Sunday, 7 May 2017

कॉस्ट्यूम फिल्मों की चमक-दमक और भव्यता

इस शुक्रवार पूरे हिंदुस्तान में सिनेमाघरों का रूपहला पर्दा बाहुबलीमय हो जायेगा।  दक्षिण के महिष्मति साम्राज्य के इस फंतासी महाकाव्य बाहुबली द बेगिनिंग का निर्माण एसएस राजामौली ने तमिल और तेलुगु में किया था। हिंदुस्तान की उस समय की सबसे महँगी (बजट १८० करोड़)  फिल्म को हिंदी सहित देश की दूसरी भाषाओं में भी डब कर रिलीज़ किया गया।  बाहुबली द बिगिनिंग ने वर्ल्डवाइड ६५० करोड़ का बिज़नेस किया। यह पहली गैर हिंदी भाषी फिल्म थी, जिसने १०० करोड़ से ज़्यादा का बिज़नेस किया।  इससे हिंदी बेल्ट में ऐतिहासिक कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्मों की लोकप्रियता का संकेत मिलता था। ऐसे में क्या दावे के साथ कहा जा सकता है कि अब राजसी ऐश्वर्य वाली भव्य फिल्मों का ज़माना आ रहा है ?
पहली मूक और सवाक फिल्मों की राजसी कहानी
वास्तविकता तो यह है कि भारतीय फिल्म इंडस्ट्री की नीव ही कॉस्ट्यूम ड्रामा या राजा रजवाड़ों के कथाानकों पर फिल्मों से पड़ी।  पहली भारतीय मूक फिल्म राजा हरिश्चंद्र रामायण और महाभारत में उल्लिखित राजा हरिश्चंद्र के चरित्र पर बनाई गई थी।  उस समय आवाज़ न होने के कारण जाने पहचाने धार्मिक-ऐतिहासिक चरित्र ही फिल्मों का विषय हो सकते थे, ताकि दर्शक कहानी आसानी से समझ सकें ।  हालाँकि, उस दौर में भी कुछ सामाजिक फिल्मे बनाई गई।  इसी प्रकार से पहली सवाक फिल्म आलमआरा भी काल्पनिक कुमारपुर राज्य के राजकुमार आदिल और एक जिप्सी गर्ल आलमआरा की मोहब्बत की कहानी थी।  चमकदार पोशाकें, भव्य महल और राजदरबार के सेट्स इस फिल्म की खासियत थे। ज़ाहिर है कि राजसी फिल्मों का जलवा था।
मूक हो या सवाक फ़िल्में, इंडस्ट्री के शुरूआती  दौर की  फिल्मों में भव्यता और चमक दमक के साथ ड्रामा दिखाने के लिए राजसी या शाही फ़िल्में ही मुफीद थी।  अब यह बात दीगर है कि ऐसे तमाम चरित्र धार्मिक या पौराणिक थे या ऐतिहासिक या फिर राजशाही को दर्शाने वाले काल्पनिक चरित्र।
एक ख़ास बात यह रही कि नई तकनीक को दर्शकों के  बीच लोकप्रिय किया।  कहा जा  सकता है कि हिंदी फिल्मों में श्वे त-श्याम रंगों के अलावा अन्य रंगों को कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्मों अथवा ऐतिहासिक धार्मिक फिल्मों ने ही लोकप्रिय बनाया।
कॉस्ट्यूम फिल्मों से उभरे परदे पर रंग
कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्मों से हिंदी फिल्मों में क्रांतिकारी बदलाव हुए ।  हिंदी फिल्मों में रंग १९३३ में रिलीज़ वी० शांताराम निर्देशित फिल्म सैरंध्री से ही  आ गए थे।  महाकाव्य महाभारत की  उपकथा पर आधारित फिल्म सैरंध्री मल्टीकलर में शूट हुई थी।  लेकिन, जर्मनी में फिल्म की प्रोसेसिंग के दौरान इसके रंग नष्ट हो गए।  इसलिए, यह फिल्म दर्शकों को परदे पर श्वेत- श्याम रंगों में ही देखने को मिली ।  इसके बाद १९३५ में रिलीज़ आर्देशर ईरानी की फिल्म किसान कन्या पहली कलर फिल्म बनी।  इसे सिनेकलर प्रोसेस से रंगीन बनाया गया था।  इस फिल्म की किसान और गरीबी की कहानी दर्शकों को रास नहीं आई।  फिल्म असफल हो गई।  फिर १७ साल बाद रंगों ने दर्शकों का ध्यान खींचा महबूब खान की राजसी रोमांस ड्रामा फिल्म आन (१९५२)  से । आन एक काल्पनिक राज्य की बिगड़ैल राजकुमारी (नादिरा)  से एक  गरीब ग्रामीण युवक (दिलीप कुमार) द्वारा प्रेम करने की कहानी फिल्माई गई थी।  इस फिल्म को गेवाकलर में १६ एमएम रील से शूट किया गया था। बाद में ३५ एमएम  टैक्नीकलर में फैलाया गया। इस फिल्म को ज़बरदस्त सफलता मिली।  इस फिल्म की निर्माण लागत ३५ लाख थी।  लेकिन फिल्म ने डेढ़ करोड़ का बिज़नेस किया।
