Friday, 17 July 2015

गौर हरी दास जी की धर्मपत्नी ने बहुत कुछ सिखाया: कोंकणा सेन

फीचर  फ़िल्म 'गौर हरी दास्ताँ -द फ्रीडम' फ़ाइल में कोंकणा सेन आज़ादी के गुमनाम नायक गौर हरी दास की पत्नी लक्ष्मी दास जी का चरित्र निभा रही है। कोंकणा को लक्ष्मी दास जी के किरदार से जुडी तमाम बारीकियों और जीवन शैली को खुद लक्ष्मी दास जी ने बताया है। सूत्रों ने बताया है कि लक्ष्मी दास जी सभी कॉस्ट्यूम ट्रायल के समय कोंकणा के साथ पूरे समय मौजूद थी।
आज के समय में जहाँ डिज़ाइनर और स्टाइलिश कॉस्ट्यूम के साथ किरदार को प्रभावशाली बनाये जाने की कोशिश की जाती है,वहीँ दूसरी और इस फ़िल्म में वास्तविकता को आधार बनाते हुए,कोंकणा के चरित्र को बखूबी दर्शाया गया है।कोंकणा ने भावुक होते हुए बताया कि स्क्रिप्ट पढ़ने के तुरंत बाद से ही वह लक्ष्मी दास जी से मिलने के लिए उत्सुक हो गयीं थी।लक्ष्मी दास जी ने उन्हें पूरा घर घुमाया,और अपनी हर आदत और नजरिया कोंकणा के साथ बांटा।यहाँ तक कि उनका किचन में बर्तन पकड़ने का अंदाज़ और अपने पति ले लिए चाय बनाने का तरीका तक उन्होंने बहुत गहनता से अध्ययन किया।इस संजीदा अभिनेत्री ने यह भी बताया कि उनका सबसे बड़ा गुण मृदुभाषिता है जो उन्होंने इस पूरी फ़िल्म के दौरान अपनी संवाद अदायगी में उपयोग की है।तीन दिनों तक कोंकणा के लक्ष्मीदास जी के घर बिताया गया समय बहुत दिलचस्प रहा।खादी और सूती कपड़ों से बनी साड़ियों का चयन इस किरदार को खूबसूरत रंग देने के लिए खुद लक्ष्मी दास जी ने किया है।

मिस्टर इंडिया मेलबोर्न में फहराएंगे तिरंगा

लगातार चौथे वर्ष इंडियन फ़िल्म फेस्टिवल ऑफ़ मेलबोर्न, भारतीय सिनेमा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ज़ोर शोर से मनाने के लिए तैयार है।मेलबोर्न में अगस्त माह में होने वाले इस फेस्टिवल की थीम समानता है। विद्या बालन एक बार फिर  इस फेस्टिवल का मुख्य आकर्षण होंगी।सुपरस्टार, मिस्टर इंडिया अनिल कपूर,15 अगस्त को इस फ़ेस्टिवल में भारतीय तिरंगे को फहराएंगे।इस महोत्सव में मेलबोर्न की विशिष्ट शख्सियतें मौजूद रहेंगी।अनिल कपूर अपनी नयी फ़िल्म 'दिल धड़कने दो' और इंडियन सिनेमा की धड़कन माने जाने वाली फ़िल्म 'मिस्टर इंडिया' प्रस्तुत करेंगे। इस महोत्सव के मास्टर स्ट्रोक सेक्शन में ऑस्ट्रेलियाई विभूति पॉल कॉक्स द्वारा भारत पर बनायीं गयी डाक्यूमेंट्री, सत्यजीत रॉय की चारुलता और फ़िल्म नायक प्रदर्शित की जायेगी।अनिल कपूर ने बताया कि भारतीय सिनेमा का विश्व के विभिन्न देशों में प्रतिनिधित्व् करना हमेशा से ही उनके लिए गौरव की बात रही है।और इसका महत्व तब और बढ़ जाता है जब आपको स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने देश के तिरंगे को फहराने का मौका मिलता है।अनिल मेलबोर्न में सिनेमा प्रेमियों से रुबरु होने के लिए बेहद उत्साहित है।


क्या इस 'बजरंगी' को पसंद करेंगे 'भाईजान' ?

सलमान खान और कबीर खान ईद से पहले इसी सवाल का जवाब ढूँढ़ते होंगे ? 
एक महा हनुमान भक्त, जो मांस मछली नहीं खाता, मस्जिद और मजार में नहीं घुसना चाहता, लेकिन एक पाकिस्तानी लड़की के लिए अवैध तरीके से पाकिस्तान घुसने से नहीं हिचकता . पाकिस्तान में भी वह हनुमान जी की दुहाई देता रहता है . इसमे कहीं साम्प्रदायिकता नहीं. कहीं पाकिस्तान को गाली नहीं दी गई है. कहीं पाकिस्तान की सहलाई भी नहीं गई है . कबीर खान ने एक बहुत अच्छी कहानी, बड़े शानदार तरीके से कही है . इसमे न कहीं सेकुलरिज्म है, न कही हिन्दुवाद, न इस्लाम का अतिरेक. थोड़ा ड्रामा ज्यादा है. लेकिन, जहाँ हीरो की छवि से अलग फिल्म बनानी हो तो इतना ड्रामा रखना ही होगा.लेकिन अनावश्यक ड्रामेबाजी/भाषणबाजी नहीं है . यही फिल्म का पॉजिटिव पॉइंट है . ज़ाहिर है कि बजरंगी भाईजान मास्टरपीस फिल्म है . किसी भी समय में हिट होने वाली फिल्म है .
अगर इस गुलाल उड़ाते बजरंगी को भाईजान ने पसंद कर लिया तो सलमान खान की बजरंगी भाईजान बॉक्स ऑफिस पर आमिर खान की फिल्म 'पीके' को ज़बरदस्त किक मारने जा रही है. इसीलिए यह सवाल बड़ा हो जाता है कि क्या इस बजरंगी को पसंद करेंगे भाईजान ?

