Tuesday, 26 July 2016

बॉलीवुड फिल्मों में मशहूर हत्याकांडों की सनसनी !

२ नवम्बर १९५९ । देश के तमाम अख़बारों में इंडिया नेवी के कमोडोर कवास मानेकशॉ नानावटी द्वारा अपने दोस्त प्रेम भगवानदास आहूजा की हत्या की खबरों से पटे हुए थे। कारण आहूजा के नानावटी की पत्नी सिल्विया के साथ अवैध सम्बन्ध था । इस खबर ने अब तक अपराध से मुक्त बम्बई में सनसनी फैला दी थी । इस मामले की हर सुनवाई को अख़बारों की सुर्खियाँ मिली । उस समय देश में जूरी सिस्टम था । सम्मानित जूरी ने नानावटी को दोषमुक्त कर दिया । लेकिन, हाई कोर्ट द्वारा इसे खारिज कर फिर से ट्रायल के लिए सौंप दिया गया । इस ट्रायल में नानावटी को उम्र क़ैद की सज़ा हुई । इस केस के बाद भारत सरकार ने देश में जूरी सिस्टम को ख़त्म कर दिया ।
इस मशहूर हत्याकांड पर कई किताबें लिखी गई और हिंदी फ़िल्में बनाई गई । अभिनेता सुनील दत्त ने अपने प्रोडक्शन हाउस की नींव इसी हत्याकांड पर फिल्म ये रास्ते हैं प्यार के से रखी । फिल्म के निर्देशक आर के नय्यर थे । सुनील दत्त (नानावटी), रहमान (प्रेम आहूजा) और लीला नायडू (सिल्विया) की मुख्य भूमिका वाली यह रियल लाइफ मर्डर फिल्म फ्लॉप हुई । ये रास्ते हैं प्यार के के बाद इस ट्रायल पर १९७३ में गुलज़ार ने अचानक फिल्म का निर्माण किया । विनोद खन्ना, लिली चक्रवर्ती और ओम शिवपुरी की केंद्रीय भूमिका वाली यह फिल्म हिट साबित हुई । १२ अगस्त को रिलीज़ होने जा रही अक्षय कुमार की फिल्म रुस्तम भी इसी हत्याकांड पर फिल्म है । अभिनेत्री और फिल्म निर्माता पूजा भट्ट की फिल्म लव अफेयर भी मोटामोटी इसी हत्याकांड पर बनाई जा रही है ।
ज़ाहिर है कि ५७ साल बाद भी प्रेम आहूजा हत्याकांड हिंदी फिल्म इंडस्ट्री को हौंट कर रहा है । क्योंकि, इस हत्याकांड की कहानी में जांबाज़ भारतीय सैन्य अधिकारी है, अवैध प्रेम सम्बन्ध हैं, अखबारी सुर्ख़ियों से भारी सनसनी है और नायक के प्रति भरपूर सहानुभूति के क्षण भी । हिंदी फिल्मों को ऐसे ही मामलों की तलाश होती है । हत्या अपराध में जहां अपराध होता है, वहीँ सनसनी भी होती है । कहानी जानने में दर्शकों की उत्सुकता भी होती है । इसीलिए, काफी हिंदी फ़िल्में रियल लाइफ हत्याकांडों पर बनाई गई ।  इनमे ज्यादा सफल हुई और बुरी तरह से असफल भी । आइये जानते हैं ऐसी ही कुछ फिल्मों के बारे में।
आयुषी हत्याकांड पर तलवार और रहस्य
२००८ में नॉएडा के आयुषी तलवार हत्याकांड पर बॉलीवुड ने दो फ़िल्में बनाई । हालाँकि, मनीष गुप्ता की फिल्म रहस्य शुरुआत में आयुषी हत्याकांड पर लगती थी । लेकिन, फिर वह ट्रैक छोड़ कर एक आम हत्या-रहस्य फिल्म बन कर रह गई । वहीँ, विशाल भरद्वाज द्वारा निर्मित और लिखित फिल्म तलवार में इस हत्याकांड का लेखक ने खुद ट्रायल किया था । फिल्म में इंगित करते हुए सवाल उठाये गए थे । इस फिल्म को मीडिया ने काफी उछला भी । इसलिए, अचानक बनाने वाले गुलज़ार की बेटी मेघना की यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर सफल रही ।
