का ऑफर आया। पर इससे पहले मुझे ऑडिशन में १०० युवाओं को पछाड़ना पड़ा।  मैं फिल्म में अपने रोल के बारे में इतना ही बता सकता हूँ कि मैं एक कॉलेज जॉक बना हूँ".  ३ एएम एक हॉरर फिल्म है. आप तौर पर ऐसी फ़िल्में किसी एक्टर के लिए खतरा बन सकती  हैं.ऐसे में आदित्य का खुद  के लिए हॉरर  फिल्म चुनना कितना समझदारी भरा फैसला हो सकता है? आदित्य हॉरर फिल्मों के शौक़ीन हैं. वह कहते  हैं,"मैं हॉरर फिल्मों का शौक़ीन हूँ।  वीराना, ईविलडेड, ऑर्फ़न और द कांजरिंग मेरी पसंदीदा फ़िल्में हैं. यह फ़िल्में आपकी नसों में सनसनी फैला देती हैं. मैं सेलुलाईड पर हॉरर करके उत्तेजित हूँ।"

Thursday, 15 May 2014

मिस पोलैंड नतालिया जनोस्ज़ेक हिँदी फ़िल्म फ्लेम मे

हिंदी फिल्मों में विदेशी  मेहमानों की आमद काफी बढ़ गयी है. बॉलीवुड अब केवल किसी मिस इंडिया का आकर्षण नहीं रहा. विदेशी मिस भी हिंदी में काम करना चाहती है.  ऎसी ही एक मिस पोलैंड भी हैं।  नतालिया जानेस्ज़ेक ने २०१३ में मिस पोलैंड का खिताब जीता था।  वह चीन में आयोजित मिस बिकनी यूनिवर्स २०१३ की विजेता भी हैं।  वह एक हॉलीवुड फिल्म में भी अभिनय कर चुकी हैं।  नतालिया एक अच्छी डांसर भी हैं।  वह २०१० में टोक्यो में आयोजित वर्ल्ड डांस कम्पीटीशन की विजेता हैं।  अब मिस पोलैंड नतालिया निर्माता राजीव रुइया  और वरुण सिंह की फिल्म फ्लेम में मुख्य भूमिका कर रही हैं।  इस फिल्म के निर्देशक राजीव रुइया हैं।  
Displaying natalia swim.jpgDisplaying natalia swim 2.jpgDisplaying natalia 1swim .jpgDisplaying natalia .jpgDisplaying natalia.jpgDisplaying natalia 1.jpgDisplaying natalia 6.jpgDisplaying natalia 4.jpgDisplaying natalia 2.jpg

Wednesday, 14 May 2014

माधुरी दीक्षित के लिये 'धक धक्' नहीं करता दिल

आज अभिनेत्री माधुरी दीक्षित का ४८ वां जन्मदिन है. तीस साल पहले माधुरी ने राजश्री प्रोडक्शंस की सुपर फ्लॉप फ़िल्म अबोध से अपने करियर की शुरुआत की थी. उस समय किसको मालूम था कि इस फ्लॉप मटेरियल को कभी ऎसी तेज़ाबी सफलता मिलेगी कि वह अगले तीन  दशकों तक हिन्दी फ़िल्म दर्शकों के दिलों  की धकधक बन जाएँगी।  चंद्रा नार्वेकर उर्फ़ एन चन्द्रां की फ़िल्म  तेज़ाब ने दुबली पतली काया वाली माधुरी दीक्षित को सुपर हिट कर दिया. इस फिल्म के बाद माधुरी दीक्षित के बही खाते में राम-लखन, त्रिदेव, परिंदा,.दिल, १०० डेज ,  साजन,बेटा, आदि सुपर हिट फ़िल्में दर्ज़ हो गयीं।
माधुरी दीक्षित एक  ऐसा उदाहरण हैं कि समय बडा जालिम होता है।  बीता हुआ कल वापस नहीं आ सकता. २००२ में, देवदास की सफलता के दौर में फ़िल्म की चंद्रमुखी माधुरी दीक्षित अमेरिकन ड़ॉक्टर श्रीराम नेने का घर बसाने के लिये बॉलीवुड छोङ कर चली गयी थीं. कुछ समय ऐसा लगा कि माधुरी के प्रशंसकों के दिलों ने धडकना बन्द कर दिया है।  दर्शक माधुरी दीक्षित की दिल चीर देने वाली मुस्कान को भूलें नही थे।  इसीलिए पांच साल बाद जब उन्होने यशराज बैनर की फिल्म के साथ दर्शकोँ से आजा नच ले कहा तो दर्शक सहज तैयार हो गये. मगर फ़िल्म आजा नच ले दर्शकोँ की अपेक्षा पर खरी नहीं उतरी।  फिल्म फ्लॉप हो गयी।  इसे लोगों ने  माधुरी दीक्षित के बजाय फ़िल्म की असफ़लता समझा।  इसीलिये, जब छह साल बाद, माधूरी दीक्षित ने फिर बॉलीवुड का रुख किया तो फ़िल्म निर्माताओं ने  खूली बाहों से उनका स्वागत किया. अयान मुखर्जी की फ़िल्म 'यह जवानी दीवानी' में उनका 'लहंगा'  दर्शकों को पसन्द भी आया।  इसके बाद माधुरी दीक्षित की बतौर नायिका डेढ़ इश्क़िया और गुलाब गैंग का इंतज़ार किया जाने लगा.  डेढ़ इश्क़िया और गुलाब गैंग का रिलीज़ होना बन्द मुट्ठी खुल जाने के समान था.  यह दोनों फिल्में दो महीने के अंतराल में रिलीज़ हुई और बुरी तरह  से फ्लॉप हुई।  माधुरी दीक्षित की कटीली मुस्कान दर्शकोँ के दिलों की धक धक नहीं बन सकी।  इसके साथ ही साबित हो गया कि माधुरी अब बीता समय बन चुकी हैं।