Thursday, 16 July 2015

चार सुपर हीरो मतलब फैंटास्टिक फोर

१९८६ में कॉन्स्टन्टिन फिल्म के बर्नड एईशिन्गर ने कम बजट की फिल्म बनाने के लिए चार सुपर हीरो रीड रिचर्ड्स, बेन ग्रिम, सुसान स्टॉर्म और जॉनी स्टॉर्म की कहानी को मार्वेल से खरीद लिया था। इस फिल्म के पूरा होने के बाद पूरी कास्ट ने प्रमोशनल टूर भी किये। लेकिन, रिलीज़ से पहले ही निर्माताओं पर फिल्म के घटिया निर्माण के आरोप लगाने लगे कि लाइसेंस बनाए रखने के लिए फिल्म बनाई गई है। इस पर मार्वल कॉमिक्स ने कॉन्स्टन्टिन फिल्म से फिल्म के नेगटिव खरीद लिए ताकि आगे चल कर बड़े बजट की फिल्म बनाई जा सके। इस प्रकार से १९९४ की फिल्म ‘द फैंटास्टिक फोर’ हॉलीवुड के इतिहास की ऎसी फिल्म बन गई, जो न तो सिनेमाघरों में रिलीज़ हुई, न ही होम विडियो पर . अलबत्ता, पायरेटेड सीडी पर इसे रिलीज़ होता देखा गया। आइये चार सुपर हीरो पर बनी फिल्मों के बारे में -  
द फैंटास्टिक फोर (१९९४)
चार सुपर हीरो वाली पहली फिल्म ‘द फैंटास्टिक फोर’ बड़े परदे का मुंह नहीं देख सकी। इस फिल्म को डीवीडी और दूसरे फॉर्मेट पर ज़रूर रिलीज़ किया गया। यह फिल्म छोटे बजट की फिल्म बनाने में माहिर रॉजर कार्मन और बर्नड एईशिन्गर ने बनाई थी। इस फिल्म में फैंटास्टिक फोर के उत्पति और उनकी पृथ्वी को बचाने के लिए डॉक्टर डूम से लड़ी गई पहली लड़ाई का चित्रण हुआ था।  ओले सस्सून फिल्म के डायरेक्टर थे। अलेक्स हाइड-वाइट ने रीड रिचर्ड/मिस्टर फैंटास्टिक, जे अंडरवुड ने जॉनी स्टॉर्म/ह्यूमन टॉर्च, रेबेका स्टाब ने शु स्टॉर्म/इनविजिबल वुमन और बिचैल बैले स्मिथ ने बेन ग्रिम के किरदार किये थे। अन्य भूमिकाओं में विलेन डॉक्टर विक्टर वोन डूम अभिनेता जोसफ कल्प, अलिसिया मास्टर्स अभिनेत्री कैट ग्रीन, आदि के नाम उल्लेखनीय हैं। चार अंतरिक्ष यात्रियों के प्रायोगिक स्पेसक्राफ्ट पर धूमकेतु से कॉस्मिक रेज़ की बारिश होती है। इस कॉस्मिक हमले से चारों यात्री बच तो जाते हैं, लेकिन उनके शरीर मे चौंकाने वाले परिवर्तन होने लगते हैं तथा उनमे अलौकिक शक्तियां पैदा हो जाती हैं।  इन शक्तियों के द्वारा फैंटास्टिक फोर पृथ्वी को बचाने में मददगार हो सकते हैं। लेकिन, शर्त यह है कि दोनों को मिल कर यह काम करना होगा।  
फैंटास्टिक ४ (२००५)
कॉन्स्टन्टिन फिल्म से फैंटास्टिक फोर के नेगेटिव प्राप्त करने के बाद मार्वेल ने फिल्म के निर्माण पर अपना ध्यान लगाना शुरू किया। १९९७ में क्रिस कोलंबस और माइकल फ्रांस की स्क्रिप्ट पर पीटर सिगल ने काम शुरू किया। सिगल के बाद फिलिप मॉर्टन और सैम हैम ने स्क्रिप्ट पर काम किया। मार्वल ने राजा गोस्नेल को ४ जुलाई २००१ को फिल्म रिलीज़ करने के प्रोग्राम के साथ फिल्म ‘फैंटास्टिक ४’ के निर्देशन का भार सौंप दिया। मगर राजा ने फिल्म स्कूबी-डू के लिए यह फिल्म छोड़ दी। फिर पीटोन रीड ने कमान संभाली। वह फिल्म को साठ के दशक की पीरियड फिल्म बनाना चाहते थे। जल्द ही पीटोन भी चले गए। अप्रैल २००४ में टिम स्टोरी को डायरेक्टर की कुर्सी पर बैठाया गया। टिम की फिल्म में मिस्टर फैंटास्टिक, इनविजिबल वुमन, ह्यूमन टोर्च, द थिंग और डूम का किरदार क्रमशः लोन ग्रफड, जेसिका अल्बा, क्रिस इवांस, माइकल चिक्लिस और जूलियन मैकमोहन कर रहे थे। यह फिल्म ८ जुलाई २००५ को रिलीज़ हुई। 
फैंटास्टिक ४: राइज ऑफ़ द सिल्वर सर्फर (२००७)
फैंटास्टिक ४ ने बॉक्स ऑफिस पर ३०० करोड़ डॉलर से ज्यादा ग्रॉस किया था, इसलिए ट्वंटीथ सेंचुरी फॉक्स ने टिम स्टोरी को फिल्म के सीक्वल ‘राइज ऑफ़ द सिल्वर सर्फर’ के डायरेक्शन का भार फिर सौंप दिया। सीक्वल फिल्म की कहानी कॉमिक बुक ‘द गेलक्टस ट्राइलॉजी’ और वारेन एलिस कि कॉमिक बुक 'अल्टीमेट एक्सटिंक्शन’ पर आधारित थी।  सिल्वर सर्फर की कॉस्मिक एनर्जी पृथ्वी पर बुरा प्रभाव डालने लगती है। जिसके फलस्वरूप प्लेनेट के चारों ओर क्रेटर्स बनने लगते हैं। इसी दौरना रीड और सुसान की शादी होने वाली है। अमेरिकी सेना फैंटास्टिक फोर और डूम से मदद मांगती है। इस फिल्म में सभी प्रमुख भूमिकाएं ‘फैंटास्टिक ४’ के कलाकारों ने ही की थी। यह फिल्म १५ जून २००७ को रिलीज़ हुई।    
फैंटास्टिक ४: राइज ऑफ़ द सिल्वर सर्फर’ के बॉक्स ऑफिस प्रदर्शन ने ट्वेंटीथ सेंचुरी फॉक्स को बेहद निराश किया था। इसलिए सिल्वर सर्फर के स्पिन-ऑफ को फिलहाल के लिए रोक दिया गया। 
बजट और बॉक्स ऑफिस
फैंटास्टिक फोर सीरीज की ६ जुलाई २००५ को रिलीज़ पहली अधिकृत फिल्म ‘फैंटास्टिक फोर’ १०० मिलियन डॉलर के बजट से तैयार हुई थी। इस फिल्म ने वर्ल्ड वाइड ३३०.५८ मिलियन डॉलर का ग्रॉस कलेक्शन किया। दूसरी फिल्म ‘फैंटास्टिक फोर: राइज ऑफ़ द सिल्वर सर्फर’ १३ जून २००७ को रिलीज़ हुई। १३० मिलियन डॉलर के बजट से तैयार ‘राइज ऑफ़ द सिल्वर सर्फर’ ने वर्ल्डवाइड २८९ मिलियन डॉलर का ग्रॉस किया। ज़ाहिर है कि दूसरी फिल्म का कलेक्शन काफी कम था। वैसे यह फिल्म सीरीज मार्वल कॉमिक्स की सबसे ज्यादा ग्रॉस करने वाली चौथी सीरीज मानी जाती है।फैंटास्टिक फोर सीरीज की फिल्मों को बड़े खराब रिव्यु मिले। ज़्यादातर समीक्षकों ने फिल्म को डेढ़ से दो स्टार तक ही दिए।  
फैंटास्टिक फोर (२०१५)
ट्वेंटिएथ सेंचुरी फॉक्स ने अगस्त २००९ में यानि सिल्वर सर्फर की रिलीज़ के चार साल बाद फैंटास्टिक फोर की रिबूट फिल्म पर काम शुरू करवा दिया।  टिम स्टोरी के बजाय जॉश ट्रैंक को डायरेक्शन की कमान सौंपी गई।  फिल्म को लिखने के लिए माइकल ग्रीन, जेरेमी स्लाटर, सेठ ग्राहम-स्मिथ एंड सिमोन किनबर्ग को लगाया गया।  जनवरी २०१४ में फिल्म के लिए कलाकारों का चयन शुरू हो गया।  चूंकि, फैंटास्टिक फोर की कहानी रिबूट थी तथा इसका समकालीन महत्त्व था, इसलिए पुरानी कास्ट को बिलकुल बदल दिया गया। माइल्स टेलर को मिस्टर फैंटास्टिक, केट मारा को इनविजिबल वुमन, माइकल बी जॉर्डन को ह्यूमन टॉर्च. जैमी बेल को द थिंग और टॉबी केबेल को डूम के किरदार में  ले लिया गया। इस फिल्म की टैग लाइन कहती है - अगर आप दुनिया बदलना चाहते हैं तो आपको उसकी सुरक्षा के लिए भी तैयार रहना होगा। फैंटास्टिक फोर की रिबूट फिल्म की कहानी चार युवा टेलिपोर्ट की है, जो अंतरिक्ष में घूमते हुए दूसरे और खतरनाक ग्रह में चले जाते हैं, जिसके प्रभाव से उनके शरीर में  भयानक बदलाव हो जाते हैं।  लेकिन, इन चारों को अपने इन शारीरिक परिवर्तनों पर काबू पाते हुए, डॉक्टर डूम के खतरे से पृथ्वी को बचाना है।  यहाँ शर्त यही  है कि वह अपनी ताक़त का उपयोग मिल कर एक साथ ही कर सकते हैं।  यह फिल्म ७ अगस्त को रिलीज़ होगी।  
फैंटास्टिक फोर (२०१५) की संभावित सफलता के प्रति ट्वेंटिएथ सेंचुरी फॉक्स के इत्मीनान का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि स्टूडियो ने फिल्म की एक फोटो ज़ारी होने से पहले ही फिल्म का सीक्वल बनाने का ऐलान कर दिया था। हालाँकि, २०१५ की फैंटास्टिक फोर ७ अगस्त को रिलीज़ होनी है, लेकिन स्टूडियो ने फैंटास्टिक फोर के अनाम सीक्वल की रिलीज़ की तारीख़ ९ जून २०१७ निर्धारित कर दी है।  

