Wednesday, 10 May 2017

अमिताभ बच्चन को तीसरी बार 'सरकार' बना पाएंगे रामगोपाल वर्मा !

यह सवाल सामायिक है।  रामगोपाल वर्मा के करियर की ५२ वी फिल्म तथा अमिताभ बच्चन के साथ आठवीं फिल्म १२ मई को रिलीज़ हो रही है।  सरकार राज (२००८) के ९ साल बाद रामगोपाल वर्मा एक बार फिर सरकार ३ में अमिताभ बच्चन को सरकार बना कर ला रहे हैं।  नौ  साल बहुत लम्बा अरसा होता है।  ऐसे में रामगोपाल  वर्मा का १२ साल पहले सरकार (२००५) में क्रिएट किये गए सरकार के  करैक्टर को फिर  परदे पर लाना कितना कामयाब होगा ? क्या वर्मा इस फिल्म के ज़रिये बिग बी को बॉक्स ऑफिस की सरकार बना पाएंगे ?  वह खुद को कितना कल्पनाशील डायरेक्टर साबित कर पाएंगे ?
यह सब कुछ निर्भर करेगा वर्मा- बच्चन जोड़ी की आपसी केमिस्ट्री पर।  जब रामगोपाल वर्मा अन्य अभिनेताओं के अलावा अमिताभ बच्चन के साथ फ़िल्में बनाते हैं तब वह किस हद तक डायरेक्टर होते हैं और कितना एडमायर या प्रशंसक होते  हैं ? खुद रामगोपाल वर्मा ने स्वीकार किया है कि अमिताभ बच्चन की फिल्मों ने उन्हें फिल्ममेकर बनने के लिए प्रेरित किया था।  रामगोपाल वर्मा ने हिंदी फिल्म निर्माण के क्षेत्र में ७ दिसंबर १९९० को रिलीज़ अपराध फिल्म शिवा से कदम रखा।  यह फिल्म उनकी तेलुगु हिट फिल्म शिवा का हिंदी रीमेक थी।   इस फिल्म में वह नागार्जुन का परिचय हिंदी दर्शकों से करा रहे थे।  फिल्म हिट हुई।  इस फिल्म के बाद नागार्जुन तो हिंदी फिल्मों के नायक बहुत सफल नहीं हुए।  लेकिन रामगोपाल वर्मा गैंगस्टर फिल्मों के पकड़ रखने वाले निर्देशक बन गए।
रामगोपाल वर्मा ने १५ साल बाद, जब अमिताभ बच्चन के साथ पहली सरकार बनाई तब तक वह हिंदी दर्शकों के बीच हॉरर फिल्म रात और गैंगस्टर फिल्म द्रोही (एक बार फिर हीरो नागार्जुन) से खुद को हरफनमौला डायरेक्टर साबित कर चुके थे।  रामगोपाल वर्मा पहले ऐसे डायरेक्टर थे, जिसने उर्मिला मातोंडकर और आमिर खान के साथ फिल्म रंगीला से फिल्मों के कॉस्ट्यूम के क्षेत्र में फैशन डिज़ाइनर की भूमिका को रेखांकित किया था ।  सुपर हिट रंगीला के बाद दौड़ बुरी तरह पिटी।  लेकिन,  उनकी निर्देशित गैंगस्टर फिल्म सत्या (१९९८) और थ्रिलर फिल्म कौन (१९९९) मील का पत्थर साबित हुई।  मस्त (१९९९) और जंगल (२०००) से वर्मा की निर्देशकीय पकड़ कमज़ोर होती लगी।  मगर, फिल्म कंपनी (२००२) और भूत (२००३) से वह एक बार फिर फ़ीनिक्स की तरह उभरे।  नाच (२००४) जैसी क्लासिक फिल्म के बाद रामगोपाल वर्मा ने सरकार बनाई थी।  इसलिए यह तो नहीं कहा जा सकता था कि रामगोपाल वर्मा को अमिताभ बच्चन के स्टारडम की सख्त ज़रुरत थी।  रामगोपाल वर्मा की ज़रुरत अमिताभ बच्चन को  इसलिए ज़रूर थी कि उन्हें अपनी उम्र के अनुरूप सशक्त भूमिकाओं की सख्त ज़रुरत थी।  सरकार के प्रधान पुरुष के बतौर अमिताभ बच्चन को एक  सशक्त भूमिका मिल गई।  महाराष्ट्र के हिन्दू संगठन  शिवसेना के सुप्रीमो बाल ठाकरे से इस करैक्टर की तुलना ने फिल्म को ज़बरदस्त प्रचार दिया।  फिल्म  हिट हो गई।
रामगोपाल वर्मा और अमिताभ बच्चन के लिए सरकार हिट होने का मतलब सफल सरकार फ्रैंचाइज़ी बनना ज़रूर था।  यह सफलता सरकार सीरीज की फिल्मों के निर्माण लिहाज़ से ख़ास थी ।  लेकिन, इन दोनों डायरेक्टर- निर्देशक के लिहाज़ से ख़ास था  सरकार करैक्टर।  यह चरित्र अमिताभ बच्चन के १९७० और १९८० के दशक के एंग्रीयंगमैन के समान था।  वह बीच सड़क पर वर्दी उतार कर गुंडों से नहीं भिड़ता था, लेकिन अपने घर के आलीशान कमरे में बैठा अपने  गुर्गों की मदद से मज़लूमों की मदद ज़रूर करता था।  बहुत कम और धीमी आवाज़ में बोलने वाला यह करैक्टर किसी लिहाज़ से एंग्रीयंगमैन से कम  नहीं था।