मर्दानी रानी मुखर्जी

निर्देशक प्रदीप सरकार की फ़िल्म मर्दानी मे अभिनेत्री रानी मुखेर्जी एक पुलिस अधिकारी की भूमिका में हैं।  इस भूमिका में उन्हें खूब एक्शन करने हैं और इसलिए काफी फ़िट भी रहना है।  यशराज बैनर और निर्माता आदित्य        चोपड़ा की फ़िल्म होने के बावजूद रानी मुख़र्जी फ़िल्म  के लिये काफी मेहनत कर रही हैं।  समुद्र के किनारे दौड़ लगाती  रानी मुखेर्जी के इस चित्र को देख कर इसका अंदाजा लगाया जा सकता है।  आमिर खान और करीना कपूर के साथ  २०१२ की दिवाली में रिलीज़ रीमा कागती की फ़िल्म तलाश : द आंसर लाइज वीथिन के बाद रानी के पास फ़िल्में नहीं रह गयी थीं. इसलिए स्वाभाविक तौर पर शरीर पर अतिरिक्त चर्बी चढ़नी ही थी।  तलाश की पब्लिसिटी के दौरान करीना कपूर के साथ उनकी फोटो देख कर इस का अन्दाज़ा लगाय जा सकता है।  देखिये इसी साल रिलीज़ होने जा रही मर्दानी को दर्शक कितना स्वीकार करते हैं।



रेखा की फितूर

बॉक्स ऑफिस पर काई पो चे जैसी सफल फ़िल्म के निर्देशक अभिषेक कपूर की नयी फ़िल्म फितूर चार्ल्स डिकेन्स के उपन्यास ग्रेट  एक्सपेक्टेशन का हिंदी रूपांतरण है।  कश्मीर की पृष्ठभूमि पर फ़िल्म फितूर की तमाम शूटिंग कशमीर और दिल्ली मेँ होगी. इस फिल्म का खास आकर्षण हैं रेखा, जो  फ़िल्म में एक चंचल बेगम का रोल कर रही हैं. फितूर में पहली बार आदित्य रॉय कपूर के साथ कटरीना कैफ की जोड़ी बन रही है।  आदित्य एक कश्मीरी युवा नुर की भूमिका में हैँ तथा कटरीना कैफ उनकी प्रेमिका फिरदोस के रोल में हैं. इस प्रकार से आदित्य रॉय कपूर एक बार फिर अपने बड़े भैया सिद्धार्थ रॉय कपूर की कंपनी यूटीवी की फ़िल्म में मुख्य भूमिका कर रहे हैं. फितूर की स्क्रिप्ट सुप्रतीक सेन और अभिषेक कपूर ने मिल कर लिखी है। 

Monday, 12 May 2014

न्यूयॉर्क में हुआ ऐक्स-मेन : डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट का वर्ल्ड प्रीमियर

बीती रात एक्स-मेन  सीरीज की सातवीं फ़िल्म ऐक्स-मेन : डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट  का वर्ल्ड प्रीमियर  न्यूयॉर्क में हुआ।  इस भव्य प्रीमियर में ऐक्स-मेन : डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट  की ह्यू जैकमैन, जेनिफर लॉरेंस, जेम्स मकवॉय, माइकल फॉस्बेंडर, एल्लेन पेज, आदि की पूरी स्टारकास्ट तो शामिल हुई ही, पहले की फिल्मों के सितारे भी शामिल हुए.  न्यूयॉर्क के बाद इस फ़िल्म का प्रीमियर आज १२ मई को लंदन, १३ मई को बीजिंग, १३ को ही मास्को, १४ को सिंगापुर, १५ को साओ पाओलो और १६ मई को मेलबोर्न में होगा।
Embedded image permalink 
Embedded image permalink Embedded image permalink
Embedded image permalink
 


