Wednesday, 31 August 2016

क्या सोनाक्षी सिन्हा को एक्शन हीरोइन ?

सोनाक्षी सिन्हा की शीर्षक भूमिका वाली फिल्म अकीरा कहानी है, कॉलेज की एक लड़की की, जो अनायास ही चार भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों के अपराध में शामिल हो जाती है । अब अकीरा को खुद को निर्दोष साबित करना ही है, दोषियों को दंड भी दिलाना है । अकीरा इसके लिए कमर कस लेती है । इसके साथ ही शुरुआत होती है खतरनाक टकराव की, जिसमे जीवित रहना सबसे ज्यादा मुश्किल है । अकीरा, दक्षिण के उस निर्देशक ए आर मुरुगाडोस की फिल्म है, जिन्होंने आमिर खान और अक्षय कुमार को अपनी धुंआधार एक्शन फिल्मों गजिनी और हॉलिडे के ज़रिये एक्शन हीरो की तरह स्थापित कर दिया था । बॉलीवुड के इन सुपर हीरो के बाद मुरुगाडोस हिंदी फिल्मों की शोख अदाकारा सोनाक्षी सिन्हा के साथ हैं । सोनाक्षी सिन्हा को अब तक रोमांस फिल्मों में ही देखा गया है । क्या मुरुगदोस सोनाक्षी को बॉलीवुड की पहली एक्शन नायिका बना सकेंगे ?
एक्शन फिल्मों की रोमांस और सेक्स की दवा
एक्शन की बात की जाए तो बॉलीवुड के तमाम नायकों की तरह नायिका भी एक्शन में हाथ आजमा चुकी है । रोमांस फिल्मों के दौर में आशा पारेख और साधना जैसी हसीनाएं भी थोड़े हाथ पैर चला ले जाती थी । लेकिन, इस से उन पर एक्शन हीरोइन का  ठप्पा नहीं लगता था । एक्शन हीरोइन का ठप्पा तो उन फिल्मों में काम करने के बाद भी नहीं लगता था, जिनका हीरो एक्शन हीरो कहलाता था । अगर ऐसा होता तो गजिनी की असिन को कब का एक्शन हीरोइन का खिताब दे दिया जाता । हॉलिडे की सोनाक्षी सिन्हा को अकीर का इंतज़ार न करना पड़ता । वास्तविकता तो यह है कि धुंआधार एक्शन फिल्मों की नायिकाएं फिल्म में एक्शन के तनाव को कम करने के लिए दर्शकों के लिए सेक्स और रोमांस की दवा की तरह रखी जाती हैं ।
दस की एक्शन क्वीन शिल्पा शेट्टी !
क्या शिल्पा शेट्टी को आज की हिंदी फिल्मों में नायिका के एक्शन शुरू करने वाली अभिनेत्री कहा जा सकता है ?  अनुभव सिन्हा की फिल्म दस की कहानी आतंकवाद पर केन्द्रित थी । शिल्पा शेट्टी फिल्म में संजय दत्त, अभिषेक बच्चन और जायद खान के साथ भारत के काल्पनिक एंटी टेररिस्ट सेल की सदस्य बनी थी । इस फिल्म में शिल्पा ने जीन्स पहनी थी और एक इमारत की बुर्ज से लटक कर एक्शन किया था । इससे हिंदी फिल्मों की आधुनिका नायिका के एक्शन हीरोइन भी होने का पता चलता था । इसके बाद प्रियंका चोपड़ा ने द लीजेंड ऑफ़ द्रोण में सिख हथियार गटका तक चलाया तथा दूसरे एक्शन किये । इस फिल्म के लिए उन्होंने गटका चलाना सीखा । शरीर को संतुलित बनाया । कोमलांगी दीपिका पादुकोण भी चांदनी चौक टू चाइना में चीनी मार्शल आर्ट्स कर रही थी । करीना कपूर ने साइज़ जीरो बनाने के बावजूद फिल्म टशन में एक्शन के थोड़े बहुत हाथ दिखाए थे । लेकिन, इन सब कलाबाजियों के बावजूद यह अभिनेत्रियां बॉलीवुड की एक्शन हीरोइन का खिताब हासिल नहीं कर सकी ।
कृष ३ की काया कंगना रानौत
बावजूद इसके कि हिंदी फिल्मों की उपरोक्त अभिनेत्रियों को एक्शन क्वीन नहीं समझा गया, हीरोइन के एक्शन करने का दौर चलता रहा । कंगना रानौत ने हृथिक रोशन के साथ फिल्म कृष ३ में विलेन काल की दाहिना हाथ काया की भूमिका की थी । यह भूमिका काफी कुछ हॉलीवुड फिल्म एक्स-मेन सीरीज की फिल्मों की म्युटेंट किरदार मिस्टिक जैसा था । लेकिन, कृष ३ के बाद भी कंगना रानौत को जेनिफ़र लॉरेंस की तरह एक्शन हीरोइन का खिताब नहीं मिला । कंगना रानौत तनु वेड्स मनु सीरीज की फिल्मों की तनु से ज्यादा ख्यात हुई । इसी दौरान कटरीना कैफ एक था टाइगर, धूम ३ और फैंटम जैसी फिल्मों में एक्शन कर रही थी । करीना कपूर ने सैफ अली खान के साथ फिल्म एजेंट विनोद में थोड़े बहुत हाथ पैर चलाये । ऐश्वर्या राय धूम २ में एक्शन की कलाबाज़ी दिखा रही थी तो जोधा अकबर में तलवार भंज रही थी । दीपिका पादुकोण ने भी बाजीराव मस्तानी में तलवार चलाई और भारी कवच और जिरह बख्तर पहने । जैक्विलिन फ़र्नान्डिस रेस २ में और तापसी पन्नू फिल्म बेबी में एक्शन की कलाबाजियां खा रही थी । एमी जैक्सन ने तो फिल्म सिंह इज ब्लिंग में अपने एक्शन से अक्षय कुमार को डोमिनेट कर लिया।  दीपिका पादुकोण हॉलीवुड की एक्शन फिल्म एक्सएक्सएक्स: रिटर्न ऑफ़ जेंडर केज और प्रियंका चोपड़ा  फिल्म बेवॉच में एक्शन भूमिकाएं कर रही हैं। इसके बावजूद इन अभिनेत्रियों को बॉलीवुड की एक्शन हीरोइन नहीं कहा जा सकता । क्यों नहीं कोई दीपिका या प्रियंका कहलाती बॉलीवुड की एक्शन क्वीन ?
कौन है बॉलीवुड की एंजेलिना जोली
हॉलीवुड की एंजेलिना जोली का नाम लेते ही लारा क्राफ्ट का किरदार याद आ जाता है । लारा क्राफ्ट को समय से मुकाबला करते हुए खलनायक के चंगुल से पुरानी कलाकृतियों को बचाना है । यह पूरी सीरीज एंजेलिना जोली के किरदार के इर्द गिर्द घूमती थी । एंजेलिना जोली सही मायनों में एक्शन हीरोइन साबित होती थी । एंजेलिना के बाद कुछ दूसरी अभिनेत्रियों ने भी एक्शन फिल्मो में अपनी पहचान बनाई । हंगर गेम्स सीरीज की फिल्मों की जेनिफ़र लॉरेंस का नाम ख़ास उल्लेखनीय है ।  इस लिहाज़ से बॉलीवुड की कोई भी अभिनेत्री एंजेलिना जोली और जेनिफ़र लॉरेंस के खांचे में फिट नहीं बैठती । यहाँ तक कि मर्दानी की रानी मुख़र्जी और मैरी कोम की प्रियंका चोपड़ा भी इस के आसपास तक नहीं । बॉलीवुड की तमाम अभिनेत्रियों ने एक्शन के नाम पर सिर्फ खानापूरी ही की। 
सोनाक्षी सिन्हा एक्शन क्वीन क्यों ?
भारत मे, ख़ास तौर पर बॉलीवुड में कोई एक्शन हीरोइन पैदा क्यों नहीं होती ? हालाँकि, दक्षिण की अनुष्का शेट्टी और हंसिका मोटवानी ने अपनी फिल्मों में धुंआधार एक्शन किये हैं । लेकिन, यहाँ की ज़्यादातर नायिकाएं सेक्स बम ही बनी हुई हैं । दरअसल, हमारे देश में नायिका प्रधान एक्शन फ़िल्में बनाने का सिलसिला शुरू नहीं हो सका है । फूल बने अंगारे और खून भरी मांग की रेखा, अंजाम और गुलाब गैंग की माधुरी दीक्षित, ज़ख़्मी शेर की डिंपल कपाडिया ने अपनी बाजुओं की ताकत दिखाने की कोशिश की । लेकिन, फिल्म निर्माताओं को उन पर विश्वास नहीं जमा । इस लिहाज़ से सोनाक्षी सिन्हा की अकीरा ख़ास इस लिए है कि इसे एक्शन फिल्मों के उस्ताद मुरुगदोस बना रहे हैं । यह फिल्म दक्षिण की जिस हिट एक्शन फिल्म मौन गारू की रीमेक है, वह नायक प्रधान फिल्म थी । सोनाक्षी सिन्हा इस नायक के जूते में पैर डाले हैं । ऐसे में सोनाक्षी सिन्हा अपने डीलडौल और एक्शन में महारत के ज़रिये दर्शकों को बतौर एक्शन नायिका प्रभावित कर सकती हैं । उन्हें एक्शन नायिका का खिताब देने का दूसरा कारण यह है कि वह अभिनय देव निर्देशित फिल्म फ़ोर्स २ में जॉन अब्राहम के साथ रॉ एजेंट का एक्शन से भरपूर किरदार कर रही हैं ।
नायिका के एक्शन करने का सिलसिला ख़त्म होने नहीं जा रहा । अभी कैंसर से उबरी लिसा रे फिल्म इश्क फॉरएवर में एक्शन कर रही थी । भारतीय अमेरिकन फिल्म डायरेक्टर परम गिल की फिल्म वारियर सावित्री आधुनिक सावित्री की दास्तान है, जो अपने सत्यवान को बचाने के लिए खून खराबा करने में नहीं चूकती । इस फिल्म की आधुनिक सावित्री निहारिका रायजादा हैं । मसान, अलोन और बेबी जैसी फिल्मों में छोटी भूमिका कर चुकी निहारिका के बतौर नायिका पहली फिल्म है । इसलिए, वह ज़रूर चाहेंगी कि उनकी एक्शन नायिका सावित्री सफल हो और वह बतौर एक्शन हीरोइन बॉलीवुड में स्थापित हो सकें । क्या सोनाक्षी सिन्हा और निहारिका रायजादा इस नायिका को स्थापित कर पाएंगी ? 

