Friday, 18 September 2015

भगवान के स्ट्रगल में विद्या बालन का 'शोला जो भड़के'

जब फिल्मों ने बोलना शुरू किया था, उस दौर में बजरिये मूक फिल्म 'बेवफा अश्क' से दीक्षित, मुबारक, ईश्वरलाल और कौशल्या की हिंदी फिल्म 'ज़बान' से भगवान दादा का प्रवेश हुआ था।  उन्होंने कई छोटे बजट की मराठी फ़िल्में भी बनाई थी।  राजकपूर के कहने पर वह स्टंट फिल्मों के बजाय कॉमेडी फैमिली फिल्मों की और मुड़े।  फिल्म थी १९५१ में रिलीज़ 'अलबेला' । भगवान दादा खुद इस फिल्म के हीरो थे तथा नायिका गीता बाली थीं, जो उस समय की बड़ी नायिका थीं और बाद में राजकपूर के भाई शम्मी कपूर की बीवी बनी। इस फिल्म को बनाने में और बाद के भगवान दादा के संघर्ष की मार्मिक गाथा पर  मराठी फिल्म डायरेक्टर शेखर सरतनदेल मराठी फिल्म 'एक अलबेला' बना रहे हैं।  शेखर ने अपनी फिल्म का नाम एक अलबेला इसलिए रखा कि एक तो यह भगवान दादा की आज भी लोकप्रिय फिल्म है तथा दूसरे भगवान दादा अपने आप में अलबेले थे।  एक अलबेला में भगवान दादा के अलबेला बनाते समय आई कठिनाइयों, इसके गीतों के फिल्मांकन की तकलीफों, आदि का चित्रण हुआ है। इस फिल्म के 'शोला जो भड़के' गीत के लिए बैकग्राउंड डांसर जुटाने में भगवान दादा को आर्थिक बाधाओं का सामना करना पड़ा। फिल्म 'एक अलबेला' में विद्या बालन भगवान दादा की नायिका नहीं, बल्कि अलबेला फिल्म की नायिका गीता बाली को परदे पर पेश करने का ज़िम्मा ही उन्हें मिला है।  इस फिल्म में उन पर अलबेला के दो गीत 'शोला जो भड़के' और 'भोली सूरत दिल के खोटे' का फिल्मांकन किया गया है।  यह दोनों गीत ख़ास कर शोला जो भड़के भगवान दादा की ख़ास डांसिंग स्टाइल के लिए मशहूर है।  इस गीत में गीता बाली के चेहरे के हाव भाव मुग्ध करने वाले हैं।  गीता बाली ऎसी अभिनेत्री थी, जिनकी आँखे और चेहरा अभिनय करता था।  इस लिहाज़ से, गीता बाली को परदे पर उतारने के लिहाज़ से विद्या बालन बेजोड़ हैं। बहरहाल, विद्या बालन 'एक अलबेला' में केवल मेहमान भूमिका में हैं।  एक अलबेला में भगवान दादा के उस जीवन को दिखाया गया है, जब क़र्ज़ चुकाने के लिए उन्हें जुहू स्थित अपना २५ कमरों का मकान बेचना पड़ा, हर दिन उपयोग की जाने वाली सात बड़ी कारों को एक एक कर बेचना पड़ा।  जब वह मरे तब तक उनके सभी साथी उनका साथ छोड़ चुके थे, सिवाय संगीतकार सी रामचन्द्र,  हास्य अभिनेता ओम प्रकाश और गीतकार राजिंदर कृष्ण के ।  उनकी ज़बरदस्त दिल का दौरान पड़ने से मौत एक चॉल में हुई।



राजेंद्र कांडपाल 

No comments:

Post a Comment