गजेन्द्र को लेकर ऍफ़टीटीआई में 'महाभारत'

फिल्म और टीवी के अभिनेता गजेन्द्र चौहान ने जब बीआर चोपड़ा के सीरियल 'महाभारत' में युधिष्ठिर का किरदार किया था, तब उन्होंने कल्पना भी नहीं की होगी कि कभी उनकों लेकर 'महाभारत' छिड़ेगी।  फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया के चेयरमैन के पद पर गजेन्द्र चौहान की नियुक्ति के बाद इंस्टिट्यूट में महाभारत छिड़ गया है।  इंस्टिट्यूट के छात्र एक महीने से हड़ताल पर है।  जिस संस्थान में लाइट कैमरा साइलेंस की गूँज उठनी चाहिए, वहां ख़ामोशी छाई हुई है।  छात्र नहीं चाहते कि इस संस्थान का चेयरमैन फिल्म की ख़ास योग्यता न रखने वाला व्यक्ति तैनात हो।  ऋषि कपूर, रणबीर कपूर यहाँ तक कि अनुपम खेर, आदि भी गजेन्द्र चौहान के विरोध में लाम बंद हैं।  लेकिन, क्या सचमुच गजेन्द्र चौहान इतने नाकाबिल हैं कि उनके काम को परखे बिना, उनकी काबिलियत पर सवालिया निशान लगा दिया जाये? क्या फिल्म निर्माण के विभिन्न पहलुओ का प्रशिक्षण देने संस्थान के लिए ढेरों फ़िल्में बनाने वाले, उनमे अभिनय करने वाले व्यक्ति को तैनात होना चाहिए क्या आज भी संसथान की ज़रुरत अदूर गोपालकृष्णन, श्याम बेनेगल, गिरीश कर्नाड, यु आर अनंतमूर्ति और सईद मिर्ज़ा जैसे फिल्मकार हैं ? क्या उनका चुनाव मनमाने तरीके से हुआ था ?
गजेन्द्र चौहान के चेयरमैन पद पर चुनाव को लेकर भ्रम ज्यादा है । कुछ अखबार कह रहे हैं कि चेयरमैन पद के लिए कुछ और नामो पर विचार नहीं किया गया, जबकि कुछ अखबार कह रहे हैं कि रजनीकांत और अमिताभ बच्चन पर गजेन्द्र को वरीयता दी गई । इससे साफ़ है कि फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया विवादों से ज्यादा घिरा हुआ है। हर कोई अपनी नाक घुसेड सकता है । वास्तविकता तो यह है कि संसथान में में पढ़ाई का माहौल बिलकुल नहीं है । इस इंस्टिट्यूट में आखिरी दीक्षांत समारोह १९९७ में हुआ था, जिसमे ट्रेजिडी किंग दिलीप कुमार को बुलाया गया था।  लेकिन, इस समारोह की ट्रेजिडी यह हुई कि छात्रों के हंगामे के कारण इसे रद्द कर देना पडा।  उसके बाद से इस ५५ साल के इंस्टिट्यूट में १७ सालों में कोई दीक्षांत समारोह नहीं हुआ है। १९९७ से पहले दीक्षांत सामारोह १९८९ में हुआ था।  इस संसथान की समस्याएं इक्का-दुक्का नहीं । यहाँ समस्याओं का जमावड़ा लगा हुआ है।  कोर्स का बैकलॉग तो है ही, सिलेबस भी आउटडेटेड हो चुका है। छात्रों की भरमार है। बताते हैं कि इस इंस्टिट्यूट में १५०-२०० अतिरिक्त छात्र डेरा जमाये बैठे हैं। यह कथित छात्र यहाँ क्या कर रहे हैं, कोई पूछने वाला नहीं हैं । छात्रों की संख्या के अनुपात में टीचर बहुत कम है। चार सौ छात्रों के लिए केवल तीस टीचर ही हैं। लगभग ७० प्रतिशत गेस्ट फैकल्टी होती है।  जबकि फिल्म मेकिंग ऎसी विधा है, जिसके लिए वन टू वन कांटेक्ट भी बेहद ज़रूरी हो जाता है। श्रेष्ठ फैकल्टी तो बेहद ज़रूरी है । लेकिन, जो है उसकी क्या हालत है ? फैकल्टी और छात्रों के बीच हमेशा दुश्मनी का नाता बना रहता है। हर समय म्यान से तलवारे खिंची रहती हैं। सुब्रहमन्यम स्वामी तो यहाँ के छात्रों को नक्सल बताते हैं । यह संस्थान ६ साल का कोर्स चलाता है । यह भी बुरी हालत में है । पिछले साल यह घोषणा हुई थी कि १९९५ से २००६ के बीच के कोर्स पूरा कर चुके छात्रों को डिप्लोमा दिया जाएगा। यहाँ पिछले चार सालों से एडमिशन बिलकुल बंद थे। इससे संस्थान की वित्तीय दशा बदतर हो गई। 
स्पष्ट रूप से ऍफ़टीआईआई की समस्या प्रशासनिक और आर्थिक है। अधिक टीचर, गेस्ट टीचर और सुविधाओं की जरूरत ज़्यादा है।  यह पिछले दो दशकों से केवल तीन पूर्ण कालिक महिला शिक्षक ही तैनात रहे हैं। इस समय पूर्ण कालिक शिक्षकों की संख्या २१ हैं, जो सभी पुरुष हैं। संस्थान में २००२ से कोई डायरेक्टर नहीं है। इंस्टिट्यूट के पिछले डायरेक्टर मोहन अगाशे ने २००२ में इस्तीफ़ा दे दिया था। अजीब बात नहीं कि इतने लम्बे समय से डायरेक्टर की महत्वपूर्ण पोस्ट को न भरे जाने पर किसी छात्र ने कोई प्रोटेस्ट नहीं किया था। दो साल पहले प्रशासन ने फैकल्टी को यह सलाह दी थी कि वह बैंकों से सैलरी लोन के रूप में ले, जिसका ब्याज संस्थान द्वारा दिया जायेगा। ज़ाहिर है कि सस्थान की समस्या प्रशासनिक और आर्थिक समस्या से निबटने के लिए किसी विशुद्ध फिल्मकार के बजाय थोड़ा हट कर चेयरमैन की ज़रुरत है। प्रोफेशनल व्यक्ति अपना फिल्म मेकिंग का काम तो बखूबी कर सकता है, लेकिन अन्य कामों के लिए समय और साधन की ज़रुरत होती है । इन्हें किया जाना तभी संभव है, जब केंद्र या राज्य सरकार में सुनवाई हो । इसके लिए किसी दक्षिण झुकाव वाले चेयरमैन से ज्यादा आरएसएस कथित आदमी गजेन्द्र चौहान प्रभावी हो सकते हैं । 
इसके लिए इंस्टिट्यूट में विश्वास का माहौल कायम करना होगा। संसथान से बॉलीवुड के सक्रिय लोगों को दूर रखना होगा । संस्थान को अंतर्राष्ट्रीय दर्जा दिए जाने की बात चल रही है।  अगर ऐसा हुआ तो ऍफ़टीआईआई के छात्रों को वर्ल्ड क्लास कैनवास मिलेगा। शिक्षकों और गेस्ट टीचर की संख्या बढ़ाने के धन की सख्त ज़रुरत है।  जो संस्थान अपनी फैकल्टी को तनख्वाह न दे पा रहा हो, वह कैसे सर्वाइव कर सकता है।  इसके लिए गजेन्द्र सिंह चौहान सक्षम साबित हो सकते हैं। उनके राजनीतिक सूत्र संस्थान को आर्थिक रूप से ठोस बना सकते हैं। जहां तक प्रशासन की बात है, इसके लिए किसी का ज़्यादा फ़िल्में करना या बनाना आवश्यक नहीं। तभी तो श्याम बेनेगल कहते हैं, "गजेन्द्र चौहान की काबिलियत को परखा जाना चाहिए।" यह तभी संभव है जब गजेन्द्र चौहान अपनी कुर्सी पर बैठे।  इसके लिए ज़रूरी है कि छात्र बिना किसी राजनीतिक पूर्वाग्रह के चौहान से बात करे।  वैसे बताते हैं कि गजेन्द्र के विरोध में कुछ राजनीतिक विचारधारा के छात्र ही है, जिन्हे पढ़ाई से कोई सरोकार नहीं है। 
 