सांस लेना मना है इस घर में

अमेरिकी फिल्म समीक्षकों द्वारा श्रेष्ठ हॉरर फिल्मों में शुमार की जा रही निर्देशक फेड अल्वारेज़ की फिल्म 'डोंट ब्रीद' कहानी है दोस्तों के एक ग्रुप की, जो एक अंधे धनी व्यक्ति के घर यह सोच कर घुस जाते हैं कि वह आराम से बड़ी डकैती डाल लेंगे. लेकिन, वास्तव में वह गलत थे. क्यों!
इस फिल्म में स्टेफेन लैंग ने अंधे धनी का किरदार किया है. डोंट ब्रीद अमेरिका में २६ अगस्त को रिलीज़ हो चुकी है. ८८ मिनट लम्बी इस फिल्म के निर्माण में १० मिलियन डॉलर से कम खर्च हुए थे. लेकिन, यह फिल्म अब तक ३०.८ मिलियन डॉलर का कलेक्शन कर चुकी है. भारत में यह फिल्म इस शुक्रवार २ सितम्बर को रिलीज़ हो रही है. फिल्म का रीढ़ कंपा देने वाला ट्रेलर-

ट्रक ड्राइवर से डिटेक्टिव बनेंगे एंड्रू स्कोट

टीवी सीरीज शर्लाक और बांड फिल्म स्पेक्टर के विलेन एंड्रू स्कोट क्राइम थ्रिलर फिल्म स्टील कंट्री में मुख्य भूमिका कर रहे हैं।  बैंकसाइड फिल्म्स की पेंनसिल्वानिया की पृष्ठभूमि पर इस फिल्म का निर्देशन साइमन फेलोज कर रहे हैं।  ब्रेंडन हिगिंस की लिखी इस फिल्म में एंड्रू एक ट्रक ड्राइवर डोनाल्ड का किरदार कर रहे हैं, जो एक यवक की रहस्यमय मौत से पर्दा उठाने के लिए डिटेक्टिव का काम करने लगता हैं। इस जांच पड़ताल से पता चलता है कि उस युवक का क़त्ल किया गया था।  इस पर्दाफाश के बाद उसे भयानक घटनाओं से दोचार होना पड़ता है। साइमन फेलोज ने इस फिल्म से पहले मलिस इन वंडरलैंड का निर्देशन किया था। टीवी सीरीज शर्लाक के लिए बाफ्टा अवार्ड जीत चुके एंड्रू स्कोट के साथ इस फिल्म में टीवी क्राइम सीरीज द फॉल की एक्ट्रेस ब्रोना वॉघ और हाल ही में ओलिवियर बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड जीत चुकी अभिनेत्री डेनिस गफ भी है।  इस फिल्म की शूटिंग जॉर्जिया में २६ अगस्त से शुरू हो गई है।  एंड्रू स्कोट की आगामी फिल्मों में  रेचल वेष, टॉम विल्किंसन और टिमोथी स्पैल के साथ डेनियल, फिलिप्पा लोथोर्पे की फिल्म स्वेलोज एंड अमजोंस और जॉन बटलर की फिल्म हैंडसम डेविल उल्लेखनीय है।    


भारत में सात अक्टूबर को रिलीज होगी ‘क्वीन ऑफ काटवे’

भारतीय मूल की अमेरिकन फिल्मकार मीरा नायर की अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चित फिल्म क्वीन ऑफ काटवेभारत के सिनेमाघरों में सात अक्टूबर को रिलीज होने जा रही है । परन्तु, इससे पहले डिज्नी की इस फिल्म का प्रीमियर सितंबर में टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में किया होगा । क्वीन ऑफ़ काटवे सच्ची घटनाओं पर आधारित फिल्म है। 'क्वीन ऑफ काटवे' युगांडा के ग्रामीण इलाके की एक साधारण लड़की की प्रेरित करने वाली सच्ची कहानी है, जिसकी शतरंज के खेल से परिचय होने के बाद दुनिया बदल जाती है। अपने परिवार और समुदाय के सहयोग से उसके अंदर अंतरराष्ट्रीय शतरंज चैंपियन बनने और अपने सपने पूरे करने का आत्मविश्वास पैदा होता है। यह फिल्म अंग्रेजी और हिंदी भाषाओं में रिलीज की जाएगी। फिल्म में डेविड ओयेलोवो, ल्युपिटा न्योंगो और मैडिना नालवांगा मुख्य भूमिका में हैं। मैडिन नालवंगा ने शतरंज चैंपियन फिओना म्यूटेसी की भूमिका की है।
 

Tuesday, 30 August 2016

'अन्ना' का पोस्टर

समाजसेवी अन्ना हजारे पर फिल्म 'अन्ना' का पोस्टर आज रिलीज़ हुआ।  यह फिल्म अक्टूबर में रिलीज़ होगी। 

बैंजो के लिए गीतकार रितेश देशमुख

​इरॉस इंटरेनशनल की ​मराठी फिल्म निर्देशक रवि जाधव निर्देशित फिल्म "बैंजो" में अभिनेता रितेश देशमुख मुख्य किरदर कर रहे हैं।  सूत्र बताते हैं कि रितेश ने फिल्म के 'राडा राडा' गीत  की कुछ पंक्तियाँ  भी लिखी है। ​दिलचस्प बात यह है कि ​बैंजो का चरित्र मुम्बई से जुड़ा हुआ है। फिल्म की ज्यादातर शूटिंग भी मुम्बई में रियल लोकेशंस पर हुई है। इस से यह फिल्म महाराष्ट्र की संस्कृति से जुड़ गयी है। मराठी होने के नाते रितेश 
​ने 
डांस नंबर
​ ​
राडा ​
के मूड के अनुसार अमिताभ भट्टाचार्य से गीत
​ लिखने
 के लिए 
​कहा जिसमे ​
'
​खुल्ला करायचा
'
​ राडा राडा ​
, आदि सहित स्थानीय मराठी शब्द का 
​इस्तेमाल करने का ​
सुझाव दिया । अमिताभ ने तदनुसार गीत की रचना की। ​इरोज इंटरनेशनल की इस फिल्म में रितेश देशमुख और नरगिस फाखरी की मुख्य भूमिका में हैं।  यह फिल्म 23 सितंबर २०१६ को पूरे देश में  सिनेमाघरो  में प्रदर्शित होगी ।​

Monday, 29 August 2016

नहीं रहे हॉलीवुड के यंग फ्रैंकेंस्टीन जीन वाइल्डर

यंग फ्रैंकेंस्टीन, सिल्वर स्ट्रीक, विली वोंका, ब्लेजिंग सैडलस, स्टिर क्रेजी के हास्य अभिनेता

