Wednesday, 21 October 2015

हेलेन : एक सेंसुअस कैबरे डांसर

हेलेन का नाम लेते ही शोले की 'महबूबा महबूबा' याद आ जाती है।  थोडा पीछे जाए 'तीसरी मंजिल' में शम्मी कपूर के साथ थिरकती 'हसीना जुल्फों' वाली का थिरकता बदन आँखों के आगे घूम जाता है।  फिर फ़ास्ट फॉरवर्ड करते हैं। अमिताभ बच्चन को लेकर चंद्रा बारोट ने बनाई थी 'डॉन' । इस फिल्म का गीत 'छोरा गंगा किनारे वाला' अमिताभ के मस्त डांस की बदौलत हिट हुआ था।  लेकिन, हेलेन पर फिल्माया गया 'ये मेरा दिल प्यार का दीवाना' कहाँ पीछे था।  तेज़ बीट को थिरकने में पीछे छोड़ती लग रही थी।  २८ साल बाद फरहान अख्तर ने जब डॉन का रीमेक बनाया तो हेलेन वाला डांस करीना कपूर से करवाया।  करीना एक बड़ी ग्लैमरस एक्ट्रेस है।  उनकी थिरकन में सेक्स अपील है।  लेकिन, न जाने क्यों उन्हें देखते हुए हेलेन याद आ रही थी।  यही तो हेलेन के डांस की खासियत है।  वह हर प्रकार के डांस कर सकती है।  जिस डांस नंबर पर वह थिरकती है, वह उनका हो कर रह जाता है।  दूसरे विश्व युद्ध में पिता के मारे जाने के बाद, २१ अक्टूबर १९३९ को जन्मी हेलेन को लेकर उनकी माँ बर्मा से भारत चली आई थी।  माँ नर्स थी।  फिर भी घर का खर्च चलना मुश्किल हो रहा था।  ऐसे में हेलेन को पढ़ाई छोड़ कर कुछ कमाने के लिए निकलना पडा।  उस समय की बड़ी डांस कुकु पारिवारिक मित्र थी।  कुकु ने हेलेन को फिल्मों में डांस करने की सलाह दी। हालाँकि, कुकु की मदद से हेलेन को फ़िल्में मिलने लगी। लेकिन, इनमे उन्हें भीड़ के बीच कदम थिरकाने पड़ते थे। उनकी पहली सोलो डांसर फिल्म १९५३ में रिलीज़ 'अलिफ़ लैला' थी।  गीत था आशा भोंसले का गया 'राते प्यार की बीत जाएंगी'। इस फिल्म के बाद हेलेन का सितारा चमकने लगा।  'हावड़ा ब्रिज' का ओ पी नय्यर का संगीत बद्ध गीत 'मेरा नाम चिन चिन चू' बड़ा हिट गीत  साबित हुआ।  इस गीत के बाद हेलेन कैबरे क्वीन का बतौर  मशहूर हो गई।  एक समय ऐसा आया, जब बॉलीवुड में डांस जानने वाली अभिनेत्रियां आने लगी।  इसके कारण हेलेन को काम  मिलना काफी काम हो गया।  ऐसे समय में सलीम खान ने हेलेन की मदद की।  सलीम खान के कारण हेलेन को ईमान धरम, डॉन और दोस्ताना जैसी फिल्मों में अभिनय करने का मौका मिला।  महेश भट्ट ने फिल्म लहू के दो रंग में हेलेन को विनोद खन्ना की नायिका बना दिया। इस फिल्म  के लिए हेलेन को बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का फिल्मफेयर पुरस्कार मिला। हेलेन ने कई फिल्मों में वैम्प की भूमिकाएं की।  यहाँ एक दिलचस्प तथ्य यह है कि हेलेन ने १९६१ की फिल्म 'सम्पूर्ण रामायण' में सुपर्णखा का किरदार किया था। सत्तर के दशक में  पद्मा खन्ना, जयश्री टी, बिंदु, अरुणा ईरानी और कल्पना अय्यर जैसी कम डांसर्स के आ जाने के बाद फिल्मों में हेलेन की मांग घट गई।  उम्र भी उन पर भारी पड़ रही थी।  इसलिए, उन्होंने धीरे धीरे डांस करना बिलकुल काम कर दिए।  वह १९८३ में फिल्मों से दूर हो गई। फिर उन्होंने २००० में मोहब्बते फिल्म से छोटी छोटी भूमिकाएं करना शुरू कर दिया। उन्होंने संजयलीला भंसाली की फिल्म 'हम दिल दे चुके सनम' में  सलमान खान की माँ का किरदार किया था, जो रियल लाइफ में उनके सौतेले बेटे है। हेलेन ने अपने जीवन में ५०३ फिल्मों में डांसर, नायिका, खल नायिका, कैबरे  और चरित्र भूमिकाये की।  





No comments:

Post a Comment