Friday, 30 January 2015

अब डॉक्टर बनाम डिटेक्टिव


वर्ल्ड क्रिकेट की जुडी कम बजट की फिल्मों  के निर्माताओं को बुरी तरह सता रही है। विश्व क्रिकेट कप का पहला मैच १४ फरवरी को खेल जायेगा। विश्व कप के तमाम मैच डेढ़ महीनों तक चलेंगे।  फाइनल २९ मार्च को होगा।  ऐसे में तमाम फ़िल्में अपनी फिल्मों की रिलीज़ के लिए चिंतित हैं।  इस लिहाज़ से फरवरी का पहला हफ्ता बेहद ख़ास हो जाता है।  यही कारण है कि ६ फरवरी को  चार छोटे बजट की फ़िल्में 'बचपन एक धोखा', 'डॉक्टर, आई लव यू', 'हम तुम दुश्मन दुश्मन', 'जय जवान जय किसान' और एक बड़ी फिल्म 'षमिताभ' रिलीज़ होनी है।  'षमिताभ' अमिताभ बच्चन, धनुष और अक्षरा हासन की आर बाल्की निर्देशित फिल्म है। ज़ाहिर है कि दर्शकों का बड़ा हिस्सा वर्ल्ड कप से ठीक पहले के हफ्ते रिलीज़ हो रही अमिताभ बच्चन की फिल्म को मिलेगा।  ऐसे में चार कम बजट की फिल्मों को आपस में ही बचे खुचे दर्शकों के लिए सर फुटौव्वल करना मज़बूरी थी। इसे भांप कर ही फिल्म 'डॉक्टर, आई लव यू' की निर्माता कंपनी फिल्मी बॉक्स ने वितरकों की राय पर अपनी फिल्म की रिलीज़ की तारिख  वर्ल्ड कप से ठीक पहले के शुक्रवार ६ फरवरी से बदल कर वर्ल्ड कप के खात्मे के ठीक बाद के शुक्रवार ३ अप्रैल तय कर दी। लेकिन, यह बदलाव आसमान से गिरे खजूर पर लटके जैसा हो गया। ३ अप्रैल को निर्देशक दिबाकर बनर्जी की डिटेक्टिव फिल्म ' डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी' की रिलीज़ पहले से ही तय थी। डिटेक्टिव के साथ यशराज फिल्म्स जैसा बड़ा बैनर जुड़ा है।  फिल्म के प्रचार में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी।  इसलिए अब डॉक्टर को डिटेक्टिव के साथ कडा मुक़ाबला करना होगा।  डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी में सुशांत सिंह राजपूत डिटेक्टिव ब्योमकेश के किरदार में हैं। निर्देशक मुकुल अभ्यंकर की फिल्म  में शिराज हुसैन डॉक्टर के किरदार में हैं।  साफ़ तौर पर शिराज के मुकाबले सुशांत का कद काफी बड़ा है।  यह तो वक़्त बताएगा  कि  डॉक्टर और डिटेक्टिव के मुकाबले में कौन जीतता है ! फिलहाल तो इस मुकाबले का इंतज़ार करना ही दिलचस्प होगा।  

जैकलिन की पहली डरावनी फिल्म

सलमान खान से 'किक' पा चुकी श्रीलंकाई फिल्म अभिनेत्री जैकलिन फर्नांडीज़ इन दिनों अपनी पहली हॉरर फिल्म  शूट कर रही है।  इस फिल्म की शूटिंग पोलैंड में ८० प्रतिशत तक पूरी हो चुकी है।  इस फिल्म का  क्लाइमेक्स मलेशिया में शूट किया जाना था।  करण जौहर की फिल्म ब्रदर्स के व्यस्त शेडूल के चलते जैक्विलन के लिए इस क्लाइमेक्स को मलेशिया जा कर शूट करना मुमकिन नहीं हो रहा था। अक्षय कुमार के साथ  करण जौहर की फिल्म ब्रदर्स का यह प्रोजेक्ट जैक्विलिन के लिए बड़ा ख़ास है। लेकिन, जैक्विलिन हॉरर फिल्म की उपेक्षा भी नहीं कर सकती थी, क्योंकि, यह एक इंटरनेशनल फिल्म है।  इसलिए  जैकलिन ने अपनी फिल्म के लेखक निर्देशक जेम्स सिम्पसन को अपनी परेशानी बताई और फिल्म का बाकी का हिस्सा मुंबई शूट करने की गुज़ारिश की । फिल्म के निर्माताओ ने जैकलिन के बॉलीवुड में करियर को ध्यान में रख कर उनकी यह बात मान ली।  फिल्म का जो सेट पोलैंड में लगा था, वैसा ही सेट मुंबई की फिल्म सिटी में बनाया गया । यह सेट एक हन्टेड हाउस का है, जहां फिल्म में जैकलिन के साथ क्लाइमेक्स सीन  फिल्माया गया । इस फिल्म में जैकलिन सारा फॉर्डिंग नामक सायकॉलॉजी की स्टूडेंड का किरदार निभा रही है । इस बारे में बताते हुए जैकलिन कहती है, "यह मेरा पहला इंटरनेशनल प्रोजेक्ट है।  इसलिए मैं इसके लिए बहुत चिंतित थी, क्यूंकि मेरे बिना फिल्म का क्लाइमेक्स शूट नहीं हो सकता था । करण जौहर की फिल्म का मुंबई में बिजी शिड्यूल होने के कारण मैं एक ही समय पर एक देश से दूसरे देश सफर नहीं कर सकती थी।" अब जैकलिन का इरादा दोनों फिल्मों के शूट के बीच तालमेल बनाने का है। चूंकि, जैक्विलिन की इंटरनेशनल फिल्म को इसके निर्माता नवंबर में प्रदर्शित करना चाहते है।  इसलिए जैकलिन वक्त पर फिल्म की शूटिंग पूरी कर देना चाहती है।


अब फिल्म निर्देशक दिया मिर्ज़ा

सन २००० की मिस एशिया पसिफ़िक इंटरनेशनल दिया मिर्ज़ा ने अगले ही साल माधवन के साथ म्यूजिकल लव स्टोरी रहना है तेरे दिल में से अपने फिल्म करियर की शुरुआत की।   इसके दस साल बाद, उन्होंने बतौर फिल्म निर्माता लव ब्रेकअप्स ज़िन्दगी बनाई।  दूसरी फिल्म बॉबी जासूस थी।  अब उनकी निगाहें फिल्म निर्देशक की कुर्सी पर लगी हुई हैं।  बस, दिया मिर्ज़ा को तलाश थी एक अच्छी स्क्रिप्ट की।  खबर है कि दिया को एक अच्छी कहानी मिल गयी है।  यह शहर की पृष्ठभूमि पर युवा प्रेम कहानी है।  इस फिल्म के लिए वह युवा कलाकारों को साइन करेंगी।  फिलहाल, दिया मिर्ज़ा फिल्म की स्क्रिप्ट पर काम कर रही हैं। अगर सब ठीक रहा तो दिया मिर्ज़ा जून में निर्देशक की कुर्सी पर नज़र आएं।

आयुष्मान खुराना और पल्लवी शारदा की फिल्म हवाइज़ादा की स्पेशल स्क्रीनिंग (फोटो)

Displaying Huma Qureishi.jpgDisplaying Rannvijay with wife.jpgDisplaying Resul Pookutty with family.jpgDisplaying Anjana Sukhani.jpgDisplaying Bhavna Pani.jpgDisplaying Cyrus.jpgDisplaying Javed Jaffery.jpgDisplaying Neeta Lulla.jpgDisplaying Siddharth Mahadevan.jpg
 