जीन वाइल्डर नहीं रहे। २९ अगस्त की रात अल्ज़्हेइमरस की बिमारी से ग्रस्त जीन की तबियत यकायक बिगड़ी और उनका देहांत हो गया। वह ८३ साल के थे। जीन वाइल्डर अपने समय के श्रेष्ठ हास्य अभिनेताओं में शुमार किये जाते थे। बोनी एंड क्लाइड से अपने करियर की शुरुआत करने वाले जीन वाइल्डर को फिल्म निर्देशक मेल ब्रूक की फिल्म द प्रोडूसरस से ज़बरदस्त शोहरत मिली।  इस फिल्म में लियो ब्लूम की उनकी भूमिका से उनके अभिनय की अविश्वसनीय रेंज का पता चलता था। इस फिल्म के बाद मेल ब्रुक्स और जीन वाइल्डर का आजीवन का साथ बन गया। जीन ने मेल ब्रुक्स की ब्लेजिंग सैडल और यंग फ्रैंकेंस्टीन में यादगार भूमिकाएं की। द प्रोडूसरस के लिए जीन को ऑस्कर नॉमिनेशन भी मिला था। विली वोंका और चॉकलेट फैक्ट्री में उन्होंने मुख्य भूमिकाएं की। जीन अपनी फिल्मों से श्रेष्ठ अभिनेता तो साबित होते ही थे, यह फ़िल्में क्लासिक फिल्मों में भी शुमार हो जाती थी। सत्तर-अस्सी के दशक में रिचर्ड प्रयोर के साथ उनकी लोकप्रियता आसमान पर थी। वाइल्डर में किसी भी प्रकार की भूमिकाएं करने की क्षमता थी। इसीलिए उन्हें जीवन के आखिरी सालों में फिल्मों से दूर हो जाने के बावज़ूद याद किया जाता था। वह फिल्म द वर्ल्डस ग्रेटेस्ट लवर के निर्माता, निर्देशक और लेखक थे।  जीन ने द एडवेंचर ऑफ़ शर्लाक होम्स स्मार्टर ब्रॉदर, संडे लवर्स, द वुमन इन रेड और हॉन्टेड हनीमून का भी निर्देशन किया।  उनकी आखिरी फिल्म रिचर्ड प्रयोर के साथ अनदर यू १९९१ में रिलीज़ हुई थी। यह फिल्म प्रयोर और वाइल्डर, दोनों की आखिरी फिल्म थी।
   

Saturday, 27 August 2016

हॉलीवुड सितारों का आर्कटिक जस्टिस

आरोन वूडली और डिमोस राइसेलास   की डायरेक्टर जोड़ी की एनिमेटेड ३ डी फिल्म आर्कटिक जस्टिस: थंडर स्क्वाड में हॉलीवुड के सितारों की भरमार है।  एलेक बाल्डविन, जेम्स फ्रांको, एंजेलिका ह्यूस्टन और ओमर सय के बाद फिल्म से जेरेमी रेनर को भी जोड़ लिया गया है।  लेकिन, यह सितारे रूपहले परदे पर दिखाई नहीं, सुनाई पड़ेंगे।  इस फिल्म का निर्माण एम्बी के एंड्रिया इरवोलिनो और मोनिका बकार्डी द्वारा किया गया है।  फिल्म के एनीमेशन पर टोरंटो स्टूडियो ने काम किया है।  इस स्टूडियो के डिमोस ने शार्क टेल, द प्रिंस ऑफ़ इजिप्ट जैसी फिल्मों पर काम किया है।  फिल्म के एनिमेटर डेस्पिकेबल मी और आइस एज के कैल ब्रुनकर हैं।  आर्कटिक ब्लास्ट डिलीवरी सर्विस में काम करने वाला आर्कटिक फॉक्स स्विफ्टी टॉप डॉग बनना चाहता है।  इसके लिए  वह गुप्त ढंग से एक रहस्यमय डिलीवरी के गन्तव्य का पता लगाने का प्रयास करता है।  यह फिल्म २०१८ में रिलीज़ होगी।

वीडियो टेप पर समारा का 'रिंग्स'

जूलिया का दोस्त  एक वीडियो देखता है।  इस वीडियो को देखने के बाद जूलिया को पता चलता है कि उस वीडियो पर एक बुरी आत्मा का साया है, जो टेप देखने वाले को सात दिनों में मार डालेगी।  जूलिया अपने मित्र को बचाने के लिए खुद का बलिदान करने को तैयार हो जाती है।  लेकिन, इसी दौरान उसे पता चलता है कि उस वीडियो मूवी के अंदर भी एक मूवी है, जिसमे भयानक सच छुपा है।  यह कहानी है २८ अक्टूबर को रिलीज़ होने जा रही हॉरर फिल्म रिंग्स की।  रिंग्स रिबूट है २००२ में रिलीज़ गोर वरबिंस्की निर्देशित फिल्म द रिंग की।  यह फिल्म जापानी फिल्म रिंग' (१९९८) और इसके २००५ में रिलीज़ हिडेओ नकता निर्देशित सीक्वल फिल्म द रिंग २  की रिबूट फिल्म है।  समारा को उसकी माँ डुबो का मार देना चाहती हैं, क्योंकि, उसे पता चलता है कि समारा एक अभिशप्त आत्मा है।  लेकिन, समारा हर बचा ली जाती है।  इसी समारा की आत्मा उस वीडियो टेप की फिल्म  में रहती है।  निर्देशक ऍफ़ जेवियर गुटिरेज की रिबूट फिल्म में २००२ और २००५ की फिल्मों की नाओमी वॉट्स नहीं होंगी।  वीडियो फिल्म देखने वाली जूलिया की भूमिका में माटिल्डा एना इंग्रिड लुट्ज़ और उनके बॉय फ्रेंड होल्ट की भूमिका में अलेक्स रॉय कर रहे हैं।  समारा का रोल अभिनेत्री बोनी मॉर्गन कर रही हैं।  पिछले दिनों रिंग्स का ट्रेलर रिलीज़ हुआ था।  पहली द रिंग ने बॉक्स ऑफिस पर ४८ मिलियन डॉलर की लागत पर २४९ मिलियन डॉलर कमाए थे।  हालाँकि, सीक्वल फिल्म को न तो सराहना मिली और न ही अच्छा बॉक्स ऑफिस कलेक्शन।  रिंग की रिबूट फिल्म का ट्रेलर दर्शकों और समीक्षकों को प्रभावित कर पाने में असमर्थ रहा है।  अब देखने की बात होगी कि ३३ मिलियन बजट वाली रिंग्स बॉक्स ऑफिस पर कितना बिज़नस कर पाती है।

छोटे परदे से बड़े परदे की आवाज़ें !