नॉट अ लव स्टोरी
मई २००८ में टीवी एग्जीक्यूटिव नीरज ग्रोवर का भी १९५९ के सूरी हत्याकांड की तरह मर्डर हुआ था । लेफ्टिनेंट एम एल जेरोम मैथ्यू ने अपनी अभिनेत्री दोस्त के साथ नीरज की हत्या कर दी थी । इतना ही नहीं दोनों ने नीरज की लाश के छोटे छोटे टुकडे कर फेंक दिए थे । इस मामले पर निर्देशक रामगोपाल वर्मा ने नॉट अ लव स्टोरी टाइटल वाली फिल्म का निर्माण किया था । धीमे और क्रूर दृश्यों के कारण यह फिल्म काफी बोझिल हो गई थी । माही गिल, दीपक डोबरियाल और अजय गेही अभिनीत यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर असफल रही थी ।
मैं और चार्ल्स-
भारतीय पिता और विएतनामी माँ की संतान चार्ल्स शोभराज को भारत से नफ़रत थी ।  लेकिन, फ्रांस में कुख्यात अपराधी बनने वाले चार्ल्स के नसीब में भारतीय जेल ही थी । सत्तर-अस्सी के दशक में दुनिया, ख़ास तौर पर भारतीय पुलिस को छका मारने वाले चार्ल्स शोभराज को खूबसूरत औरतों की हत्या करने के कारण बिकिनी किलर भी कहा जाता था । इसी करैक्टर पर प्रवाल रमण की फिल्म थी मैं और चार्ल्स । इस फिल्म को दिल्ली के पुलिस कमिश्नर निखिल कुमार की दृष्टि से बनाया गया था । फिल्म में चार्ल्स शोभराज की भूमिका रणदीप हूडा ने की थी । इस फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर सफलता नहीं मिली । 
पांच-
अनुराग कश्यप की फिल्म पांच १९७६-७७ के दौर के कुख्यात सीरियल किलर जोशी अभ्यंकर पर आधारित थी ।  यह फिल्म पांच सदस्यों वाले बैंड के सदस्यों के एक अपहरण करने और फिर हत्या कर देने पर आधारित थी । इसके बाद हत्या, दगाबाजी और प्रतिशोध का सिलसिला चल निकलता है । भारतीय सेंसर ने इस फिल्म को सर्टिफिकेट देने से साफ़ इनकार कर दिया था ।
जॉली एलएलबी-
यह फिल्म एक रईस के लडके संजीव नंदा द्वारा तेज़ रफ़्तार गाड़ी से लोगों को कुचलने  प्रियदर्शिनी हत्याकांड पर मोटे तौर पर आधारित थी । फिल्म के डायरेक्टर और लेखक सुभाष कपूर ने इस फिल्म को अरशद वारसी, सौरभ शुक्ल और बोमन ईरानी के मध्यम से सहज कॉमेडी के तौर पर पेश किया था । यहाँ कोर्ट की परिस्थितियों पर भी टिपण्णी करती थी । अब इस फिल्म के सीक्वल बनाए जाने की खबर है ।
नो वन किल्ड जेसिका-
यह फिल्म भी १९९९ में दिल्ली के एक बार में बार गर्ल जेसिका लाल की एक नेता के बेटे मनु शर्मा द्वारा हत्या किये जाने की घटना पर आधारित थी । राजकुमार गुप्ता की यह फिल्म ख़ास तौर पर मानवीय संवेदना का चित्रण करने वाली फिल्म थी । इस फिल्म में विद्या बालन और रानी मुख़र्जी का बेहतरीन अभिनय था । नो वन किल्ड जेसिका को अच्छी सफलता मिली थी ।
द स्टोन मैन मर्डर-