Embedded image permalink



Embedded image permalinkEmbedded image permalink
Embedded image permalink

Saturday, 10 May 2014

मस्तीजादे की लैला लेले सन्नी लियॉन

प्रीतीश नंदी कम्युनिकेशंस ने अपनी आगामी फ़िल्म "मस्तीजादे ' में सन्नी लियॉन को साइन कर के एक मास्टरस्ट्रोक खेला है। सन्नी लियॉन की हालही मे प्रदर्शित हुई फ़िल्म रागिनी एम एम एस २ ने डोमेस्टिक मार्केट मे तक़रीबन ५० करोड़ का बिज़नेस किया- वह भी सन्नी के दम पर।  मस्तीजादे एक पागलपन से भरी, शरारत, सेक्स कॉमेडी साथ ही  बहुत हॅंसी और मौज मस्ती से भरी फ़िल्म है।  
मस्तीज़ादे फ़िल्म के निर्देशक मिलाप झवेरी है जिन्होने ग्रैंड मस्ती, मै तेरा हीरो, और शुट ऑउट ऍट वडाला  जैसी सुपर हिट फ़िल्में लिखी है।  इन  फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर जबरदस्त कमाई की। मस्तीज़ादे को मिलाप और मुश्ताक़ शेख ने मिल कर लिखा है।  मिलाप,'कहते है " सुपर हिट फिल्में झंकार बीट्स,कांटे 'प्रीतीश नंदी कम्युनिकेशंस, के साथ बनाने के बाद अब और एक हिट फ़िल्म दे कर हैट्रिक पूरी करने कि चाहत है.  ब्लॉकबस्टर सेक्स कॉमेडी मस्ती और ग्रैंड मस्ती लिखने के बाद मे मस्तीजादे मेरी फिल्मो की डबल  हैट्रिक पुरा करना चाहुंगा। सन्नी लियॉन इस फिल्म मे लैला बनीं हुई है।  आशा करता हूँ कि यह फ़िल्म कमाइ के रिकॉर्ड बनाएगी।''
निर्माता रोंगिता प्रीतीश नंदी , कहती है" फराहन अख़्तर और विद्या बालन के साथ शादी के साइड इफेक्ट्स जैसी  कॉमेडी फ़िल्म बॉक्सऑफिस पर हिट हो चुकी है। अब हम तैयार है एक अलग और नयी फ़िल्म लेकर जो कि कुछ अलग नजरिये की सेक्स कॉमेडी होंगी। इस फिल्म के लिए सन्नी लियॉन और मिलाप से बेहतर जोड़ा कोइ नही हो सकता था । मस्तीजादे  जूड्ड ऑप्टो के लिये ट्रिब्यूट होगा जो कि युवाओ को अपने सिनेमा से बाँध लिया करते थे।''
सन्नी लियॉन कहती है" प्रीतीश नंदी कम्युनिकेशंस की मस्तीजादे टीम से जुड़ कर क़ाफी मजा आ रहा है। मेरे लिए प्रीतीश  नंदी और मिलाप जवेरी के साथ अब तक का बड़ा प्रोजेक्ट है। में बहुत ही ज्यादा खुश हु क्युँकि   लैला लेले क़िरदार बहुत ही अलग है।  मैं पहली बार कोई अलग किरदार कर रही हूँ. ऐसे किरदार में दर्शकों न मुझे देखा होगा नही कभी सोचा होगा। लैला लेले कुछ खास है ,सेक्सी है, शार्प है और उसे पता है कि कब क्या करना है। में आशा करती हु मेरे फैन इस किरदार को पसन्द करेंगे और फ़िल्म देखकर खुब हसेंगे और मजा लेंगे। मस्तीजादे अगस्त मे फ्लोर पर जायेगी .  उसी समय यह भी पता चलेगा कि इस लैला के २ मस्तीजादे कोन होंगे। मस्तीजादे मे लैला लेले बनी सन्नी लियॉन के इस फ़िल्म का टीजर अबतक तक़रीबन २,८७,५०६ बार देखा जा चूका है और वह भी सिर्फ़ ४ दिनों के भीतर। 

दिव्या खोसला कुमार ने निबटाए एक ही ड्रेस में दो फंक्शन

यारियां की सफलता दिव्या खोसला कुमार के सिर पर चढ़ कर नहीं बोल रही।  टी -सीरीज के मालिक की पत्नी  का रुआब भी वह नहीँ  झाड़ती।  कम से कम  उनकी ड्रेस तो  इसी की पुष्टि करती है. जहाँ फ़िल्म वाले लोग एक ही दिन होने वाले हर फंक्शन में अलग अलग ड्रेस बदल कर जाते हैं. वहीँ दिव्या इस नियम का पालन नहीं करतीं।  पिछले दिनों, उन्हें वीमेन इन फ़िल्म एंड टेलीविज़न एसोसिएशन इंडिया के राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त  महिलाओं के अभिनन्दन समारोह मे शामिल होना था तथा उसी दिन आयोजित टस्सेल फैशन अवार्डस मेँ  भी शामिल होना था. इन दोनों समारोहों के चश्मदीद गवाही देंगे कि दिव्या खोसला कुमार एक ही ड्रेस (जालीदार काली साड़ी और ब्लाउज ) में दोनोँ समारोहों में शामिल हुई. गवाही के लिये इन दोनों समारोहों की फोटोस पेश हैं.
Displaying Divya Khosla Kumar  with the Tassel Fashion Award in St.Andrews Auditorium 2.JPG
Divya Khosla Kumar at the WIFT Award Function
Displaying Divya Khosla Kumar at the WIFT Award Function.jpg
 Divya Khosla Kumar with the Tassel Fashion अवार्ड्स 