अमिताभ बच्चन के एंग्रीयंगमैन को ख़त्म हुए एक दशक से ज़्यादा हो रहा है।  सरकार को भी पहली बार परदे पर आये १२ साल हो चुके हैं।  ऐसे में सरकार राज के आठ साल बाद सरकार ३ बनाने की क्या वजह है ? क्या अपने कमरे में बैठ कर सरकार इतना थ्रिल पैदा कर सकेगा कि दर्शक सिनेमाघरों तक पहुंचे ? सरकार ३ के प्री रिलीज़ प्रमोशन के दौरान रामगोपाल वर्मा से यह सवाल पूछा गया था।  यह कहना ज़्यादा सही होगा कि सरकार ३ से दर्शकों का परिचय कराने की पहल रामगोपाल वर्मा ने फेसबुक पर पोस्ट के ज़रिये की थी।  इसमें उन्होंने खुद से खुद पूछा था कि सरकार ३ बनाने की क्या ज़रुरत पड़  गई थी  ? अपने सवाल के जवाब में रामगोपाल वर्मा ने लिखा था, "मैंने सरकार राज बनाते समय एक गलती की थी।  मैंने सरकार के करैक्टर को डाउनप्ले किया था।  मैंने शंकर (अभिषेक बच्चन का चरित्र) को ज़्यादा महत्व दिया।  मैं यह भूल गया कि सरकार इसलिए सरकार था कि वह सरकार था।  मुझे इस गलती के लिए शंकर को सरकार में ढालना चाहिए था,  लेकिन मैंने इस करैक्टर को ही मार डाला।"  सरकार ३ में तमाम दूसरे करैक्टर हैं।  माइकल वाळल्या (जैकी श्रॉफ), गोकुल साटम (रोनित रॉय), गोरख रामपुर (भारत दाभोलकर) और रुक्कू बाई देवी (रोहिणी हट्टंगड़ी) जैसे बहुत से करैक्टर हैं।  यह सभी बुरे चरित्र है, जो सुभाष नागरे उर्फ़ सरकार के दुश्मन हैं।  इस गिरोह से ज़्यादा खतरनाक है अन्नू करकरे (यामी गौतम) जो सुभाष नागरे से अपने पिता की ह्त्या का बदला लेने के लिए किसी भी हद तक जा सकती है।  कोढ़ पे खाज का काम करता है सरकार का पोता शिवजी नागरे उर्फ़ चीकू (अमित साध) जो उद्यंड युवा है और घमंडी भी। सरकार को इन सभी से निबटना है।  केवल इसलिए नहीं कि उसे परिवार बचाना है।  उसे इन सब की महत्वाकांक्षाओं से दो दो हाथ करने हैं।  रामगोपाल वर्मा कहते हैं, "इस प्रक्रिया में सरकार कुछ ज़्यादा कठोर तरीके से पेश आएगा।  फिल्म में सरकार जितना देखने में आकर्षक लगेगा, उतना ही बर्बर उसके कारनामे होंगे।"
सरकार राज और सरकार ३ के बीच के अंतराल में रामगोपाल वर्मा और अमिताभ बच्चन रण और डिपार्टमेंट जैसी फिल्मों में नज़र आये थे।  निःशब्द, रामगोपाल वर्मा की आग और सरकार राज में अमिताभ बच्चन के चरित्रों के विकास से बुरी तरह से निराश दर्शकों को रण में अमिताभ बच्चन का एक चैनल के मालिक विजय हर्षवर्द्धन मलिक और डिपार्टमेंट में एक गैंगस्टर गायकवाड़ का किरदार काफी उबाऊ और कमज़ोर लगा।  इन सभी फिल्मों में अमिताभ बच्चन का अभिनेता रामगोपाल वर्मा के निर्देशक पर भारी था।  दरअसल, जब रामगोपाल वर्मा का निर्देशक अमिताभ बच्चन के अभिनेता को नियंत्रित कर लेता है तो सरकार जैसी मील का पत्थर फिल्म बन जाती है।  लेकिन, जैसे ही वह अमिताभ बच्चन के अभिनेता का प्रशंसक बनता है, पूरी फिल्म हाथ से निकल जाती है।
सरकार राज में सरकार के करैक्टर के साथ गलती कर चुके रामगोपाल वर्मा सरकार ३ में इस गलती को सुधार रहे हैं।  वह सरकार को अपने चारों और फैली बुरी ताकतों से लौह हाथों से निबटने देंगे ।  लेकिन, क्या ऐसे समय में भी रामगोपाल वर्मा डायरेक्टर बने रहे होंगे ? क्या उन्होंने अमिताभ बच्चन के अभिनेता को नियंत्रित किया होगा ? अगर रामगोपाल वर्मा ने अमिताभ बच्चन को ऎसी निगेटिव भूमिका में लाउड नहीं होने दिया तो समझिये कि रामगोपाल वर्मा ने सरकार राज में की अपनी गलती सुधार ली है।  अन्यथा,  अपने निर्देशक के 'डिपार्टमेंट' में बुरी तरह घिर चुके रामगोपाल वर्मा सरकार के 'रण' में खेत रहेंगे।

No comments:

Post a Comment