Sunday, 27 May 2018

स्पेन और कोरिया जा पहुंचा है बॉलीवुड

निर्माणाधीन दो फ़िल्में बहुत ख़ास हैं। यह दोनों ही फ़िल्में स्पेनिश और कोरियाई फिल्मों का हिंदी रीमेक हैं। इन दोनों फिल्मों में बड़े सितारे हैं और यह फ़िल्में बड़े बजट से बनाई जा रही फ़िल्में हैं। पहली फिल्म सुजॉय घोष के निर्देशन में फिल्म बदला है। इस फिल्म में अमिताभ बच्चन और तापसी पन्नू दूसरी बार साथ काम करने जा रहे हैं। यह फिल्म स्पेनिश फिल्म कंत्राटिएम्पो (अंग्रेजी में द इनविजिबल गेस्ट) की हिंदी रीमेक है। फिल्म की कहानी एक सफल व्यवसाई की है। एक दिन जब उसकी आँख खुलती है तो वह खुद को एक होटल के कमरे में पाता है। उसके बगल में उसकी रखैल की लाश पड़ी है। दूसरी फिल्म का निर्माण दक्षिण के निर्देशक जीतू जोसफ कर रहे हैं।  यह उनकी पहली हिंदी फिल्म है। जीतू जोसफ को थ्रिलर फ़िल्में बनाने में महारत हासिल हैं। उनकी निर्देशित फिल्म पर अजय देवगन की फिल्म दृश्यम का निर्माण हुआ था। जीतू जोसफ की हिंदी डेब्यू फिल्म एक स्पेनिश फिल्म एल क्यूरेपो (द बॉडी) पर आधारित है।  इस थ्रिलर फिल्म में एक डिटेक्टिव उस लाश के गायब होने का रहस्य पता करना चाहता है, जो एक मुर्दा घर से गायब हो गई है। इस फिल्म में ऋषि कपूर और इमरान हाश्मी केंद्रीय भूमिका कर रहे हैं।

क्यों बनाई जाती हैं स्पेनिश और कोरियाई फिल्मों पर हिंदी रीमेक फ़िल्में ! जवाब तो फिल्म निर्माता ही दे सकते हैं।  लेकिन, हिंदी फिल्म दर्शकों ने इन रीमेक फिल्मों को बड़ी दिलचस्पी से देखा है। यह रीमेक फ़िल्में उन्हें अपनी अपनी सीटों से चिपके रहने को मज़बूर करती हैं। ऎसी फिल्मों की कहानियों में वह अनूठापन मिलता है, जो अमूमन मूल हिंदी फिल्मों में देखने-सुनने को नहीं मिलता। ऐसी फिल्म में अगर सशक्त अभिनेता हो, कल्पनाशील सक्षम निर्देशक हो तो दर्शकों को एक बढ़िया थ्रिलर फिल्म देखने से कौन रोक सकता है ! यही, कारण है कि बड़े बजट की, बड़े सितारों वाली रीमेक फ़िल्में खूब बनी।  हिंदी फिल्मों के कुछ निर्देशक तो रीमेक फिल्मों के निर्देशक ही कहलाने लगे।   

संजय गुप्ता की फ़िल्में, कभी अमेरिका कभी कोरिया 
संजय गुप्ता ने अपने फिल्म निर्देशक करियर की शुरुआत ही रीमेक फिल्म से की।  उनकी फिल्म आतिश फील द फायर हांगकांग की जॉन वू निर्देशित फिल्म अ बेटर टुमारो से प्रेरित थी । उनकी अन्य फिल्मों में, जंग (डेस्पेरेट मेजर्स), खौफ (द ज्यूरर), कांटे (रिजर्वायर डॉग्स, हांगकांग फिल्म सिटी ऑन फायर), प्लान (सुसाइड किंग्स), मुसाफिर (यू टर्न) जैसी अमेरिकी फिल्मों से प्रेरित थी।  इसके बाद बदलाव के लिए संजय गुप्ता ने कोरियाई फिल्मों की ओर रुख किया। उनकी फिल्म ज़िंदा कोरियाई फिल्म ओल्डबॉय (२००३) का रीमेक थी।  वुडस्टॉक विला जापानी थ्रिलर फिल्म गेम पर आधारित थी।  संजय गुप्ता की पिछली दो फ़िल्में कोरियाई फिल्मों पर आधारित थी। ऐश्वर्या राय बच्चन और इरफ़ान खान की फिल्म जज़्बा, कोरिया की २००७ में रिलीज़ फिल्म ७ डेज और हृथिक रोशन की फिल्म काबिल २०१४ में रिलीज़ कोरियाई फिल्म ब्रोकन का रीमेक थी। 

कोरियाई फिल्मों के रीमेक के उस्ताद मोहित सूरी 
मोहित सूरी को कोरियाई फिल्मों के रीमेक का उस्ताद कहना उपयुक्त होगा। उनकी बतौर निर्देशक पहली फिल्म ज़हर कार्ल फ्रैंकलिन निर्देशित डेन्ज़ेल वाशिंगटन अभिनीत अमरीकन थ्रिलर फ़िल्म आउट ऑफ़ टाइम का हिंदी रीमेक थी। मोहित सूरी की दूसरी फिल्म कलयुग भी, अमरीकन फिल्म ८ एमएम (१९९९) की कॉपी तो नहीं, लेकिन प्रेरित ज़रूर थी। इस फिल्म के बाद, उनकी चौथी निर्देशित फिल्म आवारापन (२००७), किम जी-वून निर्देशित कोरियाई फिल्म अ बिटरस्वीट लाइफ (२००५) का रीमेक थी। राज़ द मिस्ट्री कन्टीन्यूज किसी विदेशी फिल्म का डायरेक्ट रीमेक तो नहीं थी।  मगर  कुछ दृश्य रिंग २ और कुछ गॉथिका से उड़ाए गए थे। रोहित सूरी ने मर्डर २ का भी निर्देशन किया था।  इस फिल्म की कहानी महेश भट्ट ने लिखी थी।  लेकिन, महेश भट्ट ने भी यह कहानी कोरियाई फिल्म द चेजर (२००८) से उड़ाई थी। २०१४ की फिल्म एक विलेन को तुषार हीरानंदानी ने कोरियाई फिल्म आई सॉ द डेविल से उड़ाया था।