बजरंगी भाईजान के साथ बाजीराव मस्तानी का ट्रेलर

संजयलीला भंसाली की पीरियड ड्रामा रोमांस फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' का टीज़र आज रिलीज़ किया गया।  इस फिल्म का थिएट्रिकल ट्रेलर १७ जुलाई को सलमान खान और करीना कपूर की फिल्म 'बजरंगी भाईजान' के साथ १९ जुलाई को रिलीज़ होगा। यह ट्रेलर ३ मिनट २ सेकंड्स का होगा। रणवीर सिंह के साथ प्रियंका चोपड़ा और दीपिका पादुकोण की केंद्रीय भूमिका वाली फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' १८ दिसम्बर को रोहित शेट्टी निर्देशित शाहरुख़ खान और काजोल की फिल्म 'दिलवाले'  के सामने रिलीज़ होगी।  इस प्रकार से संजयलीला भंसाली की फिल्म का सीधा टकराव भंसाली के पसंदीदा हीरो शाहरुख़ खान की फिल्म के साथ हो रहा है। यहाँ ख़ास उल्लेखनीय है कि संजयलीला भंसाली बाजीराव मस्तानी को २००३ में ऐश्वर्या राय और सलमान खान की उस समय की हॉट जोड़ी के साथ बनाना चाहते थे। लेकिन, इनके ब्रेक-अप के बाद उन्होंने सलमान खान के साथ करीना कपूर को ले कर फिल्म बनाने का इरादा बनाया। फिल्म में रानी मुख़र्जी पेशवा बाजीराव की पत्नी काशीबाई की भूमिका कर रही थी। लेकिन, इसी दौरान सलमान खान और करीना कपूर द्वारा दूसरी फिल्म साइन कर लेने के कारण नाराज़ भंसाली ने यह प्रोजेक्ट स्क्रैप कर दिया। क्योंकि, वह इस ताज़ातरीन जोड़ी को पहली बार खुद पेश करना चाहते थे। इसके बाद भंसाली ने ब्लैक, सावरिया, गुज़ारिश और गोलियों की रासलीला : राम-लीला जैसी मशहूर फ़िल्में बना डाली। अब यह संयोग नहीं तो और क्या है कि भंसाली की फिल्म का ट्रेलर उसी जोड़े की फिल्म के साथ रिलीज़ हो रहा है, जिसे उन्होंने निकाल बाहर किया था। दूसरी ओर उनकी फिल्म उनके प्रिय एक्टर शाहरुख़ खान की फिल्म के अपोजिट रिलीज़ हो रही है। भंसाली ने शाहरुख़ खान के साथ देवदास जैसी हिट फिल्म बनाई थी। बाजीराव मस्तानी से दीपिका पादुकोण अपनी डेब्यू फिल्म तथा चेन्नई एक्सप्रेस और हैप्पी न्यू ईयर जैसी सुपर हिट फिल्मों के हीरो शाहरुख़ खान की फिल्म के अपोजिट ताल ठोंक रही होंगी। अब देखने वाली बात होगी कि गोलियों की रासलीला : राम-लीला जैसी हिट फिल्म के निर्देशक संजयलीला भंसाली की फिल्म की नायिका दीपिका पादुकोण, उन्हें चेन्नई एक्सप्रेस जैसी बड़ी हिट फिल्म देने वाले डायरेक्टर रोहित शेट्टी की फिल्म के सामने कैसा प्रदर्शन कर पाती है! 


