Monday, 21 December 2015

बेदिल 'दिलवाले' काशीबाई के बाजीराव

'दिलवाले' (आफ्टर बाईपास सर्जरी वाले)- डॉक्टर ने सर्जरी के बाद भूल से कलाकारों के दिल डस्ट बिन में डाल दिये। ऐसे में बेदिल शाहरुख़ खान, काजोल और रोहित शेट्टी टोटली ऑफ कलर। वैसे भी बासी कढी में कही उबाल आता है! शाहरुख़ खान दाढ़ी बढ़ा लेने से चक दे हो जाती तो अब तक तुम इंडिया पर छा जाते। लेकिन, इतनी बासी कहानी, सडियल दृश्यों और उतने ही रद्दी संवादों के कारण फिल्म घिसटती सी लगती है। शाहरुख़ खान ऊबे से लगते हैं। काजोल सोचती लगती हैं - ये कहाँ मैं आ फांसी। यहाँ तक कि वरुण धवन और रोहित शेट्टी का कॉमेडी तड़का भी सुगन्धहीन। कीर्ति सेनन पता नहीं अभिनय कर रही थी या सब को चिढ़ा रही थी। फिल्म कितनी ऊबाऊ होगी, इसका अंदाज़ा सिर्फ इस बात से लगाया जा सकता है कि वरुण धवन के दोस्त सिद्धू की भूमिका में वरुण शर्मा भी हँसाते हँसाते रुलाने लगते हैं। संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी, मुकेश तिवारी और जॉनी लीवर जैसे एक्टर नीरस कॉमेडी करते हैं। विनोद खन्ना और कबीर बेदी ने इस फिल्म को अपनी दारू की बाटली खरीदने के लिए ही किया होगा। प्रीतम की धुनें ऎसी लगाती हैं जैसे बिना नहाये तैयार कर दी गई। यह फिल्म १०० करोडिया है, बजट के लिहाज़ से। लेकिन, १०० करोड़ का ग्रॉस ही इसके लिए ताज होगा।
सब कुछ बासी दिलवाले
बाजीराव मस्तानी - पता नहीं पेशवा बाजीराव नाचते थे या नहीं।  लेकिन, संजय लीला भंसाली की फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' के बाजीराव क्या खूब नाचते हैं।  उन्हें नाचते देख कर अपने बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह की याद आ गई।  वह भी क्या खूब नाचते हैं।  गोलियों की रास लीला राम -लीला में वह क्या खूब नाचे थे।  लगता है बाजीराव ने राम-लीला देखी थी।  वह मस्तानी से रोमांस करते हैं।  मस्तानी उनकी कतार लेकर झाँसी से बाजीराव के घर आ धमकाती हैं।  कहती हैं कतार से विवाह हो गया।  इन दोनों का रोमांस देखते हुए मुग़ल ए आजम याद आ जाती है।  कोफ़्त होती है, यही गहराई रह गई है २१ वी सदी के रोमांस में।  बिलकुल ठन्डे बाजीराव, उससे ज़्यादा ठंडी मस्तानी।  इससे ज़्यादा गर्मागर्म रोमांस तो रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण स्टेज पर कर मारते हैं।  लेकिन, मान गए प्रियंका चोपड़ा को।  काशीबाई को जीवंत कर दिया।  कलाकारों की भीड़ जमा है।  सब अपने अपने रोल में फिट हैं।  संजय लीला भंसाली हिंदी दर्शकों के लिए नई प्रेम कथा लाये हैं।  विज़ुअल प्रभावशाली हैं।  सेट, कॉस्ट्यूम, लोकेशन सब कुछ बढ़िया।  आखिरी के दृश्य तो भंसाली की कल्पनाशीलता के प्रमाण हैं।  अगर रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण  का ऑन स्क्रीन रोमांस जम पाता को एक अविस्मरणीय फिल्म बन जाती।  

No comments:

Post a Comment