Monday, 16 November 2015

एक फिल्म में उत्तर दक्षिण के सुपर स्टार

एस एस राजामौली की फिल्म ‘बाहुबली द बेगिनिंग’ के हिंदी में डब संस्करण ने बॉक्स ऑफिस पर ज़बरदस्त बिज़नस किया था । फिल्म ने रजनीकांत की फिल्म ‘रोबोट’ से छः गुना ज्यादा बिज़नस किया क्या इसे ‘बाहुबली द बेगिनिंग के नायक प्रभास की हिंदी बेल्ट के फिल्म दर्शकों के बीच स्वीकारोक्ति कहा जा सकता है ? फिलहाल इस सवाल का जवाब मुमकिन नहीं है । लेकिन, हिंदी दर्शकों को भी अगले साल रिलीज़ होने जा रहे इस फिल्म के दूसरे हिस्से ‘बाहुबली द कांक्लुजन’ का बेताबी से इंतज़ार है । संभव है कि ‘बाहुबली द कांक्लुजन’ ‘द बेगिनिंग’ से बड़ी हिट फिल्म साबित हो । लेकिन, इससे भी प्रभास की  स्वीकृति साबित नहीं होती।  प्रभास को तो बॉलीवुड की किसी विशुद्ध हिंदी फिल्म से अपने स्टारडम की परीक्षा देनी होगी । दक्षिण के सितारों के लिए हिंदी फिल्मों का महत्व केवल अखिल भारतीय दर्शक पाना ही नहीं, बल्कि राजनीतिक दृष्टि से भी है।  आंध्र प्रदेश के सुपर स्टार नन्दीमुरी तारक रामाराव ने १९९१ के लोक सभा चुनाव में कांग्रेस को चुनौती देने के लिए 'ब्रह्मऋषि विश्वामित्र 'का निर्माण हिंदी में भी किया था।  विश्वामित्र की भूमिका में वह खुद थे तथा मेनका मीनाक्षी शेषाद्रि बनी थी।  उनके खिलाफ दसरी नारायण राव ने 'विश्वामित्र' नाम की हिंदी फिल्म बनाई थी।  अब यह बात दीगर है कि किसी न किसी कारण से यह दोनों फ़िल्में समय पर रिलीज़ नहीं हो सकी।  विश्वामित्र तो पूरी ही नहीं हो सकी।  तब इसे दसरी नारायण राव ने टीवी सीरियल के रूप में दूरदर्शन से टेलीकास्ट करवाया।  
गणेशन भी हिंदी बोले 
जहाँ तक बॉलीवुड में दक्षिण के सितारों की सफलता का सवाल है, यह बहुत उत्साहवर्धक नहीं है । हालाँकि, कन्नड फिल्मों के सुपर स्टार राजकुमार जैसे अभिनेता भी थे, जिन्हें हिंदी फिल्मों में काम करने में कोई दिलचस्पी नहीं थी । इसके बावजूद दक्षिण के बहुत से सितारों ने हिंदी फिल्मों में किस्मत आजमाने की बार बार कोशिश की । दक्षिण के इन सितारों ने बॉलीवुड के बड़े सितारों के साथ भी फ़िल्में की, लेकिन दर्शकों की स्वीकारोक्ति नहीं मिली । यहाँ बताते चलें कि हिंदी फिल्मों में आने वाले ज़्यादातर अभिनेता दक्षिण के सुपर स्टार थे । कभी दक्षिण में शिवाजी गणेशन और जैमिनी गणेशन की तूती बोला करती थी । यह दोनों गणेशन भी हिंदी फिल्मों में नज़र आये । इन दोनों ने ही मेहमान भूमिकाये की । शिवाजी गणेशन ने राजेंद्र कुमार और वहीदा रहमान के साथ फिल्म ‘धरती’ में और जैमिनी गणेशन ने राजकपूर और वैजयंतीमाला की फिल्म ‘नज़राना’ में मेहमान भूमिका की थी । दोनों ही फिल्मे दक्षिण के निर्देशक सी वी श्रीधर द्वारा निर्देशित और बॉलीवुड के बड़े सितारों वाली फ़िल्में थी । वैसे शिवाजी गणेशन को हिंदी फिल्मों में कोई ख़ास दिलचस्पी नहीं थी । लेकिन ‘धरती’ तो राजेंद्र कुमार और वहीदा रहमान की बड़ी कास्ट के बावजूद फ्लॉप हुई । नज़राना का बिज़नस भी ख़ास नहीं रहा । हिंदी दर्शकों ने जैमिनी गणेशन की बेटी रेखा को तो सुपर स्टार का दर्ज़ा दिया, लेकिन पिता गणेशन को ठुकरा दिया ।  
मम्मूती, मोहनलाल और विष्णुवर्द्धन 
हिंदी फिल्मों ने दक्षिण की अभिनेत्रियों को तो हाथोंहाथ लिया। परन्तु, दक्षिण के अभिनेताओं को सफलता नहीं मिली।  