Saturday, 13 June 2015

डायनासोरस का खतरनाक 'जुरैसिक वर्ल्ड'

यह वाक़या २५ साल पहले का है।  अमेरिकी लेखक माइकल क्रिचटन का एक उपन्यास जुरैसिक पार्क प्रकाशित होने वाला था।  यह उपन्यास कोस्टा रिका के निकट सेंट्रल अमेरिका के पैसिफिक कोस्ट पर स्थित एक काल्पनिक इस्ला नुब्लार टापू पर केंद्रित था, जहाँ एक अरबपति परोपकारी जेनेटिक साइंटिस्ट्स की टीम के साथ एक वाइल्ड लाइफ पार्क की रचना करता है, जिसमे डायनासोर के क्लोन पैदा किये जाते हैं।  इस उपन्यास के छपने से पहले ही इस पर फिल्म  बनाने के इच्छुक चार स्टूडियोज की लाइन लेखक माइकल क्रिचटन के घर में लग गई। यूनिवर्सल स्टूडियोज की मदद से निर्माता निर्देशक स्टीवन स्पीलबर्ग इस उपन्यास पर फिल्म बनाने के अधिकार १.५ मिलियन डॉलर में खरीद पाने में कामयाब हुए।  फिर इस उपन्यास पर फिल्म बनाने के लिए स्क्रिप्ट लिखने का काम भी ५ लाख डॉलर में माइकल क्रिचटन को सौंपा गया।  फिल्म का फाइनल ड्राफ्ट डेविड कोएप ने तैयार किया। स्टीवन स्पीलबर्ग के निर्देशन में यह फिल्म मई १९९३ में पूरी हो गई।  ११ जून १९९३ को ६३ मिलियन डॉलर से बनी इस फिल्म का प्रदर्शन हुआ।  फिल्म को ज़बरदस्त सफलता मिली।  दर्शकों के लिए डायनासोर का यह संसार अनोखा और दिलों की धड़कने रोकने वाला अनुभव था।  यह फिल्म अब तक १०२९ बिलियन डॉलर कमा चुकी है।
जुरैसिक पार्क (१९९३)-
जुरैसिक पार्क सीरीज की पहली फिल्म 'जुरैसिक पार्क' ११ जून १९९३ में रिलीज़ हुई थी।  इस फिल्म के कथानक के अनुसार कुछ वैज्ञानिक  इस्ला नुबलर द्वीप पर क्लोन डायनासोरों का मनोरंजन पार्क तैयार करते हैं।  पार्क का मालिक जॉन हैमंड (इस भूमिका को सर रिचर्ड एटनबरो ने किया था) कुछ वैज्ञानिकों (सैम नील, जेफ्फ गोल्डब्लम और लॉरा डेर्न के किरदार) को पार्क घुमाने ले जाता है।  वहां तोड़ फोड़ के कारण डायनासोर बेकाबू हो जाते हैं।  यही फिल्म का रोमांचक हिस्सा था। फिल्म का निर्माण ६३ मिलियन डॉलर से हुआ था।  यह फिल्म फर्स्ट रन में ही ९०० मिलियन डॉलर कमा चुकी थी।  जुरैसिक पार्क अब तक १.०२९ बिलियन डॉलर की कमाई कर १४वी सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म बन चुकी है।
द लॉस्ट वर्ल्ड : जुरैसिक पार्क(१९९७)-
जुरैसिक पार्क सीरीज की दूसरी फिल्म 'द लॉस्ट वर्ल्ड' का निर्देशन स्टीवन स्पीलबर्ग ने ही किया था।  २३ मई १९९७ को रिलीज़ इस फिल्म के निर्माण में ७३ मिलियन डॉलर खर्च हुए थे।  यह फिल्म अब तक ६१८ मिलियन  डॉलर का बिज़नेस कर चुकी है। द लॉस्ट वर्ल्ड भी माइकल क्रिचटन की किताब पर थी।  लेकिन, माइकल ने यह किताब  जुरैसिक वर्ल्ड की सफलता के बाद, तमाम दबावों में आकर ही लिखी थी। इस दूसरी फिल्म की कहानी मूल जुरैसिक पार्क के इस्ला नुबलर द्वीप के सहायक द्वीप इस्ला सोरना पर केंद्रित थी।  यहाँ डायनासोरस को जंगलों में रहने के लिए ले जाया जाता है। वैज्ञानिक इयान मैलकम डायनासोरस  को उनकी पैदाइश के परिवेश में रहने देने के समर्थक दल का मुखिया है। वहीँ इनजेन इन डायनासोरस को दूसरे जुरैसिक पार्क में ले जाने में दिलचस्पी रखती है।
जुरैसिक पार्क ३(२००१)-
जुरैसिक पार्क सीरीज की तीसरी फिल्म 'जुरैसिक पार्क ३' ऐसी फिल्म थी, जिसके निर्देशक न तो स्टीवन स्पीलबर्ग थे और न ही इसके लेखक माइकल क्रिचटन थे। १८ जुलाई २००१ को रिलीज़ इस फिल्म को जोए जोह्न्स्टन ने निर्देशित किया था। इस फिल्म का शीर्षक जुरैसिक पार्क: एक्सटिंक्शन रखा गया था, क्योंकि, फिल्म में एक महामारी के कारण सारे डायनासोर मारे जाते दिखाए गए थे।  लेकिन, बाद में यूनिवर्सल ने इस विचार को चौथी फिल्म के लिए सुरक्षित रख लिया। बिलकुल नए चरित्रों के साथ इस फिल्म में मूल फिल्म में सैम नील और लॉरा डेर्न के किरदार ही शामिल थे। एक जोड़ा अपने बेटे एरिक को बचाने के लिए डॉक्टर ऐलन ग्रांट की सेवाएं लेता है।  लेकिन इन लोगों का जहाज द्वीप पर दुर्घटनाग्रस्त हो जाता है।  जहाज के लोग द्वीप से भागने की कोशिश करते है।  डायनासोर उनका पीछा कर रहे हैं।  तीसरी कड़ी के निर्माण में लगी ९३ मिलियन डॉलर की रकम के मुकाबले कमाई बेहद मामूली महज़ ३६८.७ मिलियन डॉलर ही हुई थी।
जुरैसिक वर्ल्ड (२०१५) -
अब जुरैसिक पार्क सीरीज की चौथी फिल्म 'जुरैसिक वर्ल्ड' कोई १४ साल बाद रिलीज़ हो रही है।  इस फिल्म का निर्देशन कॉलिन ट्रेवोरो कर रहे हैं। जुरैसिक वर्ल्ड पर १५०-१८० मिलियन डॉलर के खर्च का अनुमान किया जा रहा है। इस फिल्म में क्रिस प्राट, ब्रीके डलास होवार्ड, विन्सेंट डीओनोफ्रीओ, टी सिम्प्किंस, निक रॉबिंसन, ओमर सय, आदि की मुख्य भूमिका है। फिल्म की कहानी के अनुसार जुरैसिक पार्क में दर्शकों की भीड़ जुटाने के लिए डायनासोर की जीन में परिवर्तन किया  जाता है।  एक दिन इसके परिणाम खतरनाक हो जाते हैं।





No comments:

Post a Comment