हालिया रीमेक  
रिभु दासगुप्ता निर्देशित फिल्म टीई३एन कोरियाई फिल्म मोंटाज (२०१३) की अधिकारिक रीमेक फिल्म थी। कोरियाई फिल्म में एक अपराध का पता लगाने के लिए निकले तीन करैक्टरों को हिंदी रीमेक में अमिताभ बच्चन, नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी और विद्या बालन ने किया था। ऐश्वर्या राय बच्चन की वापसी फिल्म जज़्बा कोरियाई फिल्म सेवन डेज की कॉपी थी। इमरान हाश्मी और जैक्विलिन फर्नॅंडेज़ की फिल्म मर्डर २ कोरियाई फिल्म द चेंजर पर आधारित थी। रणवीर शोरे और मल्लिका शेरावत की फिल्म अग्ली और पगली कोरिया की फिल्म माय सैसी गर्ल का रीमेक थी। जॉन अब्राहम की मुख्य भूमिका वाली फिल्म रॉकी हैंडसम, दक्षिण कोरिया की फिल्म द मैन फ्रॉम नोवेयर की रीमेक फिल्म थी। कोरियाई फिल्म एक पूर्व हिटमैन की कहानी थी, जो एक आठ साल की लड़की का अपहरण करने वाले ड्रग माफिया को ख़त्म करने का इरादा करता है। रॉकी हैंडसम का निर्देशन निशिकांत कामथ ने किया था। फरहान अख्तर की म्यूजिकल फिल्म रॉकऑन ली जून-इक की एक बैंड के मुखिया की कहानी पर ड्रामा फिल्म द हैप्पी लाइफ पर आधारित थी। सूरज बडजात्या और सलमान खान की जोड़ी भी कोरियाई फिल्मों के जादू से बच नहीं पाई हैं। इस जोड़ी की २०१५ में रिलीज़ फिल्म प्रेम रतन धन पायो कोरियाई फिल्म मस्कुएरड (२०१२) का रीमेक थी। हालाँकि उस समय इस फिल्म को द प्रिजनर ऑफ़ जेंडा का हिंदी रीमेक बताया जा रहा था। 

असफलता के बावजूद रीमेक ? 
कोरियाई फिल्मों का हिंदी रीमेक क्यों किया जाता है।  इसका जवाब आगे मिल सकता है। हालाँकि, कोरियाई फिल्म द मैन फ्रॉम नोवेयर के हिंदी रीमेक रॉकी हैण्डसम को बॉक्स ऑफिस पर सफलता नहीं मिली थी। इसके बावजूद इस फिल्म के निर्माता सुनील खेतरपाल कोरियाई फिल्मों के रीमेक से परहेज करने नहीं जा रहे। वह एक और कोरियाई फिल्म के टाइटल को खरीदने की ज़द्दोज़हद में है।  वह कहते हैं, “कोरियाई फ़िल्में एक्शन और इमोशन के अनुपात के लिहाज़ से हिंदी दर्शकों को आकर्षित करने वाली हैं।

 जब इजराइल बना इंडिया और फलस्तीन बना पाकिस्तान 
पाकिस्तानी एक्टर अली ज़फर की फिल्म अमन की आशा स्पेनिश फिल्म सेरेस कुएरिडोस (ओनली ह्यूमन) का हिंदी रीमेक थी। स्पेनिश फिल्म एक इजराइली लड़की और फलस्तीनी लडके की रोमांस कहानी थी। अमन की आशा का टाइटल बदल कर टोटल सियापा कर दिया गया था। इस फिल्म ई निवास ने किया था। फिल्म के लेखक नीरज पांडेय थे। ओनली ह्यूमन को हिंदी में टोटल सियापा बनाते समय किरदारों के देशों में स्वाभाविक परिवर्तन किये गए थे। फिल्म में यह किरदार पाकिस्तानी लड़का और भारतीय लड़की बना दिए गए थे। 

आने को हैं कुछ दूसरे रीमेक 
यूजिनो डेर्बेज़ की फिल्म इंस्ट्रक्शन्स नॉट इनक्लूडेड का हिंदी रीमेक बनाने के अधिकार अजुरे एंटरटेनमेंट ने खरीद लिए है। यह फिल्म प्लेबॉय मैगज़ीन के एक मॉडल की है,  जिस के घर एक बच्ची को छोड़ दिया गया है। उसे इस बच्ची की माँ की खोज और बच्ची को पालने के लिए अपनी लाइफ स्टाइल बदलनी है। सलमान खान की फिल्म भारत, २०१४ में रिलीज़ कोरियाई फिल्म ओड टू माय फादर पर आधारित है। फर्क इतना है कि कोरियाई फिल्म कोरियाई युद्ध पर आधारित है, जबकि भारत की कहानी की पृष्ठभूमि में १९४७ का देश विभाजन है। बाकी की कहानी हू-ब-हू है। वैसे बताते चलें कि ऐश्वर्या राय बच्चन की फिल्म फन्ने खान एक डच फिल्म एवरीबॉडी इज फेमस का हिंदी रीमेक है।  

बॉलीवुड न्यूज़ २७ मई - पढ़ने के लिए क्लिक करें 

No comments:

Post a Comment