अब दो हफ्ता पहले जाँनिसार !

गमन, आगमन और उमरावजान जैसी फिल्मों के निर्माता मुज़फ्फर अली पूरे बीस साल बाद वापसी कर रहे हैं।  उमरावजान की तरह उनकी अगस्त में रिलीज़ होने को तैयार फिल्म 'जाँनिसार' भी पीरियड रोमांस ड्रामा होगी।  यह फिल्म १८५७ यानि प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के बाद के भारत पर फिल्म होगी।  इस फिल्म से पाकिस्तान के एक्टर इमरान अब्बास के साथ स्टाइल और फैशन आइकॉन पेरनिया कुरैशी का फिल्म डेब्यू हो रहा है।  यह अमीर और नूर की म्यूजिकल रोमांस कहानी है।  जानिसार को २१ अगस्त को रिलीज़ किया जाना तय था।  लेकिन, १४ अगस्त को धर्मा प्रोडक्शंस की बिग बजट फिल्म 'ब्रदर्स' की रिलीज़ तय हो गई।  ब्रदर्स में अक्षय कुमार और जैक्विलिन फर्नांडीज़ के अलावा सिद्धार्थ मल्होत्रा और जैकी श्रॉफ मुख्य भूमिका में है।  ब्रदर्स की रिलीज़ के कारण सिंगल स्क्रीन थिएटर लगभग फुल हैं।  मल्टीप्लेक्सों ने भी अपने ज़्यादातर  स्क्रीन ब्रदर्स के लिए बुक कर दिए हैं।  इसलिए, इसमे शक था कि जानिसार को पर्याप्त स्क्रीन मिल पायेगा।  इस पर तमाम बातचीत के बाद यह तय पाया गया कि फिल्म की रिलीज़ दो हफ्ता पहले यानि ७ अगस्त को कर दी जाये। इससे जानिसार को एक हफ्ता ही सही, ठीक-ठाक स्क्रीन्स मिल सकती हैं।  जानिसार को दो हफ्ते पहले रिलीज़ करने के सम्बन्ध में मुज़फ्फर अली कहते हैं, "हम तो फ़कीर लोग हैं।  जो अपने फन (आर्ट) पैर जान लगाते हैं।  मैं नहीं जानता कि इंडिपेंडेंट सिनेमा को सर्वाइव करने में इतनी परेशानियां हो सकती हैं।  कोई भी सपोर्ट नहीं करता।  इसीलिए मैं बिना किसी स्टूडियो के सपोर्ट के खुद अपनी फिल्म रिलीज़ कर रहा हूँ।  मुझे उम्मीद है कि सिंगल स्क्रीन थिएटर और मल्टीप्लेक्स दर्शकों को मेरी फिल्म देखने का मौका देंगे। "  



अल्पना कांडपाल



Wednesday, 15 July 2015

एक थी शीला रमानी

गुज़ारे जमाने की अभिनेत्री शीला रमानी कावसजी का निधन हो गया।  वह ८३ साल की थीं।  आज के पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में २ मार्च १९३२ को पैदा शीला रमानी को पचास के दशक की शुरुआत में मिस शिमला का खिताब मिला।  उन्हें हिंदी फिल्मों में लाने का श्रेय चेतन आनंद को जाता है, जिन्होंने शीला को १९५४ में रिलीज़ देव आनंद और कल्पना कार्तिक की फिल्म 'टैक्सी ड्राईवर' में एक एंग्लो इंडियन क्लब डांसर सिल्वी का किरदार दिया।  इस फिल्म के बाद वह नवकेतन बैनर का स्थाई चेहरा बन गई।  उन्होंने देव आनंद और गुरुदत्त जैसे अभिनेताओं के साथ यादगार भूमिकाएं की।  फिल्मों में उन्होने आम तौर पर उच्च वर्ग की मॉडर्न लड़की का किरदार किया।  देव आनंद के साथ उनकी फिल्म फंटूश काफी सफल रही। शीला रमानी का करियर पचास और साठ के दशक में खूब चमका।  उन्होंने सुरंग (१९५३०, तीन बत्ती चार रास्ता (१९५३), नौकरी (१९५४०), फंटूश (१९५६), रेलवे प्लेटफार्म (१९५५) और अनोखी (१९५६) जैसी उल्लेखनीय फ़िल्में की। उन्होंने जंगले किंग और द रिटर्न ऑफ़ सुपरमैन जैसी बी ग्रेड फ़िल्में भी की।  द रिटर्न ऑफ़ सुपरमैन के बाद शीला रमानी कावसजी ने फिल्मों को अलविदा कह दिया।  उन्होंने अपने मामा शेख लतीफ़ के कहने पर एक पाकिस्तानी फिल्म अनोखी में मुख्य किरदार किया।  पहली सिन्धी फिल्म 'अबना' की वह नायिका थी।  इस फिल्म में साधना ने उनकी छोटी बहन का किरदार किया था।  उन्होंने इन्दोर के पास महू के एक पारसी व्यापारी जाल कावसजी से शादी रचाई।  अंतिम समय में वह महू में अपने दो पुत्रों के साथ रह रही थी।  वह  
पिछले कुछ सालों से अल्झाइमर से पीड़ित थी।  दो दिन पहले वह कोमा में चली गई थी।  

पीटर डिंकलेज को पसंद आई 'पिक्सेल्स' की रोमांचक कहानी

 हैरी पॉटर एंड  चैम्बर ऑफ़ सीक्रेट्सहैरी पॉटर एंड  सोर्सेरेरस स्टोनहोम अलोनमिसिज़ डाउट फायर आदि उत्कृट फिल्मों के निर्देशक क्रिस कोलंबस अपनी रोमांच एक्शन फ़िल्म 'पिक्सेल्सके द्वारा बहुत कुछ  नया और विलक्षण प्रस्तुत करने जा रहे हैं इस  फ़िल्म में  पीटर  डिंकलेजएडम सैंडलरकेविन जेम्स,  जोश गैड जैसे मशहूर एक्टर अभिनय कर रहे है । हाल  ही  में  एक साक्षात्कार  में डिंकलेज  ने बताया   कि दर्शकों के सामने कुछ नया और हटकर प्रस्तुत करना उनका काम है। वह एक जैसी भूमिकाएं  बार  बार   कर के वह खुद को और अपने दर्शकों को बोर नहीं करना चाहते । इसलिए जब उन्हें पिक्सेल्स जैसी फ़िल्म   मिली तो वह तुरंत समझ गए कि यह वही फ़िल्म है जिसका वह बहुत लंबे समय से इंतज़ार कर रहे थे।इस फ़िल्म की रोमांचक कहानी,एक्शन और थ्रिलर समझने के तुरंत बाद ही उन्होंने इस फ़िल्म के लिए अपनी पूर्ण सहमति  दे डाली। उन्होंने यह भी स्वीकारा कि 'पिक्सेल्सकी पूरी टीम के साथ काम करना वाकयी बेहद दिलचस्प और रोमांच से भरा रहा। 'सोनी पिक्चर्स इंडियाकी डी फ़िल्म 'पिक्सेल्स' 31 जुलाई को   भारतीय दर्शकों के बीच एंटरटेनमेंट की बड़ी डोज़ लेकर  रही है । 


सैम रैमी शुरू करेंगे ईविल डेड का नया चैप्टर !

