Wednesday, 2 December 2015

कभी सोचा भी न था कि फ्लॉप होंगी यह फ़िल्में भी !

इस साल के आखिर में बॉक्स ऑफिस पर दो बड़ी फिल्मो का टकराव होगा ।  निर्देशक संजयलीला भंसाली की रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा का ऐतिहासिक रोमांस ड्रामा फिल्म 'बाजीराव-मस्तानी' की बॉक्स ऑफिस पर निर्देशक रोहित शेट्टी की शाहरुख़ खान, काजोल, वरुण धवन और कीर्ति सेनन की एक्शन रोमांस फिल्म 'दिलवाले' से टक्कर सुनिश्चित हो गई  है।   इन दो फिल्मों से पहले नवम्बर में एक दूसरी बड़ी फ़िल्म भी रिलीज़ होनी हैं।  निर्देशक इम्तियाज़ अली एक बार फिर दीपिका पादुकोण और रणवीर कपूर को लेकर फिल्म 'तमाशा' ले कर आ रहे हैं।  यहाँ सवाल यह नहीं है कि दिलवाले को बाजीराव मस्तानी पछाड़ पायेगी या नहीं ! सवाल यह भी नहीं कि हिट रणवीर-दीपिका जोड़ी का तमाशा बॉक्स ऑफिस पर सफल होगा ! सवाल यह भी नहीं कि प्रेम रतन धन पायो बॉक्स ऑफिस पर आमिर खान की फिल्म 'पीके' के कलेक्शन को पा सकेगी या नहीं ! यहाँ सवाल इससे बड़ा है कि क्या बॉक्स ऑफिस पर चार बड़े धमाके होंगे या धडाम होगी ! क्योंकि, कुछ ऐसी बड़ी फ़िल्में थी, जिनके सफल होने की बहुत उम्मीद की जाती थी,  बॉक्स ऑफिस पर औधे मुंह जा गिरी। 
बॉम्बे वेलवेट का पैबंद
इस तथ्य को रणबीर कपूर से ज्यादा अच्छा कौन जानता होगा ! १५ मई २०१५ को रणबीर कपूर और अनुष्का शर्मा की साठ के दशक की बॉम्बे के माहौल को दिखाने वाली फिल्म 'बॉम्बे वेलवेट' रिलीज़ हुई थी।  अनुराग कश्यप फिल्म के निर्देशक थे।  करण जौहर का बतौर विलेन डेब्यू हो रहा था।  लेकिन, रणबीर कपूर और अनुष्का शर्मा की जोड़ी और करण जौहर का विलेन भी फिल्म को दर्शक नहीं दिला सका।  कुल १२५ करोड़ के बजट से बनी 'बॉम्बे वेलवेट' ने अपने निर्माताओं को पूरे सौ करोड़ का नुकसान पहुंचाया।  इसके साथ ही रणबीर कपूर की साख को ज़बरदस्त झटका लगा।  रणबीर कपूर की इस फिल्म की असफलता के कारण उनकी दीपिका पादुकोण के साथ फिल्म 'तमाशा' की सफलता पर सवालिया निशान लगना लाजिमी है।
ऐतिहासिक असफलता
दिलवाले के नायक शाहरुख़ खान बॉक्स ऑफिस पर सफलता की गारंटी हैं।  लेकिन, वह भी बड़ी असफलता का स्वाद चख चुके हैं।  शाहरुख़ खान की करीना कपूर के साथ ऐतिहासिक फिल्म 'अशोका' २६ अक्टूबर २००१ को रिलीज़ हुई थी।  किसी को उम्मीद नहीं थी कि बड़े पैमाने पर बनाई गई यह फिल्म असफल भी होगी।  लेकिन, ऐसा हुआ..... और बुरी तरह से हुआ।  अशोक के निर्माण में २८ करोड़ से ज्यादा खर्च हुए थे। लेकिन, यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर केवल साढ़े बारह करोड़ ही कमा सकी। 'अशोका' से काफी पहले फिल्म 'रज़िया सुल्तान' ने असफलता का कीर्तिमान स्थापित कर दिया था। १९४९ में 'महल' जैसी ट्रेंड सेटर फिल्म का निर्देशन करने वाले कमाल अमरोही ने अपने पूरे करियर में सिर्फ पांच फिल्मों का निर्देशन किया।  वह परफेक्शन के साथ फिल्म बनाने वाले फिल्मकार माने जाते थे। उनके नाम पाकीज़ा जैसी शाहकार फिल्म दर्ज़ है।  लेकिन, यही परफेक्शन उनकी ऐतिहासिक फिल्म 'रज़िया सुल्तान' को ले डूबा।  कमाल अमरोही को रज़िया सुलतान बनाने में सात साल लग गए। पैसा पानी की तरह बहा। धर्मेन्द्र, हेमा मालिनी और परवीन बाबी की मुख्य भूमिका वाली 'रज़िया सुल्तान' १६ सितम्बर १९८३ को रिलीज़ हुई। मगर, धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी जैसी हिट जोड़ी की पांच से दस करोड़ के बजट से बनी यह ऐतिहासिक फिल्म बॉक्स ऑफिस पर मुश्किल से दो करोड़ कमा सकी ।
बिग बी की बिग लॉस फ़िल्म