Thursday, 29 January 2015

५७वे एनुअल ग्रैमी अवार्ड्स


इस बार के, ५७वे एनुअल ग्रैमी अवार्ड्स कुछ ख़ास होगे।  इन समारोहों का आकर्षण होता है 'ग्रैमी मूमेंट्स'.इस बार के समारोहों में ग्रैमी के यही मूमेंट्स ख़ास हैं। इस मौके पर कई ग्रैमी अवार्ड विजेता  जोड़ियां बना कर परफॉरमेंस देंगे। यह जोड़ियां अपने आप में अनोखी होंगी।  इन्हे, इस साल ग्रैमी में नामांकन भी मिला है।  इस साल की ख़ास जोड़ियों में टॉनी बेनेट और लेडी गागा की संगीतमयी जोड़ी। यह दोनों पिछले ७० संयुक्त सालों से दुनियां में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर रहे हैं। अन्य दूसरी जोड़ियों में होज़ियर -एनी लेंनोक्स, जेसी जे और लीजेंड गायक टॉम जोंस, मैरून ५ के मुख्य गायक एडम लेविन और गायक/गीत लेखक ग्वेन स्टेफनी की जोड़ियां उल्लेखनीय है।  इन जोड़ियों के अलावा ग्रैमी मूमेंट्स के एसी/डीसी, एरिक चर्च, कॉमन के साथ जॉन लीजेंड, अरिआना ग्रैंड, मिरांडा लैबर्ट, मैडोना, एड शीरन, सैम स्मिथ, अशर और फर्रेल्ल विलियम्स के नामों की घोषणा पहले ही की जा चुकी है।  दो बार के ग्रैमी विजेता एलएल कूल जे बतौर होस्ट स्टेज पर नज़र आएंगे।  यह अवार्ड्स समारोह लॉस एंजेल्स में ८ फरवरी को स्टेपल्स सेंटर में आयोजित होंगे। सोलह बार के ग्रैमी विजेता तथा रिकॉर्डिंग एकेडेमी लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड पाने वाले टॉनी बेनेट के साथ पांच बार की ग्रैमी विजेता लेडी गागा 'चीक टू चीक' के लिए बेस्ट ट्रेडिशनल पॉप वोकल एल्बम के लिए नामांकित हैं। होज़ियर का गीत 'टेक में टू चर्च' सांग ऑफ़ द ईयर के लिए नॉमिनेट हैं।  जेसी जे, अरिआना ग्रांडे और निक्की मिनाज के साथ 'बैंग बैंग ' के लीये बेस्ट पॉप डुओ/ग्रुप परफॉरमेंस की श्रेणी में नामित हुए हैं।  चार बार के ग्रैमी विजेता एनी लेनॉक्स अपने एल्बम नास्टैल्जिया के लिए बेस्ट ट्रडीटीओनल पॉप वोकल एल्बम के लिए नामित हैं। ५७वे ग्रैमी अवार्ड्स का निर्देशन लुइस जे हॉर्विट्ज़ कर रहे हैं।  इन्हे डेविड वाइल्ड और केन एहर्लिच की जोड़ी ने लिखा है।




Wednesday, 28 January 2015

केविन स्पेसी की आत्मा बिल्ली में

मेन इन ब्लैक के निर्देशक बैरी सोंनेनफेल्ड ने अपनी अगली कॉमेडी फिल्म 'नाइन लाइवस' के लिए अभिनेता केविन स्पेसी को साइन किया है।  केविन स्पेसी को इस साल फिल्म हाउस ऑफ़ कार्ड्स के लिए श्रेष्ठ अभिनेता का गोल्डन ग्लोब अवार्ड मिला है।  नाइन लाइवस में केविन स्पेसी हमेशा काम में जुटे रहने वाले बिजनेसमैन का किरदार कर रहे हैं।  एक खतरनाक दुर्घटना में उसकी आत्मा एक पालतू बिल्ली के शरीर में फंस जाती है।  इस फिल्म की स्क्रिप्ट डेनियल अंटोनिआज़ी और बेन शिफ्फ्रीन ने लिखी है। 

एक सामान्य आदमी की असामान्य बॉम्बे वेलवेट


आज निर्देशक अनुराग कश्यप की फिल्म 'बॉम्बे वेलवेट' का फर्स्ट लुक जारी हुआ। इस फर्स्ट लुक में अभिनेता रणबीर कपूर का थके हारे जॉनी बलराज का किरदार लोहे की जाली वाली बाड़ पर हाथ रखे थका हारा सा खड़ा नज़र आ रहा है।  यह फिल्म इतिहासकार ज्ञान प्रकाश की पुस्तक मुम्बई फैबल्स पर आधारित है।  यह कहानी है साथ के दशक की बॉलीवुड की फिल्म इंडस्ट्री की।  इस फिल्म में काफी पुरानापन है।  फिल्म में जैज़ म्यूजिक ख़ास है।  रणबीर कपूर एक ऐसे सामान्य युवा बने हैं, जो विपरीत परिस्थितियों में भी अपना एक मुकाम बनाना चाहता है।  फिल्म अनुराग कश्यप की फिल्मों की परंपरा में इश्क़, लालच, धोखा, हिंसा, आदि मानवीय कमज़ोरियों से भरपूर है। इस फिल्म में फिल्मकार करण जौहर नेगेटिव भूमिका में हैं। रणबीर कपूर और अनुष्का शर्मा की मुख्य भूमिका वाली फिल्म 'बॉम्बे वेलवेट' का निर्माण फॉक्स स्टार स्टूडियोज और फैंटम फिल्म्स ने किया है। 'बॉम्बे वेलवेट' पिछले साल नवंबर में रिलीज़ होने वाली थी।  लेकिन, वीएफएक्स के अत्यधिक उपयोग की संभावनाओं के कारण यह फिल्म पिछले साल रिलीज़ नहीं हो सकी।  अब यह फिल्म मई में रिलीज़ होने जा रही है।

इंडिपेंडेंस डे फॉरएवर में विल स्मिथ की जगह लियम हेम्सवर्थ !


रोलाँ एमरिच निर्देशित १९९६ में रिलीज़ फिल्म 'इंडिपेंडेंस डे' सफल विनाश फिल्मों में शुमार की जाती है। केवल  ७५ मिलियन डॉलर में बनी अमेरिकी साइंस फैंटसी डिजास्टर फिल्म 'इंडिपेंडेंस डे' ने वर्ल्डवाइड बॉक्स ऑफिस पर ८१७ मिलियन डॉलर से अधिक का बिज़नेस किया।  इतनी बड़ी सफलता के बावजूद बावजूद इस फिल्म का सीक्वल बनाने की कोशिश नहीं की गयी। इस एलियन फिल्म में अभिनेता विल स्मिथ कैप्टेन स्टीव हिलर की  भूमिका में थे। अब जबकि इस फिल्म को शुरू करने की तैयारियां ज़बरदस्त हैं, लीड रोल के लिए अभिनेता के नाम को लेकर अफवाहों का बाजार गर्म है। १९९६ में अमेरिकी राष्ट्रपति थॉमस जे व्हिटमोर की भूमिका करने वाले बिल पूलमैन और कंप्यूटर एक्सपर्ट डेविड लेविंसन की  भूमिका करने वाले अभिनेता जेफ़ गोल्ड्ब्लूम को साइन कर लिया गया है।  लेकिन, कप्तान स्टीवन हिलर के रोल के लिए विल स्मिथ के नाम पर अभी संदेह है।  कहा जा रहा है कि विल स्मिथ आधुनिक दुनिया के फॉर्मेट में सटीक नहीं बैठते।  जबकि, लिएम हेम्सवर्थ द एक्सपेंडब्ल्स २ और एम्पायर स्टेट जैसी फिल्मों में अपनी उपयोगिता साबित कर दी है। उन्हें हंगर गेम्स सीरीज की फिल्मों के गले हॉथोर्म के रूप में पहचान मिली। विल स्मिथ इस समय ४६ के हैं।  जबकि, लिएम मात्र २५ साल के।  वह आज के युवाओं से तालमेल बैठा सकते हैं।  अपनी फिल्मों से उन्होंने बार बार साबित भी किया है।  इस लिए चर्चा है कि  विल की जगह लिएम ले लें।  ऐसी दशा में, इंडिपेंडेंस डे फॉरएवर लिएम हेम्सवर्थ के लिए मैदान मार लेने वाली फिल्म साबित हो सकती हैं।  क्योकि, लिएम को अभी तक किसी भी फिल्म में मुख्य भूमिका करने का मौका नहीं मिला है। अभी उन्हें थॉर और अवेंजर्स सीरीज जैसी सुपर हीरो फिल्मों के सुपर हीरो चरित्र थॉर क्रिस हेम्सवर्थ के भाई के रूप में पहचाना जाता है। इस फिल्म के ज़रिये वह अपनी उपयोगिता और दमखम को भी साबित कर सकते हैं।  इंडिपेंडेंस डे फॉरएवर की रिलीज़ की तारिख १ जुलाई २०१६ तय है।


Tuesday, 27 January 2015

उत्तराखंड में टैक्स फ्री हुई 'चल गुरु हो जा शुरू'

देश के सिनेमाघरों में 30 जनवरी को रिलीज़  होने जा रही फिल्म  "चल गुरु हो जा हो शुरू" को उत्तराखण्ड सरकार ने टैक्स फ्री कर दिया है। बाबाओं  के पाखण्ड को उजागर करने वाली यह फिल्म  हिमालयन ड्रीम्स के  बैनर  की इस  फिल्म को उत्तराखण्ड के मुख्य मंत्री हरीश रावत ने देखा और प्रशंसा भी की। उन्होंने  पूरी यूनिट और  सभी कलाकारों के काम की प्रशंसा भी की  इससे पहले राजधानी दिल्ली में इस फिल्म की लांचिंग पार्टी की गयी ,जिसमें केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि आज के सामाजिक दौर में इस तरह की फिल्में काफी महत्वपूर्ण हैं । राजधानी दिल्ली  में ही कत्थक सम्राट बिरजू महाराज ने भी इस फिल्म को देखा । इस फिल्म के  निर्देशक हैं मनोज शर्मा हैं। फिल्म के मुख्य कलाकार हेमंत पांडे, टिकू तलसानिया, बिजेन्द्र काला, आदि के नाम उल्लेखनीय हैं। 