छोटे परदे से बड़े परदे पर छाने वाले शाहरुख़ खान, विद्या बालन, ग्रेसी सिंह, आदि चेहरे गिनती के होंगे।  लेकिन, छोटे परदे के रियलिटी म्यूजिक शो ने बॉलीवुड को काफी प्रतिभाएं दी हैं।  बेशक बॉलीवुड के संगीकारों ने इन प्रतिभाओं को पहचाना  और परखा।  लेकिन, मंच तो टेलीविज़न ने ही दिया, जिसे कभी रूपहले परदे का दुश्मन समझा जाता था।  आज  हालात यह है कि फिल्मों में पार्श्व  गायिकी करने के लिए बेताब कच्ची पक्की प्रतिभाएं छोटे परदे पर अपनी कला दिखाने की जद्दोजहद में असफल हो जाने पर आंसू बहाती नज़र आती हैं।
मेरी आवाज़ सुनो से सुनिधि चौहान 
शायद बहुत कम लोग जानते होंगे कि गायिकी का पहला टैलेंट शो मेरी आवाज़ सुनो दूरदर्शन से प्रसारित हुआ था।  १९९६ में डीडी नेशनल पर शुरू इस शो की पहली विजेता सुनिधि चौहान थी।  इस शो के जज लता मंगेशकर, पंडित जसराज, भूपेन हज़ारिका और मन्ना डे थे।  शो के एंकर अन्नू कपूर थे।  सुनिधि चौहान ने ज़ी के म्यूजिक रियलिटी शो ज़ी सारेगामापा में भी हिस्सा लिया था।  उन्हें पहला मौका आदेश श्रीवास्तव ने फिल्म शस्त्र में दिया। सुनिधि का पहला हिट गीत राम गोपाल वर्मा की फिल्म मस्त का टाइटल सांग था, जो उर्मिला मातोंडकर पर फिल्माया गया था । सुनिधि के खाते में मेहबूब मेरे (फ़िज़ा), बुम्बरो (मिशन कश्मीर), आ आ तैयार हो जा (अशोक), इश्क़ समुंदर (कांटे), आ भी जा (सुर), भागे रे मन (चमेली), धूम मचाले (धूम),  ऐसा जादू डाला रे (खाकी), दीदार वे (दस), शीला की जवानी (तीस मार खान), गुन गुन गुना (अग्निपथ), आदि उल्लेखनीय हैं।  सुनिधि चौहान को आज की आशा भोसले कहा जाता है।  
सारेगामापा की संजीवनी और श्रेया घोषाल 
हिंदी फिल्म करीब के गीत चोरी चोरी जब नज़रें मिली की गायिका संजीवनी और देवदास के तमाम गीतों की गायिका श्रेया घोषाल सारेगामापा की देन हैं।  संजीवनी पहले ज़ी सारेगामापा शो की विजेता थी।  विधु विनोद चोपड़ा ने अपनी फिल्म करीब में उनको पहला मौका दिया।  संजीवनी को बॉलीवुड में ज़्यादा सफलता नहीं मिली।  लेकिन, ज़ी सारेगामा के ७५ वे चिल्ड्रन'स एपिसोड से बंगाली गायिका श्रेया घोषाल ने संजयलीला भंसाली का ध्यान आकृष्ट कर पाने में सफलता हासिल की।  भंसाली ने उन्हें अपनी फिल्म देवदास में पारो के गाये सभी गीत गवाये। इन गीतों के बाद श्रेया घोषाल हिंदी फिल्म संगीत का बड़ा नाम बन गई।  अग्निपथ का चिकनी चमेली जैसा सेक्सी गीत गा कर उन्होंने अपनी बहुमुखी प्रतिभा का प्रदर्शन किया था। 
फेम गुरुकुल के अरिजीत सिं
सोनी टेलीविज़न पर म्यूजिक रियलिटी शो फेम गुरुकुल का प्रसारण २७ जून २००५ को हुआ था।  इस शो का केवल एक ही सीजन हो सका।  इस सीजन के विजेता क़ाज़ी तौकीर को बॉलीवुड में कोई सफलता नहीं मिली।  लेकिन, इस शो के एक प्रतिभागी अरिजीत सिंह आज बॉलीवुड के स्थापित नाम हैं।  वह एक ऐसे गायक हैं , जो सलमान खान से पंगा लेने का माद्दा रखता है। अरिजीत सिंह ने मर्डर २ फिल्म से फिल्म डेब्यू किया था।  आशिक़ी २ के गीतों ने अरिजीत सिंह को स्थापित नाम  बना दिया।  आज वह लगभग सभी बड़े बॉलीवुड एक्टर्स के लिए आवाज़ दे चुके हैं।
चैनल वी की पॉपस्टार्स  नीति मोहन 
चैनल वी के म्यूजिक रियलिटी शो पॉपस्टार्स की नीति मोहन ने करण जौहर की फिल्म स्टूडेंट ऑफ़ द ईयर के गीत इश्क़ वाला लव ने उन्हें मशहूर किया ।  वह फिल्म सोचा न था में अभिनय कर चुकी हैं।
इंडियन आइडल की नौंवी गायिका मोनाली ठाकुर
मोनाली ठाकुर आज राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में श्रेष्ठ गायिका का पुरस्कार पाने वाली गायिका बन चुकी हैं।  मोनाली ने इंडियन आइडल सीजन २ स्पर्द्धा में नौवा स्थान पाया था।  इस शो से मशहूर होने के बावजूद मोनाली का संघर्ष ख़त्म नहीं हुआ।  अनु मालिक ने जानेमन फिल्म के  क़ुबूल है गीत उनसे गवाया।  प्रीतम ने फिल्म रेस के दो गीत ज़रा ज़रा टच टच मी और सेक्सी लेडी गीत गवाये। इन गीतों के बाद मोनाली की बॉलीवुड में अपनी पहचान बन गई।  आयुष्मान खुराना की फिल्म दम लगा के हईशा के गीत मोह मोह के धागे ने उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जितवा दिया।
जो जीता वही मोहम्मद इरफ़ान
स्टार प्लस के सिंगिंग रियलिटी शो जो जीता वही सुपर स्टार २ के विजेता तथा अमूल स्टार वौइस् ऑफ़ इंडिया और सारेगामा के प्रतिभागी मोहम्मद इरफ़ान का सिंगिंग डेब्यू मणि रत्नम की फिल्म रावण से हुआ था।  उन्हें मर्डर २ के गीत फिर मोहब्बत से पहचान मिली।  वह एक विलेन, किक, ब्रदर्स और प्रेम रतन धन पायो जैसी  फिल्मों में गीत गा चुके हैं।
सिंगिंग सुपर स्टार कमाल खान
कमाल खान रियलिटी शो सारेगामापा सिंगिंग सुपर स्टार २०१० के विजेता हैं। वह फिल्म द डर्टी पिक्चर के इश्क़ सूफियाना गीत के लिए  ज़ी सिने अवार्ड्स फ्रेश सिंगिंग टैलेंट २०१२ जीत चुके हैं।  वह अब तक तीस से ज़्यादा हिंदी-पंजाबी फिल्मों के गीत गा चुके हैं।
इंडियन आइडल से 'राजनीति'  तक अंतरा मित्रा 
बंगाल से डॉक्टरी की पढ़ाई छोड़ कर बॉलीवुड सिंगिंग में किस्मत आजमाने आई अंतरा मित्रा ने भी इंडियन आइडल में हिस्सा लिया।  उन्होंने स्पीड फिल्म में सोनू निगम के साथ लविंग यू गीत गाया।  राजनीति फिल्म के मोहित चौहान के साथ गीत भीगी भागी सी से उन्हें पहचान मिली।  पिछले साल रिलीज़ फिल्म दिलवाले में वह काजोल की आवाज़ बनी। उन्होंने काजोल के लिए गेरुआ गीत गाया।
फ़िल्मी गीतों पर आधारित रियलिटी शो अब हर चैनल पर दिखाए जाने लगे हैं।  बड़े सिंगर ही नहीं, एक्टर भी इन शो में जज का काम करते नज़र आ रहे हैं इसके साथ ही यह शो काफी टफ हो गए हैं।  खबर है कि गायक अर्जित सिंह एंड टीवी के शो रॉ स्टार में यो यो हनी सिंह की जगह लेने जा रहे हैं।  अरिजीत सिंह के होने का  मतलब शो के तमाम रॉ स्टार को अपने टैलेंट को प्रदर्शित करने में खासी मेहनत करनी होगी।  अब देखते हैं कि अरिजीत के आने के बाद रॉ स्टार के सिंगिंग स्टार कितने परिपक्व साबित होते हैं।





Thursday, 25 August 2016

कुपोषण के खिलाफ सोनम कपूर की जंग



फाइट हंगर फाउंडेशन’ यह मुंबई स्थित एनजीओ, कुपोषण की समस्या पर युध्दस्तर पर निपटने के लिए कार्य कर रहें हैं। और अब उन्होंने अभिनेत्री सोनम कपूर को अपना गुडविल एम्बेसेडर घोषित किया हैं।  
फाइट हंगर फाऊंडेशन की सोनम कपूर पहली गुडविल एम्बेसेडर हैं। जो उन्हें इस अभियान के बारें में लोगों में जागरूकता लाने में मदद करेंगीं। यह संस्था राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश इन तीन राज्यों में काम करती हैं। और यहाँ के कुपोषण बाधित बच्चों का निदान करके उनपर इलाज भी करतीं हैं।  साथ ही इन बच्चों की माताओं के साथ मिलकर कुपोषण की समस्या सुलझाने पर भी काम करतीं हैं। स्तनपान, बेहतर स्वास्थ्य देखभाल के साथ ही पोषण आहार उपलब्ध कराने पर भी काम करती हैं।
इस विषय में ज्यादा जानकारी पाने के लिए सोनम कपूर ने हाल हीं में, फाइट हंगर फाउंडेशन के छोटा सायन अस्पताल में रहें मेडिकल पोषण चिकित्सा केंद्र को भेंट दी थी। सोनम ने कहाँ, हर साल दस लाख से भी ज्यादा बच्चे कुपोषण का शिकार होने से मर जातें हैं। मेरे लिए यह बात आश्चर्यजनक हैं, आज भी कुछ बच्चे अच्छा आहार और साफ पानी के लिए तरस रहें हैं। यहीं बच्चें हमारा कल हैं। और इन खाली पेट बच्चों के साथ हम शांतीपूर्ण और बेहतर दुनियाँ नहीं बना सकतें।
इस निरीक्षण भेट के दौरान सोनम कपूर इस अस्पताल में भरती हुए कई कुपोषण बाधित बच्चों से और उनकी माताओंसे मिली। अस्पताल के कर्मचारी वर्ग से भी सोनम ने बातचित कीं।  
सोनम कपूर कहती हैं, पहले तो इन कुपोषित बच्चों को देखना ही मेरे लिए दर्दनाक था। लेकिन इन बच्चों के मिलने के बाद मुझे इस बात का अहसास हुआ की, हमें सब लोगों मिलकर अब कुपोषण के खिलाफ लडना होंगा। तभी यह समस्या दूर हो सकती हैं। इसलिए अब में फाइट हंगर फाउंडेशन के साथ जुड चुकी हूँ। और मुझे गर्व हैं की, यह संस्था मेहनत और लगन से यह काम कर रहीं हैं। और मुझे विश्वास हैं की, लोग साथ आयें तो उनकी यह कोशीश कामयाब होगीं।

'पिंक' में १८ राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने वाले १० विजेता

शूजित सरकार की १६ सितम्बर को रिलीज़ होने जा रही फिल्म 'पिंक' में राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने वाले कुल दस विजेताओं के नाम शामिल है।  इन दस हस्तियों ने कुल १८ पुरस्कार जीते हैं।  इनमे सबसे ज़्यादा चार नेशनल अवार्ड्स (पीकू, पा, ब्लैक और अग्निपथ के लिए) पाने वाले अमिताभ बच्चन सबसे आगे हैं।  फिल्म के एक निर्माता शूजित  सरकार  ने फिल्म विक्की डोनर के लिए श्रेष्ठ फिल्म निर्देशक का पुरस्कार जीता था।  इसी फिल्म के लिए निर्माता रोनी लाहिरी ने श्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार जीता।  फिल्म के निर्देशक और निर्माता अनिरुद्ध रॉय चौधरी की दो फिल्मों अनुरानन और अंतहीन को राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में श्रेष्ठ बांगला फिल्म का पुरस्कार मिला है। शांतनु मोइत्रा ने तेलुगु फिल्म ना बंगारू टल्ली के लिए श्रेष्ठ संगीतकार (पार्श्व संगीत) का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीत चुके हैं।  सिनेमेटोग्राफर अभीक मुखोपाध्याय फिल्म पातालघर, भालो ठेको और अंतहीन के लिए श्रेष्ठ छायाकार साबित हो चुके हैं।  साउंड रिकार्डिस्ट बिश्वदीप चटर्जी फिल्म मद्रास कैफ़े और बाजीराव मस्तानी, री-रिकॉर्डिंग मिक्सर सिनॉय जोसफ गैंग्स ऑफ़ वासेपुर, साउंड मिक्सर निहार रंजन सामल फिल्म मद्रास कैफ़े और दीपांकर जोजो चाकी निर्बशितो और शब्दो के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीते चुके हैं।

