Saturday, 9 January 2016

अब इंडियन अदनान सामी

आखिरकार, भारत सरकार ने पाकिस्तानी गायक अदनान सामी को भारत का नागरिक घोषित कर ही दिया। वह २००१ से भारत में अपनी जर्मन पत्नी के साथ रह रहे थे।  उन्हें इंडियन सिटीजनशिप एक्ट १९९५ के सेक्शन ६ के तहत नागरिकता दी गई। अब वह भारत के अदनान सामी हो गए हैं।  वह हिंदुस्तान आये थे आम पाकिस्तानी आर्टिस्ट की तरह पाकिस्तान से कहीं ज़्यादा हिंदी उर्दू जानने वाले आबादी के लिए गीत गाने और अपनी झोली भरने।  इसमे उन्हें सफलता भी मिली।  उनके गाये गीतों के एल्बम निकले।  उन्होंने फ़िल्में भी की।  लेकिन, अदनान सामी से पहले और उनके बाद पाकिस्तान से काफी कलाकार आये थे और आये हैं और आते रहेंगे।  क्या यह लोग भी भारत की नागरिकता को बेकरार होते हैं ? पाकिस्तान के अलावा दूसरे देशों से भी आर्टिस्ट्स की आमद होती है।  क्या इन्हे भी भारतीय नागरिकता की ज़रुरत होती है ? आइये, पहले जानते हैं कौन हैं वह विदेशिया हस्तियां जो बॉलीवुड में अपनी किस्मत आज़मा रही हैं -
सरहद पार से
पाकिस्तान से भारी तादाद में आर्टिस्ट्स बॉलीवुड में नाम और नामा कमाने के लिए आते रहते हैं।  पाकिस्तान के ३६ देशों से ऐसे सम्बन्ध हैं, जहाँ उसके नागरिक बिना वीसा के जा सकते हैं। इन ३६ देशों में भारत का नाम शामिल नहीं है।  इसलिए पाकिस्तानियों को भारत आने के लिए वीसा लेना पड़ता है।  पाकिस्तानियों के लिए भारतीय दूतावास के ख़ास निर्देश हैं कि अगर वह भारत में जा कर कमाई करना चाहते हैं तो विजिटर वीसा के लिए आवेदन न करें।  उन्हें एम्प्लॉयमेंट वीसा के लिए आवेदन करना होगा। इस वीसा को काफी जांच पड़ताल के बाद जारी किया जाता है। इसके बावजूद पाकिस्तानी एक्टरों और गायकों-संगीतकारों की भरमार है।
आतिफ असलम- आतिफ २००५ से हिंदी फिल्मों में सक्रिय हैं।  लेकिन, वह परदे के पीछे से एक्टरों के लिए गाते ही सुने जा सकते हैं।  आतिफ असलम को २०१३ में भारत में सबसे लोकप्रिय गायक बताया गया था।  उनके पीछे अरिजित सिंह, मोहित चौहान और ए आर रहमान जैसे गायक और संगीतकार हैं।  वह स्क्रीन पर खुद के गीत गाते हुए नज़र ज़रूर आये हैं।  लेकिन, कोई बड़ी भूमिका नहीं कर सके हैं।
अली ज़फर - यह बॉलीवुड में २०१० से सक्रिय हैं।  उनकी डेब्यू फिल्म 'तेरे बिन लादेन' हिट हुई थी।  उनके खाते में लंदन पेरिस न्यू यॉर्क, चश्मे बद्दूर और टोटल सियापा जैसी फ़िल्में दर्ज़ हैं।  उनकी आगामी फिल्म यामी गौतम के साथ अमन की आशा है।
वीना मालिक-  वीना मलिक अपनी फिल्मों से ज़्यादा अपने विवादों के कारण भारत में जानी गई।  वह बॉलीवुड में २०१२ से सक्रिय है।  वीना का बॉलीवुड डेब्यू फिल्म 'दाल में कुछ काला' से हुआ था।  वह 'ज़िन्दगी फिफ्टी फिफ्टी' और 'मुंबई १२५ किमी' के अलावा डर्टी पिक्चर के कन्नड़ संस्करण में भी अभिनय कर चुकी है।
साशा आगा- १९८२ में रिलीज़ बीआर चोपड़ा की फिल्म 'निकाह' की नायिका सलमा आगा की बेटी साशा आगा ने २०१३ में रिलीज़ फिल्म 'औरंगज़ेब' में अर्जुन कपूर की नायिका का रूप में डेब्यू किया था।  उनकी दूसरी फिल्म 'देसी कट्टे' २०१४ में रिलीज़ हुई थी।
पाकिस्तान के अलावा भी
