Saturday, 27 June 2015

फिर 'कॉप' बन रही हैं बॉलीवुड एक्ट्रेस !

बॉलीवुड की अभिनेत्रियों के बीच खाकी पहनने की होड़ लग गई है  इस समय, कम से कम चार ऎसी फ़िल्में हैं, जिनमे नायिका ने खाकी वर्दी पहनी है .निर्देशक प्रकाश झा, १२ साल बाद, अपनी २००३ में रिलीज़ हिट फिल्म 'गंगाजल' का सीक्वल 'गंगाजल २' बना रहे हैं।  परन्तु, इस फिल्म में उन्होंने गंगाजल को हिट बनाने वाले और अपने अब तक के पसंदीदा एक्टर अजय देवगन को नहीं लिया है . अब यह एक महिला कॉप की फिल्म बन गई है . फिल्म में, अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा एक एसपी की भूमिका कर रही हैं, जो भ्रष्ट राजनेताओं से टकरा जाती है . निर्देशक एआर मुरुगदोस सोनाक्षी सिन्हा को मुख्य भूमिका में लेकर एक खालिस एक्शन फिल्म 'अकीरा' बनाने जा रहे हैं . लेकिन, इस फिल्म में सोनाक्षी सिन्हा अकीरा के रोल में खाकी पहने नज़र नहीं आयेंगी . फिल्म में पुलिस अधिकारी का किरदार सोनाक्षी सिन्हा नहीं, बल्कि एक थी डायन की डायना कोंकना सेनशर्मा कर रही हैं . पहले, मुरुगदोस इस भूमिका के लिए तब्बू को लेना चाहते थे . लेकिन, तब्बू ने
'अकीरा' की कॉप बनने से इनकार कर दिया, क्योंकि, अकीरा का उनका किरदार निशिकांत कामथ की फिल्म 'दृश्यम' के किरदार जैसा था . कभी, अजय देवगन के साथ फिल्म विजयपथ में रोमांस लड़ाने वाली तब्बू 'दृश्यम' में एक ऐसी ईमानदार पुलिस अधिकारी का किरदार कर रही हैं, जो अजय देवगन पर लगे बच्चे के अपहरण के आरोप की गहराई से जांच करती . सिल्वर स्क्रीन पर चौथी कॉप बन रही है संदीपा धर . संदीपा धर ने इसी लाइफ में जैसी सुपर फ्लॉप फिल्म से अपने करियर की शुरुआत की थी . अब वह फिल्म '७ आवरस टू गो' में एक पुलिस अधिकारी का किरदार कर रही हैं . इस रोल में संदीपा को जैकी चैन जैसे एक्शन करती नज़र आयेंगी .
लेकिन, प्रियंका चोपड़ा से संदीपा धर तक, बॉलीवुड एक्ट्रेस कोई कीर्तिमान स्थापित करने नहीं जा रही हैं . वर्दी पहनने का चस्का तो बॉलीवुड की अभिनेत्रियों को लगता ही रहता है . जब जब हिंदी फिल्म की नायिका पर एक्शन का बुखार चढ़ा है, उसने वर्दी पहनी है . अब हेमा मालिनीं को ही लीजिये . वह बॉलीवुड की ड्रीम गर्ल के रूप में आज भी मशहूर हैं . परन्तु, अस्सी के दशक में उन्हें अपनी इमेज बदलने का शौक चर्राया . उन दिनों निर्देशक टी रामाराव, अमिताभ बच्चन की एक्सटेंडेड कैमिया वाली रजनीकांत की हिंदी डेब्यू फिल्म 'अंधा कानून' का निर्माण कर रहे थे।  इस फिल्म में रजनीकांत की पुलिस बहन का किरदार था।  हेमा मालिनी ने इमेज बदलने के लिए फिल्म में रजनीकांत की बहन बनाना मंज़ूर कर लिया।  इसके बाद, बॉलीवुड की सभी अभिनेत्रियों में खाकी पहनने का बुखार चढ़ गया।  रेखा, श्रीदेवी, और डिंपल कपाड़िया ने वर्दी पहन डाली। 
 यह वह समय था, जब अमिताभ बच्चन और एंग्री यंगमैन का बुखार हिंदी फिल्म दर्शकों पर चढा हुआ था।  ऐसे समय में अमिताभ बच्चन की तर्ज़ पर क्रोधित होने और वर्दी पहनने का चस्का बॉलीवुड एक्ट्रेस को लगना स्वाभाविक था। यही कारण था कि हिंदी फिल्म अभिनेत्रियों के लिए जितनी भी कॉप फ़िल्में लिखी गईं, वह सबकी सब बदले की भावना से भरी हुई है।  इसका अपवाद के सी बोकाडिया की फिल्म जवाब हम देंगे थी, जिसमें श्रीदेवी ने एक पुलिस इंस्पेक्टर ज्योति का किरदार किया था, जो अपने पति के विरुद्ध एक निर्दोष को फांसी पर जाने से बचाती है। अँधा कानून में हेमा मालिनी का इंस्पेक्टर दुर्गा देवी सिंह का किरदार अपने परिवार को ख़त्म कर देने वाले दो लोगों से बदला लेने के लिए वर्दी पहनती है।  ज़ख़्मी औरत (१९८८) में तो डिंपल कपाड़िया अपने बलात्कारियों को सज़ा देने के लिए अपनी पुलिस वर्दी उतार फेंकती है। फिल्म फूल बने अंगारे (१९९१) में रेखा अपने पुलिस अफसर पति की हत्या का बदला लेने के लिए पुलिस की नौकरी करती है।