Wednesday, 24 August 2016

नक्सली नईमुद्दीन पर फिल्म बनाएंगे राम गोपाल वर्मा

फिल्म निर्माता निर्देशक रामगोपाल वर्मा ने आज ऐलान किया कि वह नक्सली नईमुद्दीन पर एक फिल्म का निर्माण करने जा रहे हैं।  यह फिल्म तीन हिस्सों में बनाई जायेगी।  इससे पहले रामगोपाल वर्मा दो हिस्सों में गैंगस्टर से नेता बने परिताला रवि पर फिल्म रक्त चरित्र का निर्माण कर चुके हैं।  लेकिन, नईमुद्दीन पर  वर्मा की फिल्म तीन हिस्सों में इसलिए है कि नईम का चरित्र बड़ा काम्प्लेक्स है।  वह कभी नक्सल हुआ करता था।  फिर वह पुलिस का मुखबिर बन गया।  उसकी मुखबिरी पर गुजरात पुलिस को आतंकी गतिविधियों में लिप्त शोहराहबुद्दीन और उसकी बीवी का सुराग मिला था।  उसे बाद में गुजरात पुलिस ने एक एनकाउंटर में शोहबरुद्दीन को मार गिराया था ।  नईम बाद में गैंगस्टर बन गया।  वह दक्षिण का नंबर वन किलर था।  उसने कई नेताओं का क़त्ल किया।  उस पर बीस हत्याओं का आरोप था।  उसके बारे में कई विधायकों ने उगाही करने का आरोप लगाया था।  वह लीबिया के कर्नल गद्दाफी की तरह अपनी कुंवारी महिला सुरक्षा गार्ड्स की सुरक्षा में चला करता था। इसी गैंगस्टर को तेलंगाना पुलिस ने पिछले दिनों  मार गिराया।  उसके १२ साथी गिरफ्तार कर लिए गए।  रामगोपाल वर्मा इसी किरदार पर फिल्म बनाना चाहते हैं।  तीन हिस्सों में फिल्म क्यों ! पर रामगोपाल वर्मा कहते हैं, "नईमुद्दीन की कहानी इतनी जटिल है और उसमे इतनी जानकारी जुटाई  गई है कि इसे एक फीचर फिल्म तक सीमित रखना न्याय नहीं होगा।  मैंने उसके बारे में जितनी जानकारी जुटाई है,  वह रोंगटे खडी करने वाली है।" देखें रामगोपाल वर्मा की फिल्म का नईम कौन अभिनेता बनाता है। फिलहाल तो वह विवेक ओबेरॉय को लेकर गैंगस्टर ड्रामा रॉय बना रहे हैं।

अपनी फिल्मों के लिए बॉलीवुड सितारे !

अब वह ज़माना गया, जब दिलीप कुमार और देवानंद कट बालों के सहारे ही अभिनय हो जाता था। राजेश खन्ना के समय तक गुरु कुर्ता से दो दशक सुपर स्टार बने रहे। अमिताभ बच्चन सिर्फ अपनी आँखों और आवाज़ के सहारे तमाम किरदारों को एंग्री यंग मैन का जामा पहनाते रहे। लेकिन, अब काफी कुछ बदल गया है। बॉलीवुड एक्टरों को कई पापड बेलने पड़ रहे हैं। वह कॉस्टयूम, हेयर स्टाइल, आदि बदल ही रहे हैं, रोल के लिए भाषा भी सीख रहे हैं और खतरनाक दृश्य करने को भी तैयार हैं। अभी सलमान खान और आमिर खान ने अपनी अपनी फिल्मों के लिए अपना वजन बढ़ाया। 
चालीस फिट ऊंचे ढोल पर गणपति पूजा
इरोस ​इंटरनेशनल की फिल्म बैंजो में अभिनेता रितेश देशमुख स्ट्रीट म्यूजिशियन के किरदार में हैं।इस फिल्म के लिए उन्होंने कड़ी मेहनत के साथ साथ बहुत रिस्क भी उठाये हैं पिछले दिनों, रितेश इस फिल्म की अपनी बैंजो टीम के साथ गणेश चतुर्थी के त्यौहार के मौके वाले सेट ​डांस ​परफॉर्मन्स किया। रितेश का यह परफॉरमेंस  ४० फिट ऊँचे ढोल पर शूट किया गया। गणपति डांस होने के कारण रितेश ने इस गीत को बखुशी किया भी। 
दिशा पाटनी का स्क्वायर डांस
नवोदित दिशा पाटनी फिल्म बेफिक्रा में दो फिल्म पुराने टाइगर श्रॉफ की नायिका बन रही हैं। हिट अभिनेता के सामने खुद को साबित करना दिशा के लिए चुनौती है। लेकिन, वह कोई मौका नहीं चूक रही। वह ट्रेनड जिमनास्ट है उनकी देह काफी संतुलित भी है। बेफिक्रा गीत में इसे दर्शकों ने देखा भी है। दिशा पाटनी अभी चीन में जैकी चैन के साथ फिल्म कुंग फु योग की शूटिंग पूरी करके आई हैं। उन्होंने चीन की एक डांस शैली स्क्वायर डांसिंग सीखी है। इस डांस को चौराहों, प्लाज़ा और पार्कों में लोग किया करते हैं। दिशा ने इसकी जम कर प्रैक्टिस की। इसका असर उनकी फिल्म बेफिक्रा में उनके अभिनय और नृत्य में नज़र आएगा। दिशा पाटनी कहती हैं, “यह डांस मुझे केन्द्रित करने में मदद करता हैं और मज़ेदार तो है ही।" उम्मीद है कि दर्शकों को फिल्म बेफिक्रा में इसकी झलक देखने को मिलेगी।   
नरगिस फाखरी ने सीखी मराठी
म्यूजिकल ड्रामा फिल्म बैंजो में अभिनेत्री नरगिस फाखरी न्यूयॉर्क की ड़ीजे का किरदार निभा रही   हैं । इस फिल्म की तमाम शूटिंग मुंबई में हो रही है। फिल्म में नर्गिस का किरदार मराठी वेशभूषा में नज़र आता है। फिल्म के सेट पर नायक रितेश देशमुख और निर्देशक रवि जाधव सहित क्रु के तमाम सदस्य मराठी में बातचीत करते रहते थे। नरगिस के लिए मराठी समझ पाना आसान नहीं था। इसलिए नर्गिस ने सेट पर मराठी में बात करते लोगों की भाषा पर ध्यान देते हुए, मराठी सीखने की कोशिश की। उन्होंने शब्दों के अर्थ भी जाने। इसमे उनके साथ इरोस की कृषका लूल्ला भी थी।नरगिस बताती हैं,"सेट पर जब भी कोई मराठी में बात करता था तो मैं प्रोडक्शन के लोगो से उसका मतलब पूछती थीजिसकी वजह से मैंने मराठी के कुछ कॉमन वर्ड्स सीख लिए ।"
बॉलीवुड के सितारे अपने लुक के लिए हॉलीवुड के सितारों के लुक को अपनाते हैं। यों कहा जा सकता है कि डायरेक्टर चाहते हैं कि फलां किरदार के लिए फलां फिल्म का लुक रखा जाये । ऐसे ही कुछ लुक आगामी फिल्मों में नज़र आ सकते है। 
पॉल वॉकर से मिलता फ्रेडी का लुक
फिल्म हॉलीडे से बॉलीवुड करने वाले फ्रेडी दारूवाला आगामी फिल्म कमांडो २ में एक जबरदस्त और महत्वपूर्ण किरदार कर रहे हैं । ​फिल्म में उनका किरदार ग्रे शेड वाला है ।  बताते है कि कमांडो २ में अपना किरदार जानने के बाद फ्रेडी के जहन में हॉलीवुड के मशहूर और फिल्म फ़ास्ट एंड फ्यूरियस ७ के अभिनेता पॉल वॉकर की तस्वीर जेहन में कौंध गई । फ्रेड्डी को लगा कि उनके और पॉल वॉकर के किरादर में कुछ समानताये है। अब ​कमांडो 2 में फ्रेडी का किरदार फास्ट एंड फ्यूरियस ७ के पॉल से प्रेरित लगेगा ।
जॉनी डेप से प्रेरित विवेक ओबेरॉय
जॉनी डेप को फिल्म ब्लैक मास में गैंगस्टर भाइयों के किरदार के बहुत सराहा गया था । फिल्म में वह एक अलग इंसान नजर आते थे । इस फिल्म के लिए जॉनी डेप ने जो तैयारी की थी, उसने अभिनेता विवेक ओबेरॉय को फिल्म रॉय के गैंगस्टर किरदार के लिए प्रेरित किया । रामगोपाल वर्मा की फिल्म राय एक गैंगस्टर ड्रामा फिल्म है । इस फिल्म के लिए विवेक वॉइस मॉडलिंग और मोड्यूलेशन कोर्स कर रहे है। वह अपने शरीर पर भी विशेष ध्यान दे रहे है। उम्मीद की जाती है कि शारीरिक बनावट और वॉइस मोड्यूलेशन के ज़रिये विवेक गैंगस्टर से एक बिजनेसमैन के अपने किरदार को बेहद असरकारी ढंग से पेश कर पाएंगे वे अपने किरदार के लिए दक्षिण भारतीय लहजे पर भी मेहनत कर रहे है।
स्टेलोन के नक्शेकदम पर जॉन अब्राहम
​जॉन अब्राहम का किस्सा इससे कुछ अलग है । वह भी हॉलीवुड के सिल्वेस्टर स्टेलोन से प्रभावित है । लेकिन, अभिनय या लुक के लिए नहीं, बल्कि उनकी कार्यशैली से । जॉन अब्राहम एक अभिनेता ही नहीं फिल्म निर्माता भी है । बॉलीवुड में अक्सर किसी एक अभिनेता के साथ दर्जन भर लोग देखे जाते हैं । इससे अलग जॉन अब्राहम चाहे शूट पर जाए या किसी इवेंट या फिर फिल्म के प्रमोशन पर, इकलौते इंसान होते हैं । उनके साथ दूसरों की तरह ​अलग हेयर एंड मेकअप स्टाइलिस्टस्पॉट बॉय मैनेजरया दूसरे कोई सहायक नहीं होते । उनके साथ सिर्फ उनके दोस्त वेंकी जो कई सालो से जॉन हर काम संभालते है । काम करने की जॉन की यह शैली हॉलीवुड सुपर स्टार सिल्वेस्टर स्टेलोन की है, जो खुद ही अपनी कार तक ड्राइव करते है।​ सिल्वेस्टर स्टेलॉन जॉन के फेवरेट एक्टर तो है ही जॉन उनके फिटनेस के भी मुरीद है । जॉन अब्राहम कहते हैं, “मैं कभी लोगो साथ घुमा नहीं । वेंकी ही मेरी वन मेन आर्मी है । वही मेरे लिए सब कुछ देखता है। हॉलीवुड में सिल्वेस्टर स्टेलोन ही ऐसे अभिनेता है । वह हमेशा मेरे आयकन रहेंगे।”   
लिक्विड डाइट पर विवेक ओबेरॉय
निर्देशक राम गोपाल वर्मा की फिल्म राय विवेक ओबेरॉय डॉन मुथप्पा राय के किरदार में नजर आयेंगे। विवेक ओबेरॉय राय के लिए भी विवेक बहुत ट्रांसफॉर्म हो रहे है । फिल्म के शुरूआती सीन्स में विवेक को बहुत यंग दिखना है । इसके लिए उन्होंने अपना १८ किलो वजन कम करना पडा है इसके लिए विवेक एक महीने तक बहुत ही सख्त लिक्विड डाइट पर रह रहे है । इस दौरान उन्होंने बहुत सारा गरम पानी पिया । फलो का रस और हर्बल लिक्विड आहार लेने के अलावा वेट ट्रेनिंग के साथ कार्डियो और योगा किया है। विवेक कहते है, "कभी बतौर अभिनेता हमें किरादर ने अनुरूप फिजिकली ट्रांसफॉर्म होना पड़ता है। मेरे लिए वजन बढ़ाना या घटाना उतना महत्वपूर्ण नहीं, जितना यह जरुरी है कि इसे इस तरीके से करे कि आप पर कोई बुरा असर न हो ।“
अभिनेत्री शिव्या पठानिया ने कविता बडजात्या के सीरियल एक रिश्ता साझेदारी का के लिए बाइक चलाई। अभी तक बाइक की पिछली सीट पर बैठती आई शिव्या के लिए यह बड़ा रोमांचक अनुभव रहा। वह कहती हैं, “प्रोडक्शन हाउस ने एक ट्रेनर का इंतज़ाम कर दिया था। मैं हर सुबह छः बजे उठ कर बाइक पर कैसे सवार हुआ जाए और उसे चलाया जाए सीखा करती थी। मेरे लिए यह कठिन काम थालेकिनबढ़िया अनुभव भी साबित हुआ।"