सैम रैमी अपनी कल्ट फिल्म ईविल डेड के चैप्टर फिर पलटना चाहते हैं। ईविल डेड सीरीज की पिछली फिल्म आर्मी ऑफ़ डार्कनेस १९९२ में रिलीज़ हुई थी। जाहिर है कि ईविल डेड सीरीज की पिछली फिल्म को रिलीज़ हुए २३ साल हो गए हैं। पर सैम रैमी ईविल डेड पर कोई फिल्म नहीं बनाने जा रहे हैं।  स्टार्ज़ टीवी पर ऐश वर्सेज ईविल डेड के १० एपिसोड ब्रूस कैम्पबेल के साथ सैम रैमी क्रिएट करेंगे। यह सीरीज ३१ अक्टूबर से प्रसारित होगी। ईविल डेड के टीवी रूपांतरण में ब्रूस कैम्पबेल राक्षसों के शिकारी ऐश का किरदार कर रहे हैं। जेना : वारियर प्रिंसेस की नायिका अभिनेत्री लूसी लॉलेस रूबी नोबी का किरदार करेंगी। द ईविल डेड (१९८१), द ईविल डेड २ (१९८७) और आर्मी ऑफ़ डार्कनेस (१९९२) में ऐश का किरदार करने वाले ५७ वर्षीय ब्रूस कैम्पबेल के लिए ऐश का किरदार करना अपने कम्फर्ट जोन में जाने जैसा है।  वह कहते हैं, "यह रोल अपने पुराने और आरामदेह जूते पहनने जैसा है। मैंने और रैमी ने ईविल डेड की वापसी पर विचार किया तो हमें लगा कि ईविल डेड पर कोई एक फिल्म देखने के बजाय प्रशंसकों के लिए १० एपिसोड देखना उपहार पाने जैसा होगा।"   

क्या एक्स मेन फिल्मे करेंगी जेनिफ़र लॉरेंस

ट्वेंटिएथ सेंचुरी फॉक्स की म्युटेंट स्टोरी ‘एक्स-मेन: अपोकैलिप्स’ मई में रिलीज़ होने जा रही है। इस फिल्म में जेनिफ़र लॉरेंस के मशहूर मिस्टीक करैक्टर के अलावा माइकल फॉस्बेंडर और जेम्स मैकवॉय क्रमशः म्युटेंट मैग्नेटो और प्रोफेसर एक्स किरदार भी दर्शकों में उत्तेजना फैलाने आ रहे हैं।  एक्स-मेन सीरीज में अभी दो सीक्वल और बनाये जाने हैं।  इन दोनों फिल्मों में अपनी अपनी  भूमिकाओं के लिए फॉस्बेंडर और मॅकवॉय को साइन कर लिया गया है।  लेकिन, जेनिफर लॉरेंस अभी असमंजस में हैं। वह समझ नहीं पा रही है कि वह आगामी दो एक्स-मेन फिल्मों में पूरे शरीर को नीली ड्रेस से ढक कर दर्शकों के सामने आये या नहीं ! द सिल्वरलाइनिंग  प्लेबैक के लिए ऑस्कर जीत चुकी जेनिफर को द हंगर गेम्स सीरीज से खासी शोहरत मिली।  एक्स-मेन सीरीज को २०११ में रिलीज़ फिल्म एक्स-मेन: फर्स्ट क्लास से ज्वाइन करने वाली जेनिफर का रोल द हंगर गेम्स सीरीज की पहली दो फिल्मों की ज़बरदस्त सफलता के बाद एक्स-मेन: डेज ऑफ़ फ्यूचर पास्ट में बढ़ा दिया गया।  इस फिल्म के बाद जेनिफर लॉरेंस को हंगर गेम्स: मॉकिंगजे पार्ट १ और पार्ट २ में मौका मिला और म्युटेंट फिल्म एक्स-मेन अपोकलिप्स भी मिल गई।  जेनिफर लॉरेंस इस समय २० मिलियन डॉलर की फीस पा रही हैं।  बताया जा रहा है कि विज्ञानं फंतासी फिल्म पैसेंजर के बाद तो उनकी फीस इसे ज़्यादा भी की जा सकती है।  इसीलिए एक्स-मेन सीरीज की बाकी दो फिल्मों में मिस्टीक की भूमिका करने के बारे में पूछे जाने वाले सवालों पर जेनिफर कहती है, "मैंने  फॉक्स से कभी यह नहीं कहा कि मुझे कोई ऑफर नहीं दिया जाए । ताकि, मैं न कह सकूँ।" जेनिफर का सीधा जवाब न देना यह बताता है कि जेनिफर को फॉक्स स्टूडियोज से २० मिलियन डॉलर के ऑफर का इंतज़ार है।   

          

Tuesday, 14 July 2015

एक्ट्रेस,मॉडल और शेफ अनुराधा चटर्जी खोपकर ने अपना किचन १६२३ शुरू किया।

अनुराधा चटर्जी खोपकर जिन्हे हम कई प्ले ,म्यूजिक वीडियो और फिल्म में देख चुके हैं, अब नए अवतार यानि कि शेफ के रूप में नज़र आएँगी। जी हाँ अनुराधा ने एक्टिंग और डांस के बाद ऑस्ट्रेलिया जाकर कुकिंग की एडवांस ट्रेनिंग ली और शेफ बनकर हिंदुस्तान आयीं । अपने पति रोहित खोपकर के साथ मिलकर किचन १६२३ शुरू किया। अनुराधा की माँ रमा अधिकारी ने उनका खूब साथ दिया। इस किचन में करुणा मार्केटिंग देखेंगी और रफत एडम प्रोडक्शन देखेंगी। इस किचन आपको सभी खाने की चीज़ें मिलेंगी ,सिर्फ आप फ़ोन करके आर्डर कीजिये  और आपका पार्सल आपके घर पहुँच जायेगा। अँधेरी में इसका एक टेस्ट सेशन रखा गया जहाँ फिल्म कलाकार राकेश कुकरेती आये। अनुराधा ने हिंदुस्तान आकर इंडिगो में कुछ समय काम भी किया। अनुराधा को केक ,कुकीज़ ,सैंडविच ,अलग किस्म की चाय और सभी प्रकार के खाने बनाने का हुनर है। हम उन्हें आल थे बेस्ट कहते हैं नए काम के लिए। 
Displaying anuradha chatterjee khopkar1.jpg

ऐसे है 'बाजीराव मस्तानी' की मस्तानी, काशीबाई और बाजीराव

'मस्तानी' दीपिका पादुकोण 

'काशीबाई' प्रियंका चोपड़ा 

'बाजीराव' रणवीर सिंह 

आज दर्शक 'बाहुबली' ऋतिक रोशन और जॉन अब्राहम को देखते !