Tuesday, 6 May 2014

७५ साल का नकाबपोश

 **udkc ds ihNs eSa dkSu gwa---;g tkuuk t:jh ugha A t:jh gS fd eSa D;k djrk gwa A ;gh esjh igpku gS A** 2005 esa fjyht fQYe cSVeSu fcfxUl esa ;g lEokn foysu jspsy Mksl ds iwNus ij czwl osu cksyrk gS A czwl osu gh cSVeSu gS A ;g lEokn gh cSVeSu dh ifjHkk’kk gS A czwl osu ,d vjcifr O;kikjh vkSj tu ijksidkjh ukxfjd gS A cSVeSu mldh xqIr igpku gS A ckyd czwl osu us vijkf/k;ksa }kjk vius ekrk firk dh gR;k fd;s tkrs ns[kk gS A og lekt ls gj vijk/kh dks [kRe dj nsuk pkgrk gS A cSVeSu dh xkSFke flVh dk jgus okyk gS A mlds lg;ksxh jkWfcu] vYQzsM isuhoFkZ] iqfyl vk;qDr fte xkWMZu gSa A XySej ds fy, dHkh dHkh cSVxyZ Hkh utj vk tkrh gS A bl udkciks'k dkYifud pfj= dks ge cpiu ls gh i<+rs vk;s gSa A ikap ebZ dks ;g udkciks'k 75 lky dk gks tk;sxk A Mhlh dkWfeDl ds bl dkYifud dSjsDVj dks ckWc dsu us 'kDy nh Fkh rFkk fcy fQaxj us bls fy[kk Fkk A cSVeSu igyh ckj fMVsfDVo dkWfeDl vad 27 esa ebZ 1939 dks fn[kk;h fn;k A bl izdkj ls og vkt 75 lky dk gks x;k gS A ml le; bls *n cSV&eSu* dgk x;k A vkt Hkh mls n cSVeSu dgk tkrk gS A cSVeSu dks mls dkjukekas ds dkj.k n dsi dzwtsMj] n MkdZ ukbV rFkk n oYMZ~l xzsVsLV fMVsfDVo tSls uke Hkh fn;s x;s A 1940 ls rks cSVeSu dkWfed cqd gh cktkj es vkus yxh A lkB ds n'kd esa cSVeSu Vsyhfotu lhjht dkQh lQy gqbZ A bl lhjht ds [kRe gksus ds ckotwn Qszad feyj dh feuh lhjht n MkdZ ukbV fjVUlZ] ,yu ewj dh cSVeSu% n fdfyax tksd vkSj xzkaV ekWfjlu dh feuh lhjht vkj[ke vlkbye% , lhfj;l gkml vkWu lhfj;l vFkZ ls cSVeSu dh yksdfiz;rk yksxksa esa cuh jgh A okWuZj cznlZ dh cSVeSu Qhpj fQYeksa us bl pyrs fQjrs oSrky dks lsY;qykbM ij thoar dj fn;k A cSVeSu dh nqfu;k esa yksdfiz;rk lqijeSu ds ckn nwljs uEcj ij gS A