सन्देश शांडिल्य की सिम्फनी

सन्देश शांडिल्य चमेली और जब वी मेट जैसी २७ भारतीय फिल्मों का संगीत दे चुके हैं।  इस समय वह वर्ल्ड म्यूजिक सिम्फनी में व्यस्त हैं। 'सर्च फॉर बुद्धा' शीर्षक वाली इस सिम्फनी का वर्ल्ड प्रीमियर कॉलॉन में ६ फरवरी को होगा। दूसरे ही दिन बीएलफेल्ड में इसका शो होगा। बाद में  इस सिम्फनी का लंदन में यूके प्रीमियर भी होगा। सन्देश शांडिल्य का इरादा पूरे विषय में अपने शो करने का है।  सन्देश हमेशा से ही विश्व शांति का सन्देश देने वाले संगीत की रचना ही करना चाहते हैं। भगवन बुद्ध विश्व शांति के प्रतीक हैं। खुद सन्देश शांडिल्य को विपासना पर विश्वास है।  वह कहते हैं, "मैंने सीखा है कि क्रोध, लोभ, मोह, भय और आसक्ति पर विजय प्राप्त कर हम शान्ति प्राप्त कर सकते हैं और विश्व में शांति ला सकते हैं।" बुद्ध की आतंरिक यात्रा को जर्मनी, हंगरी, यूके, जापान, द मिडिल ईस्ट, साउथ अफ्रीका और भारत के साथ संगीतकारों की रचना से सजी इस सिम्फनी से काफी दूसरे ऑर्केस्ट्रा भी जुड़ेंगे।  सन्देश शांडिल्य क्रिस्टोफर मसंद के साथ भी कुछ लोक गायिकी की है। इस सिम्फनी को वेन मार्शल कंडक्ट करेंगे।  लेकिन, शांडिल्य का इरादा ज़ुबिन मेहता, पंडित रवि शंकर, इलैयाराजा और  प्यारेलाल की तरह खुद संचालित करने का है। सन्देश शांडिल्य इस समय जॉन अब्राहम की फिल्म सत्रह को शादी के अलावा सुधीर मिश्रा की फिल्म 'और देवदास' और टाइम आउट तथा रोड टू संगम के डायरेक्टर अमित रॉय के साथ आई पैड पर काम कर रहे हैं।




राजेंद्र कांडपाल 

ईद से दिवाली तक सलमान खान !

क्या इस साल, ईद से दिवाली तक सलमान खान होंगे ! फिल्मों की रिलीज़ के लिहाज़ से संयोग ऐसा ही बन रहा है।  सलमान खान की दो बड़ी फ़िल्में, मुसलमानों और हिन्दुओं के दो बड़े त्योहारों  में रिलीज़ हो रही है।  ईद २०१५ यानि १६ जुलाई को निर्देशक कबीर खान की फिल्म 'बजरंगी भाईजान' रिलीज़ होगी।  इस फिल्म में करीना कपूर खान, सलमान खान की नायिका हैं। इस जोड़ी की पिछली फिल्म 'बॉडीगार्ड' ईद २०११ में रिलीज़ हुई थी और बड़ी हिट फिल्म साबित हुई थी।  'बजरंगी भाईजान' भी ईद वीक में रिलीज़ हो रही है। कबीर खान ने सलमान खान को लेकर 'एक था टाइगर' जैसी सुपर डुपर हिट फिल्म बनायी है।  'एक था टाइगर' स्वतंत्रता दिवस और ईद वीक में रिलीज़ फिल्म थी।  बॉलीवुड ट्रेड उम्मीद कर रहा है कि 'बजरंगी भाईजान' आमिर खान की फिल्म 'पीके' के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के आंकड़ों को भी ध्वस्त कर देगी।  क्योंकि, फिल्म के टाइटल   'बजरंगी भाईजान' ने कुछ हिन्दू संगठनों को उत्तेजित कर दिया था कि हमारे आराध्य बजरंगबली के नाम के साथ भाईजान क्यों लगा है।  आग में घी का काम किया इस खबर ने कि फिल्म में करीना कपूर एक ब्राह्मण लड़की बनी हैं, जो एक मुसलमान लडके सलमान खान से प्यार करने लगती हैं।  यह मुसलमान लड़का खुद को बजरंगी बताता है।  हिन्दू संगठनों ने इसे लव जिहाद का नाम दे दिया।  इससे फिल्म को मुसलमान  दर्शक  ज़बरदस्त मिलेंगे।  क्योंकि, हिन्दू सगठनों की उत्तेजना अल्पसंख्यक दर्शकों की उत्तेजना में इज़ाफ़ा करेगी। २०१४ के आखिर में रिलीज़ आमिर खान की फिल्म 'पीके' भी हिन्दू धर्म की आलोचना के कारण अल्पसंख्यक  दर्शकों के ख़ास प्यार पाने में सफल हुई थी।  कबीर खान जानते हैं कि फिल्म का शीर्षक और ढकी छुपी कहानी बहुसंख्यकों को उकसाने और इस प्रकार से दर्शकों का ध्रुवीकरण करने में कामयाब होगी। हिन्दू उत्तेजना का शिकार हो कर उत्तर प्रदेश की कथित सेक्युलर सरकार इसे टैक्स फ्री भी कर सकती है। ख़ास तौर पर, इन सभी कारणों से, ईद के मौके पर सलमान खान की फिल्म ज़बरदस्त भीड़ बटोर सकती है।  इसके बाद दिवाली २०१५ में यानि १ नवंबर को निर्देशक सूरज बड़जात्या की फिल्म 'प्रेम रतन धन पायो' रिलीज़ होगी।  सूरज की फ़िल्में हिन्दुओं के त्यौहार में दर्शकों की पसंदीदा साबित होती हैं।  हिन्दुओं को सलमान खान के 'प्रेम' से कोई ऐतराज़ भी नहीं होता।  प्रेम रतन धन पायो में सलमान खान की दोहरी भूमिका बताई जा रही है। यानि, सलमान खान के प्रशंसकों का डबल मनोरंजन। इस फिल्म में सलमान खान की नायिका  सोनम कपूर हैं। 
सलमान खान की फिल्म से सलमान खान की फिल्म तक सलमान खान का डंका बज सकता है।  ईद के साढ़े  तीन महीने बाद दिवाली पड़ रही है।  इस बीच, ३१ जुलाई को अक्षय कुमार की फिल्म 'ब्रदर्स', १४ अगस्त को  शाहरुख़ खान की फिल्म 'फैन' रिलीज़ होने के अलावा २८ अगस्त को रणबीर कपूर और कटरीना कैफ के जग्गा जासूस का सैफ अली खान और कटरीना कैफ के 'फैंटम' का टकराव हो सकता है । ४ सितम्बर को शाहिद कपूर की 'शानदार' और २ अक्टूबर को अक्षय कुमार की फिल्म 'सिंह इज़ ब्लिंग' रिलीज़ होगी। इसमे कोई शक नहीं कि  यह सभी फ़िल्में बड़े सितारों वाली, ज़बरदस्त बिज़नेस कर सकने का माद्दा रखने वाली फ़िल्में हैं। यह फ़िल्में सौ करोड़ का बिज़नेस आसानी से कर ले जाएंगी।   लेकिन,तीन सौ करोड़ का आंकड़ा पार करने का माद्दा सलमान खान की फिल्म 'बजरंगी भाईजान' में ही पाया जा रहा है।  अगर, ऐसा हुआ तो ईद के बजरंगी भाईजान की गूँज दिवाली तक तो जाएगी ही। 


राजेंद्र कांडपाल



देवगन से रिपब्लिक डे में बचे तो इंडिपेंडेंस डे पर टकराये रोशन !