इसके बावजूद, दक्षिण की तमिल-तेलुगु-मलयालम फिल्मों के सितारे हिंदी फिल्मों में छिटपुट नज़र आते रहे । इनमे मलयालम सुपर स्टार मोहनलाल और मम्मूती के नाम उल्लेखनीय है । १९९३ में इकबाल दुर्रानी की फिल्म ‘धरती पुत्र’ रिलीज़ हुई थी । यह एक रोमांटिक एक्शन फिल्म थी । फिल्म में ऋषि कपूर और जयाप्रदा के साथ फिल्म के नायक मम्मूती थे । फिल्म फ्लॉप हुई । मम्मूती ने ‘बाबासाहब आंबेडकर’ फिल्म में अम्बेडकर की भूमिका की । मोहनलाल ने रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘कंपनी’ से डेब्यू किया था । फिल्म में अजय देवगन और मनीषा कोइराला मुख्य भूमिका में थे । मोहनलाल ने एक ईमानदार पुलिस अधिकारी की सशक्त भूमिका की थी । मोहनलाल ने रामगोपाल वर्मा की आग में अमिताभ बच्चन, हल्ला बोल में अजय देवगन और तेज़ में अजय देवगन और अनिल कपूर के साथ स्क्रीन शेयर की । लेकिन, दोनों ही मलयालम सुपरस्टार बॉलीवुड में जगह नहीं बना सके । इसी प्रकार से कन्नड़ सुपर स्टार विष्णुवर्द्धन ने इंस्पेक्टर धनुष में नायक की भूमिका निबाहने के बाद अक्षय कुमार के साथ दो फिल्मों ‘अशांत’ और ‘ज़ालिम’ में काम किया । विष्णुवर्द्धन को भी बॉलीवुड रास नहीं आया ।
तमिल सितारों की लम्बी पारी 
हिंदी दर्शकों को सबसे ज्यादा आकृष्ट करने की कोशिश कमल हासन और रजनीकांत ने की । बॉलीवुड में सबसे ज्यादा लम्बी पारी इन्हीं दोनों सितारों ने खेली। इन दोनों को बॉलीवुड के सुपर स्टार अमिताभ बच्चन के साथ फ़िल्में भी मिली । रजनीकांत की पहली फिल्म ‘अँधा कानून’ में अमिताभ बच्चन एक्सटेंडेड गेस्ट रोल में थे । कमल हासन और रजनीकांत फिल्म गिरफ्तार में अमिताभ बच्चन के साथ थे । कमल हासन ने अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म खबरदार भी की थी । इन दोनों ही तमिल सुपर स्टारों को बॉलीवुड के बड़े नामों के साथ फ़िल्में करने का मौका मिला । इनमे कमल हासन की राजकुमार, धर्मेन्द्र और सुनील दत्त के साथ फिल्म राज तिलक और रजनीकांत की शत्रुघ्न सिन्हा के साथ फिल्म उत्तर दक्षिण उल्लेखनीय हैं । इसके बावजूद यह दोनों तमिल फिल्म स्टार बॉलीवुड में अपनी जगह पक्की नहीं कर सके ।
बच्चनों का साथ
दक्षिण के सितारों के साथ संयोगवश या जान बूझ कर अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन को लेकर फ़िल्में बनाई गई । कमल हासन और रजनीकांत की अमिताभ बच्चन के साथ फिल्मों का तो ज़िक्र किया जा चूका है । अमिताभ बच्चन ने राणा दग्गुबती के साथ डिपार्टमेंट, धनुष के साथ षमिताभ और नागार्जुन के साथ खुदा गवाह की । अभिषेक बच्चन ने राणा दग्गुबती के साथ दम मारो दम और विक्रम के साथ मणि रत्नम की फिल्म ‘रावण’ की । अभी राणा दग्गुबती फिल्म ‘बेबी’ में अक्षय कुमार के साथ कमांडों की भूमिका में थे । दक्षिण की फिल्मों के सितारे सिद्धार्थ ने रंग दे बसंती में आमिर खान के एक मित्र की भूमिका की थी । रंग दे बसंती में आमिर खान के एक दूसरे मित्र आर माधवन ने सैफ अली खान के साथ फिल्म ‘रहना है तेरे दिल में’ से रोमांटिक डेब्यू किया । वह ‘३ इडियट्स’ में भी आमिर के जोड़ीदार थे ।
अगर, दक्षिण के सितारों की बॉलीवुड या हिंदी फिल्मों में असफलता का ऊंचा ग्राफ देखे तो दक्षिण के सितारों के लिए हिंदी फिल्मों में कोई जगह नज़र नहीं आती । लेकिन, अब परिदृश्य बदल रहा है । दक्षिण की डब फिल्मों को सौ करोड़ की कमाई देने वाले दर्शक मिलना इस बदले परिदृश्य की ओर इशारा करता है । राणा दग्गुबती को परदे पर देख रहे हिंदी ‘बाहुबली द बेगिनिंग’ और ‘बेबी’ के दर्शक तालियाँ बजा रहे थे । माधवन और धनुष अपने खुद के बल पर अपनी हिंदी फ़िल्में तनु वेड्स मनु सीरीज और रांझाना हिट करा ले जाते हैं । ‘बाहुबली द कांक्लुजन’ के बाद सिनेरियो और बदलेगा । राणा दग्गुबती, माधवन, सहित कुछ तमिल-तेलुगु सितारों की फ़िल्में हिंदी में भी बनाई जा रही हैं । सलमान खान की फिल्म ‘प्रेम रतन धन पायो’ तमिल और तेलुगु में भी रिलीज़ की जा रही है । इसलिए बॉलीवुड की फिल्मों को दक्षिण में झांकने के लिए दक्षिण के सितारों की ज़रुरत होगी । रा.वन और चेन्नई एक्सप्रेस जैसी फिल्में इसे साबित कर चुकी हैं । 

No comments:

Post a Comment