gkykafd] dkWfeDl pfj= cSVeSu dks lsY;qykbM ij tcnZLr yksdfiz;rk okWuZj cznlZ dh fQYeksa ds dkj.k feyh A ysfdu] cSVeSu ds dkWfed cqDl ij lQy gksrs gh] bl pfj= ds lkFk fQYesa Hkh cuk;h tkusa yxh A 1940 esa cuh nks fQYeksa dh lhjht cSVeSu vkSj cSVeSu ,aM jkWfcu esa igyh ckj cSVeSu dk lsY;qykbM vorkj n'kZdkas dks ns[kus dks feyk A 1960 dh cSVeSu Vhoh lhjht dk fQYe :ikarj.k cSVeSu 1966 esa   vk;k A bl fQYe esa ,Me osLV us cSVeSu dk jksy fd;k Fkk A vLlh ds vkf[kj esa okWuZj cznlZ LVwfM;ks us cSVeSu ij Qhpj fQYeksa dh lhjht cukus dk flyflyk 'kq: dj fn;k A okWuZj cznlZ LVwfM;ks dh 1989 esa igyh cSVeSu fQYe fjyht gqbZ A fVe cVZu us bl fQYe dk funsZ'ku fd;k Fkk A ekbdsy dhVu cSVeSu cus Fks A ekbdsy dhVu vkSj fVe cVZu dh vfHkusrk funsZ'kd tksM+h bldk lhDosy cSVeSu fjVUlZ ysdj vk;h A tks,y 'kwes'ku us 1995 esa fjyht cSVeSu QkWj,oj fQYe dk funsZ'ku fd;k A bl fQYe esa okWy fdyej cSVeSu cus Fks A 'kwes'kj us 1997 esa fjyht fQYe cSVeSu ,aM jkWfcu esa vfHkusrk tkWtZ Dywuh dks udkciks'k cSVeSu ds :i esa is'k fd;k A cSVeSu ,aM jkWfcu dks ckWDl vkWfQl ij Hkh lQyrk ugha feyh vkSj u gh leh{kdksa us fQYe dks ljkgk A urhtru] okWuZj cznlZ us yEcs le; rd cSVeSu fQYeks dks ysdj [kkeks'kh vks<+ yh A vycRrk] cSVeSu ij fQYe dh fLdzfIVax vkSj jh fLdzfIVax dk flyflyk pyrk jgk A 2005 esa okWuZj cznlZ us bl fQYe Qszapkbth dks fjcwV fd;k A fQYe Fkh cSVeSu fcfxal A fQYe dk funsZ'ku fdzLVksQj uksyku us fd;k Fkk A bdrhl o’khZ; vfHkusrk fdzf'p;u csy lsY;qykbM ds u;s cSVeSu Fks A fdzf'p;u csy us 13 lky dh mez esa LVhou LihycxZ dh ;q) fQYe ,Eik;j vkWQ n lu ls n'kZdksa dh chp igpku cuk yh Fkh A mUgsa n esdsfuLV fQYe esa Vs~zoj jstfud dh Hkwfedk ds fy, crkSj eSFkM ,DVj ljkgk tk pqdk Fkk A fdzLVksQj uksyku ds funsZ'ku esa fdzf'p;u csy bl Qszapkbth dh vxyh nks fQYeksa n MkdZ ukbV ¼2008½ vkSj n MkdZ ukbV jkbtst ¼2012½ esa vijkf/k;ksa dk lagkj djus okys dkys diM+ksa okys udkciks'k ;ks)k dk jsky fd;k A bu nksuksa fQYeksa us iwjs fo'o ,d fcfy;u MkWyj dk tcnZLr fctusl fd;k A dekbZ ds fygkt ls cSVeSu fQYeksa ls T;knk dekbZ ik;jsV~l vkWQ n dSfjfc;u lhjht dh fQYesa gh dj ldh gSa A cSVeSu ij vc rd vkB fQYesa cuk;h tk pqdh gSa A bu fQYeks dks 925 fefy;u MkWyj dh fuekZ.k ykxr ls cuk;k x;k A ;g fQYesa iwjs fo'o esa 1-9 fcfy;u MkWyj dk fctusl dj pqdh gS A cSVeSu dks lsY;qykbM ij ysfol foYlu] jkWcVZ ykWojh] ,Me osLV] ekbdsy dhVu] okWy fdyej] tkWtZ Dywuh vkSj fdzf'p;u csy tSls vfHkusrk fdz,V dj pqds gSa A 2016 esa fjyht gksus tk jgh fQYe cSVeSu olsZl lqijeSu esa vfHkusrk csu vQ~ysd cSVeSu dk fdjnkj dj jgs gksaxs A vkWLdj iqjLdkjksa esa Hkh cSVeSu fQYeksa us ekStwnxh ntZ djkbZ A igyh cSVeSu fQYe us vkVZ Mk;jsD'ku dh Js.kh esa vkWLdj thrk A cSVeSu fjVUlZ nks Jsf.k;ksa esdvi vkSj fotqvy bQSDV~l ds fy, ukfer gqbZ A cSVeSu