बॉलीवुड में हॉलिडे वीकेंड के प्रति क्रेज़ का अंदाजा लगाना मुश्किल नहीं। हॉलिडे वीकेंड में छोटी फिल्मों को  थिएटर नसीब नहीं होते।  तमाम थिएटर बड़े सितारों की बड़ी फिल्मों से गुलज़ार रहते हैं।  बड़े सितारों का हॉलिडे वीकेंड के प्रति यह लगाव कभी कभी टकराव भी पैदा कर देता है। लेकिन, ऐसा दिलचस्प टकराव बहुत कम होता है या यों कहिये कि होता ही नहीं, जैसा कि ह्रितिक रोशन और अजय देवगन के साथ हुआ।  वैसे अजय देवगन हमेशा खानों के सताए हुए हैं।  २०१२ में शाहरुख़ खान और यशराज चोपड़ा ने, उनकी फिल्म 'सन ऑफ़ सरदार' के सामने अपनी फिल्म 'जब तक है जान' की रिलीज़ की तारिख तय कर दी।  अजय ने लाख कहा।  शिकायतें मिन्नतें कीं। पर चोपड़ा और खान नहीं माने।  इससे पहले आमिर खान ने अपनी पत्नी की फिल्म धोबी घाट को पूरा हफ्ता सुनिश्चित  करने के लिए वितरकों की बांह उमेठ कर दिल तो बच्चा है जी को रिपब्लिक डे वीकेंड २०११ में २६ जनवरी को रिलीज़ नहीं होने दिया था।  लेकिन, यहाँ अजय देवगन ह्रितिक रोशन का पीछा करते लग सकते हैं।  आशुतोष गोवारिकर ने अपने बैनर पर खुद द्वारा निर्देशित फिल्म 'मोहन जोदड़ो' की रिलीज़ की तारिख रिपब्लिक डे वीकेंड  २०१६ तय कर दी थी।  इस फिल्म के नायक ह्रितिक रोशन थे।  ह्रितिक रोशन की २०१२ में रिलीज़ फिल्म अग्निपथ ने सबसे बढ़िया वीकेंड का कीर्तिमान बनाया था।  इसलिए ह्रितिक रोशन की किसी फिल्म  के  निर्माता का रिपब्लिक डे वीकेंड को महत्व देना स्वाभाविक था।  लेकिन,यहाँ टपक पड़े अजय देवगन।  अजय देवगन ने बतौर निर्देशक दूसरी फिल्म 'शिवाय' की घोषणा के साथ ही रिलीज़ की तारिख रिपब्लिक डे वीकेंड २०१६ तय कर दी।  हालाँकि, इसी वीकेंड में ह्रितिक रोशन की फिल्म की रिलीज़ तय थी।  शायद, ह्रितिक रोशन टकराव टालना चाहते थे या फिर कुछ दूसरे कारण रहे होंगे आशुतोष गोवारिकर ने मोहन जोदड़ो की रिलीज़ की तारिख शिफ्ट कर इण्डिपेंडेन्स डे वीकेंड तय कर दी।  इस प्रकार से, अब ह्रितिक रोशन और पूजा हेगड़े की आशुतोष गोवारिकर निर्देशित फिल्म मोहन जोदड़ो को १२ अगस्त २०१६ को रिलीज़ होना था।  ज़ाहिर है कि  रोशन ने देवगन से टकराव टाल दिया था। लेकिन, अजय देवगन टकराव के मूड में ही थे। मोहन जोदड़ो की रिलीज़ बदलने की घोषणा के ठीक बाद, उसी दिन निर्देशक मिलन लुथरिया की प्रेस कांफ्रेंस हुई।  उन्होंने बताया कि  वह और अजय देवगन फिर एक साथ आ रहे हैं।  इन दोनों की साथ फिल्म का नाम था 'बादशाहो' . यह घोषणा अच्छे तालमेल वाले निर्देशक अभिनेता के फिर साथ काम करने की थी।  लेकिन, अब चौंकने की बारी पत्रकारों, समूचे बॉलीवुड और ह्रितिक रोशन के प्रशंसकों की थी।  बादशाहो रिपब्लिक डे वीकेंड यानि १२ अगस्त को रिलीज़ हो रही थी।  यानि अजय देवगन एक बार फिर ह्रितिक रोशन से टकराव के मूड में थे।

राजेंद्र कांडपाल




रील लाइफ में रियल लाइफ प्ले करते बॉलीवुड स्टार

विद्या बालन ने यह सिलसिला शुरू किया था।  उन्होंने मिलन लुथरिया की फिल्म 'द डर्टी पिक्चर्स ' में दक्षिण की सेक्स बम सिल्क स्मिता की दुखद ज़िन्दगी को जीवंत किया था।  इस फिल्म के बाद तो बॉलीवुड अभिनेत्रियों के बीच बायोपिक फिल्मे करने की होड़ लग गयी।  परिणाम हुआ 'नो वन किल्ड जेसिका', मैरी कॉम और भाग मिल्खा भाग के रूप में।  इन फिल्मों में विद्या बालन, रानी मुखेर्जी, प्रियंका चोपड़ा और सोनम कपूर  रील पर रियल लाइफ किरदार रही थीं।  मधुर भंडारकर की फिल्म 'हीरोइन' में करीना कपूर मनीषा कोइराला का करैक्टर कर रही थी। इस समय भी हर छोटी बड़ी अभिनेत्री रील पर रियल करैक्टर कर रही हैं।  आइये, जानते हैं हिंदी फिल्म अभिनेत्रियों के आगामी फिल्मों के रियल चरित्रों के बारे में -
सोनम कपूर बनेंगी 'नीरजा'
मशहूर निर्देशक राम माधवानी १९८६ के पैन अमेरिकन एयरवेज के जहाज को अपहृत कर कराची ले जाने की घटना पर फिल्म बनाने जा रहे हैं।  यह फिल्म इस प्लेन की सीनियर क्रू मेंबर नीरजा भनोट पर केंद्रित होगी, जिसने अपनी जान पर खेल का प्लेन के यात्रियों को आतंकवादियों के चंगुल से निकालने में अपनी जान गंवाई। फिल्म नीरजा भनोट की भूमिका सोनम कपूर करेंगी।  इस फिल्म की शूटिंग सलमान खान के साथ सोनम कपूर की फिल्म प्रेम रतन धन पायो की शूटिंग पूरी हो जाने के बाद ही शुरू होगी।
ममता कुलकर्णी के चोले में सनी लियॉन
कंगना रनौत बनेगी बछेंद्री पाल
खबर थी कि कंगना रनौत भी बायोपिक की राह में हैं।  कहा गया कि वह हंसल मेहता की फिल्म में मशहूर  बछेंद्री पाल का किरदार करेंगी।  परन्तु, हंसल मेहता ने इसकी पुष्टि तो की कि  वह कंगना के साथ फिल्म कर रहे हैं, यह भी साफ़ कर दिया कि यह फिल्म बछेंद्री पाल पर नहीं होगी।
सोनाक्षी सिन्हा भी पीछे नहीं
रील पर रियल करैक्टर उतरने में सोनाक्षी सिन्हा भी पीछे नहीं । वह जसमीत रीन की फिल्म में कवयित्री अमृता प्रीतम का किरदार करेंगी।  यह फिल्म अमृता प्रीतम और शायर साहिर लुधियानवी की प्रेम कहानी पर केंद्रित होगी। सुना जा रहा है कि पाकी अभिनेता फव्वाद 'खूबसूरत' खान फिल्म में साहिर लुधियानवी का किरदार करेंगे।  वैसे यह खबर अभी पूरी तरह से परवान नहीं चढ़ी है।
प्रियंका चोपड़ा की मदामजी है मान्यता !
निर्देशक मधुर भंडारकर की फिल्म 'मदामजी ' में प्रियंका चोपड़ा का करैक्टर हिंदी फिल्मों की आइटम गर्ल का है, जिसकी शादी एक बड़े स्टार से हो जाती है।  मैडमजी के सेट पर भी कोई फिल्म के बारे में बात नहीं करता। खुद प्रियंका चोपड़ा भी फिल्म में अपने रोल रियल स्टार पत्नी के करैक्टर से प्रेरित मानती हैं, लेकिन इसका ख़ास खुलासा नहीं करती।  हालाँकि, वह इस फिल्म से एक बार फिर राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार पाने की उम्मीद कर रही  हैं।  लेकिन, अंदर खाने खबर यह है कि एक आइटम गर्ल के शादी के बाद के उथल पुथल भरे  जीवन की कहानी 'मदामजी' वास्तव में संजय दत्त की पत्नी मान्यता दत्त की  कहानी है, जो एक आइटम गर्ल थीं। 
शिरीन बन रही विद्या बालन
मोहित सूरी की फिल्म हमारी अधूरी कहानी की कहानी रियल लाइफ चरित्रों की है।  महेश भट्ट की ज़िन्दगी पर 'हमारी अधूरी कहानी एक ऎसी औरत की कहानी है, जिसे कभी पत्नी का कानूनी दर्ज़ा नहीं मिल सका। महेश भट्ट के पिता नानाभाई भट्ट की अवैध पत्नी शिरीन की अधूरी कहानी में शिरीन का किरदार विद्या बालन कर रही हैं।  इमरान हाश्मी नानाभाई भट्ट के किरदार में हैं।   फिल्म,को महेश भट्ट ने लिखा है।
सुब्बु लक्ष्मी विद्या बालन
विद्या बालन एक बार फिर रील पर रियल लाइफ चेहरा लगाए नज़र आएंगी।  वह निर्देशक राजीव मेनन की लिखी कहानी पर एक फिल्म में भारत रत्न और कर्णाटक संगीत की गायिका स्वर्गीय एमएस सुब्बुलक्ष्मी का किरदार कर रही हैं। सुब्बु लक्ष्मी ने भी अपने करियर की शुरुआत बतौर फिल्म एक्ट्रेस की थी।
प्रियंका चोपड़ा की 'किरण'
संजयलीला भंसाली की ओमंग कुमार निर्देशित फिल्म 'मैरी कॉम' में ओलिंपिक गोल्ड विजेता महिला बॉक्सर के किरदार को सजीव करने के बाद प्रियंका चोपड़ा उत्साहित लगती है। वह इस समय एक फिल्म में मान्यता दत्त का किरदार कर रही हैं।  अगर सब कुछ ठीक रहा तो वह सोहम शाह की फिल्म में महिला आईपीएस और सोशल एक्टिविस्ट किरण बेदी का किरदार कर सकती है।  इस फिल्म के लिए प्रियंका चोपड़ा को १० करोड़ का प्रस्ताव किया गया है।
ममता कुलकर्णी के चोले  में सनी लियॉन 
फोटोग्राफर जयेश शेठ ने पिछले दिनों नब्बे के दशक की सनसनी ममता कुलकर्णी पर फिल्म बनाने की घोषणा की।  यह वही जयेश हैं, जिन्होंने ने एक फिल्म के मुख्य पृष्ठ के लिए ममता कुलकर्णी का टॉपलेस फोटो सेशन किया था।  इस टॉपलेस फोटो ने जयेश को बॉलीवुड में सुर्खरू कर दिया था। जयेश ने फिल्म की स्क्रिप्ट पूरी कर ली है। वह ममता के ऑन रील करैक्टर के लिए सनी लियॉन को लेना चाहते हैं।  'क्यूंकि', कहते हैं, 'जयेश शेठ, 'सनी लियॉन भी इनोसेंट फेस और सेंसुअस बॉडी वाली एक्ट्रेस है।'
अभी ऐसे बहुत से रील करैक्टर हो सकते हैं, जो रियल लाइफ चरित्रों से प्रेरित हों। अगर, करीना कपूर मोहित सूरी की फिल्म 'अज़हरुद्दीन' से पैर वापस न खींचती तो वह रील पर संगीता बिजलानी का किरदार कर रही होती।  कुछ साल पहले इंदिरा गांधी पर फिल्म में माधुरी दीक्षित को लिए जाने की बात शुरू हुई थी।  मधुबाला पर भी फिल्म प्लांड थी।  अगर यह फ़िल्में बनती तो कोई बॉलीवुड अभिनेत्री इन्हे परदे पर उतारती।  फिलहाल तो सब कागज़ पर भी नहीं हैं।
वरुण धवन
Ranbir Kapoor as Sanjay Dutt
"PK" director Rajkumar Hirani confirmed that he will make a biopic film on Sanjay Dutt, who was also featured in the former's latest blockbuster. It is said that when recently Dutt was out on parole, Hirani has talked about it to the actor. Ranbir Kapoor is the choice of the director for the lead role in the upcoming biopic.
Sushant Singh Rajput as MS Dhoni
Bollywood actor Sushant Singh Rajput has grabbed the opportunity to star as cricketer Mahendra Singh Dhoni. Neeraj Pandey of "A Wednesday" fame is reportedly helming the Indian captain's biography, for which the "PK" star has been chosen.