आज जब साउथ की फिल्म 'बाहुबली' पूरी दुनिया में बॉक्स ऑफिस पर कीर्तिमान स्थापित कर रही है, बॉलीवुड के दो एक्टरों के चेहरों पर उदासी छाई होगी।  फिल्म में  बाहुबली और भल्लालदेवा की भूमिका के लिए बाहुबली के निर्देशक एस एस राजामौली की पहली पसंद प्रभाष और राणा दग्गुबती नहीं थे। उस समय  राजामौली अपनी इस फिल्म को तमिल और तेलुगु के साथ साथ हिंदी में भी बनाना चाहते थे।  वह दो बाहुबली भाइयों की इस दास्तान को सुन्दर कद काठी के बॉलीवुड अभिनेताओं जॉन अब्राहम और ऋतिक रोशन के साथ बनाना चाहते थे। इसलिए, उन्होंने फिल्म की स्क्रिप्ट जॉन अब्राहम और ऋतिक रोशन के पास भेज दी।  कहा तो यह जाता है  कि तारीखों की समस्या के कारण यह दोनों अभिनेताओं इस फिल्म को नहीं कर सके।  लेकिन, अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि राजामौली को इन दोनों ही अभिनेताओं ने जवाब देने तक की ज़हमत नहीं उठाई।  इस पर निराश हो कर राजामौली ने प्रभाष और राणा दग्गुबती को लेकर फिल्म शुरू कर दी।  आज चार भाषाओँ में रिलीज़ फिल्म 'बाहुबली' रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड तोड़ और बना रही है।  यह फिल्म सबसे तेज़ केवल दो दिनों में १०० करोड़ कलेक्शन करने वाली फिल्म बन गई है।  यह फिल्म इंटरनेशनल बॉक्स ऑफिस पर टॉप टेन फिल्मों में शामिल हो गई है।  ऐसे  समय में निश्चय ही ऋतिक रोशन  और जॉन अब्राहम पछता रहे होंगे कि उन्होंने बाहुबली राजामौली को जवाब तक न देने की हिमाकत कैसे कर दी।

Monday, 13 July 2015

ऑल इस वेल के गीत में हिमेश रेशमिया और अरिजीत सिंह एक साथ

अभिषेक बच्चन और असिन की फिल्म ऑल इज वेल का गाना 'चार शनिवार'  बहुत पसंद किया जा रहा है।  अब इस फिल्म का एक दूसरा  गाना "बातों को" लांच होने जा रहा है  । यह एक रोमांटिक सांग है, जिसे हिमेश रेशमिया ने कंपोज़ किया है।  इस गाने के बोल शब्बीर अहमद ने लिखे हैं।  इस गीत को अरिजीत सिंह ने आवाज़ दी है। यह पहली बार होगा कि अरिजीत सिंह और हिमेश रेशमिया एक साथ काम कर रहे हैं। इस बाबत फिल्म के प्रोडूसर भूषण कुमार का कहते हैं, " बातों को तेरी" यह एक अद्भुत गीत है। .इसीलिए हमने फैसला किया है  कि हम अपनी फिल्म के  प्रमोशन की शुरुआत इस गाने के लांच के साथ ही करेंगे।" फिल्म के डायरेक्टर उमेश शुक्ला के लिए यह गीत ख़ास है।  वह बताते हैं, " हम जब हिमेश से मिले तो उन्होंने हमें सुनाने  लिए चार पांच गाने पहले से ही तैयार रखे थे। उन्होंने जैसे ही हमें "बातों को " की धुन सुनाई , यह हमारे दिल को छू गई। हमने सोचा कि इस स्पेशल सांग साथ जस्टिस कर सकने के लिए हमें स्पेशल आवाज़ की ज़रूरत थी।  इसीलिए हमने अरिजीत को चुना। अरिजीत सिंह और हिमेश रेशमियां की इस जोड़ी ने गाने में जान डाल दी ।"

अब पंजाब क्रिकेट लीग

संगीत और फिल्मों के बाद पंजाबी तड़का क्रिकेट में भी।  जी हाँ, पंजाबी मनोरंजन का चेहरा बदलने के लिए बॉक्स क्रिकेट लीग पंजाब आ रहा है।  इस लीग से पंजाब की फिल्म, संगीत और अन्य क्षेत्रों से जुड़ी हस्तियां जुड़ेंगी।  यह हस्तियां भारत के अलावा यूके, यूएसए और कनाडा से भी होंगी। पिछले साल टेलीविज़न की  १५० हस्तियों को लेकर ड्रामा, क्रिकेट और सेलिब्रिटी का गठजोड़ बॉक्स क्रिकेट लीग में नज़र आया था । अब बॉक्स क्रिकेट लीग को पंजाब का तड़का दिया गया है।  इस लीग में एषा देओल, गीता बसरा और अन्य पंजाबी हस्तियों की पांच क्रिकेट टीम इंडोर क्रिकेट खेलती नज़र आएंगी। इस लीग के लिए एक्सम टेलीमीडिया द्वारा बालाजी टेलीफिल्म्स से अधिकार प्राप्त किये गए हैं। देखने वाली बात होगी कि यह क्रिकेट लीग पंजाबी मनोरंजन को किस मुकाम तक ले जाती है। 