QkWj,oj flusekVksxzkQh] lkmaM ,fMfVax vkSj lkmaM fefDlax esa ukekafdr gksus ds ckotwn vkWLdj ugha thr ldha A cSVeSu fcfxUl flusekVksxzkQh ds fy, ukfer gqbZ A udkciks'k ;ks)k ij cSVeSu fQYeksa us igyh ckj vfHku; ds fy, vkWLdj thrk 2008 esa fjyht fQYe n MkdZ ukbV ds fy, A bl fQYe esa vfHkusrk ghFk ystj us n tksdj foysu dh Hkwfedk ds fy, liksfVZad ,DVj dk vkWLdj thrk A mUgsa ;g iqjLdkj ej.kksijkar feyk A ghFk ystj dh e`R;q 22 tuojh 2008 dks 28 lky dh mez esa gh u'khyh nokvksa dk vf/kd lsou djus ds dkj.k gks pqdh Fkh A tcfd n MkdZ ukbV tqykbZ 2008 esa fjyht gqbZ A flusekVksxzkQh] vkVZ Mk;jsD'ku] esdvi] ,fMfVax] lkmaM fefDlax vkSj fotqvy bQSDV~l esa Hkh ukfer gksus okyh n MkdZ ukbV us liksfVZax ,DVj ds vykok lkmaM ,fMfVax dk vkWLdj Hkh thrk A
fgUnqLrkuh dkWfed cqDl esa ukxjkt] Mksxk] lqij dekaMks /kzqo] ijek.kq] n lk/kq] HkkSdky] lqij oqesu 'kfDr] tSls dSjsDVj udkc/kkjh gSa A ckWyhoqM fQYeksa esa tc Hkh viuh igpku fNik dj yksxksa dh enn djus okyk ghjks insZ ij vk;k gS] mlus udkc t:jh vks<+h gS A ckWyhoqM ds yxHkx lHkh lqij LVkjksa us udkciks'k ghjks dk fdjnkj fuHkk;k gS A 1935 esa fjyht fQYe gaVjokyh esa vfHkus=h ukfM;k us udkciks'k gaVjokyh dk fdjnkj fuHkk;k Fkk A ukfM;k us gaVjokyh dh csVh] fel QzafV;jesy] taxy fizalsl vkSj Mk;eaM Dohu esa Hkh udkc igu dj LVaV fd;s Fks A ;g ckWyhoqM dk igyk lqij ghjks fdjnkj Fkk A bV~l ikflax 'kks esa t;ar udkciks'k ghjsk cus Fks A egcwc dh fQYe MsDdu Dohu esa ,d efgyk udkc ugy dh MdSrh Mkyrh Fkh A ih0 t;jkt us 1960 esa fjyht fQYe feLVj lqijeSu esa ,d udkciks'k i=dkj dk fdjnkj fd;k Fkk A t;jkt us dbZ fQYeksa esa bl izdkj ds fdjnkj fd;s A fQYe vkokjk vCnqYyk esa nkjkflag tksjks tSlh iks'kkd eas ryokjckth dj nq"Vksa dk uk'k djrs Fks A 'kcue fQYe esa egewn us tksjks Vkbi fdjnkj fd;k Fkk A 1975 esa fjyht fQYe tksjks esa uohu fu'py tksjks dh Hkwfedk esa Fks A lPpk >wBk fQYe es jkts'k [kUuk udkc igu dj pksjh fd;k djrs Fks A ,Mosapj vkWQ jkWfcugqM esa uoksfnr vfHkusrk iz'kkar udkciks'k jkWfcugqM cus  Fks A ch0 xqIrk dh 1987 esa fjyht fQYe lqijeSu esa iquhr bLlj us lqijeSu okyh iks'kkd iguh Fkha A 1988 esa fjyht fQYe 'kwjohj esa jktu flIih udkc vks<+s gq, Fks A jkts'k [kUuk us 1976 esa fjyht fQYe caMyckt esa QSVeuqek fdjnkj fd;k Fkk A vferkHk cPpu fQYe 'kga'kkg] rwQku vkSj vtwcs esa udkciks'k fdjnkj eas  Fks A jk-ou esa 'kkg:[k [kku us udkc iguh Fkh A vHkh vfHkusrk _frd jkS'ku dk fQYe d`"k 3 esa d`"k dk fdjnkj udkc igu dj yksxkas dh fgQktr djrk fn[kk;k x;k Fkk A _frd jkS'ku d`"k esa igyh ckj udkciks'k ghjks cus Fks A fgUnh Fkzh Mh fQYe f'kok dk balkQ esa tSdh JkQ udkciks'k ghjks f'kok cus Fks A /kesZUnz us fQYe tqxuw esa ,slk gh fdjnkj fd;k Fkk A bZn esa fjyht gksus tk jgh fQYe fdd esa lyeku [kku dks ,d udkciks'k ghjks ds :i eas utj vk;saxs A