Considering the fact that Dhoni is the reigning captain of India and has a huge fan-following, "MS Dhoni - The Untold Story" is expected to pull crowds to the theatres in 2015.
Emraan Hashmi as Mohammed Azharuddin
Emraan Hashmi is touted to play the biopic of former Indian cricket captain Mohd Azharuddin. It is said that the film won't be entirely about the game, but it will mainly focus on the legend's life. There were reports that Kareena Kapoor Khan might portray the role of Sangeeta Bijlani, Mohd Azharuddin's second wife.
Randeep Hooda as Charles Sobhraj
Randeep Hooda will be seen in "Main Aur Charles". This film is based on the famous serial killer Charles Sohbraj who escaped from Tihar jail in 1986.
Apart from the above, there are reports that director-producer Karan Johar has decided to make a biopic film on late hockey legend Dhyan Chand.

एक्स-मेन में नया खून


हॉलीवुड फिल्म निर्देशक ब्रयान सिंगर पचास साल के हैं।  उनकी एक्स मेन सीरीज की फ़िल्में उन्हें फर्स्ट क्लास डायरेक्टर साबित करती हैं। अब तक एक्स- मेन सीरीज की सात फ़िल्में रिलीज़ हो चुकी है।  एक्स-मेन : अपोकलीप्स इस सीरीज की आंठवी फिल्म है, जो २०१६ में रिलीज़ होगी।  इस फिल्म का पहले नाम अपनी कॉमिक बुक 'ऐज ऑफ़ अपोकलीप्स' पर ऐज ऑफ़ अपोकलीप्स ही रखा गया था ।  परन्तु, दूसरी सुपर हीरो फिल्मों 'अवेंजर्स :ऐज ऑफ़ उल्ट्रान' और 'ट्रांसफार्मर्स: ऐज ऑफ़ एक्सटिंक्शन' से तुलना से बचने के लिए ब्रयान ने फिल्म का नाम 'एक्स-मेन :अपोकलीप्स' कर दिया ।  एक्स- मेन सीरीज की इस आठवी फिल्म में कहानी भूतकाल में जाती है।  यह कहानी १९८० के दशक के म्युटेंट के पैदा होने की  कहानी है।  अब तक की एक्स-मेन  फिल्मों के तमाम किरदार अपोकलीप्स में भी हैं।  लेकिन, यह सब जवान नज़र आएंगे।  हाल ही में फिल्म के तीन मुख्य चरित्रों स्टॉर्म, जीन ग्रे और साईक्लोप्स के लिए कलाकारों का चयन अंतिम रूप से कर लिया गया है। इन भूमिकाओं को अलेक्सांद्रा शिप, सोफी टर्नर और टये शेरिडन क्रमशः करेंगे।  एचबीओ की सीरीज गेम ऑफ़ थ्रोन में सांसा स्टार्क के किरदार से मशहूर सोफी टर्नर अभी १८ साल की ही हैं।  शिप २३ साल की हैं और शेरिडन १८ साल के हैं।  यह तिकड़ी पूर्व के एक्स-मेन  फिल्मों की हैली बेरी, फेमके जान्सेन और जेम्स मार्सडेन की जगह लेंगे। यह सभी एक्स-मेन  के नियमित किरदारों को करने वाले कलाकारों माइकल फॉस्बेंडर, जेनिफर लॉरेंस और जेम्स मकवॉय के साथ अपनी भूमिकाएं अदा करेंगे।  ब्रयान सिंगर 'अपोकलीप्स' की शूटिंग अप्रैल से मॉन्ट्रियल में शुरू करेंगे।  एक्स-मेन : अपोकलीप्स २७ मई २०१६ को रिलीज़ होगी। 

सपना पब्बी ने कहा - मैं मल्लिका शेरावत नहीं हूँ

इस शुक्रवार रिलीज़ होने जा रही निर्देशक करण दारा की अली फज़ल, गुरमीत चौधरी और सपना पब्बी की फिल्म 'खामोशियाँ' को मर्डर की तरह कामुक फिल्म बताया जा रहा है। मर्डर की तरह फिल्म 'खामोशियाँ' में भी सपना पब्बी के अली फज़ल और गुरमीत चौधरी के साथ अंतरंग दृश्य सुर्खियां पा रहे हैं। इन दृश्यों के बारे में काफी कुछ लिखा जा रहा है।  महेश भट्ट की पूरी कोशिश है कि 'खामोशियाँ' विशेष फिल्म्स के लिए दूसरी 'मर्डर' बन जाए। परन्तु, फिल्म की नायिका सपना पब्बी को खुद को दूसरी मल्लिका शेरावत कहा जाना नागवार गुजरता है।  एक वेब मैगज़ीन के कार्यालय में बात करते हुए सपना पब्बी ने अपनी प्रतिक्रिया कुछ इस प्रकार व्यक्त की, "रियली! मैं समझती हूँ कि वह बहुत बड़ी हैं। उनकी सफलता तरीफेकाबिल है। उनका अपना स्पेस है। उन्होंने बॉलीवुड और सोसाइटी में अपना एक स्थान बना लिया है। मैं  कहना चाहूंगी कि मैं मल्लिका शेरावत नहीं हूँ। मैं सपना पब्बी हूँ और मुझे उम्मीद है कि मैं हमेशा सपना पब्बी ही रहूंगी।" सपना पब्बी से फिल्म के बजाय टीवी के दर्शक परिचित हैं अनिल कपूर के सीरियल २४ से।  इस सीरियल में वह अनिल कपूर की बेटी की भूमिका में थी। वास्तविकता तो यह है कि सपना को करण दारा की फिल्म 'खामोशियाँ' भी इसी सीरियल के कारण ही मिली ।  करण ने बीमारी के कारण हॉस्पिटल में भर्ती रहने के दौरान सीरियल २४ देखा था।




अब 'पोगो' पर जीवंत होगी 'शोले'


