Wednesday, 6 January 2016

लड़की और लड़का की कहानी नहीं 'की एंड का'

आर बाल्की की फिल्म 'की एंड का' कहानी है किआ और कबीर के रोमांस और शादी की और शादी के बाद की अड़चनों की।  किआ वर्किंग वुमन है। वह बहुत महत्वाकांक्षी है। कबीर एक शेफ है। वह प्रगतिशील विचारों का और किआ की महत्वाकांक्षा का समर्थन करता है। वह घर में बैठ कर, किआ के लिए खाना बना कर उस का इंतज़ार करता है ।  फिल्म है स्त्री और पुरुष होने की।  लड़की यानि की और लड़का यानि का।  फिल्म में इन दोनों को करीना कपूर खान और अर्जुन कपूर पेश कर रहे हैं।  करीना और अर्जुन की उम्र में पांच साल का फर्क है।  स्क्रीन पर भी यह फर्क नज़र आता है। दोनों के विचारों में फर्क है। लेकिन,  करीना के किरदार के अर्जुन के किरदार से उम्र में बड़ा होने और उसके वर्किंग वुमन होने से इन दोनों की वैवाहिक ज़िंदगी में कोई विपरीत असर नहीं पड़ता।  फिल्म में किआ और कबीर के बीच भरपूर रोमांस हैं।  करीना ने बेझिझक अर्जुन से प्रेमालाप किया है।  तमाम दृश्यों में करीना कपूर  अर्जुन कपूर में खोई नज़र आती हैं।  फिल्म के बारे में बाल्की बताते हुए कहते हैं, "हिंदी भाषा में मनुष्यों के लिए ही नहीं मृत वस्तुओं को भी लिंग में विभाजित किया गया है।  प्रत्येक व्यक्ति और प्रत्येक  वस्तुओं का लिंग विभेद किया गया है। लेकिन,  यह फिल्म, जोड़े के  विवाह की तरह, यह रेखांकित करती है कि की और का का लिंग भेद मायने नहीं रखता।





No comments:

Post a Comment