Monday, 18 June 2018

पूजा चोपड़ा और फरहान अख्तर करेंगे #एकचम्मचकम अभियान का नेतृत्व

अमर गांधी फाउंडेशन के साथ मिलकर एमसीजीएम, पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट ने गैर-संक्रमणीय बीमारियों (एनसीडीएस) के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए 'एकचम्मचकम' नामक अभियान शुरू किया है।

बीएमसी ने अभिनेता-निर्देशक फरहान अख्तर और अभिनेत्री-मिस वर्ल्ड ब्यूटी, पूजा चोपड़ा को इस अभियान की पहल करने के लिए आमंत्रित किया है। क्योंकि सार्वजनिक स्वास्थ्य अभियान पर फिल्म सेलेब्रिटी का बहुत ही अच्छा प्रभाव पड़ता है। 

बीएमसी आयुक्त, अजय मेहता ने कहा, 'एकचम्मचकमअभियान का उद्देश्य लोगों को गैर-संक्रमणीय बीमारियों की गंभीर प्रकृति व आहार परिवर्तनों और व्यायाम के महत्व के बारे में जागरूक करना है।"

अतिरिक्त बीएमसी आयुक्त, आय ए कुंदन ने कहा, "गैर-संक्रमणीय एक मुख्य बीमारी है और इसके बारे में जागरुकता करने की जरूरत है "।

'एकचम्मचकम’ - वर्तमान तेजी से जीवन शैली और दोषपूर्ण खाद्य आदतों के कारण, लगभग हर कोई गैर-संक्रमणीय बीमारियों (एनसीडीएस) के जोखिम पर है। उच्च रक्तचाप, मोटापा, उच्च रक्त शर्करा आमतौर पर छोटी उम्र के नौजवानों में भी देखा जाता है।

एनसीडीएस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट का हवाला देते हुए फरहान अख्तर, जो व्यक्तिगत रूप से शारीरिक फिटनेस के लिए जाने जाते हैं, कहते हैं, "भारत में लगभग ६१ प्रतिशत मौतों को अब गैर-संक्रमणीय बीमारियों के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। इनमें से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियां (कोरोनरी हार्ट बीमारी, स्ट्रोक, और उच्च रक्तचाप) ४५ प्रतिशत तक योगदान देता है, इसके बाद पुरानी श्वसन रोग (२२ प्रतिशत), कैंसर (१२ प्रतिशत) और मधुमेह (३ प्रतिशत) होता है। अगर हम नमक, चीनी और तेल का सेवन कम करते हैं, तो इन सभी रोगो पर काबू पा सकते है। हमारे आहार से सक्रिय जीवनशैली बनाए रखें।

अभिनेत्री पूजा चोपड़ा ने कहा, "हम सभी को देखना है कि हम कितना नमक, चीनी और तेल खा रहे हैं। शारीरिक निष्क्रियता एक और खतरा है जिसे हमने अपने लिए बनाया है। 'एकचम्मचकमके मंत्र को अपनाओ।

अमर गांधी फाउंडेशन के डॉ भूपेंद्र गांधी कहते हैं, "हर दिन 'एकचम्मचकमनमक, चीनी और तेल का इस्तेमाल करना चाहिएसरल और आत्म-व्याख्यात्मक है। उदाहरण के लिए; यह अच्छी तरह से जाना जाता है कि किसी व्यक्ति के आहार में बहुत अधिक सोडियम हानिकारक हो सकता है। यह रक्त को तरल पदार्थ पकड़ने का कारण बनता है, और बदले में, यह रक्तचाप बढ़ाता है और दिल पर भी तनाव डालता है।

'एकचम्मचकममूल रूप से 'अमर गांधी फाउंडेशन' नामक गैर-लाभकारी के लिए 'नेटवर्क' द्वारा विकसित एक अभियान है। इसके पीछे के विचार के बारे में बोलते हुए रीता गुप्ता कहती हैं, ‘'एकचम्मचकमयह स्लोगन मापने योग्य और यादगार होना चाहिए। यह संदेश बहुत ही तेज गती से परिवर्तित होता है, जो बहुत ही छोटा नारा है। ध्यान रखें - नमक, चीनी और तेल की खपत को आहार में कम करें। आज शुरू करें। "

'एमसीजीएम' की भागीदारी के साथ, यह अब शहरों में गैर-संक्रमणीय बीमारियों से लड़ने के लिए तत्पर है।


फादर्स डे पर दो पिताओं के साथ नेहा धूपिया और अंगद बेदी - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

No comments:

Post a Comment