Tuesday, 17 January 2017

नहीं रही नैना साहू !

यह टाइटल पढ़ कर काफी हिंदी फिल्म प्रशंसक चौंक सकते हैं।  कौन नैना साहू ! ज़्यादातर फिल्म प्रेमी, ख़ास तौर पर आज की पीढ़ी के दर्शक नैना साहू के नाम से तक परिचित न होंगे।  नैना ने १९६७ में किशोर साहू जैसे फिल्मकार की फिल्म हरे कांच की चूड़ियां से बतौर नायिका डेब्यू किया था।  फिल्म में उनके नायक विश्वजीत थे।  किशोर साहू अपने समय के बड़े निर्माता-निर्देशक थे।  किशोर साहू को दर्शक गाइड फिल्म में वहीदा रहमान के पति मारको के बतौर यह कर सकते हैं।  नैना साहू इन्ही किशोर साहू की बेटी थी।  शक्ल सूरत से नैना में स्टार मटेरियल नहीं था।  बेशक एक्टिंग ठीक ठाक थी।  किशोर साहू ने अपनी बेटी की फिल्म को हिट बनाने के हरचंद कोशिश की।  फिल्म वाले सिनेमाघरों में हरे कांच की चूड़ियां मुफ्त बांटी गई।  इसके बावजूद फिल्म औसत रही।  नैना भी कुछ ख़ास प्रभाव नहीं छोड़ पाई थी।  तीन साल बाद किशोर साहू ने एक और कोशिश की।  नैना के साथ संजय खान को लेकर फिल्म पुष्पांजलि बनाई । परंतु यह कोशिश भी नाकाम रही।  इस फिल्म के फ्लॉप होते ही, नैना साहू नाम की एक्ट्रेस भी गायब हो गई।  आज यही नैना साहू नहीं रही।  उन्हें श्रद्धांजलि।

No comments:

Post a Comment