बच्चों के चैनल 'पोगो' की लॉन्चिंग १ जनवरी २००४ को हुई थी।  यह चैनल केवल १० साल के छोटे समय में बच्चों का नंबर वन  चैनल बन गया है।  रमेश सिप्पी की कल्ट फिल्म 'शोले' १५ अगस्त १९७५ को रिलीज़ हुई थी। इस प्रकार से यह फिल्म भी इस साल अपनी रिलीज़ के चालीस साल पूरे कर लेगी।  इस फिल्म के जय, वीरू,  बसंती और ठाकुर के किरदार अपने समय में लोकप्रिय हुए ही, आज भी लोकप्रिय हैं  । ख़ास तौर पर गब्बर सिंह का डाकू किरदार बच्चो में बेहद लोकप्रिय था।  गब्बर की लोकप्रियता को देखते हुए ही एक खास बिस्कुट ब्रांड ने गब्बर सिंह के एनीमेशन से अपने बिस्कुट का प्रचार करवाया था। शायद, इस ही देखते हुए दस साल का 'पोगो' चैनल चालीस साल की 'शोले' को अपने चैनल पर एनीम चरित्रों के माध्यम से उतारने जा रहा है। 'शोले एडवेंचर्स' की खासियत यह होगी कि इसके जय और वीरू के किरदार आठ साल के बच्चे होंगे, जो गब्बर के बुरे इरादों को नाकाम करना चाहेंगे। ग्राफ़िक इंडिया के द्वारा बनाये गए एनिमेटेड किरदारों के ज़रिये कही गयी 'शोले एडवेंचर्स' की कहानी बिलकुल अलग किस्म की होगी, जो आजकल के बच्चों को पसंद आएगी। 'शोले एडवेंचर' अपनी थीम और एडवेंचर के कारण बच्चों के अभिभावकों को भी टीवी के सामने बैठा देगी।  इस फिल्म के एक्शन और नए गैजेट्स हर वर्ग को पसंद आने योग्य होंगे।  ख़ास बात यह भी होगी कि 'शोले एडवेंचर' की सेंट्रल थीम भी वही फिल्म 'शोले' वाली होगी यानि दोस्ती और समर्पण । 'शोले एडवेंचर्स' ठाकुर द्वारा चलाये जा रहे एक गुप्त संगठन  'एस एच ओ एल ए वाय' है।  जय और वीरू रामगढ के ठाकुर के लिए काम करते हैं।  इस टीवी संस्करण में नए करैक्टर भी होंगे, जो बाल, युवा और वृद्ध दर्शकों को आकर्षित करने वाले होंगे।   



अब 'सिंह' नहीं करेगा 'ब्लिंग' !

एक्शन जैक्सन की असफलता का खामियाजा, शायद प्रभु देवा को भुगतना पड़ रहा है। प्रभुदेवा, अक्षय कुमार के साथ फिल्म 'सिंह इज़ ब्लिंग' बनाने जा रहे थे।  इस फिल्म की रिलीज़ की तारिख भी तय कर दी गयी थी।  प्रभुदेवा फिल्म 'एनीबॉडी कैन डांस २' की शूटिंग में व्यस्त हो गए थे।  इस फिल्म में वह बतौर अभिनेता काम कर रहे हैं। अक्षय कुमार भी पहले नीरज पाण्डेय के साथ थ्रिलर 'बेबी' में व्यस्त थे।  इस फिल्म के वह प्रोडूसर भी हैं, इसलिए पोस्ट प्रोडक्शन में भी उन्हें जुड़ना था।  वह निर्माता संजयलीला भंसाली की फिल्म 'मैं गब्बर' के भी नायक हैं।  इस फिल्म की शूटिंग को भी प्राथमिकता देनी थी। 'मैं गब्बर' १ मई को रिलीज़ होनी है। इधर प्रभुदेवा निर्देशित अजय देवगन और सोनाक्षी सिन्हा की फिल्म 'एक्शन जैक्सन' पिछले साल ५ दिसंबर को रिलीज़ हुई।  अच्छी ओपनिंग के बावजूद प्रभुदेवा की एक्शन कॉमेडी दर्शकों को प्रभावित  नहीं कर सकी।  इधर, अक्षय कुमार ने 'बेबी' और 'मैं गब्बर' से फुर्सत पाकर प्रभुदेवा को शिराज अहमद की स्क्रिप्ट सुनने को बुलाया।  'सिंह इज़ ब्लिंग' की स्क्रिप्ट सुनने के बाद अक्षय कुमार को लगा कि सुपर हिट 'सिंह इज़ किंग' की फ्रैंचाइज़ी फिल्म 'सिंह इज़ ब्लिंग' की स्क्रिप्ट में अभी काफी खामियां हैं।  इसलिए, यह तय पाया गया कि स्क्रिप्ट को फिर से तराशा जाये।  'सिंह इज़ ब्लिंग' की शूटिंग अगले महीने या मार्च से शुरू होनी थी।  अब चूंकि फिल्म की स्क्रिप्ट में सुधार की ज़रुरत थी, इसलिए फिल्म की शूटिंग अगले महीने शुरू होना तो संभव ही नहीं था।  'इसलिए', फिल्म से जुड़े सूत्र ने कहा, 'फिल्म की शूटिंग अनिश्चितकाल के लिए टाल दी गयी है।' ऐसे में अक्षय कुमार की 'सिंह इज़  ब्लिंग' को अलॉट तारीखों का क्या होगा ? इस समय अक्षय कुमार के पास करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शंस की करण मल्होत्रा  निर्देशित फिल्म 'ब्रदर्स ' महत्वपूर्ण है।  वह अपनी पूरी तारीखें 'ब्रदर्स' को अलॉट कर सकते हैं।  हो सकता है कि तारीखों की उपलब्धता की दशा में टी सीरीज की राजा कृष्ण मेनन की फिल्म 'एयरलिफ्ट' की शूटिंग भी शुरू हो जाये।  'एयरलिफ्ट' खाड़ी युद्ध के दौरान कुवैत में फंसे भारतीयों की दास्तान है। फिल्म में अक्षय कुमार अपनी अब तक की बिलकुल अलग भूमिका कर रहे हैं।  

रोमांटिक म्यूजिकल थ्रिलर है 'इश्क़ जूनून'

शांतकेतन एंटरटेनमेंटस की फिल्म 'इश्क़ जूनून' एक रोमांटिक थ्रिलर फिल्म है।  इसीलिए फिल्म के टाइटल के साथ 'पैशन ऑफ़ लव' भी जोड़ा गया है।  डायरेक्टर संजय शर्मा की फिल्म 'इश्क़ जूनून- पैशन ऑफ़ लव' की खासियत है उसका संगीत।  निर्माता अनुज शर्मा इसे म्यूजिकल रोमांटिक थ्रिलर फिल्म बताते हैं।  इसी के अनुरूप फिल्म में गीतों का ख़ास ख्याल रखा गया है।  सोनू निगम, अंकित तिवारी, जीत गांगुली और अंजन भट्टाचार्य ने फिल्म के संगीत की रचना की है। पिछले दिनों, इस फिल्म के अंकित तिवारी के कंपोज़ और गाये गीत की रिकॉर्डिंग मुंबई के गोरेगांव में कृष्णा ऑडियो स्टूडियो में हुई। अभी फिल्म के कलाकारों का चयन नहीं हुआ है।  इस बारे में निर्माता अनुज शर्मा बताते हैं, "अपने प्रोडक्शन हाउस के तीस साल बाद मैं एक फ्रेश रोमांस फिल्म बनाने जा रहा हूँ, जिसमे संगीत ख़ास होगा।  फिल्म के लिए नए कलाकारों का चुनाव किया जायेगा।  मुझे उम्मीद है कि दर्शकों को एक यादगार फिल्म देखने को मिलेगी।" फिल्म 'इश्क़ जूनून' की शूटिंग फरवरी के अंत में दिल्ली तथा देश की अन्य लोकेशन में शुरू होगी।"

Monday, 26 January 2015

दर्शकों को थ्रिलिंग मज़ा देगा अक्षय कुमार का 'बेबी'