यह कहना बहुत मुश्किल है कि किस अभिनेत्री ने सिल्वर स्क्रीन पर कॉप किरदार नहीं किया।  बिपाशा बासु जैसी सेक्स बम तक दो फिल्मों गुनाह और धूम २ में वर्दी पहन कर पिस्तौल तान चुकी है।  दृश्यम में कॉप किरदार कर रही फिल्म अभिनेत्री तब्बू ने १९९९ में एक पुलिस अधिकारी का किरदार किया था, जो एक सैन्य अधिकारी से प्रेम करती है।  माधुरी दीक्षित ने सुभाष घई की फिल्म खलनायक में कॉप की भूमिका में भी चोली के पीछे क्या है जैसा सेक्सी गीत नृत्य किया।  प्रियंका चोपड़ा डॉन २ और गुंडे में कर्तव्यनिष्ठ पुलिस अधिकारी का किरदार कर रही थी।  प्रियंका डॉन २ के पुलिस किरदार में ख़ास ज़मी। कॅश और दस में शिल्पा शेट्टी ने कॉप किरदार किये थे।  फिल्म संघर्ष में प्रीटी जिंटा सीबीआई ट्रेनी बनी थी।  हुमा कुरैशी ने 'डी-डे' में रॉ एजेंट का किरदार किया था। फिल्म समय में सुष्मिता सेन एक कठिन हत्या के मामले को सुलझा सकने वाली पुलिस अधिकारी बनी थी ।
हिंदी फिल्मों की अभिनेत्रियों की चाहत होती है सशक्त किरदार, जिससे उन्हें मज़बूत किरदार मिले, उनकी चर्चा हो।  यही कारण है कि अमिताभ बच्चन के ज़ंजीर के पुलिस किरदार के बाद अभिनेत्रियों में वर्दी पहनने का उतना ज़ज़्बा पैदा नहीं हुआ था, जो हेमा मालिनी के 'अँधा कानून' में वर्दी पहनने के बाद पैदा हुआ।  इस रोल ने हेमा मालिनी की अलग तरह से चर्चा हुई।  कुछ इसी प्रकार से, जब रानी मुख़र्जी ने अपनी वापसी फिल्म मर्दानी में वर्दी पहनी तो उनकी रफ़ टफ भूमिका को काफी पसंद किया गया।  यही कारण है दो बार पहले भी वर्दी पहन चुकी प्रियंका चोपड़ा ने गंगाजल २ में वर्दी पहनने से गुरेज़ नहीं किया।   लेकिन, इसमे भी कोई शक नहीं कि गंगाजल २ में प्रियंका चोपड़ा, दृश्यम में तब्बू और अकीरा में कोंकणा सेनशर्मा के पुलिस किरदार काफी सशक्त हैं।

राजेंद्र कांडपाल 

No comments:

Post a Comment