पाकिस्तान के अलावा अन्य देशों से भी तमाम एक्टर बॉलीवुड फिल्मों में काम करने के लिए बेताब नज़र आते हैं।  इनमे कुछ को अच्छी सफलता मिलती है और कुछ को कुछ ख़ास नहीं।  काफी ऐसे हैं, जिन्हे बैरंग वापस लौटना पड़ता है।
कटरीना कैफ - कैटरीना कैफ का नाम बॉलीवुड की सबसे सफल अभिनेत्रियों में गिना जाता है। वह ब्रिटिश पासपोर्ट धारक हांगकांग की एक्ट्रेस हैं।  वह बॉलीवुड की सबसे ज़्यादा मेहनताना पाने वाली अभिनेत्रियों में शुमार की जाती हैं।  वह पिछले एक दशक से ज़्यादा समय से एम्प्लॉयमेंट वीसा पर फ़िल्में कर रही हैं। वह भारत में रुकने के लिए अपने वीसा की मियाद बढ़वा लेती हैं।
नर्गिस फाखरी-  इम्तियाज़ अली की फिल्म 'रॉकस्टार' की नायिका नर्गिस फाखरी २०११ से बॉलीवुड में सक्रिय हैं।  उनके पास अमेरिकन वीसा है।  वह चेक माँ और पाकिस्तानी पिता की संतान हैं।  वह पांच साल के एम्प्लॉयमेंट वीसा पर काम कर रही हैं।
जैकलिन फर्नॅंडेज़- वह श्रीलंका से मिस यूनिवर्स की प्रतिभागी हैं।  इस प्रतियोगिता के बाद जैकलिन ने बॉलीवुड का रुख किया।  सुजॉय घोष की फिल्म 'अलादीन' (२००९) से उनका बॉलीवुड डेब्यू हुआ।  यह वर्क परमिट पर फिल्मों में काम कर रही हैं।
कुछ ख़ास हैं यह
कुछ ऎसी बॉलीवुड हस्तियां हैं जो अपने इंडियन ओरिजिन के कारण वह भारत में आ-जा सकती हैं।  लेकिन, इन्हे रोजगार सम्बन्धी सभी औपचारिकताएं पूरी करनी होती हैं।  इनमे अमरीकन पासपोर्ट धारक एक भारतीय के बेटे इमरान खान, पंजाबी ओरिजिन की पोर्न स्टार सनी लियॉन, मेलबोर्न ऑस्ट्रेलिया की पल्लवी शारदा तथा पंजाबी पिता और जर्मन माँ की संतान एवलीन शर्मा के नाम उल्लेखनीय हैं।
मशक्कत करनी पड़ती है बहुत
बॉलीवुड में काम करने वाले कलाकारों को मुंबई में रुकने के लिए खासी मशक्कत करनी पड़ती है।  काफी औपचारिकताएं पूरी करनी पड़ती है और डाक्यूमेंट्स देने पड़ते हैं।  इससे इन कलाकारों को खासी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।  इमरान अब्बास नक़वी फिल्म 'क्रीचर ३डी' में बिपाशा बासु के नायक थे।  लेकिन, वह अपनी फिल्म के रिलीज़ से पहले के प्रमोशन में शामिल नहीं हो सके।  क्योंकि, उनका वीजा तीन बार रिजेक्ट किया का चुका था।  बाद में वह फिल्म के टीवी प्रमोशन में शामिल हुए।  इसी प्रकार से वह लखनऊ में अपनी फिल्म 'जानिसार' के प्रमोशन पर नहीं जा सके, क्योंकि, उनके वीजा की मियाद ख़त्म हो गई थी।  इसीलिए उन्हें वीसा की अवधि  ख़त्म होने के बाद भारत से भी जाना पड़ा। इसी प्रकार से राजा नटवरलाल में इमरान हाश्मी की पाकिस्तानी नायिका हुमैमा मलिक को भी फिल्म की मुंबई में शूटिंग शुरू करने में ही काफी पापड़ बेलने पड़े।  जब वर्क वीसा मिला तो भी उसकी मियाद बीच में ख़त्म हो गई।  इससे फिल्म की शूटिंग फिर रुख गई।  बाद में प्रॉपर वीसा मिल जाने के बाद यह राजा नटवरलाल की शूटिंग पूरी कर सकी।  शाहरुख़ खान की फिल्म रईस की नायिका माहिरा खान को अपने टीवी सीरियल की लॉन्चिंग के लिए वीसा मिलने में भारी कठिनाई हुई।  