Saturday, 11 February 2017

स्कूल में फंस गई दो लड़कियाँ

कोई एक साल तक दुनिया के कई फेस्टिवलों में प्रीमियर रिलीज़ के बाद 'द ब्लैककोट्स डॉटर' थिएटरो में रिलीज़ होने जा रहे हैं। अमेरिका और कनाडा की इस कोप्रोडक्शन फिल्म का मूल नाम फेब्रुअरी या फरवरी है। इस फिल्म को सितम्बर २०१५ को टोरंटो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में पहली बार दिखाया गया था।  परंतु, निर्देशक ओज पर्किन्स  की यह फिल्म पहले १६ फरवरी को डायरेक्ट टीवी सब्सक्राइबर्स के लिए केबल टीवी प्रोवाइडर के माध्यम से रिलीज़ की जाएगी।  इसके बाद, ३१ मार्च को फिल्म की स्क्रीनिंग थिएटरो में होगी।  ए २४ द्वारा रिलीज़ यह फिल्म टकराएगी ट्वेंटिएथ सेंचुरी फॉक्स की वाइड रिलीज़ फिल्म द बॉस बेबी, पैरामाउंट की फिल्म घोस्ट इन द शेल, ब्रॉड ग्रीन पिक्चर्स की स्टेप सिस्टर्स और फोकस फीचर्स की द जूकीपर्स वाइफ से।  हॉरर थ्रिलर फिल्म 'द ब्लैककोट्स डॉटर' की कहानी के केंद्र में दो लड़किया कैट (किरनन शिपका) और रोज़ (लूसी बोयंटन) हैं, जो सर्दियों की छुट्टियों में अपने ब्रम्फॉर्ड  प्रेप स्कूल में अकेली रह जाती हैं।  क्योंकि उनके अभिभावक रहस्यमय तरीके से उन्हें लेने नहीं आ पाए हैं।  इस समय दोनों लड़कियों को अजीब और डरावने अनुभव होते हैं।  इस कहानी में के परेशान हाल युवती जोआन (एमा रॉबर्ट्स) की कहानी जुड़ जाती है, जो जल्दी से जल्दी ब्रम्फोर्ड पहुँचाने के लिए दौड़ रही है।  वह औरत जैसे जैसे स्कूल के पास पहुंचती है, कैट को डरावने अनुभव होने लगते हैं।  इस फिल्म का सस्पेंस उस समय कई गुना बढ़ जाता है, जब दोनों लड़कियों और औरत के चरित्र आपस में मिलते हैं।  द ब्लैककोट्स डॉटर ओज पर्किन्स की बतौर डायरेक्टर पहली फिल्म है।  इससे पहले वह फिल्मों में अभिनय किया करते थे।  वह लीगली ब्लोंड, सेक्रेटरी और स्टार ट्रेक जैसी फ़िल्में कर चुके हैं।  उन्होंने रिमूवल, कोल्ड कम्स द नाईट और द गर्ल इन द फोटोग्राफ्स जैसी फिल्मों की पटकथा लिख चुके हैं।  द ब्लैककोट्स डॉटर में जेम्स रेमर (बिल), लॉरेन हॉली (लिंडा), एमा होल्ज़र (लिज़ी) पीटर जे ग्रे (रिक) और मैथ्यू स्टेफ़्लूक (रेंजर) के महत्वपूर्ण किरदार हैं।  द ब्लैककोट्स डॉटर के निर्माता अनब्रोकेन पिक्चर्स के एड्रिएन बिड़ल और ब्रायन बरटीनो (द स्ट्रेन्जर्स) और पेरिस फिल्म के रॉब पेरिस हैं।  ए२४ द्वारा बहु-प्रतीक्षित फिल्म फ्री फायर ( २४ अप्रैल) और द लवर्स (५ मई) भी रिलीज़ करेंगे।    

No comments:

Post a Comment