पहली टैक्नीकलर फिल्म झांसी की रानी
सोहराब मोदी की फिल्म झाँसी की रानी पहली हिंदी फिल्म थी, जो ३५ एमएम में टैक्नीकलर रंग में शूट हुई थी। इस फिल्म का छायांकन गॉन विथ द विंड के लिए ऑस्कर विजेता सिनेमेटोग्राफर अर्नेस्ट हैलर  ने शूट किया था।  फिल्म का संपादन इंग्लैंड से रसेल लॉयड ने किया था।  जिस दशक में रंगों से सजी झनक झनक पायल बाजे (१९५५), मदर इंडिया (१९५७) और नवरंग (१९५९) बॉक्स ऑफिस पर सफल हुई, उसी दशक में सोहराब मोदी की महताब की मुख्य भूमिका वाली ऐतिहासिक कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्म झाँसी की रानी बुरी तरह से असफल हुई ।
मील का पत्थर साबित हुआ ऐतिहासिक कॉस्ट्यूम ड्रामा
सोहराब मोदी ने तीन ऐतिहासिक फ़िल्में पुकार (१९३९), झाँसी की रानी (१९५३) और मिर्ज़ा ग़ालिब (१९५४)   बनाई थी।  यह तीनों फिल्में ऐतिहासिक फिल्मों में मील का पत्थर रखने वाली मानी जाती हैं।  पुकार की कहानी जहांगीर के इन्साफ पर थी।  नूरजहां के तीर से एक धोबी की  हत्या हो जाती है।  वह इन्साफ के लिए जहांगीर का घंटा बजाती है।  जहांगीर न्याय करता है कि धोबन नूरजहां के पति को मार दे।  मिर्ज़ा ग़ालिब में भारत भूषण ने ग़ालिब और सुरैया ने एक नर्तकी का किरदार किया था।  इस फिल्म को दूसरा राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला था।  तत्कालीन प्रधान मंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने इस फिल्म को ग़ालिब को जीवंत कर देने वाली फिल्म कहा था। कोई १६ साल बाद निर्माता जीपी सिप्पी ने जहांगीर के इसी इन्साफ को प्रदीप कुमार, मीना कुमारी और सप्रू के साथ बनाया।  फिल्म का नाम था आदिल ए जहांगीर यानि  जहांगीर का इन्साफ।  जीपी सिप्पी ने इस फिल्म के लिए पहली बार निर्देशन की कमान सम्हाली थी।  फिल्म हिट हुई। दक्षिण में भी सलीम अनारकली और अकबर की तिकड़ी का जलवा रहा। 
कॉस्टयूम ड्रामा फिल्मों के-
वाडिया बंधु
जीबीएच वाडिया के नाम से मशहूर जमशेदजी बोमन होमी वाडिया ने १९३३ में वाडिया मूवीटोन स्टूडियो की स्थापना की।  उन्होंने अपने एक्टिव  करियर में स्टंट (हंटरवाली, हरिकेन हंसा, मिस फ्रंटियर मेल), फैन्टसी (लाल ए यमन, नूर ए यमन) और माइथोलॉजिकल (श्रीगणेश, लव कुश,  सम्पूर्ण रामायण)  फिल्मों का निर्माण किया।  उनके भाई होमी  वाडिया की पहचान एक्शन  फैन्टसी  कॉस्ट्यूम फिल्मों से बनी।  उन्होंने आम जनता  की भलाई के लिए अपना राजपाट छोड़ देने वाली राजकुमारी पर फिल्म द प्रिंसेस एंड द हंटर से फिल्म निर्देशन की शुरुआत की।  उन्होंने,  जंगल प्रिंसेस, शेर-ए- बग़दाद, रामभक्त हनुमान, श्री गणेश महिमा, हनुमान पाताल विजय, अलादीन और जादुई चिराग,  अलीबाबा एंड ४० थीव्स, हातिमताई, ज़बक, चार दरवेश, श्री कृष्ण लीला, एडवेंचर ऑफ़ अलादीन जैसी माइथोलॉजिकल फ़न्तासी कॉस्ट्यूम   फ़िल्में बनाई।
गुजरात के भट्ट
फिल्मों के शुरूआती दौर में गुजरात के भट्ट महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।  पहले भट्ट यानि विजय भट्ट १९२० के दशक में भावनगर से बॉम्बे आये थे।  उन्होंने बतौर पटकथा लेखक फिल्मों में कदम रखा।  उन्हें  हिन्दुओं के ईष्ट भगवान् राम और सीता पर फिल्म रामराज्य (१९४३) ने अमर कर दिया।  यह फिल्म बड़ी हिट फिल्म थी ही, यह ऎसी  इकलौती फिल्म थी, जिसे महात्मा  गांधी ने देखा था।  