Saturday, 11 July 2015

हिंदी फिल्मों में बारिश यानि भीगी हीरोइन

क्या बिपाशा बासु की फिल्म के लिए बारिश के गीत की ज़रुरत है ? आम तौर पर, बॉलीवुड फिल्मों में बारिश का मतलब हीरोइन का भीगा बदन यानि सेक्स अपील का प्रदर्शन। इस लिहाज़ से बिपाशा बासु की सेक्स अपील उभारने के ए बारिश की ज़रुरत नहीं। हालाँकि, यही बिपाशा बासु एक बार नहीं कई बार पानी में भीगीं हैं। उनकी पिछले साल की हिट फिल्म ‘क्रीचर ३डी’ में एक बारिश गीत है ‘सावन आया आया रे' । यह गीत हीरो इमरान अब्बास और बिपाशा बासु पर फिल्माया गया है। लेकिन, इस गीत का उपयोग रोमांस पैदा करने के लिए हैं। कुछ ऐसा ही रोमांस फिल्म ‘चाँद के पार चलो’ के ‘यू आर रेनिंग’ गीत में भी उभरता है। 
हिंदी फ़िल्में चाहे आज की हों या पुराने ज़माने की, बारिश गीत प्रेम या रोमांस का इज़हार करने का जरिया बने हैं। स्वर्गीय राजकपूर ने इसे बरसात में ‘प्यार हुआ इकरार हुआ’ गीत में इतनी खूबी से उभरा कि आज भी यह गीत रोमांस का पर्याय बना आज की फिल्मों में आज के हीरो हीरोइन पर चलता नज़र आता है। बीच में बारिश गीतों का उपयोग नायिका की सेक्स अपील उभारने के लिए किया गया। इन बारिश गीतों में जीनत अमान तो जीनत अमान कला फिल्मों की नेत्री स्मिता पाटिल तक रपट कर अपने बदन का प्रदर्शन करने लगी। सत्तर और सके बाद की फिल्मों में बारिश गीत एक मसाले की तरह उपयोग हुए।  हालाँकि, इनका फिल्म की कहानी से कोई सरोकार नहीं था।  
क्या बारिश गीतों से फिल्मों को कामयाबी मिली ?
लेकिन, क्या बारिश गीत सचमुच फिल्म की कामयाबी में अपना हिस्सा बनाते हैं ? राजकुमार हिरानी की ब्लॉकबस्टर '3 ईडियट्स' में आमिर खान और करीना कपूर पर फिल्माए गीत 'जुबी डूबी' गीत और फिल्म 'दे दना दन' में अक्षय कुमार और कैटरीना कैफ के गीत 'आ गले लग जा' में दो बातें कॉमन हैं। पहली तो यह कि दो अलग-अलग जोडियों पर फिल्माए गए बारिश गीत हैं, जिन्हें फिल्मी भाषा में रेन सॉन्ग कहा जाता है । रेन सॉन्ग में डांस करने का करीना का अनुभव पुराना है,  लेकिन कैटरीना 'दे दना दन' में पहली बार फिल्मी बारिश में भीगी थीं । दूसरी समानता यह कि इन दोनों गीतों ने अपनी फिल्म के बिजनैस में कोई इजाफा नहीं किया । कैटरीना के उत्तेजक रेन सॉन्ग के बावजूद 'दे दना दन' सुपर हिट नहीं हो पाई, तो दूसरी तरफ '3 ईडियट्स' की जबरदस्त कामयाबी में 'जुबी डूबी' गीत का कोई योगदान नहीं रहा ।
श्रीदेवी भी भीगी और ऐश्वर्य भी
बारिश के पानी के जरिए दर्शकों को नायिका की सैक्स अपील की सप्लाई करना और अपनी फिल्म को हिट बनाना बॉलीवुड का पुराना ट्रेंड रहा है। यह अलग बात है कि कभी-कभी बारिश के उत्तेजक डांस नंबर के बावजूद फिल्में हिट नहीं हुई । 'यलगार' में संजय दत्त और नगमा के बीच बरसाती गाना 'आखिर तुम्हें आना है जरा देर लगेगी,  बारिश का बहाना है जरा देर लगेगी'  बारिश और नगमा की उत्तेजक सैक्स अपील से भीगा होने के बावजूद फिल्म को हिट नहीं करवा पाया । पंकज पाराशर की फिल्म 'चालबाज' में सनी देओल के साथ बारिश के पानी में भीगी श्रीदेवी 'किसी के हाथ न आएगी ये लडकी' गाती हुई सफेद टॉप में सैक्स अपील करती नजर आई । फिल्म 'मंजिल' में अमिताभ बच्चन और मौसमी चटर्जी पर फिल्माया गीत 'रिमझिम गिरे सावन' बेहद रोमांटिक होने के बावजूद दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींच नहीं पाया था ।
सेक्स अपील के लिए
हिंदी फिल्मों के ज्यादातर बारिश गीत नायिकाओं पर केंद्रित रहे हैं। 'गुरू' का 'बरसो रे मेघा बरसो' ऎश्वर्या की बारिश में भीगी चंचलता को दिखाता है,  तो 'मोहरा' का 'टिप टिप बरसा पानी' रवीना टंडन के बदन का भूगोल दर्शकों के सामने लाने की कोशिश करता है । 'मिस्टर इंडिया' का 'काटे नहीं कटते दिन ये रात'  भी श्रीदेवी का मादक चेहरा हमारे सामने लाता है । इसी तरह 'नया जमाना' का पॉपुलर गाना 'रामा रामा गजब हुई गवा रे' हेमामालिनी की सैक्स अपील को भुनाने के लिए ही रखा गया था। इसी सिलसिले में मनोज कुमार की फिल्म 'रोटी कपडा और मकान' की नायिका जीनत अमान का गीत 'हाय हाय ये मजबूरी ये मौसम ये दूरी' भी याद आता है। मनोज कुमार ने इससे पहले 'शोर' में 'पानी रे पानी तेरा रंग कैसा' गीत जया भादुडी के चारों ओर थिरकती नर्तकियों की सैक्स अपील को उभारने के लिए ही रखा था।
कामुक हो कर !

'आराधना' का रोमांटिक गाना 'रूप तेरा मस्ताना प्यार मेरा दीवाना'  नायक और नायिका को कामुक बना देता है । राजेश खन्ना और शर्मिला टैगोर बारिश में भीग जाते हैं । बारिश से बचने के लिए दोनों एक होटल मे ठहरते हैं । शर्मिला भीगे कपडे बदलकर तौलिया बांध लेती हैं, उनके इस रूप को देख राजेश खन्ना उत्तेजित हो जाते हैं । बैकग्राउंड में 'रूप तेरा मस्ताना' गीत बजता है और सुलगती आग के साथ दो प्रेमियों के सुलगते बदन एक हो जाते हैं। 'हम तुम' में सैफ अली खान और रानी मुखर्जी पर फिल्माया बारिश गीत 'सांसों को सांसों से' भी दोनों को कामातुर बना देता है। हिंदी फिल्मों में बारिश सैक्स अपील और रोमांस के अलावा रहस्य और रोमांच भी पैदा करती है । राहुल रवैल की फिल्म 'अर्जुन' का एक एक्शन सीक्वेंस बरसते पानी के बीच फिल्माया गया था। इसी तरह फिल्म 'लगान' में बारिश, सूखे से पीडित गांव वालों के चेहरों पर खुशियों की बरसात ले आती है।
पुराने बारिश गीतों की रूमानियत
नई फिल्मों की तुलना में पुरानी फिल्मों में बारिश गीत ज्यादा रूमानी होते थे, प्यार के साथ जज्बात की फुहार से भिगोने वाले। खास तौर पर राज कपूर और नर्गिस के बीच खूबसूरत रोमांटिक गीत फिल्माए गए। 1949 में आई 'बरसात' का 'बरसात मे हमसे मिले तुम सजन तुमसे मिले हम' और 1955 में रिलीज हुई 'श्री 420' का 'प्यार हुआ इकरार हुआ' बेहद रूमानी गीतों में शुमार किए जाते हैं। 'काला बाजार' का बारिश गीत 'रिमझिम के तराने ले के आई बरसात' गीत बरसों पहले बिछडे देव आनंद और वहीदा रहमान के मिलन का जरिया बन जाता है। बरसाती गीत मधुबाला पर काफी फिट बैठते थे। मधुबाला की फिल्म 'बरसात की रात' हो या 'चलती का नाम गाडी', बरसात में भीगी उनकी देह दर्शकों को निहाल कर दिया करती थी।