शुगर प्लम के किरदार में कीरा नाइटले

सेफ हैवन के निर्देशक लास हॉल्स्ट्रॉम की फिल्म द नटक्रैकर एंड द फोर रियाम्स’ में शुगर प्लम फेयरी के किरदार के लिए अभिनेत्री कीरा नाइटले को साइन कर लिया गया है। यह फिल्म इटीए हॉफमैन की १८१६ में लिखी लघु कथा द नटक्रैकर एंड द माउस किंग पर आधारित है। इस कहानी को उन्नीसवीं शताब्दी में बैले के रूप में प्रस्तुत किया गया। क्रिसमस की पूर्व संध्या पर एक लड़की की गुडिया जीवित हो उठती है। उसके साथ एक भला नटक्रैकर भी है, जो चूहों की सेना से गुडिया की रक्षा करता है। इस फिल्म में क्लारा के किरदार में मकेंजी फोय के अलावा मिस्टी कोपलैंड और मॉर्गन फ्रीमैन भी नज़र आयेंगे। लेकिन, इन दोनों की भूमिका अभी साफ़ नहीं है। कीरा नाइटले को १६ दिसम्बर को रिलीज़ होने जा रही डेविड फ्रंकेल निर्देशित फिल्म कोलैटरल ब्यूटी में ऐमी मूर के किरदार में देखा जा सकता है। इस फिल्म में विल स्मिथ, केट विंसलेट, एडवर्ड नॉर्टन और हेलेन मिरेन भी अभिनय कर रहे हैं। यहाँ बताते चलें कि डिज्नी के द्वारा अपनी कई एनिमेटेड फिल्मों के लाइव एक्शन संस्करण बनाए जा रहे हैं। इनमे मेलफिसेंट, सिन्ड्रेला, ऐलिस इन वंडरलैंड और जंगल बुक जैसी फ़िल्में रिलीज़ भी हो चुकी हैं। हालाँकि, ऐलिस पर फिल्म को ख़ास सफलता नहीं मिली। लेकिन डिज्नी की बाकी फिल्मों ने दुनिया भर में बढ़िया बिज़नस किया है। इसलिए, उम्मीद की जा रही है कि नटक्रैकर का लाइव एक्शन संस्करण भी सफल होगा। 

एली रॉथ का मिशन: फियर

एली राफेल रॉथ की पहचान हॉरर फिल्मों के डायरेक्टर के रूप में हैं। उन्होंने केबिन फीवर के अलावा हॉस्टल और इसकी सीक्वल फ़िल्में जैसी हॉरर फ़िल्में निर्देशित करने के अलावा द लास्ट एक्सोर्सिस्म, द मैन विथ द आयरन फिस्ट्स, आफ्टरशॉक, द सक्रेमेंट, क्लाउन और द स्ट्रेंजर जैसी फिल्मों का निर्माण भी किया है। उन्होंने अपनी इन फिल्मों के अलावा कुछ फिल्मों में बतौर एक्टर भी हिस्सा लिया।  थैंक्स गिविंग के कोई एक दशक बाद बतौर डायरेक्टर उनकी पिछली दो फिल्मों नॉक नॉक और द ग्रीन इन्फर्नो को अच्छी सफलता मिली थी। परंतु थैंक्स गिविंग के दौरान एली कुछ फिल्मों की कहानी पर काम में व्यस्त हो गए थे। मिशन: फियर उनकी ऎसी ही एक फिल्म है। पिछले दिनों ट्विटर पर अपनी फिल्म का ट्रेलर रिलीज़ करने के बावजूद एली रोथ ने फिल्म के बारे में ज्यादा कुछ नहीं बताया था। लेकिन, खबर है कि यह फिल्म रोथ की पहली विज्ञानं फंतासी स्पेस हॉरर फिल्म होगी। इस फिल्म के अगले साल अप्रैल में रिलीज़ होने की खबर है। 

Friday, 19 August 2016

यह तो टू मच हो गया 'ब्रूना' !