उन्होंने नरसि भगत, भरत मिलाप, विक्रमादित्य, रामबाण, बैजू बावरा, श्री चैतन्य महाप्रभु, बाल रामायण, अंगुलिमाल, आदि माइथोलॉजिकल और ऐतिहासिक कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्मों के लिए याद किया जाता है।  पोरबंदर में जन्मे नानाभाई भट्ट ने ज़्यादातर क्राइम एक्शन फ़िल्में बनाई।  परन्तु, उनकी माइथोलॉजिकल कॉस्ट्यूम  फिल्में मीराबाई, वीर घटोत्कच, जन्माष्टमी, राम जनम, लव कुश, लक्ष्मी नारायण और फ़न्तासी कॉस्ट्यूम फिल्मों सिंदबाद जहाजी, बग़दाद और सन ऑफ़ सिंदबाद जैसी फ़िल्में कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्में यादगार हैं।
हिंदी  फिल्मों के प्रिंस थे प्रदीप कुमार
हिंदी फिल्मों में काम करने के लिये बंगाली अभिनेता प्रदीप कुमार प्रदीप कुमार ने अपनी भूमिकाओं के लिए अपनी उर्दू को माजा । उनकी पहली हिंदी फिल्म आनंदमठ (१९५२) थी।  भारतीय स्वतंत्र संग्राम के  १८ वी  शताब्दी के संन्यासी  विद्रोह पर इस फिल्म में प्रदीप कुमार ने एक युवा संन्यासी का किरदार किया था।  प्रदीप कुमार अच्छी कद काठी, तलवार कट मूछों  और राजसी भावभंगिमाओं के कारण हिंदी फिल्मों में राजसी भूमिकाओं के उपयुक्त मान लिए गए।  उन्हें यह दर्ज़ा दिलवाया १९५३ में रिलीज़ फिल्म अनारकली ने।   इस फिल्म में प्रदीप कुमार ने शहज़ादा सलीम का किरदार किया था।  फिल्म बड़ी हिट साबित हुई।  प्रदीप कुमार ने बादशाह, राज हठ, दुर्गेश नंदिनी, हीर, यहूदी की लड़की, चित्रलेखा, बहु बेगम, महाभारत  और रज़िया सुल्तान में राजसी किरदार किये थे।  हालाँकि, उन्होंने काफी सोशल फ़िल्में की।  लेकिन वह यादगार हुए अनारकली के जहांगीर और ताजमहल के शाहजहां के किरदार से।
ऐतिहासिक फिल्मों की शाहकार
निर्माता निर्देशक के आसिफ ने केवल दो फिल्मों फूल और मुग़ल ए आज़म का निर्माण-निर्देशन किया।  मुग़ल ए आज़म को परदे पर आने में १५ साल लगे।  इस फिल्म की परिकल्पना १९४५ में की गई थी।  कई कलाकारों से गुजरते हुए, इस फिल्म को पृथ्वीराज कपूर, दिलीप कुमार,  मधुबाला, अजित और दुर्गा खोटे के साथ बनाया गया।  यह उस समय की सबसे महँगी फिल्म थी, जिसके निर्माण में डेढ़ करोड़ खर्च हुए।  इस फिल्म के एक गीत प्यार किया तो डरना क्या की शूटिंग शीश महल में हुई थी।  इस के फिल्मांकन  में ही १० लाख खर्च हो गए।  फिल्म के युद्ध दृश्यों में दो हजार ऊँट, चार हजार घोड़े और आठ हजार सिपाहियों का इस्तेमाल किया गया।  झांसी की रानी में रंगों की  सफलता को देख कर, के० आसिफ ने फिल्म के २० मिनट के क्लाइमेक्स और दो गीतों को टैक्नीकलर में रीशूट किया।  हिंदी, तमिल और इंग्लिश में शूट की गई इस फिल्म को बॉलीवुड की शाहकार फिल्म माना जाता है। हैदराबाद, सूरत, कोल्हापुर, राजस्थान, आदि से बुलाये गए तकनीशियनों से  फिल्म के जेवर, वेशभूषा और तीर तलवार का निर्माण करवा गया।
हिंदी फिल्मों में कॉस्ट्यूम ड्रामा पर संजयलीला भंसाली काफी काम कर रहे हैं।  उनकी पिछली फिल्म बाजीराव मस्तानी पेशवा बाजीराव की नर्तकी मस्तानी के साथ प्रेम कहानी थी।  आजकल वह मेवाड़ रानी पद्मावती पर फिल्म बना रहे हैं।  उनके अलावा यूनाइटेड अरब अमीरात के अरबपति व्यवसाई डॉक्टर बी आर शेट्टी भी भारत की अब तक की सबसे महँगी महाकाव्य पर फिल्म 'महाभारत' बनाने जा रहे हैं। इस फिल्म का बजट १००० करोड़ होगा. इस फिल्म में हिंदुस्तान और हॉलीवुड के कलाकार काम करेंगे।  पिछले दिनों यह भी खबर थी कि आमिर खान और शाहरुख़ खान की दिलचस्पी भी महाभारत में है।  सुशांत सिंह राजपूत और कृति सैनन की फिल्म राब्ता साउथ की कॉस्ट्यूम ड्रामा फिल्म मगधीरा का रीमेक है।  

No comments:

Post a Comment