अस्सी दशक में मुंबई के फूटपाथ पर सोने वालों का आतंक का दशक था । कोई सिरफिरा आदमी बड़े नुकीले पत्थर की मदद से फूटपाथ पर सोये लोगों की हत्या करता था । इस किलर ने मुंबई पुलिस की नींद हराम कर दी थी । मनीष गुप्ता की इस फिल्म में के के मेनन, अरबाज़ खान, विक्रम गोखले और वीरेंदर सक्सेना ने पुलिस अधिकारीयों और सीरियल किलर की भूमिका की थी ।
एक्सीडेंट ऑन हिल रोड-
महेश नायर निर्देशित यह फिल्म हॉलीवुड फिल्म स्टक की ऑफिसियल रीमेक थी । लेकिन, स्टक वास्तव में शान्टे मलार्ड ट्रायल पर आधारित थी । मलार्ड अपनी तेज़ रफ़्तार कार से एक राहगीर को रौंद देती है । लेकिन, उस गरीब बेघर आदमी को चिकित्सा मदद पहुंचाने के बजाय अपनी कार की विंड स्क्रीन पर ही पडा हुआ लेकर अपने घर के गेराज में बंद कर देती है । जहाँ उस व्यक्ति ग्रेगरी ग्लेन बिग्स की व्यक्ति हो जाती है । मलार्ड को लम्बे ट्रायल के बाद दोषी मानते हुए पचास साल की सज़ा सुनाई जाती है । एक्सीडेंट ऑन हिल रोड में इंडियन मलार्ड की भूमिका सेलिना जेटली ने की थी । यह फिल्म फ्लॉप हुई थी ।
सिंस-
एक कैथोलिक पादरी एक सुंदर लड़की से प्रेम करने लगता है । दोनों के बीच सेक्सुअल रिलेशन कायम हो जाते हैं । नतीजे के तौर पर लड़की गर्भवती हो जाती है । जब वह लड़की पादरी से शादी करने के लिए दबाव डालती है तो वह उसे मार डालता है । केरल के एक चर्च के फादर द्वारा एक औरत का मर्डर करने के कारण पूरे देश में चर्चित हुई थी । विनोद पाण्डेय की इस कहानी पर फिल्म सिंस को ईसाई समुदाय द्वारा विरोध किया गया । सेंसर के जाल में फंसने के कारण फिल्म काफी देर से रिलीज़ हुई । इस फिल्म को भी ख़ास सफलता नहीं मिली ।
बवंडर-
राजस्थान के भटेरी गाँव की एक समाज सेविका भंवरी देवी के साथ सामूहिक बलात्कार किये जाने की घटना पर जग मूंधड़ा ने फिल्म बवंडर का निर्माण किया था । फिल्म के साथ ख़ास बात यह थी कि खुद बनवारी देवी ने इस फिल्म से खुद को दूर रखा था । फिल्म में भंवरी देवी के ऑन स्क्रीनकरैक्टर नंदिता दास ने किया था । इस फिल्म को समीक्षकों द्वारा सराहा गया । के सी बोकाडिया की मलिका शेरावत की मुख्य भूमिका वाली फिल्म डर्टी पॉलिटिक्स भी भंवरी देवी पर केन्द्रित फिल्म बताई जाती है ।
मशहूर हत्याकांडों पर बॉलीवुड की ज़्यादातर फ़िल्में ख़राब स्क्रिप्ट और मिस कास्टिंग का शिकार हुई थी । इन फिल्मों को सनसनी फैलाने और दर्शकों को आकर्षित करने के ख्याल से ही बनाया गया था । काफी फ़िल्में अपने सेक्सुअल कंटेंट के कारण सेंसर की कैंची का शिकार भी हुई । सेंसर को इनकी ज्यादा हिंसा भी रास नहीं आई । इसके बावजूद नो वन किल्ड जेसिका, बवंडर, अचानक, जॉली एलएलबी, आदि फिल्मों को सराहना भी मिली और दर्शक भी । दर्शकों का ध्यान आसानी से खींचने के लिहाज़ से लगभग सभी फिल्मों को कामयाब कहा जा सकता है ।

No comments:

Post a Comment