अक्षय कुमार ने 'बेबी' फिल्म की रिलीज़ से पहले ही कह दिया था कि यह फिल्म पाकिस्तान के विरुद्ध नहीं है।  इसके बावजूद 'पीके' को हाथों हाथ लेने वाले पाकिस्तान ने 'बेबी' को अपने देश में रिलीज़ नहीं होने दिया।  'बेबी' में पाकिस्तान का नाम नहीं लिया गया है।  लेकिन, सन्देश साफ़ है।  सीमा पार से बड़े आतंकवादी संगठन भारत पर निगाहें गड़ाए हुए हैं। भारत के शासक ज़ुबानी जमा खर्च करने के अलावा कुछ नहीं कर रहे।  ऐसे में, जबकि फिल्म में हफ़ीज़ सईद की दाढ़ी वाला आतंकवादी 'बेबी' में दिखाया गया है, पाकिस्तान फिल्म को कैसे  होने दे सकता था। अक्षय कुमार की गणतंत्र दिवस वीकेंड में रिलीज़ हुई फिल्म 'बेबी' एक अच्छी देशभक्तिपूर्ण थ्रिलर फिल्म है।  अजय सिंह राजपूत और उसकी टीम बेबी विदेश में भारत पर घात लगा कर बैठे आतंकवादियों का सफाया करती रहती है।  वह इन आतंकियों को विदेश में घुस कर मारने में कोताही नहीं बरतती।  फिल्म इस मायने में बड़ी अच्छी है कि यह फिल्म अंडरकवर एजेंट की स्थिति, राज नेताओं का दोगलापन और मंत्रालयों के स्टाफ में शहीदों के प्रति अवमानना दर्शाती है। नीरज पाण्डेय ने अपनी थ्रिलर फिल्म का एक एक फ्रेम बहुत खूब लिखा और फिल्माया है।  'बेबी' १५९ मिनट लम्बी है, लेकिन एक सेकंड को भी भटकती नहीं।  दर्शकों में अगले फ्रेम  को देखने की उत्सुकता बनी रहती है। फिल्म की शूटिंग काठमांडो, अबु धाबी और इस्तांबुल में होने के कारण फिल्म में वास्तविकता बनी रहती है। मुंबई में एक आतंकवादीयों  के मददगार और मुसलमानों के नेता को उसके मोहल्ले में घेरने वाला दृश्य थ्रिल पैदा करता है।  नीरज पाण्डेय ने अक्षय कुमार  के करैक्टर के ज़रिये फिल्म को विवादित होने से बचा लिया है।  मौलाना रशीद रहमान की अपने समर्थकों के सामने तकरीर का दृश्य भी बढ़िया बना है।  रहमान को अबु धाबी से भारत लाने का सीक्वेंस रोमांचक है। गृह मंत्री के पीए के मुंह पर अक्षय का तमाचा तालियां बटोर ले जाता है।
Embedded image permalink
'बेबी' नीरज पाण्डेय और अक्षय कुमार की जोड़ी की है।  नीरज पाण्डेय ने अक्षय कुमार के चरित्र को ख़ास तरजीह दी है। अक्षय कुमार कहीं से भी बॉलीवुड  के सुपर स्टार नहीं लगते।  जहाँ अन्य बॉलीवुड सितारों की फ़िल्में उनकी मैंनेरिस्म पर भरोसा करती हैं, अक्षय कुमार की फ़िल्में उनके चरित्र पर भरोसा करती हैं।  स्पेशल २६ और अब बेबी में अक्षय कुमार यह साबित करते हैं कि अगर कंटेंट चाहिए तो अक्षय  कुमार की फिल्म देखों।  बेबी में अक्षय कुमार के अलावा डैनी डैंग्जोप्पा का फ़िरोज़ अली खान का चरित्र लेखक की चतुराई दर्शाने वाला है।  इस चरित्र के कारण ही नीरज पाण्डेय को मुसलमानों को पाक साफ़ बताने के लिए नाहक भाषणबाज़ी नहीं करनी पड़ी ? डैनी ने फ़िरोज़ के करैक्टर को सहजता से किया है।  फिल्म में अनुपम खेर कुछ ख़ास करते नज़र नहीं आते।  फिल्म में राणा डग्गुबाती और तापसी पन्नू के चरित्र साउथ की ऑडियंस को आकर्षित करने के लिए क्रिएट किये गए लगते हैं। पाकिस्तान के मिकाल ज़ुल्फ़िकार और रशीद नाज़ अपने अपने करैक्टर के साथ न्याय करते हैं। मधुरिमा तुली के लिए बेबी एक मौका थी, जिसे उन्होंने जाने नहीं दिया।  केके मेनन और सुशांत सिंह कुछ ख़ास नहीं।

फिल्म में नाच गीत नहीं रख  कर,रफ़्तार को रुकने नहीं दिया गया है। सुदीप चटर्जी का कैमरा लॉन्ग शॉट और क्लोज अप शॉट के ज़रिये दृश्यों पर पकड़ बनाये रखता है। श्री नारायण सिंह की कैंची का कमाल ही है कि १५९ मिनट की फिल्म भी पकड़ बनाये रखती है।  विक्की सिडाना ने चरित्रों के अनुरूप कलाकारों को चुना है।  विज़ुअल इफेक्ट्स और साउंड इफेक्ट्स का इस फिल्म में ख़ास महत्त्व था।  इस लिए इस डिपार्टमेंट की पूरी टीम बधाई के काबिल है। स्टंट्स में अब्बास अली मुग़ल का ह्यूगो बरिल्लेर और सायरिल रफ्फैल्ली ने बढ़िया साथ दिया है।
तो गणतंत्र दिवस है.… झंडा फहराईये और फिर निकल जाइये निकट के सिनेमाघर में बेबी देखने।
 
 

Saturday, 24 January 2015

उड़ जायेगा आयुष्मान खुराना !



फिल्म हवाईजादे के गीत 'उड़ जायेगा' का वीडियो। इस गीत में सुखविंदर और रणदीप भास्कर की आवाज़ है। संगीतकार संजय धाकड हैं। 

'और देवदास' सुधीर मिश्रा के लिए पार्टी का राहुल भट्ट का 'फितूर'

लोकप्रिय टीवी सीरियल 'हिना ' के समीर यानि राहुल भट को सीरियल के दौरान ही उमेश मिश्रा की फिल्म 'यह मोहब्बत है' मिल गयी थी। फिल्म फ्लॉप रही।  दूसरी कॉमेडी फिल्म 'नयी पड़ोसन' के चलने का फायदा राहुल को नहीं मिल सका।  नई पड़ोसन २००३ में रिलीज़ हुई थी।  इसके बाद राहुल भट एकदम बेकार हो गए।  वह दस साल बेकार बैठे रहे। फिर अनुराग कश्यप ने उन्हें लेकर थ्रिलर 'अग्ली' बनाई।  २०१३ में पूरी हो जाने के बावजूद यह फिल्म लम्बे समय तक रिलीज़ ही नहीं हो सकी। 'अग्ली' २०१४ के अंत में रिलीज़ हुई।  राहुल के काम की प्रशंसा भी हुई।  तब तक, राहुल भट  की निकल पड़ी थी । उन्हें सुधीर मिश्रा की 'और देवदास' मिल गयी।  यह फिल्म शरतचन्द्र चटर्जी के उपन्यास 'देवदास' का आधुनिक राजनीतिक संस्करण है।  राहुल भट नेता देवदास की भूमिका कर रहे हैं। उनके पास अभिषेक कपूर उर्फ़ 'काई पो चे' गट्टू की फिल्म 'फितूर' भी है।  यह फिल्म भी राजनीतिक पृष्ठभूमि पर है।  कश्मीर की पृष्ठभूमि पर 'फितूर' में राहुल भट पाकिस्तान की महरूम प्रधानमंत्री बेनज़ीर भुट्टो के बेटे बिलवाल भुट्टो का किरदार कर रहे हैं। इस फिल्म में वह कटरीना कैफ के अपोजिट हैं। इससे साफ़ है कि उनके दिन बहुर रहे हैं।  उन्हें सशक्त भूमिकाएं मिलने लगी हैं। ऐसे में उनका शानदार जश्न मनाना स्वाभाविक था।  उन्होंने सुधीर मिश्रा को शानदार पार्टी देकर यह जश्न मनाया।  आखिर वह राहुल को नेता देवदास बनाने वाले फिल्मकार जो हैं ! 

अब बिग बी की आवाज़ में राष्ट्र गान

इस गणतंत्र दिवस को ख़ास बनाने के लिए 'षमिताभ' की टीम कुछ ख़ास कर रही हैं।  कविवर रवीन्द्रनाथ टैगोर की रचना जन गण मन को अमिताभ बच्चन ने अपनी आवाज़ दी हैं। इस राष्ट्रगान का फिल्मांकन भी बिग बी पर टैगोर के कलकत्ता स्थित घर पर किया जायेगा। यह वीडियो कविवर को फिल्म की यूनिट की तरफ से श्रद्धांजलि है ही, इसका उपयोग फिल्म 'षमिताभ' के प्रचार में भी क्या जायेगा। इरादा राष्ट्रगान जन गण मन की जानकारी देश और दुनिया को देना भी है।  'षमिताभ' के निर्देशक आर बाल्की कहते हैं, "यह काफी आश्चर्य की बात है कि अब तक राष्ट्रगान को रवीन्द्रनाथ टैगोर के घर क्यूँ नहीं फिल्माया गया ! अमिताभ बच्चन की आवाज में यह गान भारतीय सिनेमा का राष्ट्रीय गान के भक्ति भाव होगा।" राष्ट्रीयगान को अपनी आवाज़ देने के बारे में अमिताभ बच्चन ने कहा" मेरे लिए बड़ी गर्व की बात है कि राष्ट्रीय गान को मेने अपनी आवाज दी है।  इस गीत को गाते समय में  भावनाओ बह गया था। देश भक्ति में डूबी मेरी आँखों में आंसू में उतर आये थे।"  

