Friday, 16 June 2017

घिरे हुए हैं सलमान खान

यों कहिये कि सलमान खान के सामने बड़ी चुनौती भी है और दुरूह ज़िम्मेदारी भी आन पड़ी है।  उन्हें बाहुबली २ : द कन्क्लूजन की चुनौती से निबटना है।  उनकी ईद वीकेंड पर रिलीज़ हो रही फिल्म ट्यूबलाइट को बॉक्स ऑफिस पर ५०० करोड़ के क्लब में शामिल होना है।  ईद के बावजूद यह आसान नहीं होगा।  यह चुनौती तभी पार होगी, जब ट्यूबलाइट दर्शकों पर जादू चला सके, ठीक वैसा ही जादू जैसा बाहुबली २ ने चलाया था।  अगर ट्यूबलाइट ठीक ट्यूबलाइट की तरह चली तो फिर १०० करोड़ ही काफी होंगे।  एक प्रकार से यह सलमान खान की ज़िम्मेदारी भी है कि वह दुनिया को बता सकें कि बॉलीवुड सुपर स्टार केवल हॉलिडे वीकेंड के सितारे नहीं।  वह प्रभाष की तरह दर्शकों के चहीते सितारे हैं।  यह तभी साबित  होगा, जब फिल्म के साथ साथ सलमान खान भी दर्शकों को आकर्षित कर सकें।  क्या ऐसा होगा ?
फिल्म रिलीज़ से पहले के हफ्ते की चुनौती
फिलहाल तो सलमान खान घिरे हुए लगते हैं।  अमूमन होता यह है कि किसी बॉलीवुड सुपर स्टार की फिल्म रिलीज़ होते ही, बॉक्स ऑफिस पर मैदान खाली हो जाता है।  न कोई फिल्म एक हफ्ता पहले रिलीज़ होती हैं और न ही दो हफ्ते बाद तक।  जब स्क्रीन ही खाली नहीं मिलेंगे तो कोई फिल्म कैसे रिलीज़ होगी !  इसीलिए आम तौर पर इक्का दुक्का स्क्रीन के लिए कम बजट की, न रिलीज़ हो पा रही फ़िल्में रिलीज़ होती है।  लेकिन इस बार १६ जून को ऐसा नहीं हो रहा।  ट्यूबलाइट रिलीज़ से पहले पंजाबी सुपर स्टार दिलजीत दोसांझ की पहली पंजाबी सुपर हीरो फिल्म सुपर सिंह रिलीज़ हो रही है।  दिलजीत की पंजाब के अलावा दिल्ली और नार्थ के कुछ दर्शकों में अच्छी पकड़ है।  सुपर हीरो के रूप में दिलजीत अपने दर्शकों पर पकड़ बना सकते हैं।  यानि इन इलाकों के दर्शकों और पर्दों को सलमान खान को कम करना होगा।  सबसे बड़ी चुनौती बैंक चोर से है।  इस कॉमेडी थ्रिलर फिल्म में कॉमेडी के मास्टर रितेश देशमुख बैंक चोर की भूमिका में हैं।   रितेश का कॉमिक एक्ट दर्शकों का पसंदीदा है। यह फिल्म यशराज बैनर के सहयोगी यंग बैनर वाय फिल्म्स की फिल्म है।  फिल्म वितरक और प्रदर्शक इस फिल्म की उपेक्षा आसानी से नहीं कर पाएंगे।  अगर रितेश देशमुख और विवेक ओबेरॉय की जोड़ी ने पकड़  बना ली तो सलमान खान के २३ जून के अतिरिक्त परदे गए समझो।
रिलीज़ के बाद के हफ्ते की चुनौती !
ऐसा नहीं कहा जा सकता है कि ३० जून का शुक्रवार बिलकुल खाली है।  सलमान खान ने कभी सुनील दर्शन के साथ कोई फिल्म नहीं की।  उनके भाई अरबाज़ ने ज़रूर सुनील दर्शन की फिल्म तलाश में अभिनय किया है।  सलमान खान जानते हैं कि सुनील दर्शन ने जानवर, एक रिश्ता, तलाश : द हंट बिगिन्स, बरसात, दोस्ती फ्रेंड्स फॉरएवर जैसी फ़िल्में निर्देशित की है।  यही सुनील ३० जून को अपने बेटे शिव दर्शन को रिलॉन्च करने के ख्याल से एक हसीना थी एक दीवाना था जैसी नदीम ( श्रवण के जोड़ीदार) के संगीत से सजी म्यूजिकल थ्रिलर फिल्म लेकर आ रहे हैं।  रही सही कसर पूरी करेगी उनके साथ पत्थर के फूल फिल्म से डेब्यू करने वाली अभिनेत्री रवीना टंडन की फिल्म शब।  ओनिर की फिल्म शब अपने बोल्ड कंटेंट के कारण चर्चित हो रही है।  विवाहेतर संबंधों पर इस फिल्म में रवीना टंडन के अलावा अर्पिता चटर्जी के बोल्ड दृश्यों की भरमार है।  रवीना टंडन तो फिल्म में अपने से उम्र में काफी छोटे आशीष बिष्ट के किरदार को कामुक हाव भाव दिखाती नज़र आएँगी।  कभी नेहा धूपिया ने कहा था कि बॉक्स ऑफिस पर दो एस बिकते हैं।  बेशक एक एस सलमान खान नहीं शाहरुख़ खान थे, पर दूसरा एस सेक्स था।  शब में यह सब है।
बाद के हफ्ते भी सलमान खान के लिए बेचैनी भरे होंगे।  क्योंकि, उनके सामने खाली हफ्ते नहीं होंगे।  आमिर खान की दंगल तीन सौ करोड़ का आंकड़ा इस लिए छू सकी कि २३ दिसंबर को रिलीज़ होने के बाद बाद आमिर खान की फिल्म के लिए कोई मुकाबला नहीं था।  ३० दिसंबर और ६ जनवरी खाली थे।  १३ जनवरी को श्रद्धा कपूर और अर्जुन कपूर की फिल्म ओके जानू और नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी की फिल्म हरामखोर रिलीज़ हुई थी, जो बेप्रभावी साबित हुई थी।  २० जनवरी के बाद २५ जनवरी को काबिल और रईस रिलीज़ हुई।  तब तक दंगल का दबदबा बना रहा।  सलमान खान की ट्यूबलाइट को ७ जुलाई को श्रीदेवी की फिल्म मॉम के साथ परेश रावल की कॉमेडी फिल्म गेस्ट इन लंदन और हॉलीवुड की फिल्म स्पाइडर-मैन होमकमिंग बड़ी  चुनौती  साबित हो रही होंगी।  ट्यूबलाइट के हलकी पड़ते ही, उसे नीचे उतार देंगी।  १४ जुलाई को तो उन्हें अपने रकीब रणबीर कपूर और पूर्व प्रेमिका कैटरिना कैफ की फिल्म जग्गा जासूस किक मार देगी।  रही सही कसर हॉलीवुड फिल्म वॉर फॉर द प्लेनेट ऑफ़ द एप्स पूरी कर देगी।
इसके बावजूद सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या ट्यूबलाइट ५०० करोड़ का बिज़नेस कर पाएगी ? यह सवाल उस समय भी सर उठाएगा, जब ट्यूबलाइट को ज़रूरी स्क्रीन्स भी मिल जाएँ।  लेकिन, उतनी स्क्रीन से कमाई तभी होगी, जब दर्शक आएंगे ?  क्या ट्यूबलाइट तीन हफ्ते तक दर्शकों को बांधे रख पाएगी ? ट्यूबलाइट दो भाइयों की कहानी है।  एक भाई मंदबुद्धि है।  इस करैक्टर को सलमान खान कर रहे हैं।  उनके भाई रियल लाइफ भाई सोहैल खान है।  यह फिल्म हॉलीवुड की  मैक्सिकन फिल्म मेकर एलेजैंड्रो गोमेज़ की फिल्म लिटिल बॉय का ऑफिसियल रीमेक है।  यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से असफल हुई थी।  समीक्षकों ने भी फिल्म पसंद नहीं की थी।  कबीर खान कहते हैं कि फिल्म पूरी तरह से लिटिल बॉय की कॉपी नहीं।  केवल आईडिया उधार लिया गया है।  इसीलिए लिटिल बॉय सलमान खान बने हैं।  वह चीन जाते हैं, अपने युद्ध में गए भाई को खोजने।  इस फिल्म में ढेरों इमोशनल दृश्य हैं।  सलमान खान कमज़ोर अभिनेता माने जाते हैं।  क्या वह इमोशन सही ढंग से दिखा पाएंगे।  उनकी अभिनय में कमज़ोरी फिल्म को बेहद कमज़ोर बना सकती है।  जब मुख्य किरदार कमज़ोर होगा तो फिल्म कैसे दर्शको में पकड़ बना सकती है? सलमान खान के साथ एक था टाइगर और बजरंगी भाईजान जैसी फिल्म बनाने वाली  कबीर खान से दर्शक उम्मीद कर सकता है।  लेकिन वह यह भी नहीं भूलेगा कि रॉ के एजेंट किरदार वाली कबीर खान की फिल्म फैंटम बुरी तरह से मात खाई थी।



