संगीतकार ख़य्याम साहेब ने रिलीज़ किया फिल्म मजाज़ का संगीत

उर्दू के बड़े शायर "असरार उल हक़ मजाज़ लखनवी " के जीवन पर बनी  फिल्म "मजाज़ - ऐ ग़म ए दिल क्या करूँ " का संगीत रिलीज़ किया लोकप्रिय संगीतकार ख़य्याम साहेब ने। संगीत रिलीज़ के अवसर पर संगीत जगत की कई बड़ी हस्तियाँ मौजूद थी जिनमें तलत अजीज़ जिन्होंने इस फिल्म का संगीत तैयार किया है |
गज़ल गायक पंकज उधास , भजन सम्राट अनूप जलोटा , गायिका अल्का याज्ञनिक उपस्थित थी। इनके अलावा फिल्म "मजाज़ " के निर्माता शक़ील अख्तर , डॉ मदीह ,निर्देशक रविन्द्र सिंह , फिल्म की नायिकायें  रश्मि मिश्रा , काजल राघवानी और तलत अजीज़ की पत्नी बीना अजीज भी शामिल हुए।
ख़य्याम साहेब ने फिल्म "मजाज़ " के संगीत की तारीफ़ की और कहा कि, "तलत ने फिल्म की कहानी के मुताबिक़ संगीत तैयार किया है।  मैं फिल्म के सभी कलाकारों और निर्माता - निर्देशक को बधाई देता हूँ कि वो सभी "मजाज़ " जैसे शायर की जिंदगी पर बनी फिल्म का हिस्सा हैं।
 " गायक और संगीतकार तलत अजीज़ ने कहा कि " ख़य्याम साहेब मेरे वालिद की तरह है।  मैंने जब इस फिल्म का संगीत तैयार किया तो सबसे पहले उनके घर गया उनको सुनाने के लिये। मैने  बेहतरीन संगीत तैयार करने की कोशिश की है और आशा करता हूँ कि सभी सुनने वाले इसे पसन्द करेगें। "
तलत अज़ीज़ के यूं तो अनेकों गज़ल एलबम आ चुके हैं साथ ही उन्होंने अनेको फिल्मों व टी वी धारावाहिकों में गीतों को गाया है. अनेकों  टी वी धारावाहिकों  में भी संगीत दिया है।  लेकिन पहली ही बार  उन्होंने किसी फिल्म का संगीत दिया है।

Wednesday, 10 August 2016

एपिक रोमांस का थ्रिलर रुस्तम !

पिछले साल, जब अभिनेता अक्षय कुमार ने अपने जन्मदिन पर अपनी फिल्म रुस्तम के १२ अगस्त २०१६ को रिलीज़ करने का ऐलान किया था, तब उसी समय तय हो गया था कि अक्षय कुमार अपनी फिल्म का अभिनेता हृथिक रोशन की फिल्म से टकराव करने जा रहे हैं। हृथिक रोशन की आशुतोष गोवारिकर निर्देशित फिल्म मोहनजोदड़ो के १२ अगस्त को रिलीज़ करने का ऐलान तो काफी पहले ही कर दिया गया था। ऐसे में यह उम्मीद कि जा रही थी कि दोनों बड़े अभिनेता समझदारी से काम लेंगे और अपनी फिल्मों की रिलीज़ की तारिख आगे पीछे कर लेगे।इसी साल मई में खबर उडी थी कि हृथिक रोशन अक्षय कुमार के बीच बैठक में रुस्तम के ५ अगस्त को रिलीज़ करने का निर्णय लिया गया। लेकिन, बाद में यह अफवाह ही साबित हुई। शायद, इस अहम् की लड़ाई में अक्षय कुमार को आशुतोष गोवारिकर की कम्पनी के प्रवक्ता का यह ऐलान नागवार गुजरा था, जिसमे दावा किया गया था कि मोहनजोदड़ो को रिलीज़ की तारिख एक साल पहले तय हो गई थी, इसलिए इसमे परिवर्तन नहीं किया जा सकता।  यह चुनौती थी कि अगर टकराव से बचना है तो रुस्तम अक्षय कुमार समर्पण करे।  अक्षय कुमार दूध के जले थे।  उनकी फिल्म वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई दुबारा के जब तक है जान से टकराव टालने के लिए अक्षय कुमार ने अपनी फिल्म की रिलीज़ की तारिख एक हफ्ते बाद के लिए टाल दी थी।  परन्तु, बाद में शाहरुख़ खान और यशराज फिल्म्स ने अक्षय कुमार की फिल्म के लिए पर्याप्त स्क्रीन छोड़ने से इनकार कर दिया था।  इससे अक्षय की फिल्म को नुकसान हुआ था। इधर अक्षय कुमार बाजीराव मस्तानी और दिलवाले के टकराव से सबक ले चुके थे।  बढ़िया कहानी वाली फिल्म को सफल होना ही है, चाहे टकराव जितना भी बड़ा क्यों न हो ! 
क्या होगा टकराव का !
अब जबकि रुस्तम और मोहनजोदड़ो आपस में टकराने जा रही हैं, इंडस्ट्री की निगाहें बॉक्स ऑफिस पर हैं, चेहरे पर क्या होगा की सोच है और स्क्रीन की घटजोड़ की जा रही है। यहाँ याद आती है बाजीराव मस्तानी और दिलवाले के टकराव की। पिछले साल, क्रिसमस से पहले दोनों ही फ़िल्में भिड़ी थी। उस समय भी ऐसा कहा गया था कि संजयलीला भंसाली दिलवाले से टकराव टालने के लिए अपनी फिल्म की तारिख एडवांस कर सकते हैं।  लेकिन, इसके बाद टकराव हुआ था। दिलवाले और बाजीराव मस्तानी एक ही दिन रिलीज़ हुई।  दिलवाले को ज्यादा स्क्रीन मिली। लेकिन, माउथ पब्लिसिटी ने जीत बाजीराव मस्तानी को दिला दी। क्या इस इंडिपेंडेंस वीकेंड में भी वही कहानी दोहरायी जाएगी ? क्या मोहनजोदड़ो और रुस्तम में से कोई एक फिल्म खेत रहेगी ? क्या दोनो ही फिल्मों को नुक्सान होगा ?
ख़ास है स्क्रीन की संख्या 
किसी फिल्म को रिलीज़ के लिए मिलाने वाली स्क्रीन की संख्या वीकेंड फिल्मों के लिए ख़ास होती हैं।  हर फिल्म निर्माता पहले वीकेंड में ही, ख़ास तौर पर सन्डे तक, ज्यादा से ज्यादा बिज़नेस कर अपनी फिल्म की लागत ज्यादा से ज्यादा निकाल लेना चाहता है।  मंडे का क्या भरोसा ! ज़ाहिर है कि ऐसे में स्क्रीन महत्वपूर्ण हो जाते हैं। सलमान खान की फिल्म सुल्तान ईद वीकेंड में ४०००+ स्क्रीन में रिलीज़ हो कर, बढ़ी टिकेट दरों के जरिये पहले वीकेंड में ही रिकॉर्ड तोड़ कमाई करने में कामयाब हुई थी। लेकिन, १२ अगस्त को किसी एक फिल्म के पास पूरे स्क्रीन नहीं हैं। दक्षिण भारत से भिन्न क्षेत्रों के स्क्रीन दोनों बड़ी फिल्मों के बीच बंट गये हैं। जहाँ तक स्क्रीन की संख्या का सवाल है, बाज़ी मोहनजोदड़ो के हाथ लगी है। हृथिक रोशन और यूटीवी के कारण मोहनजोदड़ो को रुस्तम के मुकाबले ४०० स्क्रीन ज्यादा मिले हैं। इसे देखते हुए याद आती है दिलवाले की, जिसे बाजीराव मस्तानी से ज्यादा स्क्रीन मिले थे। परन्तु, ध्यान रहे कि नुकसान दिलवाले को ही हुआ था। यह फिल्म इनिशियल का फायदा भी नहीं उठा पाई थी। क्या इतिहास दोहराया जायेगे ?
भिन्न शैली की रुस्तम और मोहनजोदड़ो 
लेकिन, ध्यान रहे कि रुस्तम और मोहनजोदड़ो की शैली अलग अलग ही नहीं, काफी अलग है . हृथिक रोशन की फिल्म सिन्धु घाटी सभ्यता की पृष्ठभूमि पर एक रोमांस फिल्म है। हृथिक रोशन का किरदार अपने दुश्मन खेमे की बेटी (पूजा हेगड़े) से प्रेम करने लगता है। वही, रुस्तम १९५९ के एक सनसनीखेज आहूजा मर्डर केस पर आधारित थ्रिलर फिल्म है। फिल्म का नायक अपनी पत्नी के प्रेमी का क़त्ल कर देता है। निर्माता नीरज पाण्डेय और अभिनेता अक्षय कुमार की जोड़ी की यह तीसरी फिल्म है। अलबत्ता, फिल्म के निर्देशक नीरज पाण्डेय नहीं बल्कि टीनू सुरेश देसाई हैं।मोहनजोदड़ो में आशुतोष गोवारिकर और हृथिक रोशन दूसरी बार एक साथ हैं, वह भी ऐतिहासिक फिल्म के बाद प्रागैतिहासिक फिल्म में। इससे पहले यह जोड़ी ऐतिहासिक फिल्म जोधा अकबर में अपना दमखम दिखा चुकी है। ज़ाहिर है कि दोनों फिल्मों के बीच कडा मुकाबला है। 
दोनों फ़िल्में नायकों पर केंद्रित 
ख़ास बात यह है कि मोहनजोदड़ो और रुस्तम पूरी तरह से अपने नायक पर केन्द्रित फ़िल्में है। मोहनजोदड़ो के केंद्र में हृथिक रोशन हैं। फिल्म की नायिका पूजा हेगड़े की यह पहली फिल्म हैं। रुस्तम की सनसनी अक्षय कुमार हैं। उनकी नायिका इलेना डिक्रूज की पांच हिंदी फ़िल्में ही रिलीज़ हुई हैं। हृथिक रोशन कोई दो साल बाद स्क्रीन में नज़र आयेंगे। उनकी पिछली फिल्म बैंग बैंग २०१४ में रिलीज़ हुई थी। ,बैंग बैंग ने बढ़िया बिज़नस किया था। दर्शकों को हृथिक की फिल्मों का इंतज़ार रहता है। चूंकि, वह दो साल बाद हृथिक की फिल्म देखेंगे, इसलिए उनमें मोहनजोदड़ो को लेकर क्रेज है। वहीँ अक्षय कुमार की फ़िल्में कहानी पर ज्यादा केन्द्रित होती हैं। यह सशक्त कहानियाँ अपने हीरो के किरदार को निखारती हैं। अक्षय कुमार की पिछली फ़िल्में बेबी, स्पेशल २६, गब्बर इज बैक और एयरलिफ्ट गवाह हैं कि इन फिल्मों की कहानी ने दर्शकों को प्रभावित किया था। अक्षय कुमार लीक से हट कर फ़िल्में करने वाले हीरो के बतौर उभरे थे। इसलिए, दर्शकों को अक्षय कुमार की फिल्मों का बेसब्री से इंतज़ार रहता है। 
रुस्तम पर भारी मोहनजोदड़ो का बजट
बजट के लिहाज़ से मोहनजोदड़ो रुस्तम की दोगुनी है। मोहनजोदड़ो प्रागैतिहासिक काल की पृष्ठभूमि पर होने के कारण फिल्म में वीएफएक्स के दृश्य काफी ज्यादा हैं। इस कारण से मोहनजोदड़ो का बजट १०० करोड़ पार कर गया है। वहीँ, रुस्तम केवल ४५ करोड़ में बनी फिल्म है। वैसे इस फिल्म में भी १९५९ के बॉम्बे को दिखाया गया है। लेकिन, यह इतना खर्चीला नहीं हैं। इस लिहाज़ से मोहनजोदड़ो को रुस्तम के मुकाबले दोगुना से कहीं बहुत ज्यादा कमाने होंगे। जबकि, ४०० कम स्क्रीन में रिलीज़ होने के बावजूद रुस्तम के लिए लक्ष्य पाना (लागत वसूल करना) आसान होगा। यह आसानी से हिट फिल्मों में शुमार हो सकती है। 
क्या होगा १२ अगस्त को ! क्या कोई हारेगा, कोई जीतेगा ? क्या दोनों फिल्मों को स्वतंत्रता दिवस वीकेंड रास आएगा ? मोहनजोदड़ो के वीएफएक्स चर्चित हो रहे हैं। ख़ास तौर पर, हृथिक रोशन और मगर के बीच युद्ध और फिल्म के तमाम दूसरे युद्ध दृश्य सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों के मालिकों को रास आ रहे है। वहीँ रुस्तम की कहानी में मोड़ है। फिल्म में मर्डर मिस्ट्री है ही, देशभक्ति का छौंका भी है। बताते हैं कि फिल्म को देख रहे दर्शक इस घुमाव से चकित रह जायेंगे। देखिये, क्या होता है १२ अगस्त को ! 