Monday, 5 May 2014

एकता की 'बहु' नहीं बनेगी, नेता बनी ईरानी !



[kcj gS fd 2000 dk lcls lQy esxk lhfj;y D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh ds nwljs Hkkx dk izlkj.k vxLr esa 'kq: gksus tk jgk gS A fojkuh ifjokj dh bl ?kjsyw dgkuh esa dbZ ihf<+;ksa dk cnyko vk;k A gj ckj n'kZdksa us bl lhfj;y dks ilUn fd;k A ;gh dkj.k Fkk fd D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh yxkrkj vkB lky rd uEcj ou cu dj izlkfjr gksrk jgk A bl lhfj;y us dbZ Vsyh dykdkjksa dks iwjs ns'k esa tcnZLr yksdfiz;rk fnyk;h A bl lhfj;y ds nks eq[; pfj=ksa fefgj fojkuh vkSj rqylh fojkuh dks nks vyx vyx ,DVjksa us fd;k A fefgj fojkuh ds :i esa vej mik/;k;  dks tcnZLr lQyrk feyh A ij ;g lQyrk vej mik/;k; ds flj ij p<+ x;h A fQYeksa ds fy, mUgksaus bl lhfj;y dks NksM+ fn;k A mudh txj jksfur jk; vk x;s A fefgj fojkuh ds :i esa jksfur jk; Hkh Nk x;s A vnkyr ds dsMh jksfur jk; vkt Hkh D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh ds fefgj fojkuh ds uke ls igpkus tkrs gSa A dqN ,slh gh ;k dgk tk;s jksfur ls T;knk yksdfiz;rk lhfj;y dh cgw rqylh fojkuh dks feyh A bl Hkwfedk dks insZ ij Le`fr esgjks=k bZjkuh dj jgh Fkha A ,drk diwj ds bl lhfj;y dh igpku Le`fr cu x;h Fkha A ;gh dkj.k Fkk fd tc ,drk diwj ls vucu ds ckn Le`fr lhfj;y ls vyx gks x;h rFkk mudh txg xkSreh diwj vk;ha] rks xkSreh dks n'kZdksa dk og I;kj ugha fey ldk] tks Le`fr dks feyk Fkk A bl dkj.k ls rhu lky ckn Le`fr bZjkuh dh rqylh ds :i esa okilh gqbZ A ij ,drk diwj vkSj Le`fr bZjkuh ds chp igys okyk yxko ugha jg x;k Fkk A dqN le; ckn ;g lhfj;y Hkh cUn gks x;k A D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh dh yksdfiz;rk dk ykHk Le`fr dks jktuhfr esa feyk A og Hkkjrh; turk ikVhZ esa 'kkfey gks x;ha A mUgksuas 2009 dk pquko dfiy flCcy ds fo:) yM+k A ij mUgsa gkj feyh A Le`fr Hkktik dh lfdz; lnL; cuh jgh A gkykafd] mUgksaus bl chp rhu cgqjkfu;ka vkSj efucsu MkWV dkWe tSls lhfj;y fd;s vkSj ;s gS tyok vkSj lko/kku bafM;k dsk gksLV fd;k A ,d Fkh ukf;dk dh ,d dM+h Hkh dh A vc tcfd ,drk diwj D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh dk lhDosy cukus tk jgh gSa rFkk og ewy lhfj;y dh reke LVkjdkLV dks cuk;s j[kuk pkgrh gSa] Le`fr bZjkuh dk rqylh ds :i esa dYiuk djuk LoHkkfod gS A ysfdu] n'kZdkas dh ;g dYiuk fQygky lkdkj gksus ugha tk jgh A gkykafd] ,drk diwj vkSj Le`fr bZjkuh ds chp lEcU/k igys tSls gks x;s gSa A ysfdu] Le`fr bZjkuh vc ,DVj ls jktuhfrK cu x;h gSa A og Hkkjrh; turk ikVhZ dh rjQ ls jkgqy xka/kh ds fo:) vesBh esa yksdlHkk pquko yM+ jgh gSa A jktuhfr ikVZ Vkbe tkWc ugha gS A fQj Msyh lksi esa rks yxkrkj O;Lr jguk gksrk gS A Le`fr jktuhfr esa iwjh rjg ls je x;h gS A vxj vesBh ls pquko thr x;h rks mUgsa cM+h ftEesnkjh fey ldrh gSa A ,sls esa mudk Vhoh lhfj;y esa vfHku; djuk uSfrd Hkh ugha gksxk A ;gh dkj.k gS fd ,drk diwj us vius lhfj;y D;ksafd lkl Hkh dHkh cgw Fkh 2 dh rqylh fojkuh ds fy, iwjs ns'k esa vfHkus=h dh [kkst 'kq: dj nh gS A lEHko gS fd cnys Lo:i esa bl 'kks dh u;h rqylh fojkuh dks n'kZdksa dk I;kj fey tk;s A vU;Fkk viuh Le`fr bZjkuh rks gSa uk !  