Friday, 23 January 2015

दिल्ली में लांच हुआ जय जवान जय किसान का म्यूजिक (फोटो)

Displaying Jatin Khurana, Akhilesh Jain , Madanlal Khurana and Aman trikha.JPGDisplaying JATIN KHURANA, AKHILESH JAIN AND AMAN TRIKHA.JPGDisplaying AMAN TRIKHA.JPGDisplaying AMAN TRIKHA, AKHILESH JAIN AND JATIN KHURANA.JPGDisplaying JATIN KHURANA (2).JPGDisplaying JATIN KHURANA, AKHILESH JAIN AND AMAN TRIKHA.JPGDisplaying AKHILESH JAIN.JPG

हिन्दू मुस्लिम एकता पर फिल्म है 'इंटरनेशनल हीरो'

इंटरनेशनल हीरो एक छोटे बजट की एक फिल्म है। इस मे कोई नामचीन एक्टर नहीं है।  लेकिन, फिल्म का विषय हिन्दू मुस्लिम एकता पर मज़बूत और समसामयिक सन्देश देने वाला है।  फिल्म के निर्माता  संजय निरंजन को अपनी फिल्म पर भरोसा है।  उन्हें विश्वास है कि यह फिल्म किसी भी बड़ी फिल्म से ज्यादा अच्छा बिज़नेस करेगी। इंटरनेशनल हीरो में चक दे! इंडिया और अब तक छप्पन जैसी फिल्म में सशक्त भूमिका करने वाले अभिनेता नकुल वैद मुख्य भूमिका में हैं।  फिल्म में उनकी नायिका गुरलीन चोपड़ा हैं, जिन्होंने अपने करियर की शुरुआत हिंदी फिल्म इंडियन बाबू से की।  कुछ तो गड़बड़ है और भागमभाग जैसी फिल्मों के बावजूद गुरलीन का बॉलीवुड में करियर गड़बड़ ही रहा।  इस समय वह तमिल और पंजाबी फिल्मों में व्यस्त हैं। वह कोई नौ साल बाद किसी हिंदी फिल्म में फिर नज़र आएंगी। इन दोनों के अलावा, इंटरनेशनल हीरो में जतिन ग्रेवाल, कादर खान, शगुफ्ता अली, शाहबाज़ खान, शिवा, पुनीत इस्सर आदि भी ख़ास भूमिका में हैं।  इंटरनेशनल हीरो के लेखक, निर्माता और निर्देशक संजय निरंजन ही हैं। यह फिल्म अगले सप्ताह समस्त भारत में प्रदर्शित हो रही है। 


कर्णप्रिय संगीत के चार शानदार दशक

शेमारू एंटरटेनमेंट के बॉक्स सेट 'द ग्लोरियस डिकेडस' अपने टाइटल की तरह शानदार है।  बारह डीवीडी के इस सेट में पचास के दशक से अस्सी के दशक तक के संगीत के मौलिक गीतों के वीडियो को शामिल किया गया है।  प्रत्येक दशक के १०१ गीत ३-३ डीवीडी के सेट में शामिल है।  इस प्रकार से दर्शकों को १९५०, १९६०, १९७० और १९८० के दशक के लोकप्रिय और कर्णप्रिय १०१ गीतों के वीडियो के ज़रिये देखने-सुनने का मौका मिलेगा। इस प्रकार संगीत प्रेमी १२ डीवीडी में ४०४ मधुर गीतों का आनंद ले सकेंगे। 
हिंदी फिल्मों के संगीत में १९५० का दशक स्वर्ण काल माना जाता है। इस दशक में विभिन्न संगीतकारों ने फिल्म संगीत में नए नए प्रयोग किये।  नौशाद और शंकर-जयकिशन ने 'ऑर्केस्ट्रा' का इस्तेमाल करना शुरू किया।  एस डी बर्मन और सलिल चौधरी लोक धुनों का थोड़े पाश्चात्य लय में मिश्रण कर संगीत बना रहे थे। मदन मोहन और ओ पी नय्यर ने इन सबसे हट कर अपनी पहचान बनाई। इस दौर में लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी और मुकेश शीर्ष पर थे।
साठ का दशक रोमांस का दशक था।  मीठा रोमांस भरा संगीत दर्शकों को लुभा रहा था। इस दशक में आशा भोंसले को ओ पी नय्यर का संरक्षण मिला।  वह बहन लता मंगेशकर के साथ बॉलीवुड फिल्मों के गीतों की मुख्य पार्श्व गायिका बन गयी। किशोर कुमार भी अभिनय को किनारे कर, गायिकी में रम रहे थे। 
सचिन दा के बेटे राहुल देव बर्मन ने सत्तर के दशक के हिंदी फिल्म संगीत की दिशा ही बदल दी। सस्पेंस और रोमांस से भरपूर हिंदी फिल्मों के निर्माताओं के वह पसंदीदा संगीतकार थे।  नय्यर के बाद आरडी बर्मन उर्फ़ पंचम ने आशा भोंसले की आवाज़ का बढ़िया उपयोग किया। कहा जा सकता है कि  पंचम ने भारतीय संगीत  को देखने वाली दृष्टि ही बदल दी।  इसी दौर में, लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल की जोड़ी भारत की मिटटी में रची बसी धुनों को लोकप्रिय बना रहे थे।
अस्सी के दशक को बिजली सी चमक और धमक वाले संगीत का दशक कहा जाता है। यह वह समय था जब सनी देओल, कुमार गौरव,  संजय दत्त, आदि सितारा पुत्रों ने बॉलीवुड फिल्मों के सिंहासन पर कब्ज़ा ज़माने की कोशिश की। मिथुन चक्रवर्ती के आने पर बप्पी लाहिरी का डिस्को युवाओं में क्रेज बन गया।  बप्पी लाहिरी ने  लोकप्रियता का लाभ उठाते हुए कीर्तिमान संख्या में फिल्मों में संगीत दिया।  इस दौर में उन्हें आरडी बर्मन और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल के समकक्ष रखा गया।
इस सेट के तमाम गीत देखते सुनते समय श्रोता संगीत का फर्क समझ सकेंगे।  इसमे कोई शक नहीं कि इन चारों दशकों का संगीत लुभाने, झुमाने और चकाचौंध करने वाला था।  इस डीवीडी सेट के हर दशक के सेट को अलग अलग भी खरीदा जा सकता है। 



दिल्ली और मुंबई में सरकारी बाबुओं और नेताओं ने भी देखी 'बेबी' (फोटो)

Displaying Akshay Kumar-Pratibha Advani-Shri LK Advani-Anupam Kher-Manohar Parrikar.PNGDisplaying Anupam Kher-Bhushan Kumar-Neeraj Pandey-Akshay Kumar.JPGDisplaying Shital Bhatia-Bhushan Kumar-Akshay Kumar-Himanshu Roy-Rakesh Maria (1).jpgDisplaying Shital Bhatia-Bhushan Kumar-Akshay Kumar-Himanshu Roy-Rakesh Maria.jpgDisplaying Bhushan Kumar-Akshay Kumar-Himanshu Roy-Rakesh Maria.jpg   

Thursday, 22 January 2015

पब्लिक टॉयलेट में चेंज करना पड़ा आयुष्मान को

अपनी अपकमिंग फिल्म हवाईजादा में आयुष्मान खुराना एक ऐसे साइंटिस्ट का किरदार निभा रहें हैं, जिन्होंने राइट ब्रदर्स से पहले ही एयरक्राफ्ट की रचना कर दी थी। इस फिल्म की शूटिंग वेस्ट बंगाल, बिहार और गुजरात के रिमोट एरिया में की गई है । रिमोट एरिया में शूटिंग करना हमेशा से चुनौतीपूर्ण रहा है। इस दौरान एक्टर्स को कई बार अपने कंफर्टजोन से निकलना पड़ता है। हाल ही में हवाईजादा की शूटिंग के दौरान आयुष्मान खुराना को भी इसी प्रॉब्लम से गुजरना पड़ा। आयुष्मान को शूटिंग के लिए अपनी कॉस्ट्यूम एक पब्लिक और काम चलाऊ टॉयलेट में जाकर बदलना पड़ा, क्योंकि उस एरिया में वेनिटी वैन लेकर जाना नामुमकिन था। प्रॉडक्शन टीम भी यह मानती है कि आयुष्मान बेहद सपोर्टिव एक्टर हैं। उन्होंने शॉट के लिए तुरंत पब्लिक टॉयलेट में जाकर बिना किसी कंपलेन के ड्रेस चेंज कर लिया। फिल्म के डायरेक्टर विभु पुरी इस सिचुएशन से काफी शर्मिंदा थे, वे कहते हैं, "मुझे काफी बुरा लग रहा है कि आयुष्मान को पब्लिक एरिया के टॉयलेट में जाना पड़ा। वे काफी सपोर्टिव और प्रफेशनल हैं, उन्हें सिर्फ शॉट बेहतर हो इसी से मतलब होता था।"