अमिताभ बच्चन ने बहुत सी बड़ी असफलताएं बॉलीवुड को दी हैं। सोवियत भारत सहयोग से बनी फिल्म 'अजूबा' बॉक्स ऑफिस पर अमिताभ बच्चन का ऐसा ही अजूबा साबित हुई थी।  'अजूबा' १२ अप्रैल १९९१ को रिलीज़ हुई थी।  आठ करोड़ के बजट से बनी 'अजूबा' अमिताभ बच्चन, शशि कपूर, डिंपल कपाडिया, सोनम, ऋषि कपूर और शम्मी कपूर जैसी बड़ी स्टार कास्ट के बावजूद मात्र २ करोड़ ही कमा सकी।
हिट जोड़ी की फ्लॉप फिल्म
जिन दिनों अनिल कपूर और जैकी श्रॉफ की जोड़ी हिट साबित हो रही थी।  श्रीदेवी खुद को बॉक्स ऑफिस क्वीन साबित कर रहे थी।  उसी दौर में १६ अप्रैल १९९३ को इन सितारों से सजी भव्य  कैनवास पर बनी फिल्म ‘रूप की रानी चोरों का राजा' रिलीज़ हुई थी।  निर्माता बोनी कपूर ने इस फिल्म में पानी की तरह पैसा बहाया था।  लेकिन, ९ करोड़ के बजट से बनी फिल्म 'रूप की रानी चोरों का राजा' बुरी तरह से असफल हुई।  सतीश कौशिक निर्देशित यह फिल्म केवल ३.१० करोड़ का कलेक्शन ही कर सकी। 
पहली विज्ञानं फंतासी फिल्म की असफलता
हिंदुस्तान की पहली विज्ञानं फंतासी फिल्म देखने की  इच्छा किस दर्शक में नहीं होगी। निर्माता-निर्देशक हैरी बवेजा ने अपने बेटे हरमन बवेजा को हीरो बनाने के लिए प्रियंका चोपड़ा जैसी स्थापित अभिनेत्री को उनकी नायिका बना कर हॉलीवुड की 'बैक टू द फ्यूचर' की टक्कर में फिल्म 'लव स्टोरी २०५०' बनाई।  उम्मीद थी कि लव स्टोरी २०५० हरमन को बॉक्स ऑफिस का बादशाह बना देगी।  लेकिन, हुआ ठीक उल्टा। 'लव स्टोरी २०५०' के निर्माण में  ५० करोड़ खर्च हुए थे।  लेकिन, ४ जुलाई २००८ को रिलीज़ यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर केवल १२.३२  करोड़ का कलेक्शन ही कर सकी।
भंसाली की गुज़ारिश ह्रितिक रोशन की काइट्स
इस साल की आखिरी बिग बजट और बिग स्टारकास्ट दो फिल्मों में एक संजयलीला भंसाली की 'बाजीराव मस्तानी' भी है।  इस फिल्म के भव्य सेट्स और बड़ी स्टारकास्ट  चर्चा में है।  भव्यता के लिहाज़ से संजयलीला  भंसाली बेजोड़ हैं। उनकी फ़िल्में साबित करती हैं कि बड़े सेट और सितारे किसी फिल्म को हिट नहीं बना सकते।  उनकी दो फ़िल्में 'गुज़ारिश' और 'सांवरिया' क्रमशः ८० करोड़ और ४० करोड़ के बजट से बनी फ़िल्में थी। यह दोनों ही फ़िल्में बुरी तरह से असफल हुई।  जहाँ 'साँवरिया' ने बॉक्स ऑफिस पर २४ करोड़ का कलेक्शन किया, वही गुज़ारिश मात्र ३० करोड़ का कलेक्शन ही कर सकी। बताते हैं कि गुज़ारिश का आधे से ज़्यादा बजट तो ह्रितिक रोशन और ऐश्वर्या राय बच्चन की फीस में ही निकल गया। ह्रितिक रोशन ने काइट्स जैसी बड़ी फ्लॉप फिल्म भी दी है। काइट्स का निर्माण ६० करोड़ के बजट से हुआ था।  लेकिन, यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर ४७.९० करोड़ का कलेक्शन ही कर सकी। 
राजकपूर को दिवालिया बना देने वाली असफलता
कोई नहीं जानता कि निर्माता-निर्देशक राजकपूर ने फिल्म मेरा नाम जोकर के निर्माण में कितना पैसा खर्च किया।  लेकिन, हिंदुस्तान की दूसरी दो मध्यांतर वाली इस फिल्म में राजकपूर  के अलावा राजेंद्र कुमार, धर्मेन्द्र, पद्मिनी, सिमी ग्रेवाल, दारा सिंह, आदि बड़े सितारों की भीड़ थी।  जैमिनी सर्कस को किराए में लिया गया था।  शंकर जयकिशन का हिट संगीत था। कहते हैं कि फिल्म को २४३ मिनट की लम्बाई मार गई।  कुछ इसे समय से पहले बनी फिल्म कहते हैं।  बहरहाल, फिल्म सफल नहीं हुई।  इस फिल्म की असफलता ने राजकपूर का दिवाला निकाल दिया।  उनके आरके स्टूडियो गिरवी रखने की खबरें आने लगी।  राजकपूर इस  घाटे से 'बॉबी' के बाद ही उबर सके। 