हॉलीवुड को भरोसा एक्शन और फंतासी का


?kjsyw ckWDl vkWfQl dks xeZ djus ds fygkt ls gkWyhoqM fQYeksa ds fy, xfeZ;ka [kkl gksrh gSa A ekSle lqgkouk gksrk gS A cM+h la[;k esa n'kZd flusek?kjksa esa fQYe ns[kus ds fy, ?kjksa ls fudy iM+rs gSa A ;g dqN oSlk gh gksrk gS] tSls fgUnqLrkuh n'kZd R;kSgkjksa vkSj NqfV~V;ksa esa fQYe ns[kus ds fy, ?kj ls fudy iM+rk   gS A ,sls gkWyhMs ohdsaM~l dk ckWyhoqM ds reke lqij LVkjksa dks cslczh ls bartkj jgrk gS A dqN ,slk gh gkWyhoqM eas gksrk gS A ebZ dk eghuk vkrs gh cM+s ctV] cM+s flrkjksa dh CykWdcLVj fQYeksa dk fjyht gksuk 'kq: gks tkrk gS A fiNys lky ebZ eghus es gkWyhoqM fQYeksa us ?kjsyw ckWDl vkWfQl ij 1-14 fcfy;u MkWyj dk dhfrZeku fctusl fd;k Fkk A blfy,] 2014 esa Hkh gkWyhoqM ,sls gh vPNs fctusl dh mEehn dj jgk   gS A D;k ebZ 2014 esa fjyht fQYesa bl dhfrZeku dks /oLr dj ik;saxh ;k mldh cjkcjh dj ik;saxh \ fiNys lky fjyht vkbZju eSu 3 us vksifuax ohdsaM esa 174 fefy;u MkWyj dk fctusl dj bl dhfrZeku dks cukus dh fn'kk esa igy dh Fkh A vkbju eSu 3 dks 3 ebZ 2014 dks fjyht fd;k x;k Fkk A bl lky dkSu lh fQYe vkbju eSu 3 tSlk fctusl dj ikrh gS] ;g oDr crk;sxk A ysfdu] LikbMjeSu Qszapkbth dh fQYe n vesftax LikbMj eSu 2 dks 2 ebZ dks fjyht fd;k tkuk bRrQkd ugha ekuk tk ldrk A 2012 dh lQy Qszapkbth fjcwV n vesftax LikbMj&eSu dh lhDosy fQYe n vesftax LikbMj&eSu 2 ebZ esa fjyht gksus okyh igyh cM+h fQYe gksxh A n vesftax LikbMj&eSu us 262 fefy;u MkWyj dk lcls de dysD'ku fd;k Fkk A bl lhjht dh igyh LikbMjeSu us 403 fefy;u MkWyj] LikbMj&eSu 2 us 373 fefy;u MkWyj rFkk LikbMj&eSu 3 us 336 fefy;u MkWyj dek;s Fks A bl fygkt ls n vesftax LikbMj&eSu 2 dks viuh fjcwV fQYe dk dysD'ku gh ihNs NksM+uk gS] cfYd 2002 dh LikbMj&eSu ls Hkh vkxs fudyuk gS A vxj ,slk gks x;k rks gkWyhoqM dh xfeZ;ka ebZ esa gh fQYeksa dks ekykeky dj nsaxh A mYys[kuh; gS fd yxkrkj vkB lky ls xfeZ;ksa dh 'kq:vkr ekWosZy dkWfeDl dh fQYeksa ls gh gks jgh gS A QSaVslh fQYe n vesftax LikbMj&eSu 2 ds ckn dkWesMh usclZ dks n'kZdksa esa viuh idM+ lkfcr djuh gS A lsB jkWxsu dh bl fQYe ds cM+k dysD'ku djus dh mEehn dh tk jgh gS A lsB jkWxsu dh 32 fefy;u MkWyj ls cuh fiNyh fQYe fnl bt n ,aM us oYMZokbM 126 fefy;u MkWyj dk dysD'ku fd;k Fkk A usclZ ds lkeus gksxh ,fues'ku fQYe yhtsaM~l vkWQ vkst% MksjskFkht fjVuZ A fiNys lky nks ,fues'ku fQYeksa Qzh cMZ~l vkSj n uV tkWc dk cf<+;k fctusl yhtsaM~l vkWQ vkst dk jkLrk lkQ dj ldrh gSa A ebZ esa ckWDl vkWfQl ij nSR;kdkj tkuoj xksfTtyk dk geyk gksxk A okWuZj cznlZ dh xksfTtyk 16 ebZ dks fjyht gksxh A bl fQYe dk funsZ'ku xSjsFk ,MokMZ~l us fd;k gS A xksfTtyk bl lky dh igyh ,slh fQYe gksxh] tks lhDosy dh Js.kh esa ugha vkrh A jksyka ,fefjp dh 130 fefy;u MkWyj ds ctV ls cuh 20 ebZ 1998 dks fjyht fQYe xksfTtyk us oYMZokbM 379 fefy;u MkWyj dk fctusl fd;k Fkk A bl fygkt ls ;g mEehn dh tk ldrh gS fd xSjsFk dh ;g fQYe Hkh cf<+;k fctusl djsxh A vxys gh gQ~rs QkWDl dh ,D'ku ,Mosapj fQYe ,Dl esu % Mst vkWQ Q~;wpj ikLV fjyht gksxh A czkW;u flaxj ds funsZ'ku esa g~;w tSdeSu ,d ckj fQj oqYosjhu yksxku dh Hkwfedk esa gksaxs A g~;w tSdeSu bl E;wVsaV dSjsDVj ls dkQh yksdfiz; gSa A bu cM+h fQYeksa ds vykok ebZ esa gh dkWesMh ekWEl ukbV] LiksVZ~l M~zkek fefy;u MkWyj vkeZ] n bfEexzsaV] jksekafVd dkWesMh CysaMsM] QSaVslh ekybfQlsaV vksj , fefy;u ost Vq Mkb bu n osLV Hkh fjyht gksaxh A ysfdu] gkWyhoqM n vesftax LikbMj&eSu 2] xksfTtyk vkSj ,Dl esu% Mst vkWQ Q~;wpj ikLV ls gh 1 fcfy;u MkWyj ls vf/kd dk fctusl djus dh mEehn dj ldrk gS A D;k gkWyhoqM fQYesa bl lky Hkh ckWDl vkWfQl ,d fcfy;u MkWyj ls vf/kd dk fctusl dj ik;saxh !