अल्पना कांडपाल 

Saturday, 6 August 2016

अब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी बनेंगे गोल्फ चैंपियन (पोस्टर)

सोहेल खान प्रोडक्शन की फिल्म फ्रीकी अली के पांच पोस्टर आज सलमान खान ने ज़ारी किये। सोहेल खान निर्देशित इस फिल्म में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने एक गरीब आदमी का किरदार किया है, जो अमीरों के खेल गोल्फ में अपना मुकाम हासिल करता है और अपनी प्रेमिका को पाने में सफल होता है ।  इस फिल्म में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने चैंपियन गोल्फर का किरदार किया है।  अरबाज़ खान उनके दोस्त बने हैं और एमी जैक्सन उनकी प्रेमिका।  यह फिल्म ९ सितम्बर को रिलीज़ हो रही है।




Wednesday, 3 August 2016

क्यूबा में शूट होने वाली पहली फिल्म ट्रांसफार्मर्स ५

आजकल, हॉलीवुड में बिलकुल नया चलन बन गया है। हॉलीवुड के फिल्म निर्माता फ़ास्ट फ्राइडे मनाने लगे हैं। इसके तहत हर सप्ताह शुक्रवार, फिल्म निर्माता अपनी उस ख़ास हफ्ते में शूट की गई फिल्म के ख़ास दृश्यों की झलक वीडियो के ज़रिये अपलोड करने लगे है। यह सिलसिला फ़ास्ट एंड फ़्युरिऔस ८ के विडियो के रिलीज़ होने के साथ शुरू हुआ था। इसलिए इस शुक्रवार को फ़ास्ट फ्राइडे कहा जा रहा है। पिछले शुक्रवार ट्रांसफार्मर्स ५ के शूट ख़ास दृश्य सोशल साइट्स पर अपलोड किये गए। ट्रांसफार्मर्स: द लास्ट नाइट के विडियो में हाईवे पर कई भारी गाड़ियाँ दौड़ती नज़र आती हैं। एक धमाका होता है और तीन स्पोर्ट्स यूटिलिटी व्हीकल्स धमाके के साथ हवा में उड़ जाती हैं।  इसके बाद एक के बाद एक डगमगाती गाडिया आपस में भिड़ने लगती हैं। यह वीडियो निर्देशक माइकल बे की शैली में हैं। हस्ब्रो के खिलौने ट्रांसफार्मर्स पर यह सीरीज की पांचवी फिल्म है।  इस फिल्म में रोबोटिक मानव ऑप्टिमस प्राइम को ट्रांसफार्मर्स की उत्पति के लिए ज़िम्मेदार अब मृत हो चुके ग्रह क्विन्टेसनस की तलाश है, ताकि उसे जीवित किया जा सके । इस फिल्म में मार्क वह्ल्बर्ग ने कैड एगर का किरदार किया है। पीटर कले ने प्राइम ऑप्टिमस को आवाज़ दी है। फिल्म में जॉश डुहामेल, टायर्स गिब्सन, इसाबेल मोनेर, आदि सपोर्टिंग रोल में हैं।  इस फिल्म की शूटिंग डेट्रायट के अलावा क्यूबा की कई लोकेशन में होगी। क्यूबा पर अमेरिकी प्रतिबन्ध हटने के बाद क्यूबा में शूट होने वाली यह पहली हॉलीवुड फिल्म है। पैरामाउंट की इस फिल्म की पटकथा केन नोलन ने आर्ट मरक्यूम और मैट हॉलोवे के साथ लिखी है।  यह फिल्म अगले साल २३ जून को रिलीज़ होगी।  

क्या ५७ साल पहले जैसी भव्य होगी रथ दौड़ !

सत्तावन साल बाद, एक बार फिर आइकोनिक रथ दौड़ बड़े परदे पर उतरने जा रही है। लेव वालेस  के उपन्यास बेन-हर: अ टेल ऑफ़ द क्राइस्ट के उपन्यास पर आधारित १९५९ में रिलीज़ फिल्म बेन-हर अपनी चार्लटन हेस्टन, जैक हॉकिन्स, हय हैरारित, स्टीफेन बॉयड, ह्यू ग्रिफिथ, मार्था स्कोट, आदि जैसी बड़ी स्टार कास्ट के कारण जितनी मशहूर हुई थी, उससे कहीं अधिक दर्शकों ने इस फिल्म को रथों की दौड़ के लिए देखा था। इसीलिए, अब जब बेन-हर की कहानी को फिर से परदे पर उतारा जा रहा है, दर्शकों की आँखों में ५७ साल पहले की रथ दौड़ का नज़ारा घूम रहा है। क्या डायरेक्टर तिमूर बेक्मम्बतोव अपनी फिल्म को ५७ साल पहले की भव्यता दे पाएंगे ? पिछले दिनों रिलीज़ इस फिल्म के ट्रेलर मे रथ दौड़ ही ख़ास थी। इस दौड़ के दृश्य में रथ पर सवार अभिनेता जैक ह्यूस्टन रथ दौड़ाते नज़र आते हैं। उनके रथ के पीछे दूसरा रथ आ भिड़ता है। इसे देखना बड़ा रोमांचक लगता है। निर्देशक तिमूर का दावा है कि यह दृश्य फिल्म का ‘क्राउन ज्वेल’ होगा। १९ अगस्त को रिलीज़ होने जा रही फिल्म बेन-हर: अ टेल ऑफ़ द क्राइस्ट में मुख्य चरित्र जूडा बेन-हर का किरदार जैक ह्यूस्टन कर रहे हैं।  इनके अलावा मॉर्गन फ्रीमैन इल्डेरिम, टोबी केबेल्स मेसाला, नाज़नीन बोनियादी इस्थर और रॉड्रिगो सैंटोरो जीसस क्राइस्ट की भूमिका में नज़र आयेंगे।