उपरोक्त कुछ बड़ी और चौंकाऊ असफलताएँ कुछ सोचने को मज़बूर करती हैं।  क्या पानी की तरह पैसा बहाना और बड़ी स्टारकास्ट किसी फिल्म की सफलता की गारंटी है ! शायद, नहीं। सलमान खान, सोनम कपूर, नील नितिन मुकेश और अनुपम खेर जैसी बड़ी स्टारकास्ट वाली दिवाली में रिलीज़ फिल्म 'प्रेम रतन धन पायो' एक्सटेंडेड वीकेंड की बदौलत सौ करोड़ का कलेक्शन तो कर ले गई।  लेकिन,  इसके सोमवार से बुरी तरह गिरे कलेक्शन से यह साबित हो गया कि अगर फिल्म में दम नहीं है तो दर्शक दोबारा सिनेमाघर वापस जाने वाले नहीं। यही कारण है कि अब जबकि २७ नवंबर को रणबीर कपूर और दीपिका पादुकोण की फिल्म तमाशा तथा १८ दिसंबर को रणवीर सिंह, दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा की फिल्म 'बाजीराव मस्तानी' और शाहरुख़ खान, काजोल, वरुण धवन और कीर्ति सेनन की फिल्म 'दिलवाले' रिलीज़ होने जा रही है तो कलेजा मुंह को आ जाता है कि क्या सुपरहिट मानी जा रही यह फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर हिट होंगी या.……! 

No comments:

Post a Comment