Now, Bollywood Hungamareports that Kabir has disclosed an international connection of his film. Besides starring Chinese actor Zhu Zhu as the female lead, the story of the film finds its origin in Mexican filmmaker Alejandro Gomez Monteverde's 2015 war fantasy film Little Boy.


The story of Little Boy revolved around a misfit named Pepper and nickamed Little Boy, played by Jakob Salvati. He finds unlikely friends in the Japanese, an enemy country of the USA during World War II. He goes on to teach them a few lessons in humanity.



PHULLU is a social drama about a man who cares, cares enough to make sanitary pads for the women in his village, and beyond, at affordable prices. 

The film is about an uneducated man they call Phullu, who leads a nondescript life in a small town. His only claim to fame is the fact that he travels to the city for the villager to get things from the city. Eventually, he learns about sanitary napkins through one of his visits. Learning about it, he decides he wants to provide the same for his wife and other ladies at an affordable price…. Thus begins his journey from the village idiot to the renaissance man.
Filmistaan actor Sharib Hashmi is back and this time with a film that talks about the social issue of sanitary hygiene. The poster was shared by trade analyst Komal Nahta on Twitter. Starring Sharib in the lead role, the tagline of the film is quite filmy and dramatic. It reads, “Joh aurat ka dard nahi samjha… Bhagwaan usse mard nahi samjhta (The man who do not understand pain of a woman, god does not consider a man).” In the poster, we see a lot of sanitary pads with the message, ‘Thank you Phullu,’ written in different languages. Going by the poster, it seems Phullu is the character played by Sharib. However, everything about the poster and the film reminds us of Padman starring Akshay Kumar.
Akshay’s film too is based on a person who takes up the challenge to make affordable cotton sanitary  pads for women, despite facing opposition from everyone around him. Akshay’s film is a biopic on Arunachalam Muruganatham, an entrepreneur from Tamil Nadu, who invented low-cost sanitary napkins to generate awareness in rural areas. The film is directed by R Balki and produced by Twinkle Khanna. However, if the content of both the films is same then it might effect the business of the films at the box office. Although Akshay’s stardom might work as the saving grace, we are keen to know what would be Akshay’s next step.

No comments:

Post a Comment