कोई आठ साल पहले स्वर्गीय जग मूंधड़ा की फिल्म 'शूट ऑन साइट' के पाकिस्तानी एक्टर मिकाल ज़ुल्फ़िकार फिल्म के प्रीमियर के लिए मुंबई नहीं आ सके, क्योंकि, मुंबई टेरर अटैक के बाद उनकी वीसा एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दी गई थी।  उसी दौरान पाकिस्तान के दो कॉमेडियन नदीम और एहसान को देश छोड़ कर जाने के लिए कहा गया था।  २०१२ में सैफ अली खान की फिल्म कॉकटेल में 'तुम्ही हो बंधू' और 'दारु देसी' जैसे हिट गीत गाने वाले चार पाकिस्तानी गायक आरिफ लोहार, जावेद बशीर, इमरान अज़ीज़ मियां और  साहिर अली बग्गा वीसा प्रॉब्लम के कारण म्यूजिक लांच के मौके पर नहीं पहुँच सके।  २६/११ के आतंकी हमले के बाद राहत फ़तेह अली खान को भी अपने गीत ऑन लाइन या विदेश के किसी स्टूडियो में रिकॉर्ड करवा कर कंपोजर को भेजने पड़े थे।
कठिनाइयों के बावजूद हिंदुस्तान को 'नो'
बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री में बहुत से विदेशी काम करते हैं।  वह वर्क वीसा या एम्प्लॉयमेंट वीसा पर वर्षों से काम कर रहे हैं।  लेकिन, अगर मुंबई के कलेक्टर ऑफिस की खबरों पर भरोसा किया जाए तो इनमे से किसी ने भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन नहीं किया है।  दूसरे देशों की, भारत में रह रही हस्तियों में यूनाइटेड किंगडम की कैटरीना कैफ, अमेरिका की दीप्ति नवल, यूनाइटेड किंगडम की ही सलमा आगा और कज़ाक नागरिक याना गुप्ता के नाम ख़ास हैं।  ऐसे सभी कलाकार टूरिस्ट वीसा पर हिंदुस्तान में आते हैं।  फिर एम्प्लॉयमेंट वीसा पर बरसों काम करते हैं।  यह बार बार एम्प्लॉयमेंट वीसा का नवीनीकरण कराना पसंद करते हैं, लेकिन इन्हे भारत की नागरिकता लेना स्वीकार नहीं।  यही कारण है कि कभी एम्प्लॉयमेंट वीसा न मिल पाने के कारण निगार जेड खान जैसी आइटम गर्ल को मुंबई से नार्वे के जहाज पर जबरन बैठा दिया जाता है।
क्यों नहीं नागरिकता लेती हैं कैटरीना कैफ
कैटरीना कैफ का असल नाम कैटरीना टरकोट है।  वह ब्रिटिश नागरिक हैं।  जब वह बॉलीवुड में नहीं सफल हुई थी, तब वह बड़े साधारण स्तर पर थी।  उनकी कोई पहचान नहीं थी।  बॉलीवुड में सफल होने के बाद अब वह ब्रिटेन में भी सेलिब्रिटी बन गई है।  वह क्यों एक विकसित देश को छोड़ कर विकासशील देश की नागरिकता लेना चाहेगी।  रणबीर कपूर के साथ शादी के बाद भी वह भारत की नागरिकता लेना चाहेंगी, इसमे कतई शक की गुंजाईश है।
इमरान खान भी भारतीय नागरिक नहीं
इमरान खान  पिछले छह सालों से हिंदी फिल्मों में काम कर रहे हैं।  लेकिन, आपको जान कर आश्चर्य होगा कि वह भारतीय नागरिक नहीं है।  उन्हें पिछले साल के महाराष्ट्र चुनाव में वोट डालने का मौका नहीं मिला।  वह एक अमेरिकी नागरिक हिन्दू अनिल पाल के बेटे हैं।  उनकी माँ आमिर खान की बहन हैं और मुसलमान हैं। उनका असल नाम इमरान पाल है।  हिंदी फिल्मों में काम पाने की फिराक में उन्होंने अपना नाम इमरान खान कर लिया।  अब यह बात दीगर है कि सरनेम खान होने के कारण उन्हें अमेरिका में अतिरिक्त सुरक्षा जांच से गुजरना पड़ता है।  लेकिन, भारतीय फिल्मों की खातिर खान होना ज़रूरी है। भारतीय नागरिकता पाने के लिए इमरान ने एक हिन्दू और भारतीय लड़की अवंतिका मालिक से शादी भी कर रखी है।


अल्पना कांडपाल

No comments:

Post a Comment