Monday, 9 May 2016

फिल्मों की मखमली आवाज़ : तलत महमूद

अपनी मखमली आवाज़ से पहचाने जाने वाले तलत महमूद ने अपने समय के सभी बड़े अभिनेताओं दिलीप कुमार, अशोक कुमार, देव आनंद और राजकपूर के रील लाइफ चरित्रों को आवाज़ दी। उन्होंने ख़ास तौर पर रोमांटिक और दुःख भरे गीत बड़ी शिद्दत से गए। वह गैर शास्त्रीय और अर्ध शास्त्रीय गीतों के महारथी गायक थे।  हिंदी फिल्मों के ग़ज़ल को स्थापित करने का श्रेय तलत महमूद को जाता है।  वह भारतीय महाद्वीप में सबसे कोमल आवाज़ वाले गायक माने जाते थे।  उर्दू भाषी श्रोताओं में वह ख़ास मशहूर थे।  लखनऊ में जन्मे तलत महमूद ने आज की भातखण्डे संगीत महाविद्याल में संगीत की शिक्षा ली।  उन्होंने दाग़ की ग़ज़लों को गाने से अपने म्यूजिक करियर की शुरुआत की।  तलत महमूद ऎसी शख्सियत थे, जब वह वह कलकत्ता से बॉम्बे पहुंचे तो उनकी शोहरत उनसे पहले पहुँच चुकी थी।  संगीतकार अनिल विस्वास ने उनसे आरज़ू का ऐ दिल मुझे ले चल ऐसी जगह' गवाया।  इस गीत के साथ तलत महमूद हिंदी फिल्मों में जम गए।  वह शक्ल सूरत से हसीं थे, इसलिये उन्हें फिल्मों में भी काम मिला।  उन्होंने सुरैया (मालिक), नूतन (सोने की चिड़िया), एक गांव की कहानी (माला सिन्हा ), नादिरा (रफ़्तार और डाक बाबू), काननबाल (तुम और मैं और राजलक्ष्मी), आदि के साथ फ़िल्में की।  हिंदी फिल्मों में रॉक एन रोल की शुरुआत के साथ ही तलत महमूद का करियर ख़त्म होना शुरू हो गया।  उन्हें १९९२ में पद्मभूषण दिया गया।  उनकी गाये कुछ मशहूर गीतों में हम से आया न गया (देख कबीर रोया), जाएँ तो जाए कहाँ (टैक्सी ड्राइवर), तस्वीर बनाता हूँ (बारादरी), आंसू समझ के क्यों मुझे (छाया), जलाते हैं उसके लिए (सुजाता), फिर वही शाम वही गम (जहाँ आरा ), मैं दिल हूँ एक अरमान (अनहोनी), बेचैन नज़र बेताब जिगर (यास्मीन), ऐ मेरे दिल कहीं और चल (दाग) , आदि यादगार हैं।  ९ मई १९९८ को ७४ साल की उम्र में उनका निधन हुआ।

No comments:

Post a Comment